Top Story
राज्य शासन की पोल का खुलासा : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भूख लगी तो हल्बा आदिवासी किसान के घर भोजन के लिए पहुँचे, सच्चाई क्या है ? 13-Nov-2022
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का हाल बा आदिवासी किसान के घर भोजन करने का समाचार जनसंपर्क विभाग से जारी हुआ है जिसमें बताया गया है कि भेंट मुलाकात कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भूख लगी तो वे एक किसान के घर भोजन करने पहुंच गए जहां आदमी स्वागत के साथ उन्हें भोजन कराया गया | यहां तक तो ठीक है कि मुख्यमंत्री किसी के भी घर भोजन करने जा सकते हैं और जाना भी चाहिए क्योंकि वह प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं इसी बहाने लोगों के दुख दर्द को वह समझ पाएंगे परंतु मुख्यमंत्री के साथ अन्य पिछड़ा वर्ग विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं विधायक दलेश्वर साहू, विधायक खैरागढ़ श्रीमती यशोदा वर्मा, ज़िला सहकारी केंद्रीय बैंक राजनांदगाँव के अध्यक्ष नवाज़ खान, स्थानीय सरपंच श्रीमती द्रौपती साहू, कलेक्टर राजनांदगाँव डोमन सिंह का आदिवासी किसान के घर भोजन करने से हुए जो फोटो जारी की गई है उसमें हर बर्तन एक जैसा और नया नजर आ रहा है जबकि किसी भी परिवार में इस तरह एकदम नए बर्तन नहीं होते और इस तरह सफेद नए कपड़े कपड़ा भी नहीं होता यहां सवाल यह उठता है कि मुख्यमंत्री जी अगर आप तामझाम के साथ दिखावा करने भोजन करने जा रहे तो आप उस परिवार में कोई फंक्शन का बहाना करके अपने जाने की बात करते परंतु अचानक किसी किसान परिवार के यहां मुख्यमंत्री पहुंचे और उस किसान द्वारा इस तरह तामझाम से व्यवस्था करके भोजन कराया जाए यह समझ से परे है यह तो अनपढ़ व्यक्ति भी समझ सकता है कि पूरी तरह प्रायोजित कार्यक्रम है और शासन द्वारा या किसी जनप्रतिनिधि द्वारा करवाया गया है | इस तरह के आयोजनों के बारे में विपक्ष में रहते हुए कांग्रेश स्वयं तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह पर आरोप लगाती रही है फिर वही सब कुछ सत्ता में आने के बाद कांग्रेस के मुख्यमंत्री करें तो जनता के लिए किसी तरह का बदलाव तो नहीं हुआ |

रायपुर : मुख्यमंत्री ने चौसेला, गुलगुला भजिया के साथ लाखड़ी भाजी और मुनगा का लिया आनंद

मुख्यमंत्री अर्जुनी में किसान के घर आत्मीय भाव से भोजन के लिए पहुँचे

रायपुर, 12 नवंबर 2022

मुख्यमंत्रीमुख्यमंत्री भूपेश बघेल

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज अपने भेंट-मुलाकात अभियान की कड़ी में राजनांदगाँव ज़िले के डोंगरगाँव विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर हैं। इस दौरान आमजनों से भेंट-मुलाकात के लिए मुख्यमंत्री अर्जुनी पहुँचे। उन्हें दोपहर जब भूख लगी तो आत्मीय भाव से हल्बा आदिवासी किसान दिलीप धनपाल के घर पर भोजन के लिए पहुँचे। जहाँ मुख्यमंत्री और अन्य अतिथियों को किसान परिवार की ओर से सबसे पहले ग्रामीण परम्परा अनुसार हाथ-पैर धुलवाकर परघानी किया गया। फिर तिलक लगाकर सस्नेह भोजन के लिए आमंत्रित किया गया। 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

भोजन में छत्तीसगढ़ी पकवान चौसेला, ढेढरी, खुरमी, गुलगुला भजिया के साथ व्यंजन में लाखड़ी भाजी, टमाटर चटनी, सिलबट्टा पर पिसी चटनी, जिमीकंद, मुनगा, मिक्स वेज (नवल गोल, गोभी, सेम), करेला, रोटी, चावल और दाल परोसा गया। मुख्यमंत्री ने बड़े चाव से ज़मीन पर बैठकर भोजन कर रहे हैं। 

मुख्यमंत्री के साथ अन्य पिछड़ा वर्ग विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं विधायक दलेश्वर साहू, विधायक खैरागढ़ श्रीमती यशोदा वर्मा, ज़िला सहकारी केंद्रीय बैंक राजनांदगाँव के अध्यक्ष नवाज़ खान, स्थानीय सरपंच श्रीमती द्रौपती साहू, कलेक्टर राजनांदगाँव डोमन सिंह ने भी भोजन किया।

ग्राम अर्जुनी के हल्बा आदिवासी किसान दिलीप धनपाल के घर अब अगर कोई भी मीडिया जाएगा तो वहां गरीबी का आलम नजर आएगा और जितना तामझाम और बर्तन था सब किराया भंडार वाला ले जा चुका होगा !
More Photo
More Video
RELATED NEWS
Leave a Comment.