Top Story
ना शराब बंदी हुई ना ही उद्योगों के प्रदूषण फैलाने उगलने पर रोक लगी ? - कांग्रेस के 34 माह का कार्यकाल 21-Oct-2021

उद्योग एवं आबकारी मंत्री कवासी लखमा - 34 माह का कार्यकाल

ना शराब बंदी हुई ना ही उद्योगों के प्रदूषण फैलाने - उगलने पर रोक लगी

सत्ता में आने से पहले कांग्रेस का मंत्री कवासी लखमा के विभाग से संबंधित मुख्य मुद्दा था शराबबंदी और इसके साथ ही बड़े उद्योगों द्वारा फैलाए जा रहे प्रदूषण को रोकना 

दिसंबर 2019 से सत्ता में आने के बाद कांग्रेस के कार्यकाल को 3 साल पूरे होने वाले हैं परंतु ना तो शराब बंदी पर कोई निर्णय हुआ और ना ही बड़े उद्योगों द्वारा फैलाए जा रहे प्रदूषण पर रोक लगी

आबकारी मंत्री मीडिया से हमेशा एक ही बात कहते हैं कि शराबबंदी के लिए कमेटी बना दी गई है, पर यह समझ में यह नहीं आता कि कमेटी 3 साल में भी कोई फैसला या निर्णय नहीं ले पाई तो क्यों ? और दूसरी तरफ यह बात है कि अगर कमेटी ही बनानी थी तो ऐसी कमेटी आप ने सत्ता में आने से पहले क्यों नहीं बनाई ? आपको अंदाजा होना चाहिए था कि अगर आप सत्ता में आएंगे तो क्या क्या हो सकता है ? क्या क्या सवाल खड़े हो सकते हैं ?  राजस्व की कमी को लेकर कोई बात आ सकती है या शराबबंदी करने से प्रदेश में किस तरह की परेशानियां आ सकती हैं ? इस बारे में पहले से ही हर विषय पर तैयारियां पूर्ण कर लेनी चाहिए थी | परंतु उस समय यह सब सोचा नहीं और अगर अब  सोच भी रहे हैं तो 3 साल का लंबा समय व्यतीत हो गया और निर्णय नहीं आ पाया | 

प्रदूषण की बात कहे तो इंडस्ट्री एरिया में बड़े उद्योग लगातार चिमनियों से काला धुआं उगल रहे हैं, जिससे लगभग 20 किलोमीटर क्षेत्र में खेती पर असर पड़ रहा है, लोगों के स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है, दमा खांसी सहित स्किन की अनेक बीमारियां फैल रही हैं परंतु उन पर रोक नहीं लग पाई है | जिन उद्योगपतियों ने अपनी फैक्ट्री में चिमनियों से धुआं रोकने की मशीनें लगा रखी हैं वह भी बंद पड़ी है |

बिजली की दरों से उद्योगपति परेशान हैं अर्थात कहा जाए तो पिछले शासन और इस शासन में कोई अंतर नहीं आया |

प्रदेश के आबकारी एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा मीडिया के सामने अधिकारियों को निर्देशित तो करते हैं परंतु मुड़कर यह नहीं देखते कि उनके निर्देशों का पालन हो भी रहा है या नहीं |

इसे यूं भी समझा जा सकता है कि मंत्री जी अधिकारियों को समझा कर रखे होंगे कि मैं मीडिया के सामने, शिकायत आने पर शिकायतकर्ता के सामने, उद्योग पतियों के सामने या विपक्ष के सामने आप लोगों को जमकर डांट लगाऊंगा परंतु यह डांट सिर्फ दिखावे की होगी !

बहरहाल यदि शासन-प्रशासन इसी तरह चलता रहा तो अगले चुनाव में कांग्रेस के लिए परेशानियां खड़ी हो सकती हैं !

More Photo
More Video
RELATED NEWS
Leave a Comment.