Top Story
भ्रष्टाचारियों - रिश्वतखोरों के लिए 2000 के नोट वरदान साबित हुए - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पाती 04-Aug-2022

माननीय आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी,

जो नोटों का पहाड़ ईडी द्वारा इकट्ठा किया जा रहा है चाहे वह पश्चिम बंगाल की बात हो चाहे वह उत्तर प्रदेश के कन्नौज की बात हो चाहे वह पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के विधायकों से मिला हो, इन सब के लिए आप ही जिम्मेदार हैं, क्योंकि नोटबंदी के समय आपने 1000 के नोट को बंद करके 2000 के नोट चालू किए - यही 2000 के नोट भ्रष्टाचारियों - रिश्वतखोरों के लिए वरदान साबित हुए | उनकी काली कमाई को संग्रहण करने की क्षमता बढ़ गई | जहां एक करोड़ के लिए अगर 1 फुट की जगह की जरूरत पड़ती थी तो उसी 1 फुट की जगह में उन्हें 2 करोड रुपए रखने की सुविधा मिल गई |


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी अगर यदि आप बड़े नोटों को जैसे कि तत्कालीन समय में प्रचलित 1000 और 500 के नोटों को बंद कर 100 और 200 के नोट ही चलन में रखते तो काला धन इकट्ठा करने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ता |  कार में भी 1 - 2 करोड रुपए परिवहन में असुविधा होती !

परंतु आपके द्वारा 1000 के नोट बंद कर 2000 के नोट चालू करने से काला धन इकट्ठे करने वालों को सुविधा हो रही है और यही कारण है कि ईडी द्वारा छापे के दौरान करोड़ों - अरबों रुपए के नोट ढेर की शक्ल में बरामद हो रहे हैं|  इन्हीं 2000 के नोटों की जगह यदि सौ सौ के नोट होते तो यह जमाखोरी और काले धन को इकट्ठा करने की संख्या सिर्फ लाखों में होती, अर्थात भ्रष्टाचारियों . रिश्वतखोरों को इतने ही नोटों को रखने के लिये एफसीआई जैसे बड़े बड़े गोदाम बनाने पड़ते जो संभव ही नहीं नामुमकिन  होता |


अभी भी अगर आप दिल बड़ा करके एक बार 2000 और 500 के नोटों को बंद करते हैं तो देश में काला धन जमा करने वालों के ऊपर पहाड़ टूट पड़ेगा, साथ ही भविष्य में रिश्वतखोरों - भ्रष्टाचारियों और काला धन जमा करने वालों की संख्या नाम मात्र होगी |

More Photo
More Video
RELATED NEWS
Leave a Comment.