Top Story
  • होटल क्वींस क्लब मामले में दर्ज हुई FIR - 14 लोगों के खिलाफ जुर्म दर्ज

    /// लाॅक डाॅउन अवधि के दौरान थाना तेलीबांधा क्षेत्रांतर्गत व्ही.आई.पी. रोड स्थित होटल क्वीन्स क्लब आॅफ इंडिया में बर्थ-डे पार्टी करते 5 आरोपियों को किया गिरफ्तार  लाॅक डाॅउन अवधि के दौरान थाना तेलीबांधा क्षेत्रांतर्गत व्ही.आई.पी. रोड स्थित होटल क्वीन्स क्लब आॅफ इंडिया में दिनांक 27.09.20 को कर रहे थे बर्थ-डे पार्टी।  होटल प्रबंधन द्वारा होटल में पार्टी करने की किसी प्रकार से नहीं ली गई थी अनुमति।  प्रशासन द्वारा जारी लाॅक डाउन के निर्देशों का कर रहे थे उल्लंघन।  आरोपियों द्वारा जिला दंडाधिकारी रायपुर के आदेश का स्पष्ट उल्लंघन करते हुये किया गया उपेक्षा पूर्ण कार्य  बर्थ-डे पार्टी के दौरान आरोपी हितेश भाई पटेल द्वारा अपने पिस्टल से चलायी गयी थी गोली।  आरोपियों के विरूद्ध थाना तेलीबांधा में अपराध क्रमांक 342/20 धारा 188, 269, 270 भा.द.वि. एवं महामारी अधिनियम 1897 की धारा 3 के तहत् किया गया है अपराध पंजीबद्ध। विवरण - दिनांक 27.09.2020 को रात्रि सूचना प्राप्त हुई कि लाॅक डाउन के दौरान क्वीन्स क्लब आफ इंडिया व्हीआईपी रोड तेलीबांधा का होटल खुला है, बर्थ डे पार्टी हो रहा है वहां गोली चली है। लाॅक डाउन के दौरान होटल में बर्थ-डे पार्टी करने एवं पार्टी के दौरान गोली चलाने की घटना को पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा गंभीरता से लेते हुए थाना प्रभारी तेलीबांधा को गोली चलाने वाले एवं प्रशासन द्वारा जारी लाॅक डाउन के निर्देशों का उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया। जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों एवं थाना तेलीबांधा की टीम द्वारा व्हीआईपी रोड स्थित होटल क्वीन्स क्लब आॅफ इंडिया जाकर देखने पर रिसेप्शन में होटल को मैनेजर व अन्य ग्राहकों का भीड लगा था । होटल अंदर चेक करने पर होटल का कमरा नंबर 206 खुला था, वहा बर्थ डे पार्टी हेतु कमरा सजाया गया था। होटल के मैनेजर सूरज शर्मा से पूछने पर अमित धवल, मिनल साकिन एम जी रोड रायपुर के नाम से कमरा बुकिंग है बताया गया। कोरोना संक्रमण बीमारी फैलने से जिला दंडाधिकारी रायपुर द्वारा दिनांक 22.09.2020 से 28.09.2020 तक जिला रायपुर में लाॅक डाउन घोषित किया गया है। जिसमें होटल, किराना आदि सभी व्यवसाय पूर्ण रूप से बंद करने का आदेश किया गया है। होटल संचालक हर्षित सिंघानिया, होटल का जनरल मैनेजर सूरज शर्मा, फ्रंट मैनेजर संस्कार पाचे, असिटेन्ट मैनेजर करन सोनवानी द्वारा जिला दंडाधिकारी रायपुर के आदेश का स्पष्ट उल्लंघन करते हुये उपेक्षा पूर्ण कार्य जिससे जीवन के लिए संकटपूर्ण रोग का संक्रमण फैलना सम्भाव्य है जानते हुये होटल संचालन करते पाया गया है। जनरल मैनेजर सूरज शर्मा से पूछने पर होटल का संचालक हर्षित सिंघानिया, नमित जैन, चम्पा लाल जैन, श्रीमती नेहा जैन, मीनाली सिंघानिया है बताया गया। होटल में अभिजीत कौर निरंकारी, टिंवकल सिंह, अमित धवल, मिनल, राजवीर सिंह, हितेश भाई पटेल एवं अन्य बर्थ डे पार्टी में आये थे जो उपस्थित थे। पूछताछ करने पर हितेश भाई पटेल द्वारा होटल परिसर में अपने पिस्टल से गोली चलाने की जानकारी प्राप्त हुई। संचालकगण, मैनेजर एवं बर्थ डे पार्टी मंे आये उपस्थित लोगो द्वारा कोरोना जैसे महामारी बीमारी का फैलने का पूर्ण संभावना है । जानते हुये होटल संचालन एवं पार्टी किये है । होटल संचालक हर्षित सिंघानिया से होटल खोलने के संबंध मे कोई वैध कागजात हो तो पेश करने कहने पर कोई वैध कागजात नही है बताया गया है। संचालक हर्षित सिंघानिया, चम्पा लाल जैन, श्रीमती नेहा जैन, मीनाली सिंघानिया है, इनके द्वारा मैनेजर के माध्यम से माननीय दण्डाधिकारी महोदय रायपुर द्वारा लाक डाउन आदेश का अवहेलना करते हुये होटल संचालन कर बर्थ डे पार्टी कराते पाया गया । जनरल मैनेजर सूरज शर्मा, फ्रंट मैनेजर संस्कार पाचे, असिटेन्ट मैनेजर करन सोनवानी एवं अभिजीत कौर निरंकारी, टिंवकल सिंह, अमित धवल, मिनल, राजवीर सिंह, हितेश भाई पटेल के द्वारा धारा 188, 269, 270 भा.द.वि. एवं महामारी अधिनियम 1897 की धारा 3 का अपराध घटित करना पाये जाने से आरोपियों के विरूद्ध थाना तेलीबांधा में अपराध क्रमांक 342/20 धारा 188, 269, 270 भा.द.वि. का अपराध कायम कर 05 आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके विरूद्ध अग्रिम कार्यवाही किया गया। नामज़द 14 आरोपियों के नाम 01. हर्षित सिंघानिया। 02. चम्पालाल जैन। 03. श्रीमती नेहा जैन। 04. मीनाली सिंघानिया। 05. सूरज शर्मा। 06. संस्कार पाचे। 07. करन सोनवानी साकिनान क्वीन्स क्लब आफ इंडिया व्हीआईपी रोड तेलीबांधा रायपुर। 08. अभिजीत कौर निरंकारी। 09. ट्विंकल सिंह। 10. अमित धवल। 11. मीनल। 12. राजवीर सिंह। 13. हितेश भाई पटेल। 14.नमित जैन गिरफ़्तार आरोपी 1. हर्षित सिंघानिया 2. सूरज शर्मा 3.संस्कार पाचे 4.हितेश पटेल 5.करन सोनवानी

  • अमर शहीद सरदार भगत सिंह की जयंती पर राजधानी में कार्यक्रम

    रायपुर -आज अमर शहीद भगत सिंह की जयन्ती पर राजधानी शहर के प्रथम नागरिक महापौर  एजाज ढेबर ने राजधानी शहर के शंकर नगर चौक के किनारे स्थित अमर शहीद भगत सिंह की प्रतिमा के सामने पहुंचकर नगर पालिक निगम के संस्कृति विभाग के एक संक्षिप्त और गरिमापूर्ण आयोजन में भारत माता के वीर सपूत को उनकी जयन्ती पर समस्त राजधानीवासियों की ओर से सादर नमन करते हुए आदरांजलि अर्पित की. नगर निगम के आयोजन में पहुँचकर प्रमुख रूप से छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  मोहन मरकाम, नगर निगम जल विभाग अध्यक्ष  सतनाम सिंह पनाग, सुखबीर सिंघोत्रा, अमरजीत छाबड़ा, अवनीत सिंह सहित सिख समाज के व सामाजिक कार्यकर्त्तागणो ने अमर शहीद भगत सिंह को आज उनकी जयन्ती पर ससम्मान नमन करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की.-

  • मुख्यमंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस में हुआ लॉक डाउन का उल्लंघन - कौन करेगा कार्यवाही ?

    न्यू नेताजी होटल होना चाहिए सील

     कानून की अवहेलना के लिए होनी चाहिए सख्त कार्यवाही

     ऑर्डर देने वालों पर भी होनी चाहिए कार्यवाही

    जब शासन ही लाॅक डाउन तोड़ने लग जाए तो आम जनता भला लॉक डाउन का पालन कैसे करेगी ?

     

    न्यू नेताजी होटल से गरमा गरम समोसा, कचोरी और मीठा बनवा कर मंगवाया गया राजीव भवन में :

    राजीव भवन में आयोजित मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद पत्रकारों को नाश्ते में गरमा गरम समोसा, कचोरी और मीठा के साथ मिक्चर वितरित किया गया - यहां यह उल्लेख करना अति आवश्यक है कि सरकार द्वारा विभिन्न जिलों में कलेक्टरों के माध्यम से सख्त लॉकडाउन का अलग-अलग तारीखों में ऐलान किया गया - जिसमें सब्जी तक को प्रतिबंधित किया गया - ऐसे में मुख्यमंत्री की पत्रकार वार्ता में राजधानी के न्यू नेताजी होटल से गरमा गरम समोसा, कचोरी और मीठा बनवा कर डब्बा पैक कर के पत्रकारों को वितरित किया गया - जबकि लॉकडाउन वाले अलग-अलग जिलों के हिसाब से लोग पिछले 6 से 8 दिनों से ताजी सब्जी से वंचित हैं - लॉक डाउन की घोषणा से पहले एकत्रित की गई सब्जियां खराब हो गई है - लोग आलू, चना और दाल खाकर गुजारा कर रहे हैं - शासन प्रशासन ने यह नहीं जाना कि लोग क्या खाकर गुजारा कर रहे हैं - किसी को किसी वस्तु की आवश्यकता तो नहीं है करोना महामारी के डर से लोग रुखा सुखा खाकर गुजारा कर रहे हैं - व्यापार-व्यवसाय, होटल, सब्जी, बैंक तक बंद है और ऐसे में सरकार के मुखिया द्वारा अपनी पत्रकार वार्ता में कानून का उल्लंघन कर लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर न्यू नेताजी होटल से ऑर्डर देकर नाश्ता बनवा कर वितरित करना कहां तक उचित है घ् अब देखने वाली बात यह है कि इस मामले पर कलेक्टर स्वयं संज्ञान लेकर क्या कार्रवाई करते हैं ? क्योंकि यह तो प्रमाणित हो चुका है की न्यू नेताजी होटल के संचालक ने नियमों का उल्लंघन कर सामान बनाया और उसे कांग्रेस भवन राजीव भवन में बेचा, यहां पर खरीदने वाला और बेचने वाला दोनों दोषी की श्रेणी में आते हैं -

    यहां यह उल्लेख करना भी जरुरी है कि मास्क ना लगाने लाॅक डाउन के दौरान दुकान होटल खोलने पर जिला प्रशासन दुकानों को सील करने की कार्यवाही कर चुका है। मोती महल होटल प्रत्यक्ष प्रमाण है।

  • दीपिका ने ड्रग्स चैट की बात कबूली, सारा-श्रद्धा पर भी सवालों की बौछार

    सुशांत सिंह राजपूत मौत केस की जांच फिलहाल पूरी तरह ड्रग्स कनेक्शन पर आकर शिफ्ट हो गई है. रिया चक्रवर्ती के बाद अब बॉलीवुड के नामचीन चेहरे भी नशे के चंगुल में फंसते दिखाई दे रहे हैं. अभिनेत्री दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर से आज मुंबई में एनसीबी की अलग-अलग टीमें पूछताछ कर रही हैं. दीपिका से एनसीबी गेस्ट हाउस तो सारा और श्रद्धा से एनसीबी ऑफिस में पूछताछ की जा रही है. इस खबर से जुड़े तमाम अपडेट्स जानने के लिए पेज रीफ्रेश करते रहें...दीपिका ने सवालों पर साधी चुप्पी दीपिका ने सवालों पर साधी चुप्पीसारा अली खान और श्रद्धा कपूर को 16/20 केस में पूछताछ के लिए बुलाया गया है, जो कि सुशांत सिंह राजपूत का केस है. इन दोनों से समीर वानखेड़े और एक महिला कांस्टेबल और एक और अफसर पूछताछ करेंगे. दोनों से सुशांत की आइलैंड पार्टी, सीबीडी ऑइल और ड्रग्स के बारे में पूछताछ होगी. 

  • बड़े क्रिकेटर्स की बीवियां लेती हैं ड्रग्स - बॉलीवुड अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा का बड़ा खुलासा

    शर्लिन चोपड़ा का बड़ा खुलासा- बड़े क्रिकेटर्स की बीवियां लेती हैं ड्रग्स

    आफ्टर मैच पार्टी में क्रिकेटर्स, बॉलीवुड सेलेब्स सब दम मारो दम कर रहे थे

    बॉलीवुड अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि बड़े क्रिकेटर्स और सुपरस्टार्स की बीवियां ड्रग्स लेती हैं।

    शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म इंडस्ट्री में तेजी से फैल रहे ड्रग्स के मुद्दे पर कहा - एनसीबी जो काम कर रही हैं बहुत अच्छा काम कर रही हैं।  इसके साथ ही इतने सालों से हम ये मानते आ रहे हैं कि जो हमारे सुपरस्टार्स है, डीवा हैं, ये हमारे देवी देवता हैं। आज उन देवी-देवताओं की असलियत सामने आ गई है। ये लोग माल लेते हैं। माल कितनी बार लेते है, कब-कब लेते हैं, अब बताएंगे ये लोग एनसीबी के पास जाकर।

    शर्लिन चोपड़ा ने ड्रग्स पार्टी के बारे में बात करते हुए कहा, मैं कोलकाता गई थी केकेआर का मैच देखने के लिए। मैच के बाद आफ्टर मैच पार्टी रखी गई थी। मैं भी उस पार्टी में गई। उस पार्टी में मैंने देखा कि क्रिकेटर्स, बॉलीवुड सेलेब्स सब दम मारो दम कर रहे थे। वहां सभी के साथ मैंने डांस और मस्ती की। मैं डांस करते करते बहुत थक गई थी। तो मैं फ्रेश होने के लिए वॉशरूम में गई। वहां जो चल रहा था वो देखकर मैं हैरान हो गई।

    उन्होंने आगे बताया, मारे क्रिकेट सुपरस्टार्स की जो बीवियां हैं वो व्हाइट पाउडर यानि कोकिन स्नॉट कर रहे थे। ये देखकर मुझे लगा कि ये लोग क्या कर रहे हैं और क्यूं कर रहे है। फिर वो स्माइल कर रहे हैं। फिर मैंने भी उन्हे स्माइल दी और वहां से निकल गई मैं। मुझे लगा मैं गलत जगह आ गई मैं। उसके बाद देखा मैंने सभी गपशप कर रहे हैं, पार्टी कर रहे हैं। ड्रग्स के बाद पार्टीज का सिलसिला थमता नही है। एक के बाद एक पार्टी होती रहती हैं।
    हालांकि इस दौरान शर्लिन ने किसी भी क्रिकेटर या उनकी वाइफ का नाम नहीं लिया। उन्होंने कहा कि जब एनसीबी से बुलावा आएगा तो बता दिया जाएगा। उन्होंने कहा, ष्जिन जिन के नाम सामने आ रहे हैं सिर्फ इतने ही लोग नहीं है बल्कि ये नेक्सेस बहुत बड़ा है। अभी तक एनसीबी बड़े प्लेयर्स तक नहीं पहुंची है। मुझे पूरी उम्मीद है कि वो पहुंचेगी। आने वाले दिनों में ड्रग्स सिंडिकेट के बड़े प्लेयर्स तक एनसीबी पहुंचने वाली है। जब उनके बुलाया जाएगा तो लोगों को पता चलेगे ये नेक्सेस कितना बड़ी है।
     
    स्टार वाइफ्स पर निशाना साधते हुए शर्लिन ने कहा,स्टार वाइफ जिनके बारे में हम पढ़ते हैं उनके बैग की कीमत, उनके शूज की कीमत। अब हम लोगों को पता करना चाहिए कि ये लोग कौन सा माल लेते हैं।
    इसके साथ ही शर्मिन के क्वान कंपनी के बारे में बात की। 

  • नवाजुद्दीन सिद्दीकी के खिलाफ पत्नी आलिया ने दर्ज कराई शिकायत, लगाए गंभीर आरोप

    बॉलीवुड अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी पिछले काफी दिनों से अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर सुर्खियों में बने हुए हैं. हाल ही में नवाज की वाइफ आलिया ने उन्हें तलाक का नोटिस भेजा था. इसके साथ ही आलिया सिद्दीकी ने नवाज के परिवार पर टॉर्चर का आरोप भी लगाया था.

    मुंबई: एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दिकी से अलग रह रहीं उनकी पत्नी ने बुधवार को उनके खिलाफ मुंबई के वर्सोवा पुलिस स्टेशन में एक शिकायत दर्ज कराते हुए उन पर बलात्कार और धोखाधड़ी का आरोप लगाया. यह जानकारी एक अधिकारी ने दी.

     

    अधिकारी ने बताया कि आलिया ने दोपहर में पुलिस थाने में एक लिखित अर्जी दी.उन्होंने बताया कि अभी तक प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है और पुलिस पहले शिकायत की पुष्टि करेगी. फिलहाल नवाजुद्दीन सिद्दिकी से शिकायत को लेकर सम्पर्क नहीं हो सका है.

     

    आलिया ने पिछले सप्ताह एक अन्य शिकायत के सिलसिले में उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर स्थित बुढाना पुलिस थाने में अपना बयान दर्ज कराया था। उक्त शिकायत उन्होंने नवाजुद्दीन और उनके परिवार के चार अन्य सदस्यों के खिलाफ दर्ज करायी थी.

     

     इससे पहले भी अलिया कई आरोप लगा चुकी हैं......

     

    आलिया ने पिंकविला को दिए एक इंटरव्यू में कहा था, ''मैं नवाजुद्दीन सिद्दीकी को साल 2003 से जानती हूं. हम एक साथ रहने लगे थे. उनका भाई शमास भी हमारे साथ रहा करता था. फिर, धीरे-धीरे हमें प्यार हो गया और एक हम एक-दूसरे से अटैच हो गए. फिर हमने शादी कर ली. शुरुआत से ही हमारे बीच समस्याएं थीं. मुझे लगा कि यह बंद हो जाएगा लेकिन 15-16 साल हो गए हैं और मेंटल टॉर्चर बंद नहीं हुआ है.''

     

    आलिया ने कहा, "मुझे यह अच्छी तरह याद है कि जब हम एक दूसरे को डेट कर रहे थे और शादी करने वाले थे, तो वह पहले से ही किसी और के साथ रिलेशन में थे. हम शादी से पहले और बाद में भी बहुत लड़ते थे. जब मैं प्रेग्नेंट थी, तब मैं सभी चेक-अप के लिए खुद ड्राइव करके जाती थी. मेरे डॉक्टर मुझे बताते थे कि मैं पागल हूं और मैं पहली महिला हूं जो डिलीवरी के लिए अकेली आई है. जब मेरा लेबर पेन शुरू हुआ तो नवाज व उनके पैरेंट्स वहां थे. लेकिन जब मैं दर्द में थी, मेरे पति मेरे साथ नहीं थे. वह फोन पर अपनी गर्लफ्रेंड से बातें करते थे. मुझे इस बारे में सबकुछ पता था क्योंकि फोन के बिल की स्टेटमेंट आती थी.''

     

    आलिया ने आगे कहा कि शमास ने मुझे फोन के बिल दिए थे. वह करीब 3-4 से लड़कियों से बात कर रहे थे. जब मैं मेरी पहली डिलीवरी से गुजर रही थी, तब भी नवाज के मन में कोई फीलिंग नहीं थी. ये छोटे-छोटे कारण हैं, जिनकी वजह से मैंने उन्हें छोड़ने का निर्णय लिया. मैंने नवाज को कभी नहीं बताया कि उनके भाई ने ही मुझे सारी बातें बताईं.

  • 2500रु क्विं के दाम पर की जा रही धान खरीदी में अड़ंगा लगाने वाले मोदी सरकार से किसानों की बेहत्तरी की उम्मीद करना बेमानी - कांग्रेश

    कृषि विधेयक बिल है किसान विरोधी नया कृषि विधेयक बिल भारत के आत्मा पर प्रहार

    मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के द्वारा 2500रु क्विं के दाम पर की जा रही धान खरीदी में अड़ंगा लगाने वाले मोदी सरकार से किसानों की बेहत्तरी की उम्मीद करना बेमानी -

    अच्छे दिन आयेंगे की नारा की तरह है किसानों की आय दोगुनी करने का दावा -

     

    रायपुर : मोदी सरकार के द्वारा लाए गए तीन कृषि विधेयक बिल को अन्नदाता विरोधी करार देते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार किसानों के धान को जब 2500रु क्विं के दाम पर खरीदी की।तब जिस मोदी भाजपा की सरकार ने धान खरीदी में आपत्ति की धान खरीदी में नियम शर्ते थोप कर अड़ंगा लगाया।संघीय व्यवस्थाओं को दरकिनार कर सेंट्रल पुल में चावल लेने से इंकार किया उस मोदी सरकार के किसानों की आय दोगुनी करने का दावा भी अच्छे दिन आएंगे की नारा की तरह ही है जिसका इंतजार बीते छः साल से देश की एक अरब तेंतीस करोड़ जनता आज तक कर रही है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मोदी भाजपा की सरकार असल मायने में देश के एक बड़े वर्ग किसान को पूंजीपतियों के सामने झुकने के लिए मजबूर बना रही है।किसानों को आत्मनिर्भर बनाने का नारा लगाने वाले कृषि क्षेत्र को पूंजीपतियों पर निर्भर कर किसानों को गुलाम बनाने की लोमड़ी चाल चल रही है।

    प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मोदी भाजपा की सरकार देश की जनता की भावनाओं को अपेक्षाओं को पूरा करने में असफल साबित हो चुकी है वन नेशन वन टैक्स का नारा लगाकर जिस प्रकार से देश के व्यापार व्यवसाय उद्योग रोजगार को तबाह किया गया 20 लाख करोड़ की अर्थव्यवस्था तबाह हो गई।जीडीपी में हुई भारी गिरावट से 40 साल पहले की स्थिति निर्मित हो गई। बेरोजगारी के मामले में देश 45 साल पहले की स्थिति में खड़ा है।अब मोदी सरकार नेशन वन मार्केट का नारा लगाकर कृषि क्षेत्र को बर्बाद करने में तुली हुई है।  धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि नए कृषि विधेयक बिल से अब किसान पूंजीपतियों पर आश्रित होंगे पूंजीपति चाहेंगे तो किसानों के फसल को खरीदेंगे पूंजीपति नहीं चाहेंगे तो किसानों की फसल खड़े-खड़े वहीं पर खराब हो जाएगी कुल मिलाकर अब देखेंगे तो बर्बादी के अलावा इस बिल में कोई ऐसा लाभ किसानों को नहीं दिखता है मोदी सरकार किसानों से किए वादे को पूरा करने में असफल सिद्ध है अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है किसानों के साथ धोखा छल कपट किया जा रहा है कृषि विधेयक बिल भारत के आत्मा पर प्रहार है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह का ठाकुर ने कहा कि अतीत में जहाँ भी कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग लागू हुआ उसका नतीजा अच्छा नही रहा है।किसानों के हित के साथ समझौता नही होना चाहिए।इसका उदाहरण गुजरात और पंजाब में देखने को मिला है। 30 साल पहले पंजाब के किसानों ने पेप्सिको के साथ आलू और टमाटर उगाने के लिए समझौता किया था।एफपीओ को किसान भी माना गया है और किसान तथा व्यापारी के बीच विवाद की स्थिति में बिचौलिया भी बना दिया गया है। इसमें अगर विवाद हुआ तो नुकसान किसानों का ही होगा।गुजरात में पेप्सिको कम्पनी ने किसानों पर कई करोड़ का मुकदमा किया था जिसे बाद में किसानो के विरोध के चलते कम्पनी ने वापस लिया था।कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के तहत फसलों की बुआई से पहले कम्पनियां किसानों का माल एक निश्चित मूल्य पर खरीदने का वादा करती हैं लेकिन बाद में जब किसान की फसल तैयार हो जाती है तो कम्पनियाँ किसानों को कुछ समय इंतजार करने के लिए कहती हैं और बाद में किसानों के उत्पाद को खराब बता कर रिजेक्ट कर दिया जाता है।

  • सुशांत केस: रिया को जेल से छुटकारा नहीं, बॉम्बे हाइकोर्ट ने 6 अक्टूबर तक बढ़ाई न्यायिक हिरासत

    रिया और शोविक ने हाई कोर्ट में जमानत याचिका फाइल की है. इस याचिका पर सुनवाई की तारीख अभी तय नहीं हुई है.

    मुंबई: सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले की आज रिया और शोविक समेत छह आरोपियों की बॉम्बे हाइकोर्ट में पेशी हुई. कोर्ट ने सभी आरोपियों की 6 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत बढ़ा दी है. रिया चक्रवर्ती ने बॉम्बे हाइकोर्ट में जमानत की याचिका फाइल की है, लेकिन अभी इस अर्जी पर सुनवाई नहीं हुई है. जमानत याचिका पर सुनवाई की तारीख अभी तय नहीं हुई है. खास बात ये है कि ड्रग्स एंगल से सुशांत मामले की जांच कर रही एनसीबी ने रिया और शौविक को रिमांड पर लेने की कोर्ट में कोई अपील नहीं की.

     

    सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में गिरफ्तार 6 आरोपियों में रिया, शोविक, सैमुअल मिरांडा, दीपेश सावंत, जैद विलात्रा और बासित परिहार की आज न्यायिक हिरासत खत्म हो गई थी. हालांकि इनमें से कुछ आरोपियों को जमानत याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट में 29 सितंबर को सुनवाई होनी है. बता दें, रिया को तीन दिनों तक पूछताछ करने के बाद एनसीबी ने 8 सितंबर को गिरफ्तार कर लिया था.

     

    पहले रिया को मेडिकल जांच के बाद एक वीडियो लिंक के माध्यम से अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत के सामने पेश किया गया था. अदालत ने रिया की जमानत याचिका खारिज करते हुए उसे 22 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

  • मुंबई के NCB दफ्तर में आग मौके पर पहुंची दमकल गाड़ियां ऑफिस से भागे लोग
    मुंबई के NCB दफ्तर में आग मौके पर पहुंची दमकल गाड़ियां ऑफिस से भागे लोग ब्रेकिंग न्यूज़ मुंबई के नारकोटिक्स कंट्रोल बोर्ड के दफ्तर में आग से अफरा-तफरी का माहौल दफ्तर में काम कर रहे सभी अधिकारी कर्मचारी ऑफिस से निकल कर भाग रहे हैं मौके पर दमकल गाड़ियां पहुंची आग लगने का कारण अभी पता नहीं चल पाया है
  • मुंबई के NCB दफ्तर में लगी आग, रिया ड्रग्स केस की जांच कर रही है एजेंसी

     

    मुंबई के बालार्ड पियर में स्थित एक्सचेंज बिल्डिंग में आग लग गई है. इसी बिल्डिंग में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) का दफ्तर है. मौके पर दमकल की गाड़ियां रवान हो गई हैं.मुंबई के बालार्ड पियर में स्थित एक्सचेंज बिल्डिंग में आग लग गई है. इसी बिल्डिंग में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) का दफ्तर है. मौके पर दमकल की गाड़ियां रवान हो गई हैं.

     
    Breaking NewsBreaking News
     

    मुंबई के बालार्ड पियर में स्थित एक्सचेंज बिल्डिंग में आग लग गई है. इसी बिल्डिंग में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) का दफ्तर है. मौके पर दमकल की गाड़ियां रवान हो गई हैं.

     

     
    आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
     
     

    मुंबई के बालार्ड पियर में स्थित एक्सचेंज बिल्डिंग में आग लग गई है. इसी बिल्डिंग में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) का दफ्तर है. मौके पर दमकल की गाड़ियां रवान हो गई हैं.

     
    Breaking NewsBreaking News
     

    मुंबई के बालार्ड पियर में स्थित एक्सचेंज बिल्डिंग में आग लग गई है. इसी बिल्डिंग में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) का दफ्तर है. मौके पर दमकल की गाड़ियां रवान हो गई हैं.

     

     
    आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
     
     
  • कोई भी व्यक्ति मूर्ति स्थल जाने पर संक्रमित होता है तो उसके इलाज का खर्च समिति उठाएगी
    रायपुर-- जिले में नवरात्रि पर्व को लेकर जारी हुई गाइडलाइन... *मूर्ति की ऊंचाई व चौड़ाई 6×5 फीट से अधिक नहीं होगी* पंडाल का आकार 15×15 फीट अधिक नहीं.. पंडाल के सामने दर्शकों के बैठने हेतु पृथक से पंडाल नहीं होगा...पंडाल में 20 से अधिक व्यक्ति नहीं कर सकेंगे प्रवेश... मूर्ति स्थापित करने वाले व्यक्ति अथवा समिति 4 सीसीटीवी कैमरा लगाएंगे... कोई भी व्यक्ति मूर्ति स्थल जाने पर संक्रमित होता है तो उसके इलाज का खर्च समिति उठाएगी... मूर्ति स्थापना और विसर्जन के दौरान किसी भी तरह के भोग, भंडारे का नहीं होगा आयोजन... मूर्ति विसर्जन में एक से अधिक वाहन की नहीं होगी अनुमति... मूर्ति स्थापना के दौरान विसर्जन के समय अथवा विसर्जन के पश्चात किसी भी प्रकार के जगराता अथवा *सांस्कृतिक कार्यक्रम करने की नहीं मिली अनुमति* *मूर्ति स्थापना के समय स्थापना के दौरान विसर्जन के समय अथवा विसर्जन के बाद भी किसी भी प्रकार के वाद्य यंत्र ध्वनि विस्तारक यंत्र डीजे पर बजाने की नहीं मिली अनुमति* यदि घर से बाहर स्थापित की जाती है मूर्ति तो कम से कम *7 दिन पूर्व नगर निगम से संबंधित अधिकारी को कार्यालय में निर्धारित समय पत्र देकर आवेदन देना होगा* अनुमति प्राप्त होने के बाद ही मूर्ति स्थापित करने की होगी अनुमति...
  • Lock Down - राजधानी-न्यायधानी में बरती जाएगी सख्ती… किराना-सब्जी पर भी असर… लाॅकडाउन का ऐसा होगा फार्मूला
    *BREAKING : राजधानी-न्यायधानी में बरती जाएगी सख्ती… किराना-सब्जी पर भी असर… लाॅकडाउन का ऐसा होगा फार्मूला… जानिए आदेश* *प्रदेश की राजधानी रायपुर और न्यायधानी बिलासपुर में एक साथ लाॅक डाउन का निर्णय लिया गया है। 21 सितम्बर की रात 9 बजे से प्रभावशील लाॅक डाउन 28 सितम्बर रात 9 बजे तक रहेगा। वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए रायपुर कलेक्टर डाॅ. एस भारतीदासन और बिलासपुर कलेक्टर डाॅ. सारांश मित्तर ने अपने मातहत अधिकारियों के साथ ही कारोबारियों से चर्चा के उपरांत यह निर्णय लिया है और आदेश जारी किया है।* *बता दें कि इस लाॅक डाउन के दौरान केवल चार अति आवश्यक सुविधाओं पर छूट देने का निर्णय लिया गया है। इसमें दूध, एलपीजी, मेडिकल और पेट्रोल पंप को शामिल किया गया है। बताया गया कि दूध और एलपीजी के लिए भी समय निर्धारित किया गया है, वहीं मेडिकल की सुविधा पूरे समय मिलेगी। तो पेट्रोल पंप की सुविधा केवल उनके लिए होगी, जो लोग आपात सेवाओं में जुटे हुए हैं।रायपुर को पूरी तरह से कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है, लिहाजा अब राजधानी सहित प्रदेश के लोगों को लाॅक डाउन के दौरान इस बात का विशेष ख्याल रखना होगा। बिना वजह घर से निकलने वालों के खिलाफ प्रशासन किस सख्ती से पेश आने वाला है, इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस बार सब्जी और किराना व्यवसाय को भी आवश्यक सेवाओं में शामिल नहीं किया गया है।* *बंद रहेंगे किराना और सब्जी-जारी आदेश में स्पष्ट कर दिया गया है कि इस बार लाॅक डाउन में किराना और सब्जी जैसी आवश्यक सेवाओं को भी बंद रखे जाने का आदेश जारी किया गया है। यानी बेहद साफ है कि 21 तारीख दोपहर तक सभी आवश्यक वस्तुओं का संधारण लोगों को करना पडे़गा, ताकि पूरे सप्ताहभर काम चलाया जा सके।*