Top Story
  • भूपेश बघेल के खिलाफ मात्र सीडी लहराने पर एफआईआर दर्ज करवाने वाले घबरा क्यों रहे
    पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह भूल गए जब सत्ता में थे तब प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के अध्यक्ष भूपेश बघेल के खिलाफ मात्र सीडी लहराने पर एफआईआर दर्ज कराए थे पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के द्वारा अपने पुत्र अभिषेक सिंह के बचाव में दिए गए बयान पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया रायपुर/22 अगस्त 2019। पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह के द्वारा अपने पुत्र एवं पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के बचाव में दिए गए बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह भूल रहे हैं जब सत्ता में थे तब प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल के खिलाफ मात्र सीडी लहराने पर एफआईआर दर्ज कराए थे। पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के खिलाफ एफआईआर तो न्यायालय के निर्देश पर हो रहा है और ये एफआईआर फोटो खिंचवाने के कारण नहीं बल्कि अनमोल इंडिया चिटफंड कंपनी को संरक्षण देकर चिटफंड कंपनी को विश्वसनीय बताने और चिटफंड कंपनी के काली करतूतों पर पर्दा डालने के कारण किया गया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि हिंदुस्तान का वही छत्तीसगढ़ है जहां पर फर्जी चिटफंड कंपनियों के दफ्तरों का शुभारंभ तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, उनकी पत्नी, पुत्र, सरकार के मंत्री एवं भाजपा के बड़े नेताओं के द्वारा किया गया था। रमन सरकार के संरक्षण में 5000 करोड से अधिक का चिटफंड घोटाला हुआ। फर्जी चिटफंड कंपनियों के द्वारा एक करोड़ जनता की गाढ़ी कमाई लूटी गई, चिटफंड घोटाले के कारण 57 जाने गई और आज जब चिटफंड कंपनी में डूबे निवेशकों को न्याय मिल रहा है तब पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह बदलापुर का आरोप लगा रहे हैं। चिटफंड कंपनी के गोरखधंधे में तत्कालीन डॉ. रमन सिंह सरकार का संरक्षण व साथ-साफ है, चिटफंड कंपनियों के लिये रोजगार मेलों का आयोजन होता था जिसमें भाजपा सत्ता संगठन के नेता कार्यक्रम में सीधे तौर में शामिल होते थे। रमन सरकार के द्वारा बकायदा इन कार्यक्रमों के निमंत्रण दिए जाते थे और भोली भाली जनता को लगा कि भाजपाई सरकार इन चिटफंड कंपनियों की साझेदार है और जीवन की सारी कमाई इन घोटालों और गड़बड़झाला में लूटा दी।
  • आज रेल मंत्री ने सभी जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों की समीक्षा बैठक ली
    रायपुर22अगस्त2019 -माननीय रेलमंत्री श्री पीयूष गोयल के द्वारा वीडियों कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से सभी रेलवे जोन के महाप्रबंधकों एवं मंडल रेल प्रबंधकों तथा अन्य उच्च अधिकारियों के साथ विभिन्न या़त्री सुविधाओं, समयबद्वता, अधोरचना के निर्माण की गाति को ओर तेज करने संबंधित विभिन्न मुददो पर बैठक ली। इस बैठक में माननीय रेलमंत्री के साथ रेल बोर्ड अध्यक्ष श्री वी.के. यादव सहित रेल मंत्रालय के उच्च अधिकारी भी जुड़े हुए थे। इस बैठक में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन में परिचालित हो रही गाडियों की समयबद्भता के विषय में विगत सप्ताह से गाडियों की अच्छी समयबद्वता के लिए माननीय रेलमत्री ने दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे महाप्रबंधक श्री अजय विजयवर्गीय एवं उनकी टीम को बधाई दी। आज आयोजित इस बैठक में महाप्रबंधक ने रेलमंत्री महोदय के समक्ष दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में की जा रही गाडियों की समयबद्वता, खान पान व्यवस्था एवं लदान व आय से संबंधित जानकारी रखी। रेलमंत्री दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के सभी रेल मंडलों में चल रहे विभिन्न अधोरचना पर चल रहे निर्माण प्रक्रिया को और अधिक तेज करते हुये जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश दिया। इसी प्रकार संरक्षा के विषय में चर्चा करते हुये संरक्षा संबंधित नियमो का कडाई से पालन करने के भी निर्देश दिए। आज की वीडियों कांफ्रेन्सिंग से आयोजित इस बैठक में रेलवे बोर्ड के अधिकारियो के साथ देश के सभी जोनो के महत्वपूर्ण अधिकारी एवं दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक श्री अजय विजयवर्गीय सहित अपर महाप्रबंधक, समस्त विभागाध्यक्ष तथा सचिव श्री हिमांशु जैन, उप महाप्रबंधक एवं मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रवीश कुमार भी उपस्थित थे।
  • रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को दी जन्माष्टमी की शुभकामनाएं...

    रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को जन्माष्टमी के पावन पर्व पर बधाई और शुभकामनाएं दी है। उन्होंने अपने बधाई संदेश में कहा है कि भगवान कृष्ण का पूरा जीवन दर्शन हमारे लिए प्रेरणादायी है। उनके उपदेश हमें जीवन जीने का सही रास्ता दिखाते हैं। बघेल ने कहा कि कृष्ण ने हमें परिणाम की चिंता किये बगैर कर्म करने की शिक्षा दी है। भगवान कृष्ण हमें सदा सत्य के मार्ग पर चलने और अन्याय के विरूद्ध खड़े होने के लिए प्रेरित करते हैं।

  • रायपुर : मुख्यमंत्री 24 अगस्त को करेंगे गोंदवारा रेलवे ओव्हरब्रिज...गुढ़ियारी का लोकार्पण...

    रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राजधानी रायपुर में सुगम आवागमन के लिए 24 अगस्त को गुढ़ियारी-गोंदवारा मार्ग पर नवनिर्मित रेलवे ओव्हरब्रिज का लोकार्पण करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू करेंगे। इसका लोकार्पण कार्यक्रम 24 अगस्त को पूर्वान्ह 11 बजे गोंदवारा रेलवे ओव्हरब्रिज, गुढ़ियारी, रायपुर में आयोजित होगा। यह रेलवे ओव्हरब्रिज उरकुरा-सरोना बायपास में गुढ़ियारी-गोंदवारा मार्ग पर निर्मित है। कार्यक्रम में कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे, सांसद लोकसभा क्षेत्र रायपुर  सुनील सोनी, सांसद राज्यसभा छाया वर्मा, विधायक  सत्यनारायण शर्मा, विधायक बृजमोहन अग्रवाल, विधायक कुलदीप सिंह जुनेजा, विधायक  विकास उपाध्याय और महापौर नगर पालिक निगम रायपुर  प्रमोद दुबे विशिष्ट अतिथि होंगे। साथ ही रायपुर नगर निगम के पार्षदगण सर्व कुमार मेनन, डॉ. अन्नूराम साहू, रेखा मोहित घृतलहरे, कृष्णा साहू, रामदास कुर्रे, संदीप साहू, वंदना इंगोले,  तरूण प्रीति श्रीवास, हेमलता भागवत साहू की उपस्थिति में संपन्न होगा।

     
  • अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् रायपुर महानगर ने विभिन्न मांगों को ले कर के जिला शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन शौपा गया :-
    रायपुर22अगस्त2019-रायपुर में आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने विभिन्न मांगों को ले कर जिला शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन दिया। 1.पूर्व सरकार के द्वारा जिन विद्यालयों के मान्यता रद्द कर दी गई है थी साथ ही साथ जिनकी मान्यता रद्द कर दी गई थी उनके द्वारा नाम परिवर्तन कर विद्यालयों को अवैध रूप से संचालन कर रहे है | 2. जिनकी मान्यता हिंदी माध्यम की है पर पढ़ाई अंग्रेज़ी माध्यम में करा रहे है । 3. कई स्कूलों में आरटीई के मापदंडो का पालन नहीं किया ज़ारा है| अभविप का मानना है यह कांग्रेस की नवीन सरकार जिस दिन से है तबसे युवाओं के विरोध और उनके भविष्य के साथ लगातार खिलवाड़ कर रही है ।विद्यालयों की मान्यता रद्द होने के बावजूद इनका संचालन होना अपने आप मे एक प्रश्न चिन्ह सरकार व प्रशासन के कार्य में भ्रष्टाचार व शिक्षा का व्यापारीकरण दर्शाता है । अभविप की माँग है की 5 दिन के अंदर इन सभी स्कूलों को बंद एवं इनके खिलाफ कार्यवाही नही होती हैं तो अभाविप उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होगा जिसकी पूरी ज़िम्मेदारी प्रशासन की होगी।इस प्रदर्शन में मुख्य रूप से महानगर संघठन मंत्री यश गुप्ता,महानगर मंत्री विभोर सिंह ठाकुर ,सह मंत्री अखिलेश त्रिपाठी अमन यादव, अमन ठाकुर, मोहन पाठक, आकाश शर्मा ,मुकुल वर्मा तिलक नाथ, सतीश रज़क ,ऋषभ दत्त दुबे, शेखर झा ,अनमोल शर्मा चंदन बघेल के साथ अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।
  • मुख्यमंत्री के जन्म दिवस पर विशेष पुरखों के सपने होंगे साकार: लोगों की बढ़ी क्रय शक्ति  और बढ़ा मान-सम्मान
    रायपुर22अगस्त2019- मुख्यमंत्री भुपेश बघेल के नेतृत्व में पुरखों के सपनों को साकार करने के लिए तेजी से फैसले लिए जा रहे हैं। जनता की नब्ज को पहचानते हुए मुख्यमंत्री ने हाल के 6-7 माह में प्रदेश की कृषि आधारित अर्थव्यवस्था में क्रांतिकारी बदलाव लाने के लिए कई निर्णय लिए हैं। औद्योगिक वातावरण को बदलने के लिए खनिज आधारित उद्योगों के स्थान पर कृषि आधारित नए उद्योगों की स्थापना के लिए पहल की जा रही है, इससे जहां स्थानीय स्तर पर नए रोजगार के अवसरों का सृजन होगा वहीं किसानों और वनाचलों में वनोपज का संग्रहण करने वाले परिवारों की आमदनी में वृद्धि होगी। नई सरकार के गठन और उनके द्वारा लिए जा रहे नए फैसलों और कदमों से नई उम्मीदें जागी है। किसान हितैषी फैसलों से प्रदेश में विकास, विश्वास और उत्साह का नया वातावरण बना है। लोगों की क्रय शक्ति बढ़ने के साथ ही उनका मान-सम्मान भी बढ़ा है। मुख्यमंत्री के किसान पुत्र होने और अविभाजित मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में मिले प्रशासनिक अनुभव का लाभ प्रदेश में विभिन्न विभागों के संचालन और नीति निर्धारण में मिल रहा है। छत्तीसगढ़ी भाषा में लोगों को सम्बोधित करना उनकी खासियत है। उनकी भाषा में छत्तीसगढ़ की मिठास और अपनी माटी की सौंधी महक मिलती है। विपक्ष में रहते हुए उन्होंने किसानों के मुद्दांे पर हमेशा पैनी नजर रखी। अपने कार्यक्रमों में छत्तीसगढ़ के पुरखों को आदर और सम्मान देना नहीं भूलते। आधुनिक ज्ञान विज्ञान में उनकी गहरी रूचि है। वे नदी-नालों के पुनर्जीवन के लिए आधुनिक तकनीक पर विशेष बल देते हैं। श्री बघेल विद्यार्थियों को हमेशा वैज्ञानिक सोच और आधुनिक तकनीकों के उपोग के प्रति सजग रहने की समझाईश देते हैं । उनका मानना है कि हमारे देश ने आचार्य चरक, सुश्रुत, आर्यभट्ट और नागार्जुन जैसे महान वैज्ञानिक दिए लेकिन उन्नीसवीं सदी तक हम ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में पिछड़ गए। इसका मुख्य कारण हमने सवाल पूछना बंद कर दिया है। उनका मानना है कि आज की ज्वलंत समस्याओं के समाधान के लिए हमें शोध पर ध्यान देना होगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल नें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की ग्राम और ग्रामीणों के विकास की अवधारणा के अनुरूप ग्रामीण जनजीवन को खुशहाल बनाने के लिए छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी नरवा, गरवा घुरवा बाड़ी को आधार बनाकर सुराजी गांव योजना शुरू की है। छत्तीसगढ़ की सतरंगी संस्कृति पर आम जनता को स्वाभिमान और गर्व की अनुभूति जगाने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा हरेली, तीज , छठ, मां कर्मा जयंती और विश्व आदिवासी दिवस पर सामान्य अवकाश की घोषणा से लोगों में उत्साह का वातावरण है। ग्रामीण जनजीवन पर इसका खासा असर दिख रहा है। हाल में ही एक अगस्त को नए स्वरूप में हरेली तिहार मनाया गया। जिसमें छत्तीसगढ़ की संस्कृति की बानगी देखते बनती थी। लोगों में ऐसा स्वस्फूर्त उत्साह पहली बार दिखा। इस उत्साह मेें मुख्यमंत्री सहित प्रदेश के सभी मंत्री शामिल हुए। गांवों के लोगों को रोजगार और उनकी आमदनी बढ़ाने के लिए छत्तीसगढ़ के गांवांें में पौनी पसारी योजना से गांवों में परम्परागत रूप से लोहार, धोबी, और नाई आदि का काम करने वाले लोगों के लिए नगरीय क्षेत्रों में बाजार का निर्माण करने से इन परम्परागत रूप से काम करने वालों को सीधा फायदा होगा। जन चौपाल-भेंट मुलाकात के जरिए आम जनता से नजदीकी बनाए रखने की कोशिश की जा रही है इन मुलाकातों में लोगों से फीड बेक लेने के साथ ही उनकी समस्याओं और तकलीफें भी सुनी जा रही हैं। प्रदेश की अर्थ व्यवस्था को गति देने के लिए किसानों को धान का प्रति क्विंटल ढाई हजार रूपए और अल्प कालीन कृषि ऋण मुक्ति का ऐतिहासिक फैसला लिया है, इससे जहां उद्योग और व्यापार जगत में तेजी आयी है। आटोमोबाइल सेक्टर में जहां मंदी का माहौल है वहीं छत्तीसगढ़ में 26 प्रतिशत की उछाल देखा गया है। मध्यम और कमजोर वर्ग को राहत देने के लिए भूमि की गाइड लाइन दरों में 30 प्रतिशत की कमी की गई है। साथ ही 5 डिस्मिल से छोटे भू-खंडों की रजिस्ट्री पर लगा प्रतिबंध हटा दिया गया है। शासन से अुनमोदित रियल ईस्टेट के प्रोजेक्ट पर मकान की रजिस्ट्री दर 4 प्रतिशत से घटाकर 2 प्रतिशत कर दिया गया है। नामांतरण और डायवर्सन प्रकरणें को लोक सेवा गारंटी योजना में शामिल कर समय सीमा में निराकरण करने से शहरों में मकान और भूखंड खरीदना आसान हो गया है। अब किसी भी आवासीय प्रोजेक्ट के लिए जरुरी सभी तरह की एनओसी लेने के लिए सिंगल विंडो सिस्टम लागू करने का फैसला लिया गया है। मुख्यमंत्री का मानना है कि किसानों की उन्नति के लिए खनिज आधारित उद्योगों के स्थान पर हमें कृषि आधारित उद्योगों की स्थापना करनी चाहिए जिससे स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर पैदा किए जा सकें, जिससे यहां उत्पादित कृषि उपज और वनोपज का बेहतर मूल्य यहां के निवासियों को मिल सके। उन्होंने नई उद्योग नीति में कृषि आधारित उद्योगों की स्थापना को विशेष प्राथमिकता देने की भी घोषणा की है। वनांचल में रहने वाले लोगों की दिक्कत को समझते हुए उन्होंने वन अधिकार कानून के तहत प्राप्त आवेदनों की पुनः समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं। इसी प्रकार वन क्षेत्रों में चिकित्सा और कुपोषण संबंधी दिक्कतों को दूर करने के लिए वनांचल के हाट बाजारों में चलित चिकित्सा इकाईयों के द्वारा इलाज की सुविधा प्रदान की जा रही है। वहीं आंगनबाड़ी केन्द्रों में गर्भवती और शिशुवती माताओं और बच्चों को सुपोषण अभियान के तहत पका हुआ गरमा-गरम भोजन देने की योजना भी प्रारंभ की गई है। मुख्यमंत्री श्री बघेल नें ग्रामीण जनजीवन को खुशहाल बनाने के लिए सुराजी गांव योजना में किसानों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिए गांवों में नदी नालों के पुनर्जीवन के लिए छोटे-छोटे जल संचयन के संरचनाएं बनाने पर जोर दिया है। योजना के प्रथम चरण में लगभग दो हजार गांवों में माडल गौठानों का निर्माण किया जा रहा है। इन गौठानों में पशुओें के लिए डे-केयर की व्यवस्था होगी। यहां पशुओं के लिए चारागाह विकसित किए जा रहे हैं। यहां बायोगैस संयंत्र और दुग्ध उत्पादन तथा पशु नस्ल सुधार जैसे कार्य किए जाएंगे। किसानों के घरों में घुरवा को स्मार्ट घुरवा बनाने के लिए भी कार्य प्रारंभ किया गया है, इससे जैविक खाद का उत्पादन वहीं जैविक खेती को बढ़ावा मिलेगा। जैविक खाद से जहां खेती में रसायनिक खाद की कमी आएगी। वहीं कृषि लागत से कमी आएगी। किसानों की बाड़ी में जैविक सब्जी को प्रोत्साहन देने से ग्रामीण क्षेत्रों में पोषण स्तर बढ़ेगा। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा लगातार जनता की बेहतरी के लिए निर्णय लिए जा रहे हैं। स्कूल, कॉलेजों में शिक्षकों की भर्ती, बस्तर के लोहाण्डीगुड़ा में उद्योग के लिए अधिगृहित भूमि किसानों को वापस करने, तेंदूपत्ता संग्रहण की दर बढ़ाकर चार हजार करने, 400 यूनिट तक बिजली बिल हाफ करने, दिव्यांगजनों के विवाह हेतु दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि बढ़ाकर एक लाख रूपए करने, एनएमडीसी के नगरनार प्लांट में ग्रुप डी और सी की भर्ती परीक्षा दंतेवाड़ा में कराने के ऐतिहासिक फैसले लिए गए। मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक विकेन्द्रीयकरण की दृष्टि से स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के नाम से नये जिले तथा 25 नई तहसीलों के गठन की घोषणा की है। इसी तरह अनुसूचित जातियों का आरक्षण 13 प्रतिशत और अन्य पिछड़ा वर्ग का आरक्षण 27 प्रतिशत करने की घोषणा की है। बस्तर और सरगुजा विकास प्राधिकरण के साथ मध्य क्षेत्र विकास प्राधिकरण के गठन की घोषणा के साथ ही इन प्राधिकरणों में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष स्थानीय विधायकों को बनाया गया है। जाति प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया का सरलीकरण करते हुए पिता के जाति प्रमाण पत्र के आधार पर बच्चे के जन्म के साथ ही बच्चे को जाति प्रमाण पत्र जारी किए जा रहे हैं। राज्य सरकार ने अपने फैसलों से ’गढ़बो नवा छत्तीसगढ़’ की दिशा में मजबूती से कदम बढ़ाये हैं। पुरखों के सपनों के अनुरूप एक ऐसे छत्तीसगढ़ के निर्माण का सपना साकार होगा, जहां समाज के सभी वर्ग सशक्त और खुशहाल होंगे और हमारी कृषि आधारित ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी।
  • एक्सप्रेस वे की गुणवत्ता की जांच शुरू अनेक अधिकारी पहुंचे
    विवाद ग्रस्त एक्सप्रेसवे की जांच के लिए अलग-अलग चार टीमों द्वारा एक्सप्रेस वे की जांच शुरू की गई है जिसमें अनेक अधिकारी और कर्मचारी पीडब्ल्यूडी की टीम और ठेकेदार के कर्मचारी हर तरह से जांच के लिए जुट गए हैं यह जांच कब तक चलेगी किस स्तर तक चलेगी अभी कहा नहीं जा सकता परंतु तय समय के अनुसार आज अधिकारियों की टीम एक्सप्रेस वे की गुणवत्ता को जांचने का काम कर रही है
  • जांजगीर-चांपा : कलेक्टर ने भिलौनी के स्कूल भवन का निरीक्षण किया...

    जांजगीर-चांपा : कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक ने गौठानों के निरीक्षण के दौरान बुधवार 21 अगस्त को भिलौनी-पामगढ़ के उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भवन का आकस्मिक निरीक्षण किया। कलेक्टर ने निरीक्षण पश्चात् उपस्थित पंचायत प्रतिनिधियों से भवन निर्माण के संबंध में जानकारी ली एवं मरम्मत के लिए संबंधित निर्माण एजेंसी से चर्चा की। पंचायत प्रतिनिधियों ने अवगत कराया कि भवन की स्थिति मरम्मत योग्य हो गई है। निर्माण एजेंसी से एक वर्ष पूर्व ही शिक्षा विभाग को हैण्ड ओव्हर किया गया है। परिसर के एक अन्य भवन का निर्माण भी अधूरा है। निरीक्षण के दौरान पामगढ़ एस.डी.एम. आर.पी. आचला उपस्थित थे।

  • 23 अगस्त मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के जन्म दिवस पर विशेष  ‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़’ के संकल्प को हम सब मिलकर पूरा करेंगे
    रायपुर22अगस्त2019-छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अपने लगभग 08 माह के कार्यकाल में एक विशेष पहचान स्थापित की है। (इसमें ढाई से तीन माह तक लोकसभा चुनाव 2019 की आदर्श आचरण सहिता प्रभावशील रही) चाहे वह किसानों का अल्पकालीन कृषि ऋण माफ हो, या 2500 रूपये प्रति क्विंटल की दर से वाजिब दाम देकर समर्थन मूल्य पर धान का उपार्जन शामिल है। ऋण माफी योजना से प्रदेश के 19 लाख किसानों के 11 हजार करोड़ रूपये से अधिक का कर्ज माफ किया गया। प्रदेश की मेहनतकश किसानों के पसीने का सम्मान करते हुए इस तरह उन्होंने किसानों से किया गया वादा पहले निभाया। मुख्यमंत्री द्वारा पदभार ग्रहण करते ही 02 घंटे के भीतर ही किसानों की कर्ज माफ की कार्रवाई पूरी की। प्रदेश का हर नागरिक चाहे वह शहरी हो या ग्रामीण छत्तीसगढ़ सरकार की कल्याणकारी सोच से वाकिफ है। आम लोगों का सरकार के प्रति विश्वास बढ़ा है। प्रदेश सरकार द्वारा छोटे भू-खण्ड के खरीद-बिक्री पर रोक हटने से मध्यम वर्गीय परिवारों को बड़ी राहत मिली है। जिसके कारण लगभग 60 हजार लोगों ने अपनी जमीन की रजिस्ट्री करायी। मुख्यमंत्री का मानना है कि गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ का संकल्प हम सब मिलकर पूरा करेंगे। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने तीजा पर्व, हरेली, माता कर्मा जयंती, छठ पूजा एवं विश्व आदिवासी दिवस पर नये सार्वजनिक अवकाश घोषित कर एक ठेठ छत्तीसगढ़िया की पहचान दिलाई। हाल ही में छत्तीसगढ़ का पारंपरिक पर्व हरेली बहुत ही धूम-धाम से मनाया गया। स्कूल-कॉलेजों में हजारों शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू, कन्या विवाह योजना की सहायता राशि 15 हजार रूपये से बढ़ाकर 25 हजार रूपये की गई। प्रदेश के तेंदूपत्ता संग्रहण दर 2500 रूपये से बढ़ाकर 4000 रूपये प्रति मानक बोरा की गई। बस्तर के लोहंडीगुड़ा में उद्योग कंपनी द्वारा अधिगृहित की गई जमीन की वापसी, इन्द्रावती विकास प्राधिकरण का गठन, 400 यूनिट तक बिजली बिल हाफ जैसे अनेक जनहितकारी फैसलों से लोगों के जीवन में परिवर्तन आया है। दिव्यांगजनों के विवाह हेतु प्रोत्साहन राशि प्रति जोड़े 50 हजार रूपये से बढ़ाकर 01 लाख रूपये की गई, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं के मानदेय में इजाफा, राष्ट्रीय खनिज विकास निगम (एनएमडीसी) के नगरनार प्लांट में ग्रुप सी तथा डी की भर्ती परीक्षा दंतेवाड़ा में कराने को लेकर एनएमडीसी को राजी कराया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर गौरेेला-पेण्डाª मारवाही के नाम से एक नए जिले के गठन की घोषणा की। इसके अलावा प्रदेश में 25 नई तहसीलों की गठन की घोषणा की। प्रदेश के सभी पंचायतों में राजीव गांधी युवा मितान क्लब बनाए जाएंगें प्रथम चरण में 20 हजार पंचायतों से इसकी शुरूआत की जाएगी। क्लब का उद्देश्य युवाओं को छत्तीसगढ़ी परम्परा व संस्कृति को सहजने के लिए आगे लाने के लिए प्रोत्साहित करना है, एक तरह से उन्होंने युवाओं का दिल जीता। मुख्यमंत्री द्वारा किसी भी गरीब के आशियानें को नहीं उजाड़ने का फैसला किया गया है। इस निर्णय से 19 नवम्बर 2018 के पूर्व बने किसी भी मकान को नहीं हटाया जाएगा और उन्हें पट्टा वितरण की कार्यवाही की जाएगी। इससे प्रदेश के औद्योगिक शहरों सहित प्रदेश में निवासरत लाखों लोगों को इसका लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री ने एक और बड़ा निर्णय लेते हुए अनुसूचित जाति संवर्ग को 13 प्रतिशत आरक्षण एवं अन्य पिछड़ा वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण देने की घोषणा की है। शासन के इस फैसले से प्रदेश के अजा एवं ओबीसी समुदाय के लोगों को इसका लाभ मिलेगा। नवगठित बस्तर, सरगुजा मध्य क्षेत्र विकास प्राधिकरणों का अध्यक्ष पद मुख्यमंत्री के स्थान पर स्थानीय विधायक को दिया गया है व दो स्थानीय उपाध्यक्ष भी बनाए गए हैं। जाति प्रमाण पत्र का सरलीकरण करते हुए बच्चे के जन्म के साथ पिता के जाति प्रमाण पत्र के आधार पर बच्चों को भी जाति प्रमाण पत्र जारी किये जाने का निर्णय एक स्वागत योग्य कदम है। मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना के तहत आदिवासी अंचलों के हाट बाजारों में स्वास्थ्य जांच, इलाज तथा दवा वितरण की सुविधा दी जा रही है, जिसका लाभ विशेषकर सुदूर अंचल में रहने वाले अनुसूचित जनजाति के लोगों को मिल रहा है। विलुप्त होती सांस्कृतिक विरासत पौनी-पसारी बाजार प्रणाली को जीवित करने के लिए सभी नगरीय निकायों में एसे 255 बाजारों का विकास किया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गरीबों की पीड़ा को समझते हुए प्रदेश सरकार द्वारा मोर जमीन मोर मकान के अंतर्गत एक लाख 60 हजार परिवारों को आवास निर्माण हेतु 2 लाख 29 हजार रूपए की राशि उनके बैंक खातों मे डालने की व्यवस्था की गई है। मोर आवास- मोर चिन्हारी योजना के अंतर्गत तालाब पार, डूबान क्षेत्र व अन्य योजनाओं से प्रभावित परिवारों के लिए नगर निगम क्षेत्रों में बहुमंजिला फ्लैट्स के निर्माण में तेजी लाई गई है। जिससे हितग्राही को मात्र 75 हजार रूपए में घर मिलेंगे। सुराजी गांव योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार द्वारा नरवा, गरूवा, घुरवा अउ बारी के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए सरकार द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे है।
  • फर्जी बैंक खातों के लिए बैंक मैनेजरों पर भी होगा जुर्म दर्ज - फर्जी नियुक्ति पत्र जारी करने वाला आरोपी  गिरफ्तार
    *भारत सरकार और कर्मचारी चयन आयोग के पुराने लोगों अर्थात मोनो का प्रयोग कर कर्मचारी चयन आयोग के नाम से वाटर मैन एवं स्वीपर पद हेतु रकम लेकर फर्जी नियुक्ति पत्र जारी करने वाले दो आरोपियों को राजधानी पुलिस ने गिरफ्तार किया है -* *फर्जी बैंक खातों का करते हैं उपयोग -* कंट्रोल रूम रायपुर में इसका खुलासा करते हुए रायपुर एसएसपी आरिफ शेख ने बताया कि आरोपी मूलत: करोल बाग दिल्ली का रहने वाला है, जो बेरोजगार लोगों से नौकरी लगाने के नाम पर रकम की मांग करता था - जिसके लिए फर्जी बैंक खातों का उपयोग करता था - आरोपी दीपक कुमार ने अलग अलग कई बैंकों में दर्जन भर से अधिक फर्जी खाते खोल रखे थे - जिसमें वह बेरोजगारों को सरकारी नौकरी लगाने का झांसा देकर रकम ट्रांसफर करवाता था- राजधानी रायपुर के कर्मचारी चयन आयोग के अनुपम नगर कार्यालय के उपनिदेशक वेद प्रकाश पटवा ने इसकी शिकायत थाने में दर्ज कराई - जिसकी जांच के बाद इस बड़े रैकेट का पता चला - राजधानी पुलिस आरोपी दीपक कुमार को गिरफ्तार करके ट्रांजिट रिमांड पर रायपुर ले आई है - रायपुर एसएसपी आरिफ शेख ने स्पष्ट किया है कि फर्जी बैंक अकाउंट मामले में बैंक मैनेजर पर भी जुर्म दर्ज कर सख्त कार्रवाई की जा सकती है - रायपुर एसएसपी के द्वारा फर्जी बैंक अकाउंट खोलने के लिए बैंक प्रबंधन को भी जिम्मेदार माना जा रहा है , उनके अनुसार बिना सही केवाईसी के बैंक अकाउंट खोलना भी अपराध की श्रेणी में आता है - और यदि बैंक मैनेजर पर जुर्म दर्ज किया गया तो यह अपने आप में पूरे देश का सबसे पहला मामला हो सकता है, और इसके लिए एसएसपी आरिफ शेख की जितनी भी सराहना की जाए कम है - यह एक संदेश है पूरे देश के बैंक मैनेजरों के लिए कि पूरी जांच पड़ताल और सही केवाईसी के बिना बैंक खाता खोलने पर उनके खिलाफ भी आपराधिक कार्यवाही शुरू की जा रही है --
  • वाटर मैन एवं स्वीपर पद हेतू फर्जी नियुक्ति पत्र जारी करने वाला आरोपी  गिरफ्तार
    भारत सरकार और कर्मचारी चयन आयोग के पुराने लोगों अर्थात मोनो का प्रयोग कर कर्मचारी चयन आयोग के नाम से वाटर मैन एवं स्वीपर पद हेतु रकम लेकर फर्जी नियुक्ति पत्र जारी करने वाले दो आरोपियों को राजधानी पुलिस ने गिरफ्तार किया है -- कंट्रोल रूम रायपुर में इसका खुलासा करते हुए रायपुर एसएसपी आरिफ शेख ने बताया कि आरोपी मूलत: करोल बाग दिल्ली का रहने वाला है, जो बेरोजगार लोगों से नौकरी लगाने के नाम पर रकम की मांग करता था - जिसके लिए फर्जी बैंक खातों का उपयोग करता था - आरोपी दीपक कुमार ने अलग अलग कई बैंकों में दर्जन भर से अधिक फर्जी खाते खोल रखे थे - जिसमें वह बेरोजगारों को सरकारी नौकरी लगाने का झांसा देकर रकम ट्रांसफर करवाता था- राजधानी रायपुर के कर्मचारी चयन आयोग के अनुपम नगर कार्यालय के उपनिदेशक वेद प्रकाश पटवा ने इसकी शिकायत थाने में दर्ज कराई - जिसकी जांच के बाद इस बड़े रैकेट का पता चला - राजधानी पुलिस आरोपी दीपक कुमार को गिरफ्तार करके ट्रांजिट रिमांड पर रायपुर ले आई है - रायपुर एसएसपी आरिफ शेख ने स्पष्ट किया है कि फर्जी बैंक अकाउंट मामले में बैंक मैनेजर पर भी जुर्म दर्ज कर सख्त कार्रवाई की जा सकती है - रायपुर एसएसपी के द्वारा फर्जी बैंक अकाउंट खोलने के लिए बैंक प्रबंधन को भी जिम्मेदार माना जा रहा है , उनके अनुसार बिना सही केवाईसी के बैंक अकाउंट खोलना भी अपराध की श्रेणी में आता है - और यदि बैंक मैनेजर पर जुर्म दर्ज किया गया तो यह अपने आप में पूरे देश का सबसे पहला मामला हो सकता है, और इसके लिए एसएसपी आरिफ शेख की जितनी भी सराहना की जाए कम है - यह एक संदेश है पूरे देश के बैंक मैनेजरों के लिए कि पूरी जांच पड़ताल और सही केवाईसी के बिना बैंक खाता खोलने पर उनके खिलाफ भी आपराधिक कार्यवाही शुरू की जा रही है --
  • राज्यपाल अनुसुइया उइके ने मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के निधन पर शोक व्यक्त किया...

    रायपुर। छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके ने मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के निधन पर शोक प्रकट किया है। राज्यपाल के मुताबिक गौर आजीवन जन सेवा में लगे रहे।उनके लिए जनहित सर्वोपरी था। उनमें प्रखर नेतृत्व और संगठक का गुण था। राज्यपाल ने ईश्वर से प्रार्थना की है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें। शोक संतप्त परिजनों को इस दुख को सहन करने की शक्ति दे।