Top Story
करोड़ों अरबों क्या ठेका - सड़कों से गुजरना मुश्किल | शासन - प्रशासन की चुप्पी आश्चर्यजनक 10-Aug-2022
टाटीबंध चौक करोड़ों का ठेका और सड़कों की हालत बदहाल राजधानी रायपुर के टाटीबंध चौक जो बरसों से ही अव्यवस्थित रहा है वहां रोज नए प्रयोग होते रहे हैं और जितने भी प्रयोग हुए हैं सब फेल साबित हुए हैं यातायात समस्या से जूझने वाला टाटीबंध चौक पिछले 20 वर्षों से इसी तरह अव्यवस्थित यातायात का उदाहरण रहा है यहां यातायात पुलिस यातायात को व्यवस्थित कर पाई और ना ही शासन प्रशासन और पुलिस प्रशासन बहुत जद्दोजहद के बाद टाटीबंध चौक पर फ्लाईओवर के माध्यम से यातायात समस्या को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है परंतु संबंधित ठेकेदार द्वारा नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए पुलिस प्रशासन, जिला प्रशासन, लोक निर्माण विभाग, यातायात विभाग, पार्षद विधायक, महापौर, सांसद सबकी आंखों में धूल झोंकते हुए परिवर्तित मार्ग की व्यवस्था नहीं की जा रही है | इस मार्ग से गुजर ना मतलब जान जोखिम में डालकर निकलना कहलाता है चाहे पैदल चलने वाला हो टू व्हीलर से चलने वाला हो फोर व्हीलर से चलने वाला हो थ्री व्हीलर से चलने वाले हो बस ट्रक सबके लिए यहां से निकलना दुर्घटनाओं से सामना करते हुए निकलना अपनी जान जोखिम में डालकर सुरक्षित निकलना कहा जा सकता है| प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री की भी चुप्पी आश्चर्य का विषय है | अनेक विधायक मंत्री इस मार्ग से गुजरते हैं परंतु जब वह टाटीबंध चौक पहुंचते हैं तो या तो इनकी आंखों के सामने अंधेरा छा जाता है या आंखें बंद कर लेते हैं या आंखों में पट्टी बांध लेते हैं या फिर जानबूझकर अनदेखा कर आगे निकल जाते हैं समझ नहीं आता | वक्त है बदलाव का के नारे के साथ प्रदेश की सत्ता में काबिज हुई भूपेश बघेल की सरकार भी कोई बदलाव नहीं कर पाई साडे 3 साल से ज्यादा का समय कांग्रेस सरकार का गुजर गया परंतु इस मार्ग से गुजरने वालों को कोई राहत नहीं मिली | किसी भी सड़क के निर्माण कार्य का टेंडर दिए जाने के नियमों में यह स्पष्ट उल्लेख रहता है कि पक्का परिवर्तित मार्ग ठेकेदार को बनाकर देना है ताकि आवागमन बाधित ना हो | अब यह समझ नहीं आता कि इस नियम की अवहेलना के लिए ठेकेदार पर कोई सख्त कार्यवाही क्यों नहीं हो रही ? करोड़ों अरबों का ठेका लेने वाले ठेकेदार द्वारा पक्का परिवर्तित मार्ग ना बनाने के पीछे किस-किस के संबंध हो सकते हैं कहा नहीं जा सकता | क्योंकि अगर संबंध नहीं होता तो जनप्रतिनिधि आवाज जरूर उठाते और सभी जनप्रतिनिधियों सहित अधिकारियों की भी चुप्पी ठेकेदार से मिलीभगत का संदेह पैदा करती है | बाहर हाल जनता तो जनता है उसे हर समस्या से जूझना है हर तकलीफ का सामना करना है जान जोखिम में डालना है दुर्घटनाओं में अपनी जान भी गवाना है और शासकीय गलतियां दिखने के बावजूद मजबूरी वश अनवरत अपने घरेलू कार्यों के लिए व्यवसाय के लिए जान जोखिम में डालकर इन गड्ढे भरी सड़कों जिसमें कब कौन कहां गिर जाए कब किस पर पीछे से आने वाली ट्रक बस चल जाए या गड्ढों में गिरकर कब कौन घायल हो जाए या मौत के साए में समा जाए कहा नहीं जा सकता | लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू से निवेदन है कि वह स्वयं संज्ञान लेकर ठेकेदार सहित संबंधित अधिकारियों जो मॉनिटरिंग करते हैं लाखों की तनखा लेते हैं उन पर कड़ी कार्रवाई कर पक्का सुविधा युक्त परिवर्तित मार्ग बनवा कर आवागमन को व्यवस्थित करें और जनता को राहत दिलाएं | CG 24 News
More Photo
More Video
RELATED NEWS
Leave a Comment.