Top Story
छत्तीसगढ़ सरकार के खाद्य मंत्री कितने सक्रिय हैं, उनका विभाग कितना सक्रिय - 27-Jul-2021

 खाद्य मंत्री अमरजीत भगत कितने सक्रिय हैं, उनका विभाग कितना सक्रिय 

जनसंपर्क की डीपीआर के नापतौल नियंत्रण विभाग द्वारा आज तक 29 जुलाई 2020 के बाद कोई अपग्रेड नहीं 

इस खबर के माध्यम से हम आपको एक विशेष जानकारी देना चाहते हैं, हम आप को जागरूक करना चाहते हैं, हम आपको बताना चाहते हैं कि छत्तीसगढ़ सरकार के खाद्य मंत्री कितने सक्रिय हैं, उनका विभाग कितना सक्रिय है, और किस तरह अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करने में लापरवाही बरत रहे हैं, प्रदेश का जनसंपर्क विभाग कितना सक्रिय है, प्रदेश का नाप तोल नियंत्रण विभाग कितना सक्रिय है हम आपको बता दें की छत्तीसगढ़ शासन के खाद्य विभाग के मंत्री अमरजीत भगत ने आज से 1 साल पहले जुलाई 2020 को राज्य के सभी दुकानों व्यवसायिक संस्थानों की तराजू बाट एवं इलेक्ट्रॉनिक तौल मशीनों का सत्यापन करने के निर्देश नापतौल विभाग के अधिकारियों को दिए थे | तब से अब तक अर्थात पूरा एक साल व्यतीत हो चुका है खाद्य मंत्री अमरजीत भगत के जुलाई 2020 के निर्देश के बाद 25 जुलाई से 31 जुलाई के बीच सिर्फ कोंडागांव के पलारी गाँव में जांच अभियान चलाया गया था और इस छोटे से एक गांव में 4 किराना एवं पान दुकानों में जांच कर 2 पर कार्रवाई करके पूरे प्रदेश में अभियान की इतिश्री मान ली गई | यह बात हम अपने मन से नहीं कह रहे जनसंपर्क विभाग के समाचार वाली DPR में खबर जारी कर जानकारी दी गई है | यहां यह भी बताना अति आवश्यक है की जनसंपर्क की डीपीआर के नापतौल नियंत्रण विभाग द्वारा आज तक 29 जुलाई 2020 के बाद कोई अपग्रेड नहीं हुआ है, अंतिम 29 जुलाई 2020 वाली खबर इस बात का प्रमाण है कि नापतोल नियंत्रण विभाग प्रदेश के नागरिकों के साथ कितना बड़ा धोखा कर रहा है और अपनी जिम्मेदारी के प्रति कितना लापरवाह है | यह खबर किस बात का भी प्रमाण है कि प्रदेश के नापतोल नियंत्रण विभाग ने इस पूरे 1 साल के दौरान पूरे प्रदेश में कहीं भी किसी भी दुकान संस्थान व्यवसायिक प्रतिष्ठान के तराजू बाट एवं इलेक्ट्रॉनिक तोल मशीनों का सत्यापन करने के संबंध में कोई जांच या अभियान नहीं चलाया है क्योंकि अगर चलाया गया होता तो उस अभियान की खबर जनसंपर्क विभाग के डीपीआर में नापतोल नियंत्रण विभाग के द्वारा अवश्य प्रसारित की जाती | सभी विभाग शायद यही सोचते होंगे कि जब हम कोई जानकारी प्रसारित या जारी करेंगे उसे ही मीडिया खबर के रूप में स्थान देगा इन विभागों को शायद यह नहीं मालूम कि आप के एक-एक पल की जानकारी पर भी मीडिया की नजर रहती है | अब देखने वाली बात यह है कि इस खबर के बाद मंत्री अमरजीत भगत या उनके विभाग के वरिष्ठ अधिकारी संबंधित जिम्मेदार अधिकारियों पर क्या कार्रवाई करते हैं और प्रदेश में पुनः अभियान चालू करते भी हैं या नहीं - हम आपको डीपीआर के नापतोल नियंत्रण विभाग के समाचारों के अंतिम खबर का स्क्रीनशॉट एवं पूरी खबर संलग्न करके प्रमाण के साथ प्रस्तुत कर रहे हैं - ++++++++++++++++++

रायपुर : एमआरपी से अधिक मूल्य पर वस्तुएं बेचने वालों के विरूद्ध प्रकरण दर्ज

तराजू-बाट एवं इलेक्ट्रानिक तौल मशीनों का सत्यापन करने के निर्देश 

 

रायपुर 29 जुलाई 2020

खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने राज्य के सभी दुकानों, व्यावसायिक संस्थानों की तराजू-बाट एवं इलेक्ट्रानिक तौल मशीनों का सत्यापन करने के निर्देश नाप तौल विभाग के अिधकारियों को दिए हैं । कोण्डागांव जिले में व्यवसायियों द्वारा निर्धारित मूल्य से ज्यादा कीमत पर सामान बेचने की शिकायत मिलने पर नापतौल विभाग द्वारा 25 से 31 जुलाई तक जांच अभियान चलाया गया। इस दौरान जिले में वस्तुओं को न्यूनतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) से अधिक कीमत पर विक्रय करने वाले व्यवसायियों के विरूद्ध कार्यवाही की गई। विधिक माप विज्ञान विभाग की टीम ने जिला मुख्यालय के निकटतम ग्राम पलारी में किराना एवं पान दुकानों में जांच की । टीम द्वारा साधारण ग्राहक बन दुकानों में गुड़ाखु एवं पान मसाला की खरीदी की गई। चार दुकानों में किये गए निरीक्षण में दो दुकानों में विक्रय के दौरान अनियमितता पाई गई। इन दुकानों से क्रय की गई वस्तुओं को जब्त कर दुकानदारों के विरूद्ध प्रकरण दर्ज किया गया । क्रमांक: /2901/सी.एल

More Photo
  • छत्तीसगढ़ सरकार के खाद्य मंत्री कितने सक्रिय हैं, उनका विभाग कितना सक्रिय -
  • तराजू-बाट एवं इलेक्ट्रानिक तौल मशीनों का सत्यापन करने के निर्देश
More Video
RELATED NEWS
Leave a Comment.