Top Story
जवाबदारों को शासन इस बरसात 2 माह तक परिवार सहित रखे जल विहार कॉलोनी में 23-May-2022
राजधानी का जल विहार कॉलोनी क्षेत्र हर बरसात रहता है सुर्खियों में | तेलीबांधा तालाब के पीछे एवं बाजू वाले हिस्से जल विहार कॉलोनी एवं श्याम नगर के रहवासी बरसात के नाम से ही घबरा जाते हैं क्योंकि पिछले लगभग 15 वर्षों से हर बरसात में यह क्षेत्र 4 से 5 फीट पानी में डूब जाता है | बरसात के मौसम के अलावा कभी कभार की बारिश में भी क्षेत्र में दो-दो फुट पानी में डूब जाता है शहर की गंदगी लोगों के घरों में घुस जाती है | जल विहार कॉलोनी और श्याम नगर क्षेत्र के लोग जो तेलीबांधा तालाब के पिछले हिस्से में निवास करते हैं दहशत में रहते हैं उन्हें हमेशा डर बना रहता है कि जब भी बरसात होगी पानी उनके घरों दफ्तरों में घुस जाएगा उनका सामान फर्नीचर तो खराब होगा ही होगा साथ ही बच्चों, बुजुर्गों सहित महिलाएं बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं | संबंधित जनप्रतिनिधि चाहे वह पार्षद हो विधायक हो मंत्री हो या विभागीय अधिकारी जल भरा ओके समय अपने राजनीति और अधिकारी धर्म का पालन कर सांत्वना देने आ जाते हैं और आश्वासन देकर चले जाते हैं परंतु पीड़ित परिवार पिछले 15 वर्षों से इस कष्ट को झेल रहा है जिसका कोई अंत नजर नहीं आ रहा| जनप्रतिनिधि अधिकारियों और ठेकेदारों कि आपसी मिली भगत इस कष्ट से नागरिकों को छुटकारा दिलाने तैयार नहीं है क्योंकि जितना काम में देरी होगी उतनी लागत बढ़ेगी और जब लागत बढ़ेगी सबका हिस्सा भी बढ़ेगा इसी सोच के साथ या छेत्र लगातार जल भराव के नाम पर सुर्खियों में रहता है हर न्यूज़ चैनल, अखबार के संवाददाता जल भराव की खबर बनाने के लिए जल विहार कॉलोनी ही आते हैं | 23 मई के दैनिक भास्कर के अंक में इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है जिस जिस की हैडलाइन है 8 फीट चौड़े नाले को 5 फीट चौड़े नाले से जोड़ने की तैयारी आनंद नगर सहित इन कालोनियों में जलभराव होता है और इस खबर में लाल बहादुर शास्त्री वार्ड क्रमांक 34 के पार्षद कामरान अंसारी मदर टेरेसा वार्ड क्रमांक 48 के पार्षद अजीत को करेजा सहित स्मार्ट सिटी के एमडी मयंक चतुर्वेदी का पक्ष भी प्रकाशित किया गया है | उल्लेखनीय है कि इस क्षेत्र में जलभराव से पीड़ित लोग लगातार कलेक्टर, निगम कमिश्नर, महापौर एवं स्मार्ट सिटी के एमडी सहित पार्षद को लिखित शिकायत करते रहे हैं और एवं मांग करते रहे हैं कि जलभराव से जलविहार कॉलोनी को मुक्ति दिलाएं | परंतु ढांके वही 3 पात 9 दिन चले लड़ाई कोतवाली कहावत को चरितार्थ करते हुए जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी आश्वासन का सुसज्जित थैला शिकायत कर्ताओं और जल भराव से प्रभावित तो को थमाते आ रहे हैं | जेल बिहार कॉलोनी और श्याम नगर कुछ जल भरा उसे मुक्ति दिलाने का एक ही तरीका है कि पार्षद, विधायक, महापौर निगम कमिश्नर, स्मार्ट सिटी के md एवं मंत्री को इस बरसात के समय जल विहार कॉलोनी के जलभराव वाले क्षेत्र में दो-तीन महीनों के लिए रहने पर मजबूर किया जाए, जहां इनके घरों के अंदर बंगलों के अंदर 33 फीट पानी भरे और टॉयलेट का पानी टॉयलेट की तैरती गंदगी सहित इनकी रसोई बेडरूम में आए और इन्हें गंदगी के बीच पलंग के ऊपर टेबल के ऊपर चढ़कर रात गुजारने पड़े और इनके बच्चों माता पिता को इस गंदगी का सामना करना पड़े खाने की परेशानी हो सोने की परेशानी हो तब इन्हें समझ में आएगा आम लोगों को जलभराव से कितनी पीड़ा होती है वह भी निगम और संबंधित सभी तरह के टैक्स भरने के बाद |
More Photo
More Video
RELATED NEWS
Leave a Comment.