State News
  • Jaspur हादसे में सीएम ने जताया शोक, ट्वीट कर कहा- सबके साथ न्याय होगा। ईश्वर दिवंगतजनों की आत्मा को शांति दे
    जशपुर। छत्तीसगढ़ के जिले जशपुर (Jaspur) में गांजे से भरी कार ने विसर्जन के लिए जा रहे ग्रामीणों को रौंद दिया है। इस दर्दनाक हादसे को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर दुख जताया है। उन्होंने ट्वीटर पर ट्वीट करते हुए लिखा कि जशपुर की घटना बहुत दुखद और हृदयविदारक है। (Jaspur) दोषियों को तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया है। (Jaspur) प्रथमदृष्टया दोषी दिख रहे पुलिस अधिकारियों पर भी कार्रवाई हुई है। जांच के आदेश दिए गए हैं। कोई भी बख्शा नहीं जाएगा। सबके साथ न्याय होगा। ईश्वर दिवंगतजनों की आत्मा को शांति दे।
  • पत्थल गाँव की घटना दुःखद और मार्मिक -कांग्रेस*

    *पत्थल गाँव की घटना दुःखद और मार्मिक -कांग्रेस* *भाजपा मौत पर सियासत न करे*

     

    रायपुर 15 अक्टूबर/ पत्थल गांव घटना की कॉंग्रेस ने निंदा की है | प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि यह घटना बेहद ही मार्मिक और दुःखद है। कांग्रेस पार्टी घटना में मृत हुए लोगो के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करती है उनके दुख में सहभागी है। घायलों के साथ उनके इलाज के लिए कांग्रेस पार्टी और सरकार पूरी प्रतिबद्धता से खड़ी है।

    मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस घटना को बड़ी गम्भीरता और संवेदनशीलता से लिया है उन्होंने कहा है सबके साथ न्याय होगा।घटना के जांच के आदेश दे दिए है, दोषी कोई भी होगा बख्शा नही जाएगा। दोषियों को गिरफ्तार कर लिया गया है प्रथम दृष्टया लापरवाह दिख रहे पुलिस अधिकारियों पर भी कार्यवाही की गई है। कांग्रेस संचार प्रमुख सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी द्वारा इस दुःखद घटना को लखीमपुर की घटना से जोड़ कर बयान दिया जाना राजनैतिक अधः पतन की पराकाष्ठा है । दोनों घटनाएं निंदनीय है लेकिन दोनों में समानताएं देखना भारतीय जनता पार्टी की घृणित राजनैतिक अवसरवादिता है।लखीमपुर में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के पुत्र ने राजनैतिक विद्वेष वश केंद्र व भाजपा के खिलाफ आंदोलनरत किसानों के ऊपर सुनियोजित तरीके से वाहन चढ़ा कर हत्या किया था | पत्थलगांव में एक अपराधी की बेलगाम वाहन से लोग कुचले गए है। भाजपा और रमन दोनों घटनाओं को जोड़ कर लोगो की दुःखद मौतों पर सियासत न करें।

  • Bilaspur: सिटी कोतवाली पुलिस की बड़ी कार्रवाई, अवैध रुप से कच्ची चांदी का भण्डारण करने वाले दो आरोपी गिरफ्तार, 40 किलो चांदी और 4 क्विंटल तांबा जब्त
    बिलासपुर। जिले की थाना सिटी कोतवाली पुलिस ने बड़ी कार्यवाही की है। अवैध रुप से कच्ची चांदी का भण्डारण रखे दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। करीबन 40 किलो चांदी एवं 4 क्विंटल तांबा का चूर्ण जप्त किया गया है। जानकारी के मुताबिक मुखबिर से सूचना मिली कि गोड़पारा, गलाई गली में नवनाथ ऐवले नाम का व्यक्ति अपने शिवसाही सिल्वर रिफायनरी फैक्टरी में अवैध रुप से कच्ची चांदी रखा हुआ है। जिसे स्टाफ एवं गवाहान रवाना होकर नवनाथ ऐवले से मुखबिर की सूचना के आधार पर कच्ची चांदी रखे रंगे हाथो पकड़ा गया। जिसे मौके पर वैध दस्तावेज पेश करने हेतु नोटिस दिया गया। जो कोई दस्तावेज पेश नहीं किया और अपने मेमोरेण्डम कथन में अपने पार्टनर नितिन उर्फ ब्रम्हदेव के साथ मिलकर कुछ कच्चा चांदी को विजय सालोखे के पास तथा कुछ सोना, चांदी को नितिन उर्फ ब्रम्हदेव के दुकान में रखना बताया। जो आरोपी नवनाथ ऐवले एवं विजय सालोखे के संयुक्त कब्जे से करीबन 40 किलो चांदी सिल्ली के रुप में तथा करीबन 4 क्विंटल तांबा का चूर्ण अलग-अलग पॉलिथीन में जप्त किया गया है। आरोपी 33 वर्षीय नवनाथ ऐवले एवं 41 वर्षीय विजय सालोखे को विधिवत् गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया है। जबकि नितिन कदम उर्फ ब्रम्हदेव कदम फरार बताया जा रहा है।
  •  छत्तीसगढ़ में एक गांव ऐसा भी है, जहां होता है रावण का सम्मान ?..दशहरा मे मेला तो लगता हैं लेकिन रावण का दहन नहीं होता है..
    मुंगेली। (Mungeli) राजा कुल देवी मां महालक्ष्मी, महासरस्वती और महाकाली की पूजा कर पूरे क्षेत्र में खुशहाली की कामना करते हैं । जिला मुख्यालय से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्राम पंचायत कन्तेली में 16वीं सदी से चली आ रही है एक अनोखी परंपरा है। यहां राजा की सवारी निकलती है लेकिन रावण का दहन नहीं होता है। राजा के दर्शन के लिए 44 गांवों से ग्रामीण एकत्रित होते हैं। राजा कुल देवी मां महालक्ष्मी, महासरस्वती और महाकाली की पूजा कर पूरे क्षेत्र में खुशहाली की कामना करते हैं। छत्तीसगढ़ का पहला ऐसा गांव (Mungeli) जिस प्रकार केरल में मान्यता है कि दशहरे के दिन राजा बली अपनी प्रजा का हाल जानने के लिए पाताललोक से बाहर आते हैं और प्रजा उन्हें सोनपत्ती देकर उनका आशीर्वाद प्राप्त करती है। कुछ ऐसी ही परंपरा मुंगेली जिले के कन्तेली गांव में है, (Mungeli) जो दशको से चली आ रही है। यह छत्तीसगढ़ का पहला ऐसा गांव है, जहां दशहरा में मेला तो लगता है लेकिन रावण का दहन नहीं होता है। 44 गांव के लोग होते है एकत्रित 16वीं सदी से चली आ रही यह परंपरा दशहरे के दिन होता है। मेले में आस-पास के करीब 44 गांव के लोग शामिल होते है। यहां के राजा यशवंत सिंह के महल से एक राजा की सवारी निकलती है, जिसमें लोग शामिल होकर नाचते-गाते कुल देवी के मंदिर तक पहुंचते हैं। राजा यशवंत सिंह के द्वारा कुल देवी मां महालक्ष्मी, महासरस्वती और महाकाली की पूजा कर पूरे क्षेत्र की खुशहाली की कामना करते हैं। इतना ही नहीं इसके बाद राजमहल में एक सभा का आयोजन किया जाता हैं, जहां ग्रामीणों के द्वारा राजा को सोनपत्ती भेंट कर उनका आशीर्वाद लिया जाता है। इसका भी एक इतिहास है कंतेली जमीदारी के प्रथम पुत्र गजराज सिंह के द्वारा मंदिर का निर्माण कराया गया था स्वतंत्रता प्राप्ति के पूर्व सन् 1944 में राजा पोखराज सिंह द्वितीय के मृत्यु के बाद तत्कालीन राज माता श्रीमति पिनांक कुमारी देवी द्वारा स्वतंत्रता के बाद यशवंत कुमार सिंह राजा को दत्तक पुत्र बनाया गया था तब से मंदिर के देख रेख एवं इनके द्वारा किया जा रहा था 30 वर्षों से यशवंत कुमार सिंह के संरक्षण में मां महामाया समिति संचालित था जो नवरात्रि पर्व में ज्योति कलश एवं पूजन आयोजन करते हैं अभी मंदिर का जीणोद्धार वर्तमान मंदिर टृस्ट के द्वारा सतत जारी है इस साल नही निकलेगा राजा की सवारी अशोक कुमार बड्डगैया ज्योतिषाचार्य टृस्ट अध्यक्ष व छोटे राजा घनश्याम सिंह के द्वारा बताया गया की हर वर्ष जो राजमहल से राजा की सवारी निकाली जाती थी वो इस साल नहीं निकाला जायेगा क्योंकि जो राजा का पुत्र था स्व.गुनेंद कुमार सिंह थे उनका कार एक्सीडेंट में मृत्यु हो गई हैं और राजमहल परिवार पुरे शोक में है इसी कारण इस साल राजा की सवारी नही निकाली जायेगी और जो मेला लगता हैंं ओ हमेशा की तरह इस साल भी मेला लगेगा हम राज परिवार क्षेत्र की जनता ओ के लिए हमेशा खुशहाली की कामना करते है और हमेशा करते रहेगे
  • बाल संप्रेक्षण गृह से 9 अपचारी बालक फरार, बालकों की तलाश जारी, ड्यूटी पर तैनात होमगार्ड निलंबित, कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक पहुँचे बाल संप्रेक्षण गृह
    महासमुन्द।  शासकीय बाल संप्रेक्षण गृह महासमुन्द से आज सुबह 14 अक्टूबर को 9 बालक शयन कक्ष में नहीं थे। मिली जानकारी अनुसार ये बालक बुधवार 13 अक्टूबर को रात्रि में सोये हुए थे। आज सुबह 05:30 बजे शयन कक्ष का अवलोकन करने पर 09 बच्चे संस्था में नहीं पाये गये। रात्रिकालीन ड्यूटी में नगर सैनिक भोई एवं केयर टेकर पिताम्बर ध्रुव व जैनदास टण्डन मौजूद थे। सभी बालकों की उम्र 15 से 17 वर्ष है। जानकारी मिलते ही कलेक्टर डोमन सिंह और पुलिस अधीक्षक दिव्यांग पटेल सुबह बाल संप्रेक्षण गृह पहुंचकर पूरी जानकारी ली। कलेक्टर ने लापरवाही बरतने पर कर्मचारियों पर तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए। साथ ही एसडीएम महासमुन्द को जांच करने के निर्देश दिए है। पुलिस अधीक्षक पटेल ने वहां ड्यूटी पर तैनात होमगार्ड भोई को निलंबित करने के निर्देश दिए। मिली जानकारी अनुसार ये 9 नाबालिग अपचारी बालक महासमुंद ज़िला सहित पड़ोसी ज़िला बलौदाबाज़ार और एक बालक हमीरपुर (उत्तरप्रदेश) का है। जो अलग-अलग मामलों के चलते संप्रेक्षण गृह में थे। बच्चों की तलाश जारी (Mahasamund) ज़िला कार्यक्रम अधिकारी महिला एव बाल विकास समीर पांडेय ने बताया कि बच्चे खिड़की का रॉड तोड़कर फरार हुए हैं। (Mahasamund) उन पर ज्यादा दबाव तो नहीं डाला जा सकता, उन्हें सुधार के लिए रखा जाता है। बच्चों की खोजबीन पुलिस द्वारा की जा रही है। जिला बाल संरक्षण अधिकारी ने बताया कि संप्रेक्षण गृह के 9 अपचारी बालक फरार हुए हैं। इसकी सूचना पुलिस और बच्चों के परिजनों को दी गई है। परिजनों को जानकारी मिलने पर तत्काल सूचित करने निर्देशित किया गया है। बच्चों की तलाश जारी है।
  • किसान सम्मान निधि योजना के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में अब Aadhaar Authentication अनिवार्य, ऐसे कर लें रजिस्टर
    प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में अब Aadhaar Authentication अनिवार्य कर दिया गया है। अगर रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरने जा रहे हैं, तो इससे पहले आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपका मौजूदा मोबाइल नंबर आपके आधार कार्ड के साथ लिंक हो। यदि लिंक नहीं है तो आप इसके लिए पंजीयन नहीं कर सकते। आप जब पीएम किसान योजना के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने की शुरुआत करते हैं, पहले पेज पर ही आपको Aadhaar No के बाद रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर डालना होगा। इसके बाद आपको ड्रॉप डाउन लिस्ट से राज्य सेलेक्ट करना होता है। उसके बाद आपको ओटीपी डालना होगा। अगर आपके फोन पर एक बार में ओटीपी नहीं आता है तो आप ‘Resend OTP’ पर क्लिक कर सकते हैं। इसके बाद आपको कैप्चा कोड डालना होगा और फिर सबमिट पर क्लिक करना होगा। पीएम किसान के रजिस्ट्रेशन फॉर्म पर यह स्पष्ट तौर पर लिखा हुआ है कि आपके Aadhaar का Authentication UIDAI के जरिए किया जाएगा। अगर आपका Aadhaar Authentication होता है, तो ही आपको आगे फॉर्म भरने की इजाजत दी जाएगी।
  • Kanker: दबंगों ने बेचा राशन कार्ड का चावल, पैसे देने में हुई देरी……तो गला दबाकर की जान से मारने की कोशिश
    कांकेर। दबंग ग्रामीण ने अपनी राशन कार्ड का चावल राशन दुकान से खरीदकर भरत राजपूत नामक व्यक्ति को 16 रुपये प्रति किलो के दर से बेचा। समय पर पैसे नहीं मिलने पर भरत राजपूत को दबंगो ने गला दबाकर जान से मारने की कोशिश की। दरअसल परतापुर थाना क्षेत्र के गांव पिव्ही नंबर.124 के ग्रामीण संजीत रॉय एव हरि नामक ग्रामीण ने भरत राजपूत के साथ मारपीट की है। भरत राजपूत की पत्नी एवं उनके बेटे ने बताया कि चावल के पैसे समय पर नहीं दे पाने के कारण दोनों ने भरत राजपूत की जमकर पिटाई की एवं जान से मारने के उद्देश्य से गला भी दबाया। राजपूत की पत्नी ने बताया कि संजीत रॉय एवं हरि ने अपने राशन कार्ड के चावल को राशन दुकान से लाकर प्रति किलो 16 रुपये की दर से 50 किलो चावल भरत राजपूत को बेचा था। भरत राजपूत समय पर चावल का 800 रुपये नहीं दे पाया। तो दोनों मिलकर भरत राजपूत की जमकर पिटाई किये एवं जान से मारने की उद्देश्य से गला भी दबाया। भरत की पत्नी एवं मासूम बच्चे ने पैर भी पड़ा। मगर दबंगों ने उनकी एक नहीं सुनी। चिल्लाने की आवाज सुनकर पड़ोसी मौके पर पहुंचे। तब जाकर मारपीट रूकी। फिलहाल भरत राजपूत का इलाज पखांजुर सिविल अस्पताल में चल रहा है एवं पुलिस भि मामले की जांच में जुटी हुई हैं।
  • Attack: दुर्गा पूजा समारोह के दौरान हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़, 22 जिलों में जवानों की तैनाती, हमले के मामले में 9 संदिग्ध पुलिस हिरासत में
    ढाका।दुर्गा पूजा समारोह के दौरान हिंदू मंदिरों पर कई हमलों के बाद सरकार ने बांग्लादेश के बॉर्डर गार्ड के जवानों को 22 जिलों में तैनात किया है। इधर पुलिस ने कॉक्स बाजार के एक उप-जिले पेकुआ में पूजा स्थलों और हिंदू घरों पर हमले के मामले में नौ संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। पेकुआ पुलिस थाने के प्रमुख शेख मोहम्मद अली ने कहा कि कमिला में इसी तरह की घटना के बाद, बुधवार को कछरैमुरा शीलपारा पूजा स्थल पर हमला किया गया, जबकि मोगनामा में हिंदू घरों में तोड़फोड़ की गई। बीजीबी के संचालन निदेशक लेफ्टिनेंट कर्नल फैजुर रहमान ने गुरुवार को कहा, “उपायुक्तों के अनुरोध पर और गृह मंत्रालय के निर्देशों के तहत दुर्गा पूजा के दौरान सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बीजीबी कर्मियों को तैनात किया गया है। स्थानीय प्रशासन के अनुरोध के बाद राजधानी में भी फोर्स की तैनाती की जा सकती है। कुरान को कथित रूप से बदनाम करने के लिए बुधवार को एक स्थानीय मंदिर सोशल मीडिया पर तूफान का केंद्र बन गया। कमिला में तनाव बढ़ने पर प्रशासन और पुलिस ने स्थिति को शांत करने की कोशिश की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। इस झड़प में पुलिस और स्थानीय प्रशासन के सदस्य फंस ग बाद में दिन में एक आपातकालीन नोटिस में, धार्मिक मामलों के मंत्रालय ने कहा कि यह खबर मिली है कि कमिला में इस्लाम के केंद्रीय धार्मिक पाठ का ‘अपमान’ किया गया था। लेकिन मंत्रालय ने जनता से इस घटना पर कानून को अपने हाथ में नहीं लेने का आग्रह किया। इसने सांप्रदायिक सद्भाव और शांति बनाए रखने के आह्वान को भी दोहराया। कमिला में हुई घटना के बाद, चांदपुर के हाजीगंज, चट्टोग्राम के बंशखली और कॉक्स बाजार के पेकुआ के मंदिरों में भी तोड़फोड़ की गई है
  • Ambikapur: ‘नवा बिहान नशा मुक्ति अभियान’, 1 महिला समेत 3 आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 22 लाख रुपए के 220 ग्राम ब्राउन शुगर जब्त
    अंबिकापुर। नवा बिहान नशा मुक्ति अभियान के तहत सरगुजा पुलिस नशे के खिलाफ लगातार ताबड़तोड़ कार्यवाही कर रही है। कोतवाली पुलिस ने दो अलग-अलग मामले में एक महिला सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके पास से 220 ग्राम ब्राउन शुगर जप्त की है। जिसकी कीमत इंटरनेशनल बाजार में 22 लाख रुपये आकी जा रही है। दरअसल सरगुजा पुलिस नवा बिहान नशा मुक्ति अभियान के तहत सरगुजा एसपी अमित तुकाराम कांबले के नेतृत्व में लगातार नशे के विरुद्ध अभियान छेड़ नशे के कारोबार कर रहे लोगों पर ताबड़तोड़ कार्यवाही करने में लगी हुई है और सरगुजा पुलिस को इस और लगातार सफलता भी मिल रही है। 1 दिन पूर्व ही सरगुजा पुलिस ने अंतरराज्यीय गिरोह के लोगों से एक करोड़ 10 लाख रुपए के ब्राउन शुगर और हेरोइन जप्त कर आरोपियों को सलाखों के पीछे भेजा था और आज फिर से तीन आरोपियों से 220 ग्राम ब्राउन शुगर सरगुजा पुलिस ने जप्त किया है। हालांकि पुलिस की इस कार्यवाही से इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि उत्तर प्रदेश झारखंड से सटे सरहदी क्षेत्र सरगुजा में किस प्रकार से नशे का कारोबार फल फूल रहा हैय़ नशे के कारोबार में लिप्त लोगों के नेटवर्क झारखंड बिहार उत्तर प्रदेश उड़ीसा तक फैले हुए हैं। हालांकि सरगुजा पुलिस ने 2 दिन में अंतरराज्यीय गिरोह के सदस्यों के साथ सरगुजा में नशे के कारोबार को संभाल रहे लोगों के गिरफ्तारी से सरगुजा में नशे का सामान खफा रहे लोगों के बीच हड़कंप मचा हुआ है।वही सरगुजा पुलिस अमित तुकाराम ने बताया कि यह कार्यवाही नवा बिहान नशा मुक्ति अभियान के तहत लगातार जारी रहेगा।
  • छत्तीसगढ़ : प्रकृति की अनुपम छटा समेटे कांदा डोंगर का ऐतिहासिक दशहरा...नहीं मिला अब तक पर्यटन स्थल का दर्जा
    गरियाबंद – सुप्रसिद्ध कांदा डोंगर अपने अपार प्रकृति के सौंदर्य से भरा है चारों तरफ खुदरत अनूपम छटा से भरपूर अपने अंदर अपार संभावनाएं को समेटे हुए क्षेत्र के आधार स्तंभ की भांति सदियों से विराजमान हैं तो वहीं दूसरी ओर कांदा डोंगर में सैलानियों के लिए पर्यटन दृष्टिकोण से अद्वितीय शानदार मनोरम दृश्य बरबस ही लोगों को अपनी ओर खींच लाता है। इसके अलावा आध्यात्मिक दृष्टिकोण से भी कांदा डोंगर प्रख्यात है इलाके के सैकड़ो देवी देवताओं के गढ़ भी कहा जाता है कांदा डोंगर में न सिर्फ प्रकृति की सुंदर छवि है बल्कि इलाके के सभी देवी देवताओं के आध्यात्मिक केंद्र भी कांदा डोंगर को माना जाता है। कांदा डोंगर में इतिहास से जुड़ी रामायण काल से जुड़ी कुछ कहानियां भी बुजुर्गों की जुबानी से सुनने को मिलता है ऐसे महान प्रसिद्धि धारण लिए गरियाबंद जिले के मैनपुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम गुढ़ियारी के समीप स्थित है विशाल कांदा डोंगर। अमलीपदर गुढ़ियारी कांदाडोंगर चौरासी गढ़ गांव के पुजारी देवी देवता का विशाल मेला दशहरा के दिन लगता है।पुजारी सरपंच के द्वारा विसाल कांदाडोंगर मा कुलेश्वरी खमेश्वरी देवी एवम चौरासी गढ़ के सरपंच मुखिया पुजारी पटेल और क्षेत्र एंव ग्राम वासी उपस्थित रहते हैं। वर्ष में कांदा डोगर की विशेष दशहरा त्यौहार की मान्यता है। कांदा डोंगर को पर्यटन के दृष्टिकोण से किस तरह से बदलाव किया जय पर्यटन स्थल की दर्जा मिल सके इस के लिए बिंद्रा नवागढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक का श्री डमरूधर पुजारी द्वारा सी जी टॉप छत्तीसगढ़ को बताया कि कांदा डोंगर इस इलाके की शान है और कांदा डोंगर में कई देवी-देवताओं का वास है और कांदा डोंगर पर आयोजित वार्षिक भव्य दसहरा को लाखों लोग राज्य और राज्य से बाहर के श्रद्धालुओं देखने आते हैं कांदा डोंगर की सुंदरता को शानदार भव्यता को और इसकी प्रसिद्धि आज देश और दुनिया में देखी जा रही है पर दुख इस बात की है कांदा डोंगर को अब तक पर्यटन का दर्जा नहीं मिल पा रहा है बस दिलासा ही दिया जा रहा है लेकिन जमीनी स्तर पर कार्य होता नजर नहीं आ रहा है हम अपनी ओर से पूरी कोशिश तैयारी कर रहे हैं ताकि कांदा डोंगर को इलाके में जो प्रसिद्धि है सरकारी तर्ज पर भी पर्यटन का दर्जा देकर इस प्रसिद्धि को विश्व प्रसिद्ध किया जा सकेगा। खबर अनुसार आज कि विशेष कार्यक्रम में कांदा डोंगर स्थित है माँ कुलेश्वरी खमेश्वरी देवी देवताओं को लेकर चर्चा किया गया है।कांदा डोंगर को पर्यटन स्थल बनाने को लेकर पिछले कई सालों से शासन प्रशासन को अवगत करवाया जा रहा है अब तक कोई ठोस कदम उठता दिखाई नहीं दे रहा एक पर्यटन स्थल पर जो भी आवश्यकता के चीज़े होती है वो सब कांदा डोंगर में सदियों से मौजूद हैं।
  • नरहरदेव मैदान में राम रावणयुद्घ प्रसंग तथा भव्य आतिशबाजी के साथ होगा रावण दहन

    कांकेर। शहर के नरहरदेव मैदान में दशहरा पर 15 अक्टूबर को राम रावण युद्ध प्रसंग तथा भव्य आतिशबाजी के साथ रावण दहन किया जाएगा। यहां के लिए 40 फीट ऊंचा रावण पुतला तैयार किया गया है। आयोजन की तैयारियों को लेकर नगर पालिका सभाकक्ष में शहरवािसयों की बैठक आयोजित की गई। मैदान में बेरिकेटिंग के अलावा अन्य तैयािरयां की जा रही है।

    आयोजन की तैयािरयों को लेकर नगर पालिका सभाकक्ष में आयोजित बैठक में विधायक तथा संसदीय सचिव शिशुपाल शोरी, मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी, अपेक्स बैंक के पूर्व चेयरमैन महावीर सिंह राठौर, नगर पालिका अध्यक्ष सरोज ठाकुर के अलावा शहर के गणमान्य नागरिक, कांकेर चेंबर आफ कामर्स पदाधिकारी, समाज प्रमुख, जनप्रतिनिधी, मिडिया प्रतिनिधी उपस्थित थे। बैठक में तय किया गया की शाम 5 बजे पहले पारंपरिक रूप से मेला भाठा में रावण दहन किया जाएगा। इसके बाद शाम 6 बजे नरहरदेव मैदान में रावण दहन होगा। नरहरदेव मैदान में लोक कलाकार राम रावण युद्घ प्रसंग का मंचन करेंगे। इसके बाद विधिविधान से पूजा अर्चना के बाद रावण दहन तथा भव्य अाितशबाजी का आयोजन होगा। अातिशबाजी को ध्यान में रखते सुरक्षा कारणाें से नरहरदेव मैदान में बेरिकेटिंग कराई गई है। बैठक में शहर में चल रहे विकास कार्यों को लेकर भी चर्चा की गई। गढ़िया महोत्सव का आयोजन दाे सालों से कोरोना संक्रमण के चलते नहीं हो पा रहा है। इसके चलते निर्णय लिया गया की महोत्सव के दौरान होने वाले कार्यक्रमों को बीच बीच में शहर में आयोजित कराया जाएगा। िनर्माणाधीन ऊपर नीचे रोड के लोकार्पण अवसर पर अखिल भारतीय कवि सम्मेलन तथा शीतला मंदिर सौंदर्यीकरण के लोकार्पण के अवसर पर महाआरती जैसे आयोजन कराए जाएंगे। बैठक में भरत मटियारा, जितेंद्र ठाकुर, सुमित्रा मारकोले, दिलीप खटवानी, राजीव लोचन सिंह, राजकुमार पंजाबी, राजा देवनानी, रूपेंद्र बैस, अनूप शर्मा, मकबूल खान, सुरेश चंद्र श्रीवास्तव, अरूण कौशिक, महिलाल मेहरा, राधाकृष्ण मोटवानी, प्रदीप जायसवाल, अविनाश नेगी, गायत्री शर्मा, माला तिवारी, अनुराग उपाध्याय, केडी मिश्रा सहिता बड़ी संख्या में शहरवासी उपस्थित थे।

  • मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रतिभावान दिव्यांग राजेश्वरी को मिली नयी व्हील चेयर प्रशासनिक अमला पहुंचा घर, दी जायेगी हर संभव मद्द
    कुछ लोग सब कुछ होकर भी दुनिया से हार जाते है और कई लोग कुछ ना होते हुए भी अपने जज्बों एवं प्रतिभा से इतिहास लिख जाते है। ऐसी ही एक कहानी मसोरा की 13 वर्षीय दिव्यांग बालिका राजेश्वरी पटेल की है। राजेश्वरी जन्म से ही अपने हाथ एवं पैरों को मोड़ने मे असक्षम थी। जिसके कारण वह बचपन से ही चलने-फिरने में असमर्थ रही परंतु इस असमर्थता को कभी अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। मसोरा के माध्यमिक शाला में कक्षा सातवीं में अध्ययनरत राजेश्वरी अपने हाथों से कार्य करने में असक्षम थी। ऐसे में उसने अपनी विशेष स्थिति को पार पाते हुए पैरों से कार्य करना प्रारंभ कर दिया। आज वह पैरो से कंचे खेलने, पेंटिंग बनाने एवं रंगोली बनाने जैसे कार्यों को भी संपादित कर लेती है।
     
    मुख्यमंत्री के निर्देश पर एसडीएम सहित प्रशासनिक अमला पहुंचा गांव
    बालिका के संबंध में समाचार पत्रों द्वारा रंगोली प्रतियोगिता में प्रथम आने एवं पत्रिकाओं में राजेश्वरी के संघर्ष के संबंध में जानकारी मिलने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वयं संज्ञान लेते हुए कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा को बालिका की हर संभव मद्द करने के साथ नयी व्हीलचेयर देने के निर्देश दिये। जिस पर एसडीएम गौतमचंद पाटिल, समाज कल्याण विभाग की उपसंचालक ललिता लकड़ा सहित प्रशासनिक अमला ग्राम पहुंचा। जहां एसडीएम एवं डीडी समाज कल्याण ने बालिका एवं उनके परिजनों से बात की एवं बालिका की सराहना की। बालिका को पूर्व में समाज कल्याण विभाग द्वारा व्हील चेयर प्रदान किया गया था। जो कि पुराना हो गया था। जिस पर विभाग द्वारा मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार नयी व्हील चेयर बालिका को प्रदान की गयी। इसके अतिरिक्त एसडीएम ने परिजनों को किसी भी प्रकार की सहायता की आवश्कता होने पर प्रशासन द्वारा हर संभव मद्द की बात कही। इस अवसर पर प्रशासन द्वारा प्राप्त सहयोग हेतु राजेश्वरी एवं उनके परिजनों ने प्रशासन का धन्यवाद किया।
     
    इस संबंध में बालिका के पिता दीनूराम पटेल कहते है कि उन्हें अपनी बेटी पर गर्व है। हाथों से कार्य न करपाने के बावजुद पैरो से वह अपने सभी कार्य कर लेती है। राजेश्वरी रंगोली, पेंटिंग के अलावा अच्छा गा भी लेती है। बालिका राजेश्वरी कहती है कि उन्हें उनके परिवारजनों का सदैव सहयोग मिला है। परिवारजनों के साथ स्कूली शिक्षकों एवं साथ के सहपाठी बच्चों द्वारा भी सहयोग एवं प्रोत्साहन मिलता है। नन्ही राजेश्वरी आगे चल कर इंजीनियर बनना चाहतीं हैं। यही उनके माता-पिता का भी सपना है।
     
    बालिका के लिए समाज कल्याण विभाग बनायेगा नवीन सीपी व्हील चेयर
    इस संबंध में उपसंचालक समाज कल्याण ललिता लकड़ा ने बताया कि प्रतिभावान बालिका को पूर्व में व्हील चेयर प्रदान करने के साथ विभाग की ओर से प्रतिमाह छात्रवृत्ति भी प्रदान की जा रही है। राजेश्वरी के लिए कलेक्टर के निर्देश पर विभाग द्वारा नवीन सीपी व्हील चेयर का भी निर्माण किया जा रहा है। जिसके लिए उन्हें रायपुर ले जा कर डॉक्टरों की टीम द्वारा स्वास्थ्य जांच करा कर नाप लेते हुए नवीन सीपी व्हील चेयर का निर्माण नाप के अनुसार किया जायेगा। इस नवीन व्हील चेयर में पढ़ने एवं अन्य गतिविधियों के संचालन हेतु अलग से टेबल लगाया जायेगा। जिसमें राजेश्वरी पैरों की सहायता से आसानी से दिन-प्रतिदिन के कार्य कर सकेंगी।