Top Story
  • भूपेश बघेल ही रहेंगे प्रदेश के मुख्यमंत्री ! - राहुल गांधी से 3 घंटे की चर्चा के बाद कयास
    मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर चल रहे विवाद के चलते प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रमुख राहुल गांधी के बीच 2 घंटे से ज्यादा चली चर्चा के बाद बाहर निकलकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं पीएल पुनिया ने पत्रकारों के सामने स्थिति स्पष्ट की | हमने अपनी सारी बातें बता दी राजनीतिक बातें भी हुई है योजनाओं पर भी बातें हुई हैं सारी चर्चाएं हुई हैं अंत में मैंने राहुल जी से आग्रह किया कि आप छत्तीसगढ़ आई है तो उन्होंने शहर से स्वीकार किया मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि प्रदेश प्रभारी पी एल पुनिया इस बारे में पहले भी स्पष्ट बयान दे चुके हैं इसके बाद कहने को क्या रह जाता है | मुख्यमंत्री द्वारा पीएल पुनिया के सामने पत्रकारों को दिए गए जवाब से यह स्पष्ट हो गया है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ही रहेंगे फिलहाल प्रदेश में मुख्यमंत्री बदलने का विवाद टल चुका है
  • प्रदेश की योजनाओं की भ्रूण हत्या का पाप भोगना ही पड़ेगा - अजय चंद्राकर

     नरवा-गरुवा-घुरवा-बारी ड्रीम प्रोजेक्ट - जनता की गाढ़ी कमाई आखिर किसकी बाड़ी में पहुंच रही है?

    प्रदेश सरकार को इन योजनाओं की भ्रूण हत्या का पाप भोगना ही पड़ेगा - अजय चंद्राकर

    भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने प्रदेश सरकार के अपने ही ड्रीम प्रोजेक्ट पर करारा तंज कसा है।

    श्री चंद्राकर ने कहा कि गोधन योजना, गौठान, रोका-छेका के साथ ही नरवा-गरुवा-घुरवा-बारी योजनाओं का ढिंढोरा पीटने वाली प्रदेश सरकार को इन योजनाओं की भ्रूण हत्या का पाप भोगना ही पड़ेगा। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता अजय चंद्राकर ने कहा है कि गोधन योजना के क्रियान्वयन में विफलता का आलम यह है कि प्रदेश के 14 जिलों में मवेशियों के लिए चारा उगाने का काम भी सही ढंग से नहीं हो सका है। समीक्षा बैठक में इस बात पर आला अधिकारी नाराज हो रहे हैं और इस योजना की ढिंढोरची सरकार को इस बात पर कोई मलाल तक नहीं है। श्री चंद्राकर ने कहा कि सत्ता-संघर्ष से जूझते हुए अब तक का कार्यकाल सियासी लफ्फाजियों और अनर्गल प्रलाप में खपा देने और इन योजनाओं को भ्रष्टाचार का माध्यम बनाने के अलावा और कोई काम किया ही नहीं। गोबर खरीदकर भी यह सरकार खाद बना नहीं पाई, गोबर घोटाला रोक नहीं पाई। श्री चंद्राकर ने कहा कि प्रदेश के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे विधानसभा में गोबर बह जाने पर शर्मिंदगी तक जता चुके हैं। यही बदहाली गौठानों में रही है। एक ओर गौठानों में चारा-पानी के अभाव में मवेशी मर रहे हैं, वहीं रोका-छेका के हंगामे के बावजूद सड़क हादसों में मवेशियों की मौत का सिलसिला नहीं थमा है। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री श्री चंद्राकर ने कहा कि नरवा-गरुवा-घुरवा-बारी, गौठान, गोबर खरीदी, रोका-छेका तक सारे ड्रीम प्रोजेक्ट में यह सरकार बुरी तरह विफल रही है। भ्रष्टाचार ही इन योजनाओं की पहचान बनकर रह गया है। श्री चंद्राकर ने प्रदेशवासियों की ओर से प्रदेश सरकार से इस बात का जवाब देने को कहा कि घुरवा में भरकर, नरवा में बहाकर, जनता की गाढ़ी कमाई आखिर किसकी बाड़ी में पहुंच रही है? क्या ये तमाम योजनाएं भ्रष्टाचार के लिए ही प्रदेश में शुरू की गई थी?

  • मुख्यमंत्री विवाद पर राहुल गांधी के सामने भूपेश - सिंहदेव की पेशी!
    प्रदेश का मुख्यमंत्री विवाद लगातार चर्चा में है इसी बीच प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपना जन्मदिन मनाने के बाद रात को अचानक दिल्ली रवाना हुए | मीडिया से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया बड़े समय बाद मैं दिल्ली जा रहा हूं पिछली बार जब गया था तो प्रियंका वाड्रा से मुलाकात हुई थी इस बार राहुल गांधी ने बैठक के लिए बुलवाया है | उल्लेखनीय है कि प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव पहले से दिल्ली में मौजूद है राहुल गांधी से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मुलाकात में इस बात पर भी चर्चा हो सकती है ताकि प्रदेश में लड़ाई लड़ाई साल के मुख्यमंत्री को लेकर संशय की स्थिति को समाप्त किया जा सके | प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव मीडिया के सामने स्पष्ट रूप से अनेकों बार कह चुके हैं कि यह बातें लिखा पढ़ी में नहीं होती | अब देखने वाली बात यह है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल टीएस सिंह देव और पीएल पुनिया कि राहुल गांधी के साथ बैठक में क्या निष्कर्ष निकल कर आता है क्या मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मुख्यमंत्री रहेंगे क्या टीएस सिंह देव मुख्यमंत्री बनेंगे इस पर राजनीतिक गलियारों में जमकर चर्चा है बाहर हाल सभी को राहुल गांधी के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और टीएस सिंह देव की मुलाकात के बाद बाहर निकलने का इंतजार है |
  • मुख्यमंत्री के जन्मदिन पर विशेष लेख
    छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 23 अगस्त को अपना 60 वां जन्मदिन मना रहे हैं | भूपेश बघेल का जन्म 23 अगस्त 1961 को छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में हुआ | भूपेश बघेल के पिता का नाम नंद कुमार बघेल और माता बिंदेश्वरी बघेल हैहै,इनके एक पुत्र और तीन पुत्रियां हैं | स्नातक तक पढ़ाई करने वाले भूपेश बघेल का सबसे सफल अभियान शादियों में पैसों की बर्बादी रोकने रहा | यूथ कांग्रेस से अपनी राजनीति शुरू करने वाले भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भी रहे, पाटन से पांच बार विधायक बनने वाले भूपेश बघेल ने भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को लगातार राजनीतिक चुनौतियां देकर परेशान किया और अंततः 15 साल के मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह को राजनीति शिकस्त देकर प्रदेश का नेतृत्व संभाला | प्रदेश के किसान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वक्त है बदलाव का के साथ नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी के नारे के आधार पर प्रदेश में किसानों के हित में अपनी सोच को धरातल पर उतारा | किसानों का कर्जा माफ करने के अपने वादे को सत्ता संभालने के 10 घंटे के अंदर ही घोषणा कर पूरा किया, भले ही इसे पूरा करने में उन्हें कुछ समय लगा | प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपना 60 वां जन्मदिन 23 अगस्त को मना कर अपने ढाई साल के कार्यकाल की उपलब्धियों का बखान कर रहे हैं | मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मंत्री मंडल के सभी सदस्य और मंडल - आयोग के नियुक्त अध्यक्ष उनके 60वें जन्मदिन पर उन्हें बधाइयां देने अपनी ओर से कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं | पूरे प्रदेश में उनके जन्मदिन की बधाई से संबंधित बैनर - पोस्टर फ्लेक्स, होल्डिंग्स के साथ-साथ अखबारों में दो दो तीन तीन पेज का विज्ञापन उन्हें खुश करने के लिए नजर आ रहे है | दूसरी तरफ विपक्ष अपनी भूमिका में कमजोर तो नजर आ रहा है परंतु अपनी उपस्थिति हर जगह दर्ज करा कर भूपेश बघेल को जवाब देने मजबूर कर रहा है | उल्लेखनीय है कि विपक्ष में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रहते भूपेश बघेल को poor भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने अनेक मामलों में फंसाकर प्रताड़ित करने की कोशिशें की तीन |
  • 75 में स्वाधीनता दिवस पर भी रेलों का किराया सामान्य नहीं हुआ

    देश के 75 वें स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से आज देश को संबोधित किया,

    बंद की गई योजनाओं को चालू करने के बारे में कोई चर्चा नहीं की

    रेलों के संचालन की स्पेशल कमाई से ही आपने 20 लाख करोड़ से कई गुना ज्यादा वसूली कर ली 

    नारा - सबका साथ, सबका विकास, सबका साथ और सब का प्रयास

    उन्होंने लगभग डेढ़ घंटे तक भाषण दिया, अनेक नई योजनाओं की घोषणा के साथ अगले 25 वर्षों की प्लानिंग का उल्लेख किया, परंतु करोना महामारी के दौरान जो सुविधाएं बंद की गई थी उन्हें चालू करने के बारे में कोई चर्चा नहीं की | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नया नारा दिया सबका साथ, सबका विकास, सबका साथ और सब का प्रयास -  उन्होंने विदेश नीति पर तो चर्चा की लड़कियों - बेटियों को सैनिक स्कूल में भर्ती करने जैसी अनेक भावी योजनाओं पर चर्चा की , परंतु बंद की गई योजनाओं को चालू करने के बारे में कोई चर्चा नहीं की | हम आपको बता दें कि करोना महामारी के दौरान जब लॉकडाउन किया गया था ट्रेनों का संचालन बंद किया गया यातायात परिवहन आवागमन सब बंद रहा जो उस समय की आवश्यकता थी बीमारी को रोकने के लिए यहां तक तो सब ठीक है परंतु जब अल्लाह किया गया ट्रेनों का संचालन शुरू हुआ तो ट्रेनों को स्पेशल ट्रेन के नाम से चलाया गया जो आज तक स्पेशल ट्रेनों के नाम से ही पूरे भारत में चल रही हैं |

    जो भी ट्रेनें जिस रूट पर चलती थी और जिस समय पर चलती थी आज भारत में रेल विभाग जितनी भी ट्रेनों का संचालन कर रहा है वह सभी पहले के समान अपने गंतव्य स्थानों से नियत तिथियों पुरानी समय सारणी के अनुसार उन्ही अंतिम स्टेशनों तक चल रही हैं , फिर वह स्पेशल ट्रेनें कैसे हुई | अगर स्पेशल ट्रेनें होती तो दो चार दिनों या कुछ समय के लिए आवश्यकता अनुसार किसी समारोह, किसी रैली, किसी प्रदर्शन, किसी धार्मिक स्थान या शादी ब्याह, पर्यटन के लिए चलाई जाती है | परंतु भारत की सभी ट्रेनें पूरे हिंदुस्तान में कहीं भी जा आ रही हैं तो स्पेशल ट्रेन के नाम से और वह भी दुगुने किराए के साथ और सुविधाओं को कम करके | आश्चर्य होता है कि यह मोदी जी का कौन सा स्पेशल प्रोग्राम है ? यह कैसा देश हित का विजन है ?

     

    सीनियर सिटीजन, दिव्यांग, एक्स सर्विसमैन, मिलिट्री मैन, कम उम्र के बच्चे, इलाज के लिए जाने वाले मरीज, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी सहित उनके परिजन जैसे लोगों को मिलने वाली छूट भी बंद कर दी गई है क्यों ? मोदी जी आपने देश के सांसदों राज्यसभा सदस्य सहित शासकीय सुविधाओं का लाभ लेने वाले राजनेताओं को मिलने वाली छूट को तो समाप्त नहीं किया, आज भी हवाई जहाज में उन्हें आने-जाने की निशुल्क सुविधा वाले कूपन उपलब्ध हैं, उनके रहने खाने की 5 तारा सुविधाएं सरकार दे रही है | वाह मोदी जी वाह

    करोना महामारी आपदा के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा के बाद रेलों के संचालन की स्पेशल कमाई से ही आपने 20 लाख करोड़ से कई गुना ज्यादा वसूली कर ली है |

    हम तो सोच रहे थे कि आज भारत के 75 में स्वाधीनता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से आप ट्रेनों को पुरानी दरों पर चलाने और सर्व सुविधा उपलब्ध कराने की घोषणा करेंगे परंतु ऐसा ना कर आपने देश के सभी तबकों को निराश किया है | ट्रेनों में यात्रा करने वाले भारत सरकार के संविधान के अनुसार किराए में छूट पाने वाले सभी पात्र लोग एवं गरीब वर्ग भी आपकी स्पेशल ट्रेनों में स्पेशल किराया देकर आपको कोस रहे हैं |

  • बिलासपुर हवाई अड्डे पर करोना टेस्ट के नाम पर अवैध वसूली का खुलासा
    *बिलासपुर बिलासा बाई केवटीन हवाई अड्डा बना अवैध वसूली का अड्डा* *हवाई यात्रियों से कोविड टेस्ट हेतु लिया जा रहा अवैध शुक्ल* बिलासपुर - कोरोना संक्रमण के नाम पर बिलासपुर हवाई अड्डे पर बाहर से आ रहे यात्रियों से जम कर अवैध वसूली की जा रही है| शासन प्रशासन का डर दिखा लोगो से प्रति व्यक्ति 150 रुपये लिए जा रहे है। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर समाप्ति के पश्चात भी अभी संक्रमण का खतरा पूरी तरह से टला नही है, जिसको मद्देनजर रखते हुए केंद्र के हेल्थ मिनिस्ट्री ने सभी यात्रियों के लिए कोरोना टीका के डबल डोज के साथ प्रमाण पत्र होने पर यात्रा में छूट प्रदान की है। और जिन यात्रियों के पास टीका का प्रमाण पत्र नही उन्हें RT पीसीआर की रिपोर्ट साथ रखना अनिवार्य किया है। सुरक्षा के एतिहात में शासन ने बाहर से आ रहे यात्रियों हेतु पुनः रैपिड टेस्ट की व्यवस्था की है लेकिन इस टेस्ट हेतु किसी भी प्रकार का कोई शुल्क यात्रियों हेतु निर्धारित नही किया है। लेकिन बिलासा बाई केवटिन हवाई अड्डे बिलासपुर में नज़ारा कुछ और नजर आया है यहां प्रति व्यक्ति 150 रुपये का शुल्क यात्रियों से लिया जा रहा है। इस अवैध शुल्क की जानकारी हेतु जब सीजी 24 न्यूज़ संवाददाता ने जिम्मेदार अधिकारियों से जानकारी लेनी चाही तो कोई स्पष्ट जबाब उनकी ओर से नही मिला , यात्रियों को जीवन दीप समिति की एक रसीद दी जा रही है को पूरी तरह से अवैध वसूली की श्रेणी में आती है , और वहां ड्यूटी में तैनात डॉक्टर इसे शासकीय समिति बता अपना पल्ला झाड़ रहे है , क्योंकि पूरे भारत के किसी भी हवाई अड्डे पर किसी भी यात्री से टेस्ट के नाम पर ₹1 भी नहीं लिया जा रहा है परंतु छत्तीसगढ़ की न्याय धानी कहे जाने वाले बिलासपुर के बिलासा बाई कैंटीन हवाई अड्डे पर करोना टेस्ट के नाम पर अवैध वसूली का यह व्यापार पिछले 1 साल से जारी है, इस बाबत एयरपोर्ट अथॉरिटी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सही जवाब देने में असमर्थ नजर आ रहे हैं और गोलमाल जवाब दे रहे हैं | इस अवैध वसूली में एयरपोर्ट अथॉरिटी स्वास्थ्य विभाग बिलासपुर सहित ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर की मिलीभगत स्पष्ट नजर आती है परंतु यहां सवाल यह भी उठता है की इस प्रकार की अवैध वसूली पर शासन प्रशासन सहित जनप्रतिनिधियों ने ध्यान क्यों नहीं दिया जो अनेक संदेशों को जन्म देता है अब प्रश्न ये उठता है कि यदि ये समिति शासकीय है तो पूर्णतः निशुल्क होनी चाहिए और वसूली की राशि क्या छत्तीसगढ़ शासन तक जा रही या नही ये जांच का विषय बन रहा है । चिरायु के सौरभ शर्मा इस जीवन दीप समिति के प्रभारी बताए जा रहे है और इनके कहने पर ही ये शुल्क यात्रियों से वसूला जा रहा है। इस मामले में बिलासपुर मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं स्वास्थ्य अधिकारी से बात की गई तो उनका साफ तौर पर कहना है कि ये व्यवस्था पूर्णतः निःशुल्क है रेलवे व हवाई अड्डे पर स्वास्थ्य विभाग का अमला तैनात किया गया है । जो कि आंगतुकों का रैपिड टेस्ट निःशुल्क कर रहे है | CG 24 news की इस खबर के बाद शासन प्रशासन एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधिकारी क्या कार्रवाई करते हैं ?देखने वाली बात हैं | मन्नू मानिकपुरी संवाददाता बिलासपुर
  • छत्तीसगढ़ धान का कटोरा की जगह अफीम गंजा, शराब और ड्रग्स का कटोरा बन गया है - बृजमोहन अग्रवाल
    छत्तीसगढ़ धान का कटोरा की जगह अफीम गंजा, शराब और ड्रग्स का कटोरा बन गया है - बृजमोहन अग्रवाल बिजली दरों में वृद्धि के खिलाफ़ आंदोलन करेगी भारतीय जनता पार्टी | जिस जनघोषणा के आधार पर कांग्रेस की सरकार बनी , 30 महीनों बाद भी
  • छत्तीसगढ़ धान का कटोरा की जगह अफीम, गांजा, शराब और ड्रग्स का कटोरा बन गया है - बृजमोहन अग्रवाल
    छत्तीसगढ़ धान का कटोरा की जगह अफीम गंजा, शराब और ड्रग्स का कटोरा बन गया है - बृजमोहन अग्रवाल
  • सावधान, इस तरह के मैसेज भेज कर की जाती है आम नागरिकों से ठगी
    अभी अभी हमे यह मैसेज आया है कि मुझे माय जिओ ऐप की तरफ से पांच लाख रुपए और 1 पल्सर बाइक का इनाम मिला है | *इस मैसेज में लिखा है माय जिओ में आप जीत चुके हैं ₹500000 1 पल्सर बाइक डेढ़ सौ सीसी तो इस ऑफर का लाभ पाने के लिए अभी तुरंत कॉल करें और मोबाइल नंबर दिया है 96248 52472* सभी मोबाइल कंपनियों सहित पुलिस विभाग, राज्य शासन, केंद्र शासन की तरफ से जन जागरूकता समाचार के साथ साथ मैसेज लगातार जारी किए जाते हैं कि परंतु इन सब के बावजूद भी देखने सुनने में आ रहा है कि आम नागरिक ऐसे लुभावने ऑफर में फस कर अपनी जमा पूंजी से हाथ धो बैठे हैं और अपने लिए परेशानी खड़ी कर रहे हैं इसलिए सीजी 24 न्यूज़ आप सब से अनुरोध करता है कि किसी भी तरह के लुभावने ऑफर के लालच में ना फंसे ना ही किसी को ओटीपी नंबर या अपने बैंक से संबंधित किसी भी तरह की कोई भी जानकारी ना दें चाहे वह आपका कितना भी नजदीकी हो क्योंकि फोन पर आप धोखा खा सकते हैं की बात करने वाला व्यक्ति आपका भाई रिश्तेदार है भी या नहीं कहीं आवाज बदल कर आप से बात तो नहीं कर रहा इसलिए रकम लेनदेन और इस तरह के ठगी वाले किसी भी तरह के लुभावने जाल में ना फंसे और प्रत्यक्ष ही व्यक्ति को बुलाकर पहचान कर लेन देन करें| उपरोक्त मैसेज प्राप्त होने के बावजूद भी हम उस नंबर पर वापस कॉल नहीं कर रहे हैं और इस मैसेज को तुरंत लोगों को जागरूक करने के नाते, आम आदमी को आगाह करने के नाते, लुभावने ऑफर ओं के चक्कर में फस कर अपनी जमा पूंजी को बर्बाद करने से बचाने की खातिर आपके सामने ला रहे हैं |
  • हरेली पर्व का आयोजन सीएम हाउस में - देखें LIVE

    सीएम हाउस में हरेली पर्व का आयोजन, देखें LIVE 

     

    https://fb.watch/7fc4YVMLqe/

    ज रायपुर स्थित मुख्यमंत्री निवास में छत्तीसगढ़ के प्रथम त्यौहार हरेली का आयोजन किया जा रहा है। संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग द्वारा इस आयोजन के लिए मुख्यमंत्री निवास को ग्रामीण परिवेश में सजाया गया है। इस कार्यक्रम में पारंपरिक कृषि उपकरणों एवं गाय-बैलों का पूजन किया गया । इसके साथ पारंपरिक नृत्य, गड़वा बाजा के साथ छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेलों भौंरा चालन, गिल्ली डंडा तथा छत्तीसगढ़ी व्यंजनों का प्रतीकात्मक प्रदर्शन किया गया है।


     

  • *इस एक टीवी चैनल का उद्देश्य सिर्फ कांग्रेस के खिलाफ झूठी खबरें दिखाना और अफवाह फैलाना है - TS Singhdev

    रिपब्लिक टीवी का उद्देश्य सिर्फ कांग्रेस के खिलाफ झूठी खबरें दिखाना और अफवाह फैलाना है

    छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव ने अपने इस्तीफे की खबर को सिरे से  दिया नकार

     चैनल की टीआरपी की भूख इस सत्य को नहीं बदल सकती

    छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव ने अपने इस्तीफे की खबर को सिरे से नकार दिया उन्होंने रिपब्लिक टीवी के नाम का उल्लेख करते हुए ट्वीट करते हुए कहा कि *रिपब्लिक टीवी का उद्देश्य सिर्फ कांग्रेस के खिलाफ झूठी खबरें दिखाना और अफवाह फैलाना है मैंने पहले बहुत बार कहा है और फिर कहूंगा कांग्रेस मेरे खून में है अगर मेरे सौ जन्म भी हुए तब भी मैं इस विचारधारा को नहीं छोडूंगा,

    आप की टीआरपी की भूख इस सत्य को नहीं बदल सकती*

     

    अब सवाल यह उठता है कि छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव के लिए एक न्यूज़ चैनल प्रमाणिक खबर क्यों जारी कर रहा है ? रायपुर : छत्तीसगढ़ में उस वक्त हड़कंप मच गया. जब एक नेशनल चैनल ने स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के इस्तीफा देने की खबर अपने चैनल पर प्रसारित किया. मंत्री ने खुद इस खबर का खंडन किया. इसके लिए टीएस सिंहदेव के कार्यालय की ओर से बयान जारी किया गया. स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के अपने पद से इस्तीफा देने की खबर केवल पूर्णतः असत्य और निराधार है. टीएस सिंहदेव के खिलाफ यह अफवाह फैलाई जा रही है. (Chhattisgarh) सभी से निवेदन है कि ऐसी झूठी खबरों पर ध्यान न दें.

  •  इस गेम में वित्तीय जोखिम शामिल है और इसकी आदत लग सकती है | कृपया जिम्मेदारी और अपने जोखिम पर खेलें - केंद्र सरकार संज्ञान क्यों नहीं लेती ?

    Pubjee की तरह के और गेम आ गए हैं Winzo और MPL जैसे कई - शासन प्रशासन लापरवाह क्यों ?

    *माता पिता ऐसे गेम डाउनलोड करने से बच्चों को रोकें" *अपने बैंक स्टेटमेंट और मैसेज को समय समय पर चेक करें , खाते की पूरी निगरानी रखे*

    कुछ समय पहले तक भारत के बच्चे पब्जी नामक गेम की जकड़ में फंसकर, उसकी लत में पड़कर  परिवार को आर्थिक क्षति पहुंचा रहे थे साथ ही गेम का टारगेट पूरा करने के चक्कर में अपनी जान तक गंवा रहे थे , लगातार हो रही घटनाओं को संज्ञान में लेकर केंद्र सरकार ने पब्जी गेम पर प्रतिबंध लगाकर इस भयंकर नशे वाली, आदत में पड़कर जुए के रूप में घरवालों के पैसों को लुटाने और उसके बावजूद भी गेम पुरा ना होने या हारने के गम में अपनी जान देने वाले इस पब्जी गेम से बच्चों सहित माता-पिता को छुटकारा दिलवाया|

    देश की जनता खासकर के माता-पिता अपने बच्चों की दुर्दशा और गलत आदतों से छुटकारा पाने से भारी खुश थे | परंतु पैसा कमाने वालों को यह कहां मंजूर था कि बच्चे गलत आदतों को छोड़कर घर में संस्कारी बन जाए | बस फिर क्या था अनेक कंपनियों ने पब्जी की तर्ज पर खुलेआम दूसरे नाम से गेम लाकर टीवी में विज्ञापन देना शुरू कर दिया और इन टीवी विज्ञापनों में स्पष्ट कहा जाता है कि इस गेम में वित्तीय जोखिम शामिल है और इसकी आदत लग सकती है | कृपया जिम्मेदारी और अपने जोखिम पर खेलें |
    *शर्तें लागू

    इन दिनों winzo और MPL  नामक कंपनी टीवी सहित अखबारों में दो दो पेज के फुल विज्ञापन देकर बच्चों सहित बड़ों को आकर्षित कर रही है, उसके विज्ञापनों में स्पष्ट तौर अखबारों में लिखा एवं टीवी में घोषणा कर बताया जाता है कि इस गेम में वित्तीय जोखिम शामिल है और इसकी आदत लग सकती है | कृपया जिम्मेदारी और अपने जोखिम पर खेलें | *शर्तें लागू

    इस प्रकार अखबारों एवं टीवी चैनलों पर खुलेआम जुआ खेलने की इनके मोका प्रचार प्रसार कर लोगों को आमंत्रित कर आदत डाल कर बर्बाद करने का विज्ञापन संबंधित विभागों सहित केंद्र की सरकार व राज्य की सरकारों को दिखाई क्यों नहीं देता क्यों नहीं ऐसे विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगाया जाता और क्यों नहीं इस आदत डालने वाले और आर्थिक नुकसान के साथ साथ जान का नुकसान पहुंचाने वाले गेम्स की कंपनियों पर जुर्म दर्ज कर कार्यवाही की जाती |

    लगता है कि संबंधित विभाग के अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधियों को कुछ ना कुछ कमीशन मिलता होगा ! क्योंकि कोई भी इनके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई करने सामने नहीं आया |