State News
  • ब्रेकिंग : चरित्र संदेह में पत्नी की कर दी हत्या… आरोपी पति गिरफ़्तार…
    अंबिकापुर। ग्राम सरगावा में एक पति ने अपनी पत्नी पर अवैध सम्बन्ध को लेकर हत्या कर दी। मिली जानकारी के अनुसार घर में रखे धारदार हथियार से ही घटना को अंजाम दिया गया है। गांधीनगर पुलिस ने मौके पर पहुंच कर आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही आगे की कार्यवाई की जा रही है।
  •  राज्यपाल ने मां बमलेश्वरी के दर्शन कर छत्तीसगढ़ की सुख-समृद्धि की कामना की

    राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने आज राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ में मां बमलेश्वरी के दर्शन कर पूजा-अर्चना की और छत्तीसगढ़ की सुख-समृद्धि की कामना की। साथ ही उन्होंने देश और प्रदेश से कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्ति के लिए भी प्रार्थना की।

     
  • मरवाही: जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ और बीजेपी के 55 कार्यकर्ताओं ने किया कांग्रेस प्रवेश
    रायपुर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम के समक्ष शुक्रवार को भाजपा और जनता कांग्रेस के कर्मठ व सक्रिय कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस में प्रवेश किया है। पीसीसी अध्यक्ष मरकाम ने कहा है कि कांग्रेस का कारवां बढ़ रहा है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा है कि कुम्हारी,भरीदण्ड,परासी ,कटरा के जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ और बीजेपी के 55 कार्यकर्ताओं ने आज कांग्रेस में प्रवेश किया। कांग्रेस की नीतियों से प्रभावित होकर सभी ने कांग्रेस का हाथ थामा। विकास ने कहा कि कांग्रेस प्रवेश करने वाले अनुज राय,अमन रजक,कमलेश दास, वीरेंद्र रैदास, गणेश रैदास, गंगा रैदास, लछमन रैदास, गंगा दास, राजू रैदास, रमेश रैदास, शुभम चतुवेर्दी, छविलाल केंवट, खेलन प्रसाद रजक,अल्ला प्रसाद,दीपक लहरे,प्रकाश यादव,कैलाश ओटरी,रामनाथ केवट,राघव कश्यप,शुशील मिश्रा,रूपम चतुवेर्दी, चिराग प्रधान, दादू प्रजापति, मनीष रैदास, दमेलाल मरावी, मूलन सिंह उईके, सरद रॉय ,अखिलेश केंवट, अल्तमश खान, मनीष रैदास, गेंदलाल उदय, राजकुमार मार्को ,रामचरन केवट, शंकर लाल, राजेश प्रजापति, शुनिल कुमार केवट, ब्रिजेश केवट ,इंद्रजीत, संतोष कुमार केंवट, अनिल कुमार केवट, अनुज प्रसाद, राजेश प्रजापति ,दसरथ प्रसाद केवट, रवि केवट, रजक, गायन दास रैदास, जैकी रजक, रामगोपाल केवट, रोशन रैदास, राजकुमार रैदास, बंशी लाल केवट, खेलन, गोलू रैदास हैं।
  • मुख्यमंत्री ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत कार्य आबंटन प्रक्रिया के संबंध में प्राप्त शिकायतों के परीक्षण के लिए गठित की तीन सदस्यीय टीम

    मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत कार्य आबंटन प्रक्रिया के संबंध में प्राप्त हो रही विभिन्न शिकायतों को गंभीरता से लिया है। श्री बघेल ने इन शिकायतों के परीक्षण के लिए मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव वित्त और सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की तीन सदस्यीय टीम गठित की है। ज्ञातव्य है कि जल जीवन मिशन के अंतर्गत ग्रामीण इलाकों के घरों में वर्ष 2024 तक पाइप लाइन के माध्यम से पेयजल आपूर्ति का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। वर्तमान में जल जीवन मिशन में लगभग 7 हजार करोड़ रूपए के कार्यो के आबंटन की प्रक्रिया प्रगति पर है।

  • कोण्डागांव : मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान (द्वितीय चरण) एवं ‘नंगत पिला‘ कार्यक्रम : महिला बाल विकास विभाग के मैदानी कर्मचारियों की कलेक्टर ने ली मेगा बैठक

    ‘जिले में सुपोषण अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन है बड़ी चुनौती, कुपोषण मिटाने में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की है प्रमुख भूमिका‘-कलेक्टर

     

    जिला कार्यालय के सभाकक्ष में कलेक्टर  पुष्पेन्द्र कुमार मीणा की अध्यक्षता में दिनांक 23 अक्टूबर को महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों, पर्यवेक्षिका सहित आंगनबाड़़ी कार्यकर्ताओं का बैठक आयोजन किया गया था। बैठक में कलेक्टर द्वारा मुख्य रूप से मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान (द्वितीय चरण) तथा इसके तहत् ‘नंगत पिला‘ कार्यक्रम के क्रियान्वयन एवं प्रगति की गहन समीक्षा की गई। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि कुपोषण को हराना वर्तमान समय की सबसे बड़ी स्वास्थ्य चुनौतियों में से एक है। इस चुनौती को स्वीकार करते हुए प्रत्येक 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों और गर्भवती एवं शिशुवती महिलाओं सहित 0 से 6 वर्ष की बालिकाओं एवं महिलाओं को कुपोषण एवं एनीमिया से मुक्त कराने के लिए मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के रूप में एक महायज्ञ प्रारंभ हुआ है और आगामी तीन वर्षों में पूरे देश को कुपोषण से मुक्ति दिलाने की शुरूवात की गई है। कलेक्टर ने कहा कि कुपोषण वास्तविक अर्थ में शरीर में आवश्यक पोषक पदार्थ का असंतुलन है और इससे प्रभावित शिशु आगे चलकर कई गम्भीर बीमारियों के प्रति संवेदनशील होकर कई तरह के बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। चूंकि जिले में नन्हे बच्चे, महिलाएं और किशोरियां इससे सबसे अधिक ग्रसित पाये गये हैं। अतः इस गंभीर समस्या से निपटने के लिए सभी का सहयोग जरूरी है। क्योंकि जब तक किसी भी समाज में महिलाएं और बच्चे स्वस्थ सुपोषित नहीं होंगे तब तक हम विकास की बात नहीं कर सकते और इस अभियान में सभी का योगदान जरूरी है, चाहे वह पालक हों या फिर परिवार की गर्भवती या शिशुवती माता या एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और अब समय आ गया है कि सामुदायिक व्यवहार में परिवर्तन कर स्वस्थ सुपोषित नये कोण्डागांव के निर्माण में सहभागी बना जाये।
    इसके साथ ही कलेक्टर ने मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के (द्वितीय चरण) क्रियान्वयन की रणनीति तथा ‘नंगत पिला‘ कार्यक्रम की प्रगति के बारे में भी मैदानी कर्मचारियों से जानकारी चाही। बैठक में बताया गया कि जिले में सुपोषण अभियान के द्वितीय चरण हेतु चयनित 50 पंचायतों के अंतर्गत 62 ग्रामों के 251 आंगनबाड़ी केन्द्र में अभियान का शुभारंभ किया जायेगा एवं इन आंगनबाड़ी केन्द्रों के अंतर्गत 0 से 6 वर्ष के 467 गंभीर कुपोषित बच्चों एवं 1829 मध्यम कुपोषित बच्चों के घरो का चिन्हाकन करने के साथ-साथ आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों के नाम एवं फोटोयुक्त सूची चस्पा किये जायेंगे साथ ही इन्हीं आंगनबाड़ी केन्द्रों में स्वच्छ पेयजल, भवन, शौचालय, किचन शेड, विद्युत व्यवस्था, केन्द्रों में वजन मशीन, हाईट चार्ट, शाला पूर्व शिक्षा सामग्री, एलपीजी की उपलब्धता के अलावा पोषण वाटिका भी तैयार होंगे एवं सभी 50 पंचायतों में संचालित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में स्वास्थ जांच की सुविधाओं की उपलब्धता भी सुनिश्चित होगी। चयनित पंचायतों में निवासरत् 0 से 6 वर्ष से 59 वर्ष की समस्त बालिकाओं-महिलाओं का एचबी जांच कर एनीमिक महिलाओं की पंचायतवार सूची भी उपलब्ध कराई जायेगी साथ ही समुदाय की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए इन ग्राम पंचायतों में निवासरत् सक्रिय व पढ़ी लिखी महिला-पुरूष को सुपोषण मित्र के रूप में चयन पर्यवेक्षक एवं आंगनबाड़ी द्वारा किया जायेगा एवं प्रत्येक सुपोषण मित्र को कम से कम 10 या 12 बच्चों को सुपोषित करने का दायित्व होगा। बैठक में यह भी बताया गया कि जिले में चल रहे ‘नंगत पिला‘ कार्यक्रम के तहत् कुल 06 हजार 07 सौ 46 बंच्चों का वजन किया गया है, जिसमें से 1 हजार 97 मध्यम कुपोषित तथा 2 हजार 22 गंभीर कुपोषित पाये गये हैं। इसके अलावा माह नवम्बर 2019 में 19 हजार 3 सौ 28 बच्चे तथा माह मई 2020 में 12 हजार 7 सौ 26 बच्चे कुपोषित पाये गये और कुपोषण से बाहर आये बच्चों का प्रतिशत 11.31 रहा। बैठक के दौरान आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं पर्यवेक्षिकाओं ने क्षेत्र में कुपोषण के प्रमुख कारण जैसे बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति पालकों की अनदेखी, कम उम्र में विवाह, रेडी-टू-ईट सामग्रियों का नियमित सेवन न करने, नशीले पदार्थ का सेवन, गर्भावस्था के दौरान खान-पान में लापरवाही जैसे विभिन्न कारणों पर भी प्रकाश डाला। बैठक के अंत में कलेक्टर ने कहा कि कुपोषण चूंकि एक सामाजिक अभिशाप है और इसके लिए सामूदायिक व्यवहार परिवर्तन के लिए सतत् प्रयास करने होंगे तभी हम जिले को कुपोषण के चंगुल से मुक्त कर पायेंगे और आगामी बैठक में रणनीति के समस्त बिन्दुओं की पुनः समीक्षा की जायेगी।
    उक्त बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी वरूण नागेश, परियोजना अधिकारी इमरान अख्तर, डीपीएम सोनल धु्रव सहित सभी विकासखण्ड के आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं पर्यवेक्षिका उपस्थित थे।

  • मरवाही उपचुनाव के लिए बीजेपी ने झोंकी ताकत, शीर्ष नेताओं ने डाला डेरा, पीसीसी चीफ ने मांगा 15 सालों का हिसाब
    पेंड्रा। उपचुनाव को लेकर भाजपा के आला नेताओं ने मरवाही में डेरा डाल दिया है। यहां कद्दावर आदिवासी नेता नंदकुमार साय दो दिनों से लगातार चुनावी सभाएं कर कांग्रेस की प्रदेश सरकार को आड़े हाथों ले रहे हैं। साय जोगी परिवार पर भी लगातार निशाना साध रहे हैं। मरवाही में नेता प्रतिपक्ष धर्मलाल कौशिक, शिवरतन शर्मा और अमर अग्रवाल भी पहले से ही यहां डटे हुये हैं। वहीं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विश्णुदेव साय भी यहां रहकर लगातार जनसंपर्क और सभाएं कर रहे हैं। भाजपा के प्रचार का फोकस 20 महीने में मरवाही के विकास की उपेक्षा और जोगी परिवार के साथ हुए अन्याय पर भी है, बीजेपी यहां रेत और खनिज संपदाओं की अन्तर्राज्यीय स्तर पर कालाबाजारी को भी मुददा बनाए हुए हैं।भाजपा नेता शिवरतन शर्मा ने जोगी परिवार के साथ हुए अन्याय को लेकर कांग्रेस के खिलाफ हवा बनाने की कोशिश की है। वहीं आज भाजपा की तरफ से ओपी चौधरी, राजेश मूणत, हर्शिता पांडेय और युवा मोर्चा प्रदेष अध्यक्ष अमित साहू भी युवा सम्मेलन के लिये मरवाही पहुंच रहे हैं। वहीं भाजपा के शीर्ष नेताओं के मरवाही में डेरा जमाने को लेकर पीसीसी चीफ मोहन मरकाम ने कहा है कि इन भाजपा नेताओं का मरवाही में स्वागत है वे भी आए और यहां की जनता को जवाब दें कि आखिर 15 सालों में उन्होंने मरवाही का विकास क्यों नहीं किया।
  • छत्तीसगढ़: पहली पत्नी के होते हुए हवलदार ने रचाया प्रेम विवाह...महिला से हड़पे 22 लाख रुपये
    बिलासपुर । पहली पत्नी के होते हुए हवलदार ने दूसरी महिला से धोखाधड़ी कर पहले प्रेम विवाह कर लिया। फिर महिला का शारीरिक व आर्थिक शोषण करता रहा। महिला से करीब 22 लाख रुपये हड़पने के बाद अब हवलदार ने मारपीट कर उसे घर से निकाल दिया है। महिला की शिकायत पर पुलिस ने कार्रवाई नहीं की, तब उन्होंने महिला आयोग के साथ न्याय के लिए कोर्ट की शरण ली है। सिविल लाइन क्षेत्र की 40 वर्षीय महिला पूर्व से शादीशुदा है और उनका एक बेटा भी है। 2004 में पति की मौत के बाद वह अकेली रह रही थी। यहां वह अपना खुद का कारोबार करने लगी। इसी बीच वर्ष 2013 में उनकी जान-पहचान हवलदार संजय श्रीवास्तव से हुई। परिचय बढ़ने के बाद संजय ने उनसे दोस्ती की। फिर विवाह करने का प्रस्ताव रखा। संजय ने बताया कि उनकी पहली पत्नी बीमार रहती हैं। महिला उसकी बातों में आ गई और 21 अगस्त 2014 को रतनपुर स्थित महामाया मंदिर में प्रेम विवाह कर लिया। इस बीच संजय उन्हें गोवा, शिरडी व मुंबई घुमाने भी ले गया। बाद में महिला को पता चला कि उसकी पत्नी साथ रहती है और बेटी भी है। फिर भी वह साथ रहने के लिए तैयार हो गई। संजय की बेटी की मेडिकल पढ़ाई के लिए चीन जाने रकम भी दी। पुराने को तोड़कर नया मकान बनवाया। 2018 में उन्होंने संजय को गाड़ी खरीदने के लिए भी रकम दी। महिला का आरोप है कि जून 2019 के बाद संजय का व्यवहार अचानक से बदल गया। क्योंकि महिला का कारोबार ठप हो गया। इस बीच महिला की जमा पूंजी करीब 22 लाख रुपये भी वह किसी न किसी बहाने ले लिया था। इसके बाद उन्हें छोड़ने की धमकी देकर मारपीट करने लगा। इस पर महिला ने इस मामले की शिकायत सिविल लाइन थाने के साथ ही पुलिस अफसरों से की। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। ऐसे में महिला ने इस मामले की शिकायत राज्य महिला आयोग से की। साथ ही आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के लिए कोर्ट में परिवाद भी दायर की है। महिला के पास उपलब्ध है सभी साक्ष्य महिला ने कोर्ट में शपथ पत्र देकर बताया है कि उनके पास संजय को दी गई राशि व बैंक स्टेटमेंट के साथ पूरा सबूत है। उनके साथ की गई धोखाधड़ी व प्रताड़ना की रिकार्डिंग भी है, जिसमें उनकी पहली पत्नी ने भी पति संजय के कृत्यों को स्वीकार किया है। महिला ने इस मामले में दोषी संजय के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
  • दशहरा और दीपावली में बिहान की महिलाओं द्वारा गोबर से निर्मित रंग-बिरंगे आकर्षक दियों से घर-घर होगा रोशन

    दशहरा और दीपावली में स्व-सहायता समूह (बिहान) की महिलाओं द्वारा गोबर से निर्मित रंग-बिरंगे आकर्षक दियों से इस दीवाली घर-घर रोशन होगा। दशहरा और दीपावली का त्यौहार बस कुछ ही दिन बाकी हैं। इन त्यौहारों की रोशनी को दुगुना करने प्रदेश की अनेक स्व-सहायता समूह की महिलाओं और गौठान समिति के माध्यम से गोबर से रंग-बिरंगे और लुभावने दिये व अन्य उत्पाद बनाए जा रहे हैं।

        उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार राष्ट्रीय अजीविका मिशन (एनआरएलएम) के माध्यम से महिलाओं को जोड़कर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने तथा महिला सशक्तिकरण की दिशा में बेहतर प्रयास कर रही हैं। इसी कड़ी में कोरिया जिले में बिहान की महिलाओं द्वारा गोबर से रंग-बिरंगे आकर्षक दीये बनाये गए हैं। इसके साथ ही मिट्टी के कलश भी बनाये जा रहे हैं। इन उत्पादों का बाजार में काफी मांग हैं। महिला समूह द्वारा निर्मित ये दिये प्राकृतिक के अनुरूप होने के साथ-साथ लुभावने और मनमोहक है। आगामी दशहरा और दीपावली त्यौहारों को ध्यान में रखते हुए बनाये गये रंग-बिरंगे ये दिये सुंदर एवं किफायती हैं। राज्य सरकार बिहान की महिलाओं द्वारा वैकल्पिक और नवीन तकनीक के माध्यम से गोबर के आकर्षक दिये एवं अन्य उत्पाद बनाने के लिए प्रोत्साहित कर रही हैं। साथ ही बाजार की उपलब्धता पर भी ध्यान दिया जा रहा है।
        गोबर एवं मिट्टी से बने इन उत्पादों में दीपक, ओम, श्री, स्वास्तिक, शुभलाभ, मिट्टी फूल आरती दीया एवं मिट्टी के कलश शामिल हैं। गोबर एवं मिट्टी से बने इन उत्पादों को समूह की महिलाओं द्वारा ऑर्डर के हिसाब से होलसेल कीमत पर भी विक्रय कर मुनाफा कमा रहे हैं।

  • कोविड-19 के बावजूद दूरस्थ अंचलों तक शिक्षा से आंनदित हुए बच्चे : भारत सरकार के नीति आयोग ने सराहा राजनांदगांव में हो रहे स्कूल शिक्षा के नवाचार को

    भारत शासन के नीति अयोग ने छत्तीसगढ़ के आकांक्षी जिला राजनांदगांव में पढ़ई तुंहर दुआर के तहत नवाचार के माध्यम से बच्चों की शिक्षा के लिए किए जा रहे प्रभावी कार्यों की प्रशंसा की है। नीति आयोग ने अपने ट्विटर अकाउन्ट पर इन कार्यो को रेखांकित करते हुए ट्वीट किया है कि राजनांदगांव जिले के दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चे शिक्षा के आनंद से वंचित नहीं है। बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए कोविड-19 संक्रमण के कठिन परिस्थितियों में भी दूरस्थ अंचलों तक शिक्षा की रोशनी पहुंच रही है। इससे बच्चों की पढ़ाई में कोई बाधा नहीं आई है। कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा के मार्गदर्शन में जिला स्तरीय शिक्षा विभाग की टीम बेहतरीन कार्य कर रही है। यह टीम जिले के सभी नौ विकासखंडों से बेहतर समन्वय स्थापित कर विभिन्न माध्यमों से बच्चों को सुरक्षित एवं सतत अध्यापन सुनिश्चित करवा रही है, जिसके परिणामस्वरूप जिले के सुदूर वनांचल क्षेत्रों में भी शिक्षकों एवं शिक्षा सारथियों ने लगातार प्रयास करते हुए पढ़ाई की कमान थामे रखी है। मोहल्ला क्लास, बुल्टू के बोल एवं सोशल मीडिया का प्रयोग करते हुए बच्चों की शिक्षा के लिए नवाचार कर उनकी पढ़ाई जारी रखी गई है। उल्लेखनीय है कि जिले के सुदूर वनांचल क्षेत्र मोहला विकासखंड में शिक्षकों द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में प्रेरणादायक एवं अनुकरणीय नवाचार करते हुए स्थानीय जनसमुदाय, जनप्रतिनिधियों एवं स्वयं के प्रयासों से 276 स्मार्ट टीवी के माध्यम से विभिन्न पारा मोहल्ला कक्षाओं में डिजीटल शिक्षा की शुरूवात की है, जिससे इस क्षेत्र में विद्यार्थियों एवं पालकों में बच्चों की शिक्षा के प्रति जागरूकता आई है और शिक्षा के प्रति बच्चों की रूचि में वृद्धि हुई है।

     

  •  आरंग : गुल्लू स्थित विदेशी मदिरा दुकान में हुये नगदी लाखों की डकैती का खुलासा...मामले में 03 आरोपी गिरफ्तार
    आरंग। थाना आरंग क्षेत्रांतर्गत ग्राम गुल्लू स्थित विदेशी मदिरा दुकान में दिनांक 12-13.08.20 की दरम्यानी रात दिये थे डकैती की घटना को अंजाम। मदिरा दुकान से लाॅकर में रखीं मदिरा बिक्री की नगदी रकम 9,82,810/- रूपये को लाॅकर सहित ले गये थे उखाड़कर। आरोपी विजय मनहरे उर्फ कबाड़ी है घटना का मास्टर माइंड। आरोपी विजय मनहरे एवं धनीराम धृतलहरे ने डकैती की पूरी योजना की थी तैयार।आरोपियों द्वारा मदिरा दुकान के गार्ड भीखमदेव एवं घनश्याम रात्रे को हथौड़ी एवं हाथ मुक्का से मारकर किया गया था आहत।आरोपियान घटना को अंजाम देने के 03 दिन पूर्व किये थे रेकी। आरोपियान स्वयं की पहचान छिपाने की नियत से मदिरा दुकान में लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरे का डी.व्ही.आर. ले गये थे निकालकर। आरोपी विजय मनहरे पूर्व में महासमुंद के मदिरा दुकान में कर चुका है काम जिसे अनियमितता बरतने पर किया गया था बाहर। घटना में शामिल आरोपी अग्रभूषण उर्फ गोलू कुछ दिनांे पूर्व फांसी लगाकर कर लिया है आत्महत्या। आरोपियों की पतासाजी के दौरान आरंग - खरोरा मार्ग में दिनांक 11.10.2020 को सायबर सेल के स्कार्पियों वाहन को ट्रक ने ठोकर मारकर किया था एक्सीडेंट जिसमें सायबर सेल के 06 पुलिसकर्मी हुए थे घायल।आरोपी विजय मनहरे एवं धनीराम धृतलहरे कुछ दिनांे पूर्व महासमुंद जिला के तुमगांव स्थित शराब दुकान में भी इस तरह की घटना किये कारित जिस पर दोनों आरोपियों को महासमंुद पुलिस द्वारा किया गया है गिरफ्तार। प्रकरण में 03 आरोपियों को किया गया है गिरफ्तार, 02 आरोपी महासमुंद पुलिस द्वारा किये है गिरफ्तार तथा 01 आरोपी फांसी लगाकर कर लिया है आत्महत्या। आरोपियों को गिरफ्तार करने हेतु अलग - अलग एस.आई.टी. टीमों का किया गया था गठन। आरोपियों के कब्जे से डकैती की नगदी 1,10,000/- रूपये तथा डकैती के रूपयों से खरीदी गई 03 नग दोपहिया वाहन, 01 नग एल ई डी टी.व्ही., 02 नग मोबाईल फोन, 01 नग होम थियेटर, 01 नग मिक्सी एवं 01 नग कूलर किया गया है जप्त। जप्त मशरूका की कीमत है लगभग 2,35,500/- (दो लाख पैंतीस हजार पांच सौ रूपये)। घटना में प्रयुक्त 02 नग मोटर सायकल को भी किया गया है जप्त। आरोपियों के विरूद्ध थाना आरंग में अपराध क्रमांक 368/20 धारा 459, 380, 395 भादवि. के तहत् किया गया है अपराध पंजीबद्ध। आरोपियों से धमतरी के शराब दुकान में हुई लूट के संबंध में भी की जा रही है विस्तृत पूछताछ। आरोपियों को गिरफ्तार करने के फलस्वरूप पुलिस उप महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा टीम को नगद ईनाम देने की गई है घोषणा। विवरण - प्रार्थी विश्वनाथ कोशले ने थाना आरंग में रिपोर्ट दर्ज कराया कि वह ग्राम कागदेही रायपुर में रहता है तथा शासकीय विदेशी मदिरा दुकान ग्राम गुल्लू आरंग में सुपरवाइजर का काम दिनांक 04.10.2019 से कर रहा है। दिनांक 11.08.20 को मदिरा की बिक्री रकम 4,45,600 रू था जो जन्माष्टमी के कारण बैंक में जमा नहीं हुआ था जिसे प्रार्थी तिजोरी में रखा था और दिनांक 12.08.20 को विदेशी मदिरा की बिक्री रकम 5,10,800 रू तथा पूर्व का रकम 26,410 रू जुमला 9,82,810 रुपए को हिसाब किताब कर तिजोरी में रखकर ताला लगाकर चाबी अपने हाथ में लेकर सुरक्षा गार्ड घनश्याम तथा भीखमदेव के सुरक्षा में देकर प्रार्थी अपने घर चला गया था। रात्रि 03ः30 बजे सेल्समेन उबारन पुरैना ने फोन कर प्रार्थी को जानकारी दिया कि गुल्लू विदेशी मदिरा दुकान का गार्ड भीखमदेव ने बताया है की रात्रि 02ः30 बजे दुकान का बिजली गुल होने से तथा कुत्ता भौंकने की आवाज सुनकर उठा उसी समय 05-06 अज्ञात व्यक्ति आकर दोनों सुरक्षा गार्ड के साथ मारपीट करना शुरू कर दिये जिसका दोनों विरोध किये तथा गार्ड घनश्याम रात्रे भागने लगा जिसे 03-04 आदमी दौड़ा कर पकड़े तथा दोनों के साथ मारपीट कर गमछा से बांध दिये तथा दुकान अंदर तोड़फोड़ की आवाज आ रहा था। जो व्यक्ति उक्त दोनों के साथ मारपीट किए वह बोल रहे थे कि तुम लोग ओवर रेट में शराब बेचते हो आज मौका मिला है कहते गाली दे रहे थे और अपने आप को बंजारे का आदमी बता रहे थे। छत्तीसगढ़ी, हिंदी बोलते थे कभी ओके बोलते थे। मारपीट कर पीछे तरफ से चले गए बताया तब प्रार्थी गुल्लू विदेशी मदिरा दुकान की घटना की जानकारी आबकारी साहब उमेश अग्रवाल को दिया और भट्टी आया देखा तो घनश्याम रात्रे तथा भीखमदेव सोनवानी घायल पड़े थे घनश्याम के सिर में तथा भीखमदेव के पैर में चोंट लगा था। प्रार्थी दोनों से पूछताछ किया तो वही बात को बताएं जो उबारन पुरैना को फोन से बताएं थे घनश्याम तथा भीखमदेव को चोट लगा था मदिरा दुकान का ताला खोलकर देखा तो मदिरा दुकान के दक्षिणी हिस्सा का टीन शेड उखड़ा था तिजोरी एवं सी.सी.टी.व्ही कैमरा का डी.व्ही.आर. नहीं था। दिनांक 11.08.2020 एवं 12.08.2020 का बिक्री रकम 9,82,810 रुपए को तिजोरी सहित और सी.सी.टी.व्ही कैमरा का डी.व्ही.आर. को अज्ञात 05-06 व्यक्ति गार्ड के साथ मारपीट कर ले गये। जिस पर अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध थाना आरंग में अपराध क्रमांक 368/20 धारा 459, 380, 395 भादवि. का अपराध पंजीबद्ध किया गया। प्रकरण को गंभीरता से लेते हुये पुलिस उप महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय श्री अजय कुमार यादव द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्री तारकेश्वर पटेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध श्री अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक माना श्री एल.सी.मोहले, प्रभारी सायबर सेल श्री रमाकांत साहू एवं थाना प्रभारी आरंग श्री एल.डी.दीवान को अज्ञात आरोपियों की पतासाजी कर गिरफ्तारी हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। जिस पर राजपत्रित अधिकारियों द्वारा मौके पर जाकर घटना स्थल का निरीक्षण किया गया एवं कार्य योजना तैयार कर पृथक - पृथक एस.आई.टी. टीमों का गठन किया गया। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में एस.आई.टी. टीमों के सदस्यों द्वारा घटना स्थल का बारिकी से निरीक्षण किया जाकर घटना के संबंध में आहत दोनों गार्ड, प्रार्थी सहित शराब दुकान में काम करने वाले अन्य समस्त कर्मचारियों से घटना के संबंध में विस्तृत पूछताछ करने के साथ ही टीम द्वारा पूर्व में शराब दुकान में काम छोड़ चुके कर्मचारियों की भी पतासाजी की जा रही थी। एक टीम द्वारा पूर्व में हुये शराब दुकान में लूट/चोरी के प्रकरणों में गिरफ्तार आरोपियों के संबंध में तस्दीक किया जाकर जानकारी एकत्रित करने के साथ ही नकबजनी व चोरी के पुराने एवं हाल ही में जेल से रिहा हुये व्यक्तियों के संबंध मंे भी जानकारियां जुटायी जा रही थी। चूंकि आरोपी बड़े ही शातिर किस्म के थे जो अपनी पहचान छिपाने की नियत से शराब दुकान में लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरे का डी.व्ही.आर. को निकालकर अपने साथ ले गये थे। आरोपियों की गिरफ्तारी में लगी टीम को इसी दौरान जानकारी प्राप्त हुई कि इसी प्रकार की घटना जिला धमतरी के शराब दुकान में भी अज्ञात आरोपियों द्वारा घटित की गई है। जिस पर एक टीम द्वारा धमतरी जाकर रायपुर एवं धमतरी में हुये शराब दुकान में चोरी की घटनाओं को तरीका वारदात के आधार पर आपस में मिलान किया गया। जिस पर रायपुर की टीम द्वारा धमतरी पुलिस टीम के साथ जानकारी साझा किया गया। टीम द्वारा अज्ञात आरोपियों के संबंध में मुखबीर लगाने के साथ ही तकनीकी विश्लेषण कर अज्ञात आरोपियों की पहचान सुनिश्चित करने के प्रयास किये जा रहे थे। इसी दौरान सूचना प्राप्त हुई कि कुछ दिनों पूर्व जिला महासमुंद के तुमगांव क्षेत्रंातर्गत स्थित शराब दुकान में भी इस तरह की अज्ञात 04-05 व्यक्तियों द्वारा रकम लूट की घटना को अंजाम दिया गया है तथा महासमुंद पुलिस द्वारा आरापियों को गिरफ्तार किया जा चुका हैं। जिस पर रायपुर पुलिस की एस.आई.टी. टीम के सदस्य महासमंुद जाकर गिरफ्तार आरोपियों से रायपुर के आरंग क्षेत्र के गुल्लू स्थित शराब दुकान में हुये चोरी की घटना के संबंध में पूछताछ करने पर गिरफ्तार आरोपियों द्वारा किसी प्रकार की जानकारी नहीं दी गई तथा आरंग के शराब दुकान में घटना नहीं करना बताया गया। जिस पर टीम द्वारा पुनः आरोपियों की पतासाजी प्रारंभ किया गया जिस पर टीम को घटना में शामिल थाना खरोरा क्षेत्रांतर्गत स्थित ग्राम देवगांव निवासी विनोद डहरिया के संबंध मे जानकारी प्राप्त हुई जिस पर टीम द्वारा विनोद डहरिया को पकड़कर घटना के संबंध में पूछताछ करने पर उसके द्वारा किसी भी प्रकार से अपराध में अपनी संलिप्तता नहीं होना बताकर लगातार टीम को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा था, परंतु प्राप्त साक्ष्यों के आधार पर टीम द्वारा कड़ाई से पूछताछ करने पर विनोद डहरिया अपने झूठ के सामने टिक न सका और अपने 05 अन्य साथियों के साथ मिलकर आरंग के ग्राम गुल्लू स्थित शराब दुकान के गार्ड को मारकर आहत कर शराब दुकान में रखें रूपयों के लाॅकर को उखाड़ कर ले जाना स्वीकार किया गया। पूछताछ में आरोपी विनोद डहरिया ने बताया कि घटना का मास्टर माइंड विजय मनहरे उर्फ कबाड़ी है जो मूलतः खरोरा में रहता है तथा वर्तमान में हाउसिंग बोर्ड सड्डू में किराये के मकान में निवासरत था। आरोपी विजय मनहरे पूर्व में महासमुंद के गाड़ाघाट स्थित शराब दुकान में काम कर चुका है जिसे अनियमितता बरतने पर महासमुंद के गाड़ाघाट शराब दुकान से निकाल दिया गया था। आरोपी विजय मनहरे गुल्लू आरंग के रास्ते महासमुंद गाडाघाट शराब दुकान में काम करने जाता था जो आते - जाते देखता था कि गुल्लू का शराब दुकान एकांत में स्थित है, जहां रात में भीड़ नहीं रहती है और ईलाका शांत रहता है। इसी दौरान आरंग गुल्लू शराब दुकान में लूट की योजना विजय मनहरे उर्फ कबाड़ी द्वारा धनीराम धृतलहरे के साथ मिलकर बनायी गयी थी तथा अपनी इस लूट की योजना में अग्रभूषण धृतलहरे उर्फ गोलू, विनोद डहरिया, देवप्रकाश पारधी उर्फ देवा एवं सदाब्रीज पारधी को शामिल किये। योजना के अनुसार आरोपी घटना दिनांक के 03 दिन पूर्व गूल्लू शराब भट्ठी जाकर रेकी किये तथा शराब दुकान में शराब लेने के बहाने दुकान एवं आसपास के क्षेत्र का अवलोकन किये कि शराब दुकान में सी.सी.टी.व्ही. कैमरा का डी.व्ही.आर. कहां पर लगा है, विद्युत कनेक्शन व लाईट कहां - कहां पर है इत्यादि। आरोपियान योजना के मुताबिक घटना के दिन लगभग शाम 05ः00 बजे देहगांव से 02 मोटर सायकल में सभी 06 आरोपी गुल्लू जाने हेतु निकले तथा भानसोज के हार्डवेयर दुकान में विजय मनहरे हथौड़ी खरीदा तथा विजय मनहरे घर से सब्बल और ताला तोड़ने का अन्य दो औजार साथ में लेकर गया था। सभी आरोपी लगभग शाम 06ः00 बजे गुल्लू शराब दुकान पहुंचे। आरोपी विजय मनहरे और धनीराम शराब दुकान में शराब खरीदने गये और शराब खरीद कर लायें तथा सभी आरोपी शराब दुकान से दूर नहर के पास बैठकर शराब पीयें तथा आरंग खरोरा मार्ग स्थित एक ढ़ाबा में खाना खाये और देर रात होने का इंतजार करने लगे। देर रात होने पर सभी दोनों मोटर सायकल से गुल्लू के शराब दुकान में गये तथा मोटर सायकल को दूर में खड़ा कर दिये। देव प्रसाद उर्फ देवा जो विद्युत संबंधी कार्य करता है ने शराब दुकान का विद्युत कनेक्शन काटा और आरोपियान गार्ड भीखमदेव एवं घनश्याम रात्रे के साथ मारपीट कर लगे जिस पर गार्ड घनश्याम रात्रे भाग रहा था तो आरोपी विजय मनहरे पर गार्ड घनश्याम रात्रे के पैर को हथौड़ी से मारकर आहत कर दिया तथा दोनों गार्ड के साथ मारपीट कर आरोपी सदाब्रीज एवं विनोद डहरिया दोनों को अपने कब्जे में ले लिये। शेष 04 आरोपी शराब दुकान के अंदर जाकर लाॅकर को तोड़ने लगे चूंकि विजय मनहरे शराब दुकान में पूर्व में काम कर चुका था तो उसे सब चीजों की जानकारी थी जिस पर आरोपी विजय मनहरे सब्बल से लाॅकर के स्टैण्ड को तोड़ दिया और पूरा लाॅकर को उखाड़ लिये एवं सी.सी.टी.व्ही. कैमरे के डी.व्ही.आर. को भी निकाल कर अपने साथ ले गये। रूपयों से भरा लाॅकर को विजय मनहरे एवं धनीराम एक मोटर सायकल में बीच में रखकर एवं शेष 04 आरोपी एक मोटर सायकल में भानसोज होते हुये मुरा गये एवं मुरा के एक नहर में सी.सी.टी.व्ही. कैमरे के डी.व्ही.आर. को फेंक दिये। सभी आरोपी देवगांव खरोरा पहुंचकर अग्रभूषण के घर लाॅकर को तोडने का प्रयास किये पर लाॅकर तोडने में सफल नहीं हुए। जिस पर लाॅकर को रात में अग्रभूषण के घर रख दिये। दूसरे दिन कटर खरीद कर लाएं और लाॅकर को कटर से काटकर रकम निकाल लिये तथा सभी आरोपी 1,10,000/- रूपये आपस में बांटे एवं विजय मनहरे द्वारा पूरी योजना मेरे द्वारा तैयार किया गया था कहकर बचे शेष रकम को स्वयं रख लिया। अग्रभूषण और देव प्रकाश लाॅकर को खदान के पास फेंक दिये थे। आरोपी विजय मनहरे एवं धनीराम धृतलहरे महासमुंद के शराब दुकान में भी रकम लूट की घटना को अंजाम दिये थे जिस पर महासमुंद पुलिस द्वारा दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी अग्रभूषण उर्फ गोलू पिता कलीराम उम्र 30 साल निवासी देवगांव थाना खरोरा रायपुर कुछ दिनों पूर्व फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया है जिसका थाना खरोरा में मर्ग कायम कर जांच किया जा रहा है। टीम द्वारा घटना में शामिल आरोपी विनोद डहरिया, देव प्रसाद पारधी उर्फ देवा एवं सदाब्रीज पारधी को गिरफ्तार किया गया। आरोपियों की निशानदेही पर उनके कब्जे से डकैती की नगदी 1,10,000/- रूपये तथा डकैती के पैसों से खरीदी गई 03 नग दोपहिया वाहन, 01 नग एल ई डी टी.व्ही., 02 नग मोबाईल फोन, 01 नग होम थियेटर, 01 नग मिक्सी एवं 01 नग कूलर जुमला कीमती लगभग 2,35,500/- (दो लाख पैंतीस हजार पांच सौ रूपये), घटना में प्रयुक्त 02 नग मोटर सायकल एवं लाॅकर को जप्त किया गया है। आरोपी विनोद डहरिया, देव प्रसाद पारधी उर्फ देवा एवं सदाब्रीज पारधी को गिरफ्तार कर उनके विरूद्ध अग्रिम कार्यवाही की जा रही है आरोपी विजय मनहरे एवं धनीराम धृतलहरे को महासमुंद के शराब दुकान में लूट करने के प्रकरण में महासमुंद पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है। उक्त दोनों आरोपियों को गुल्लू आरंग के प्रकरण में भी गिरफ्तार कर उनके विरूद्ध अग्रिम कार्यवाही की जावेगी। आरोपी धनीराम की पत्नि का कुछ समय पूर्व आग से जलने से मृत्यु हो गई थी, ऐसी जानकारी प्राप्त हुई कि धनीराम द्वारा ही अपनी पत्नि को आग लगाकर जला दिया गया है, इस संबंध में थाना खरोरा में मर्ग कायम कर जांच की जा रही है। गिरफ्तार सभी आरोपियों से धमतरी के शराब दुकान में हुये लूट के संबंध में भी विस्तृत पूछताछ की जा रही है। गिरफ्तार आरोपी 01. विनोद डहरिया पिता स्व0 चोवा राम डहरिया उम्र 23 साल निवासी देवगांव थाना खरोरा रायपुर। 02. देव प्रसाद पारधी उर्फ देवा पिता संतराम पारधी उम्र 32 साल निवासी देवगांव थाना खरोरा रायपुर। 03. सदाब्रीज पारधी पिता रूपसिंह पारधी उम्र 45 साल निवासी ग्राम जलसो थाना तिल्दा नेवरा रायपुर। 04. विजय मनहरे पिता मोतीलाल मनहरे उम्र 30 साल निवासी परसवानी थाना खरोरा रायपुर (महासमुंद पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है)। 05. धनीराम धृतलहरे पिता सरजू प्रसाद धृतलहरे उम्र 26 साल निवासी देवगांव थाना खरोरा रायपुर (महासमुंद पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है)। 06. अग्रभूषण उर्फ गोलू पिता कलीराम उम्र 30 साल निवासी देवगांव थाना खरोरा रायपुर (कुछ दिनों पूर्व फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया है)।
  • मंत्री  अमरजीत भगत ने किया नवनिर्मित खाद्यान्न गोदाम का उद्घाटन

    खाद्य मंत्री  अमरजीत भगत ने आज सरगुजा जिले के सीतापुर विकासखंड के ग्राम बनेया में नवनिर्मित गोदाम का लोकार्पण किया। इस गोदाम का निर्माण लोक निर्माण विभाग द्वारा 5 करोड़ 50 लाख रुपए की लागत से किया गया है।  
        इस मौके पर मंत्री  अमरजीत भगत ने कहा कि बनेया में नवनिर्मित 10 हजार 800 मीट्रिक टन क्षमता वाले खाद्यान्न भण्डारण गोदाम के बन जाने से अब जिले में खाद्यान्न भंडारण की क्षमता में वृद्धि हुई है। वेयर हाउस के बन जाने से चावल का रख-रखाव बेहतर ढंग से हो सकेगा और आस-पास के राईस मिल का चावल भी इसी वेयर हाउस में रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि इस वेयर हाउस के बनने से भंडारण क्षमता में वृद्धि हुई है, साथ ही आस-पास के लोगों को यहां रोजगार भी मिल सकेगा।
        मंत्री श्री भगत ने कहा कि 27 एवं 28 अक्टूबर को होने विधानसभा की विशेष सत्र में केन्द्र सरकार के कृषि बिल पर चर्चा की जाएगी। किसानों का अहित न हो इसके लिए प्रभावी कदम उठाने पर भी विचार-विमर्श किया जाएगा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य होगा, जहां धान से एथेनॉल बनाया जाएगा, जो जैव इंधन के क्षेत्र में काम करेगा। एथेनॉल के निर्माण से आने वाले समय में किसानों को निश्चित ही दूरगामी फायदा मिलेगा। श्री भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल के नेतृत्व में आम आदमी की सुविधा को ध्यान में रखते हुए विकास कार्य किया जा रहा है। कुछ दिन पूर्व ही मुख्यमंत्री ने मैनपाट के सुपलगा, करदना में पुल निर्माण तथा पेंट से पीडिया तक सड़क निर्माण की घोषणा की है। इस निर्माण कार्य से क्षेत्र के लोगों को आवागमन में काफी सहुलियत होगी।
        मंत्री श्री भगत ने इस दौरान दूर-दराज गांव से अपनी समस्या लेकर आए हुए ग्रामीणों के आवेदन पर कार्यवाही करने के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि छोट-छोटे कार्यों से सम्बंधित आवेदनों पर त्वरित रूप से निराकरण होना चाहिए। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य खाद्य आयोग के अध्यक्ष  गुरप्रीत सिंह बाबरा, जनपद पंचायत उपाध्यक्ष  शैलेष सिंह तथा अन्य जनप्रतिनिधि तथा ग्रामीणजन उपस्थित थे।

     
  • नागरिक केन्द्रित कार्यक्रमों को भी एसटीआईपी-2020 में शामिल किया जाए: महानिदेशक  मुदित कुमार सिंह : विज्ञान और प्रौद्योगिकी नीति 2020 के संबंध में परामर्श बैठक सम्पन्न

    विज्ञान और प्रौद्योगिकी नीति (एसटीआईपी)- 2020 हेतु राज्यों से इनपुट के उद्देश्य से वर्चुअल परामर्श बैठक का आयोजन विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार द्वारा आज 22 अक्टूबर 2020 को किया गया। बैठक में राज्यों के मुख्यमंत्री, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री तथा मुख्य सचिवों एवं वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। मंत्री स्वास्थ्य, परिवार कल्याण तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, भारत सरकार, डॉ हर्षवर्धन की अध्यक्षता में यह बैठक सम्पन्न हुई। जिसमें श्री आशुतोष शर्मा, सचिव, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, भारत सरकार, डॉ क.े विजयराघवन, सलाहकार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, भारत सरकार, डॉ वी.के सारस्वत, सदस्य, विज्ञान, नीति आयोग, भारत सरकार तथा और डॉ. अभिषेक गुप्ता, वैज्ञानिक जी, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति सचिवालय, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार ने नीति पनेलिस्ट के रूप में भाग लिया।
        बैठक में विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति- 2020 हेतु राज्यों के प्रतिनिधियों द्वारा अपना अभिमत प्रदान किया गया तथा नीति निर्माण पर विस्तृत चर्चा की गई। डॉ हर्षवर्धन, मंत्री विज्ञान और प्रौद्योगिकी, भारत सरकार ने कहा है कि भारत में विशेषज्ञता की कोई कमी नहीं है। उन्होंने वैज्ञानिक समुदाय की प्रशंसा करते हुए कहा है कि वैज्ञानिक कोई समस्या पर आपको समाधान दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार विज्ञान और प्रौद्योगिकी के उन्नयन हेतु प्रयासरत है तथा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के माध्यम से वैज्ञानिक स्वभाव और नवाचार को बढ़ावा देने के लिए कई पहल की गई है तथा अब विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार नीति- 2020 के निर्माण की प्रक्रिया में है।
        बैठक में छत्तीसगढ़ राज्य का प्रतिनिधित्व श्री मुदित कुमार सिंह, आई. एफ. एस (प्रधानमुख्य वनसंरक्षक एवं हेड ऑफ फॉरेस्ट फोर्स) तथा महानिदेशक, छत्तीसगढ़ विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद एवं रीजेनल साइंस सेंटर, रायपुर ने किया। महानिदेशक द्वारा बैठक में प्रदेश की ग्राम एवं ग्रामीण केंद्रित नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी कार्यक्रम तथा राज्य सरकार के अन्य समाजोपयोगी प्रमुख कार्यक्रमों की विस्तृत चर्चा करते हुए कहा की ऐसे नागरिक-केंद्रित कार्यक्रमों की जानकारी एकत्र कर उसे इस नई एसटीआईपी-2020 नीति में फोकस क्षेत्रों के रूप में लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी कार्यक्रम के अंतर्गत छोटे एवं अभिनव सामुदायिक विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी इनपुट जैसे कि वर्मी कम्पोस्टिंग, वाटर रिचार्जिंग, बायो मास कम्पोस्टिंग तथा कई अन्य को सफलता पूर्वक प्रोत्साहित किया गया है। उन्होंने स्कूल स्तर पर विज्ञान, प्रोद्योगिकी एवं नवाचारी हस्तक्षेप की आवश्यकता पर भी जोर दिया ताकि प्रतिभा को युवा स्तर पर चिन्हित तथा विकसित किया जा सके। उन्होंने उच्च और तकनीकी शिक्षा के छात्रों के स्तर पर भी नवाचार प्रोत्साहन की आवश्यकता बताई। उन्होंने राज्यों में विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विकास के लिए नोडल एजेंसी निर्धारण की आवश्यकता पर भी जोर दिया। जिससे स्थानीय विशिष्ट विज्ञान और प्रौद्योगिकी की जरूरतों को सुनिश्चित करने तथा उसके अनुसार स्थानिक कार्यक्रमों को तैयार करने के लिए राज्यों में एक मजबूत नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र विकसित किया जा सके।     डॉ. सारस्वत, सदस्य विज्ञान, एनआईटीआई आयोग ने अंत में कहा कि नए एसटीपी-2020 के लिए आदानों के अंतिम रूप के लिए विस्तृत चर्चा के लिए राज्यों को समूहों में विभाजित किया जाना चाहिए।