State News
  • 1 नक्सली ढेर, दंडकारण्य के जंगलों में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, एसपी ने की पुष्टि
    जगदलपुर। (Encounter) सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुए मुठभेड़ में एक माओवादी ढेर हो गया. दंडकारण्य के चारला के जंगलों में पुलिस के जवानों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई. छत्तीसगढ़ से सटे तेलंगाना सीमा पर यह मुठभेड़ हुई है. जिसमें एक नक्सली को मार गिराया गया. ये पूरा मामला कोत्तागुडंम जिले के भदराद्रि थाना क्षेत्र का है. इसकी पुष्टि एसपी सुनील दत्त ने की है.
  • दागी पुलिसकर्मियों की खैर नहीं, 16 हुए लाइन अटैच, कार्रवाई के बाद विभाग में मचा हड़कंप, एसपी ने की कार्रवाई
    बिलासपुर। (Bilaspur) दागी पुलिसकर्मियों को लेकर विधानसभा में सवाल उठने के बाद बिलासपुर एसपी ने ऐसे 16 पुलिसकर्मियों को थाने से हटाकर लाइन अटैच कर दिया है, जिनके खिलाफ या तो एफआईआर दर्ज हैं या फिर विभागीय जांच चल रही है। एसपी की इस कार्रवाई के बाद विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। (Bilaspur) दरअसल, रेंज आईजी ने पहले ही ऐसे पुलिस कर्मचारियों को थाने में पदस्थापना नहीं देने के निर्देश दिए थे। इस बीच विधानसभा में विधायक शैलेश पांडे ने भी एफआईआर के बाद भी थानों में जमे पुलिसकर्मियों को लेकर सवाल उठाया था। पांडे ने कहा था कि, कई मामलों को लेकर पुलिसकर्मियों के खिलाफ शिकायतें दर्ज हैं लेकिन उनके खिलाफ कार्रवाई तो दूर उन्हें थानों में पोस्टिंग दे दी गई है। जिसके बाद अब एसपी दीपक झा ने कार्रवाई करते हुए ऐसे 16 पुलिसकर्मियों को लाइन अटैच करने के निर्देश दिए हैं। (Bilaspur जिसमें एक एसआई, दो एएसआई, एक हवलदार सहित 16 पुलिसकर्मी शामिल हैं। आदेश में एसआई सीएस नेताम को मस्तूरी थाने से, एएसआई शांतिलाल टोप्पो को पचपेड़ी थाने से, एएसआई दादूरैया सिंह को तोरवा थाने से, प्रधान आरक्षक अनिल साहू को बिल्हा थाने से व अन्य आरक्षकों को अलग-अलग थाने से पुलिस लाइन भेजा गया है।
  • जिले की स्वास्थ्य सेवाओं को कारगर बनाने की कवायद सुदूर वनांचलों में भी टेलीमेडिसीन द्वारा ग्रामीणों का विशेषज्ञ चिकित्सक कर रहे उपचार

    राज्य शासन द्वारा राज्य के सुदुर वनांचलों में बसे लोगों तक स्वास्थ्य सुविधाआंे को पहुंचाने के दृष्टिकोण से मुख्यमंत्री हाट बाजार योजना 02 अक्टूबर 2019 से प्रारंभ की गयी थी। इस योजना के माध्यम से अनुसूचित जनजातीय ऐसे क्षेत्र जहां मूलभूत सुविधाओं के साथ स्वास्थ्य अधोसंरचना का अभाव है एवं उस क्षेत्र के ग्रामीण ईलाज हेतु शहरों तक जाने में असक्षम हैं ऐसे क्षेत्रों में मोबाईल यूनिट के माध्यम से निकटतम हाट-बाजार में लक्षित कर निःशुल्क स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन किया जाता है ताकि आधुनिक सुविधाएं ग्रामों में ही उपलब्ध कराई जा सकें।
    इस क्रम में जिले के वनांचलों एवं सुदूर सीमावर्ती क्षेत्रों में बसे ग्रामीणों के लिये स्वास्थ्य सुविधाओं को जनहित में और भी अधिक कारगर बनाने के लिये 151 हाट बाजारों में हाट-बाजार क्लिनिक लगाये जा रहे हैं। चूंकि इन क्लिनिकों में सामान्य बीमारियों के साथ कई बार अति गंभीर, जटिल एवं विलक्षण बीमारियों से ग्रसित रोगियों के आने पर उनकी केवल प्रारंभिक जांच आरएमए डाॅक्टरों द्वारा संभव हो पाती थी। जिससे मरीजों को पूर्ण उपचार प्राप्त नहीं हो पाता था। ऐसी स्थितियों को ध्यान में रख कर कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा द्वारा अभिनव पहल के तहत् हाट बाजार क्लिनिकों में आये गंभीर रोगों एवं जटिल समस्याओं से ग्रसित मरीजों को विशेषज्ञों द्वारा चिकित्सा सलाह एवं परामर्श देने हेतु हाट बाजार क्लिनिकों में टेली मेडिसीन व्यवस्था प्रारंभ करने के निर्देश दिये थे। जिसके तहत् हाट बाजार क्लिनिकों में डाॅक्टरों द्वारा जटिल एवं गंभीर रोगों से पीड़ित मरीजों का मोबाईल काॅल अथवा विडीयो काॅल के माध्यम से जिला अस्पताल अथवा अनुबंधित अस्पतालों के विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा जांच कर उपचार किया जायेगा।
    इस कार्ययोजना के तहत् गुरूवार से ही हाट बाजारों में टेली मेडिसीन सेवाएं प्रारंभ कर दी गई है और सर्वप्रथम ग्राम बनचपई के हाट बाजार में दंत रोग संबंधित जटिल रोगों से ग्रसित मरीज पाये गये थे। जिनका उपचार टेली मेडिसीन के माध्यम से जिला अस्पताल के दंत चिकित्सक डाॅ0 तृप्ती दिनेश नाग एवं विकासखण्ड फरसगांव के दंत चिकित्सक डाॅ0 दोनाक्षी रात्रे एवं ग्राम बोटीकनेरा के हाट बाजार में गंभीर मरीजों का टेली मेडिसीन द्वारा जिला अस्पताल कोण्डागांव में पदस्थ एमडी मेडिसीन डाॅ0 रूपेन्द्र साहू द्वारा उपचार किया गया।

    प्रतिदिन विशेषज्ञों की लगेगी ड्यूटी
    इस प्रकार हाट बाजार क्लिनिक योजना अंतर्गत टेली मेडिसीन सुविधा प्रारंभ होने से दूरस्थ क्षेत्रों के ऐसे मरीज जो अपना उपचार नहीं करा पाते हैं उनको सीधे विशेषज्ञों से उच्च चिकित्सा का लाभ प्राप्त हो पायेगा एवं ऐसे मरीज जिनका उपचार टेली मेडिसीन द्वारा संभव नहीं है उन्हें उपचार हेतु जिला चिकित्सालय कोण्डागांव में भी ईलाज हेतु लाया जायेगा। इसके लिये विशेषज्ञ चिकित्सकों का रोस्टर तैयार कर प्रतिदिन विशेषज्ञों की ड्यूटी लगाई जा रही है। इस उद्देश्य से हाट बाजार क्लिनिक में कार्यरत् स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशिक्षण देने का कार्य पूर्ण कर लिया गया है।

    अब तक 36 हजार लोगों का क्लिनिकों में किया गया उपचार
    उल्लेखनीय है कि जिले में अब तक 151 हाट बाजारों में कुल 1183 बार हाट बाजार क्लिनिकों का आयोजन किया गया है। जिसमें अब तक कुल 36027 मरीजों का उपचार किया गया है। जिसमें से 32255 मरीजों को दवाईया वितरित की गयी है। इन क्लिनिकों में अब तक 12555 व्यक्तियों की बीपी जांच, 8़980 की मधुमेह जांच, 545 गर्भवती महिलाओं की जांच, 673 डायरिया मरीजों का उपचार, 69 नेत्र विकारों के मरीजो का उपचार किया गया है।
    ज्ञात हो कि मुख्यमंत्री हाट बाजार योजना के तहत् संवहनीय एवं असंवहनीय बीमारियों जैसे बीपी, शुगर, एएनसी, पीएनसी जांच, मलेरिया, एनिमिया, कुपोषण, कुष्ठ, दंत रोग, नेत्र एवं कान के विकार एवं अन्य सभी बीमारियों का जांच, फाॅलोअप एवं उच्च ईलाज हेतु संदर्भित किया जाता है।
     

  • वर्षा ऋतु के आगमन के साथ नगरीय निकायों में नालियों की हो रही सफाई एसडीएम द्वारा फौगिंग एवं सफाई का किया जा रहा निरीक्षण

     वर्षा ऋतु के आगमन के साथ नालियों में अवसादों के भर जाने एवं प्लास्टिक कचरों के द्वारा नालियों के चोक होने की संभावना बढ़ जाती है। जिससे नालियों का पानी सड़कों पर बहने लगता है एवं यत्र-तत्र गंदगी पसर जाती है। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए जिले के नगरीय निकायों द्वारा कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा के निर्देश पर वर्षा पूर्व नालियों के सफाई का अभियान चलाकर नालियों को पहली बारिश में बंद होने से बचाने का कार्य किया गया था। वर्षा के आगमन के बाद नालियों में अवसादों को जमा होने से बचाने के लिये लगातार विभिन्न वार्डों हेतु रोस्टर तैयार कर नालियों की सफाई की जा रही है ताकि वर्षा ऋतु में उत्पन्न होने वाली गंभीर बीमारियों से नगरवासियों को बचाया जा सके।
    इन सभी स्वच्छता कार्यों के प्रतिदिन निरीक्षण के लिये कलेक्टर ने सभी विकासखण्डों के राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया था। जिसके तहत् केशकाल एसडीएम दीनदयाल मण्डावी एवं कोण्डागांव एसडीएम गौतमचंद पाटिल द्वारा सभी वार्डों में जाकर स्वच्छता व्यवस्था का निरीक्षण किया जा रहा है। विगत दिनों नगर पंचायत फरसगांव द्वारा नगर की सुंदरता बढ़ाने के लिये डिवाईडर के मध्य फूलदार पौधों का वृक्षारोपण किया गया।
    वर्षा के दिनों में जल जमाव से मच्छरों की संख्या में वृद्धि हो जाती है जिसे देखते हुए नगरीय निकायों द्वारा लगातार फौगिंग एवं जल जमाव वाले क्षेत्रों में दवाईयों के छिड़काव का कार्य किया जा रहा है। जिसके तहत् सभी वार्डों के लिये रोस्टर तैयार किया गया है। शहर को सुंदर बनाने के लिये सड़क के दोनो ओर पौधारोपण का कार्य किया जा रहा है।

  • Black Marketing: किसानों का क्या होगा...यूरिया खाद की कालाबाजारी जोरों पर…..निर्धारित मूल्य से अधिक दाम पर लेने को मजबूर किसान
    कांकेर। (Black Marketing) यूरिया खाद की कालाबाजारी जोरों पर है. पखांजूर में खाद व्यापारियों द्वारा किसानों को 266 रुपए यूरिया की बोरी को 500 रुपए में बेचा जा रहा है. क्षेत्र के किसानो का शोषण हो रहा है। (Black Marketing) कांकेर जिले के पखांजूर ब्लॉक में व्यापारियों द्वारा किसानों से डीएपी खाद के कालाबाजारी के बाद अब यूरिया खाद की कालाबाजारी जोरों पर है। क्षेत्र के किसानों की फसल धान एवं मक्के की फसल का टॉपडेसिंग का अभी समय चल रहा है। (Black Marketing) अभी हर एक किसान को यूरिया खाद की आवश्यकता होती हैं। जिसका नाजायज फायदा उठाते हुए क्षेत्र के खाद व्यापारी निर्धारित दर 266 प्रति 45 किलोग्राम के बोरी को 500 रुपये प्रति रुपए में किसानों को बेचा जा रहा है। व्यापारियों ने यूरिया खाद को जबरन पैकेज बनाकर 500 रुपये में बेच रहे हैं। किसानों ने बताया कि 10 बोरी यूरिया खाद के साथ 10 किलो जैविक खाद जबरन दिया गया है। यूरिया के कालाबाजारी के बारे में पखांजूर अनुविभागीय अधिकारी राजस्य एसडीएम धनंजय नेताम से पूछे जाने पर उन्होंने यूरिया खाद की कालाबाजारी पर संबंधित दुकानों की जांच कर उचित कार्यवाही करने की बात कही है।
  • CG CRIME: किडनैप कर युवती से दुष्कर्म, जंगल में घटना को अंजाम देकर घर के सामने छोड़ भागा, आरोपियों ने अंधेरे का उठाया फायदा, अपराध दर्ज
    रायगढ़। युवती काम से घर लौट रही थी। इसी बीच आरोपियों ने अंधेरे और सूनेपन का फायदा उठाकर युवती को खींचकर बोलेरो में बैठा लिया। आरोपियों इतने दुस्साहसी थे कि उन्होंने दुष्कर्म के बाद उसे वापस घर के पास उतारा और भाग निकले। मामले में घरघोड़ा पुलिस ने अपराध दर्ज कर लिया है। 23 वर्षीय युवती घरघोड़ा में किराए के मकान में रहती है। ग्रामीण क्षेत्र से युवती घरघोड़ा में काम करने के लिए आई हुई है। 27 जुलाई की रात युवती अपने दफ्तर से लौट रही थी। रास्ते में पैदल चलते हुए उसके सामने एक बोलेरो रुकी। कुछ देर बाद उसमें से दो युवक उतरे। उन्होंने युवती को घर तक लिफ्ट देने की बात कही। युवती ने इनकार किया तो युवक ने जोर देकर साथ चलने का आग्रह किया। युवती उन्हें नजरअंदाज कर आगे बढ़ गई। थोड़ी दूर आरोपियों ने लड़की को जबरन बोलेरो में बिठा लिया और सीधे जंगल की ओर ले गए। शाम लगभग 7 बजे से रात 2.30 बजे तक आरोपियों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद उसे अधमरी हालत में उसके घर के सामने पटक दिया। पीड़िता की रिपोर्ट के बाद घरघोड़ा पुलिस ने मामले में आरोपियों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 376, 506,34 में अपराध पंजीबद्ध कर लिया है। दो दिन तक बदहवास रही युवती युवती को इससे सदमा लगा और वह दो दिन तक घर से बाहर नहीं निकल पाई। इसके बाद उसने हिम्मत जुटाई और पड़ोस के कुछ परिचितों को यह बताया, परिचितों ने हौसला दिया तो वह थाने पहुंची और रिपोर्ट दर्ज कराई। आरोपी कई दिनों से लड़की के पीछे लगा हुआ था रिपोर्ट में युवती ने युवक के फोन करने और पीछा करने के बारे में बताया। आरोपी कई दिनों से अनजाने नए-नए नंबरों से फोन कर युवती को परेशान कर रहा था। लड़की ने उसकी आवाज पहचान ली और उसका नाम पुलिस को दे दिया है। पुलिस के अनुसार आरोपी कई दिनों से लड़की के पीछे लगा हुआ था।
  • बड़ी खबर : माँ की गोद से फिसलकर नदी में बह गई बच्ची का मिला शव..72 घण्टों के रेस्क्यू के बाद लब्दाघाट में शव किया गया बरामद.
    कोरबा जिले पाली ब्लॉक अंतर्गत पाली पोड़ी मार्ग पर स्थित नानपुलाली के गुंजन नाला के तेज बहाव में बही बच्ची का शव 72 घंटे के कड़ी खोजबीन के बाद बरामद कर लिया गया है,बच्ची की लाश लब्दाघाट पोड़ी के पास नदी से बरामद किया गया, शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम व अन्य वैधानिक कार्रवाई के बाद अंतिम संस्कार के लिए परिजनों के सुपुर्द कर दिया है,दो साल की मासूम बेटी के मौत से घर सहित पूरे गांव में मातम पसरा हुआ है, जानकारी के अनुसार नानपुलाली के आश्रित ग्राम कछारपारा के रहने वाले विनोद कुमार की पत्नी बुधवार को अपनी दो वर्षीय बेटी तान्या के साथ नदी पार कर रही थी,इस दौरान गुंजन नाले में तेज बहाव के कारण माँ का पैर फिसला तो मासूम तान्या हाथ से छिटककर नाले में बह गई,इसकी सूचना फौरन डायल 112 के कर्मियों को दी गई थी और तब से पुलिस सहित स्थानीय एवं प्रशासन की टीम कड़ी खोजबीन कर रही थी,और तीन दिनों की खोजबीन के बाद लब्दा गांव के तट पर मृत तान्या का शव बरामद किया गया।
  • CG BREAKING: महिला ने फांसी लगाकर दी जान, कल रात में किया था शराब का सेवन, फिर नहीं लौटी घर…
    कोरबा/कटघोरा 31 जुलाई : आध्यात्मिक, धार्मिक पर्यटन स्थल हनुमानगढ़ी के बाईपास वाले हिस्से के पहाड़ में एक पेड़ पर अधेड़ महिला की लाश फंदे पर झूलते हालत में बरामद की गई है. प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का प्रतीत हो रहा है. महिला ने अपने ही साड़ी को फंदा बनाया और आत्महत्या कर ली. थाना प्रभारी लखन पटेल के निर्देश पर कटघोरा पुलिस का स्टाफ मौके पर पहुंच चुका है. शव को फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए रवाना किया जा रहा है. महिला की शिनाख्त उसके पोते ने कर ली है. जानकारी के मुताबिक मृतिका पाली थाना क्षेत्र के बाईसेमर गांव की रहने वाली है. वह कुछ दिनों से बीमार चल रही थी जिसका इलाज वह तानाखार में अपने परिजन के यहां रहकर करा रही थी. वह पिछले एक महीने से तानाखार में ही निवासरत थी. जानकारी के मुताबिक कल रात उसने शराब पी रखा था और फिर घर नही लौटी. रात में परिवार वालो ने उसकी खोजबीन भी की. आज सुबह उन्हें भी सूचना मिली कि एक महिला शव पहाड़ देखा गया है. बहरहाल मृतिका की शिनाख्ती के बाद पुलिस ने पंचनामे की कार्रवाई शुरू कर दी है. उसने किन परिस्थितियों में खुदखुशी की इसकी भी जानकारी जुटाई जा रही है.पेट्रोल पंप के पास किया हंगामा जानकारी यह भी मिली है कि कल रात मृतिका मुख्य मार्ग में पेट्रोल पंप के पास शराब के नशे में हंगामा कर रही थी. वह वहां से गुजर रहे वाहनों को रोकने की कोशिश भी कर रही थी. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार महिला ने जमकर शराब पी रखा था. सम्भवतः इसके बाद उसने पहाड़ के ऊपरी हिस्से में साड़ी को फंदा बनाकर उसपर झूल गई.
  •  छत्तीसगढ़ में महाविद्यालयों द्वारा नैक से मूल्यांकन कराने में 5 गुना की हुई वृद्धि : उच्च शिक्षा मंत्री श्री पटेल ने नैक की समीक्षा बैठक ली

    छत्तीसगढ़ में महाविद्यालयों द्वारा नैक से मूल्यांकन कराए जाने में 05 गुना की वृद्धि हुई है, जो प्रदेश के उच्च शिक्षा के गुणवत्ता उन्नयन के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह जानकारी आज 30 जुलाई को उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल की अध्यक्षता में आयोजित नैक की समीक्षा बैठक में दी गई।
         बैठक में बताया गया कि उच्च शिक्षा मंत्री  पटेल द्वारा विगत माह फरवरी में नैक की समीक्षा के दौरान दिए गए निर्देशों पर अमल करते हुये उच्च शिक्षा विभाग अभासीय पटल पर सतत् कार्यशालायें आयोजित कर तथा भौतिक रूप से संभाग एवं जिला स्तर पर कार्यशालायें आयोजित करने के परिणाम स्वरूप माह जुलाई में 78 शासकीय महाविद्यालयों ने आई.आई.क्यू.ए. एवं 30 शासकीय महाविद्यालयों ने एस.एस.आर. नैक के पोर्टल में जमा किया है, जो कोरोना संकट के विषम परिस्थिति तथा समय में एक उल्लेखनीय उपलब्धि है। उच्च शिक्षा मंत्री श्री पटेल ने बैठक में संपूर्ण टीम को प्रगति के लिए बधाई दी। गौरतलब है कि माह फरवरी में प्रदेश के नैक से मूल्यांकन हेतु अर्हता प्राप्त 170 शासकीय महाविद्यालयों में से 16 महाविद्यालयों द्वारा आई.आई.क्यू.ए. एवं 07 महाविद्यालयों द्वारा एस.एस.आर. नैक में जमा किया गया था।
         उच्च शिक्षा मंत्री श्री पटेल द्वारा विगत माह फरवरी में राजकीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों, कुलसचिवों, संभागीय अपर संचालकों एवं अग्रणी महाविद्यालयों के प्राचार्यों की बैठक में नैक से महाविद्यालयों का मूल्यांकन एवं प्रत्यायन मिशन मोड पर कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया था। इसमें मूल्यांकन की कार्ययोजना तैयार कर विश्वविद्यालयों को अग्रणी भूमिका निभाते हुए वर्ष 2022 तक प्रदेश के समस्त महाविद्यालयों का नैक से मूल्यांकन एवं प्रत्यायन कराने के लिए कहा गया था। उन्होंने बैठक में सेमिनार, प्रशिक्षण इत्यादि आयोजित कर सभी को दक्ष बनाने पर जोर दिया था। उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल द्वारा गहन निगरानी व मॉनीटरिंग पर जोर देते हुये त्रिस्तरीय टीम का गठन संचालनालय, विश्वविद्यालय और जिला स्तर पर करने हेतु निर्देश दिए गए थे।
        बैठक में अवगत कराया गया कि शासकीय महाविद्यालयों के नैक से मूल्यांकन में सरगुजा एवं बिलासपुर संभाग ने बेहतर प्रदर्शन किया है। सरगुजा संभाग के 33 अर्हता प्राप्त शासकीय महाविद्यालयों में से 30 के द्वारा आई.आई.क्यू.ए. एवं बिलासपुर के 45 अर्हता प्राप्त शासकीय महाविद्यालयों से 26 महाविद्यालय द्वारा आई.आई.क्यू.ए. नैक में जमा किया जा चुका है। उक्त दोनों संभागों की कार्यप्रणाली को प्रदेश के अन्य संभागों में भी अनुकरण करने पर विभाग द्वारा निर्देश दिये गये। उच्च शिक्षा मंत्री ने नैक से मूल्यांकन कराए जाने को महत्वपूर्ण बताते हुये यह कहा कि उच्च शिक्षा में बेहतर सोच व बेहतर गुणवत्ता का पैमाना नैक से मूल्यांकन है। उन्होंने शेष सभी महाविद्यालयों को भी नैक से मूल्यांकन शीघ्र सुनिश्चित करने के लिए कहा।
        उच्च शिक्षा संस्थानों की गुणवत्ता के मूल्यांकन के लिये विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा 1994 में राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद् का गठन किया गया है। जिसे नैक के नाम से जाना जाता है, जो कि एक स्वशासी संस्था है। जिसका मुख्यालय बेंगलूरू में स्थित है। नैक के द्वारा गठित निरीक्षण दल में विश्वविद्यालयों के कुलपति, प्राध्यापक एवं महाविद्यालय के प्राचार्य सदस्य के रूप में नामित किये जाते हैं, जो उच्च शिक्षण संस्थाओं का नैक के द्वारा निर्धारित 7 मानदंडों के आधार पर मूल्यांकन करते है। नैक के द्वारा मूल्यांकित किये जाने से उच्च शिक्षण संस्थानों को उनकी क्षमता, कमियाँ, अवसर एवं चुनौतियों को जानने का मौका मिलता है, नैक से मूल्यांकन कि समस्त प्रक्रिया में विद्यार्थी को केन्द्र में रखकर मानदंड तैयार किये गये है।

  • वनांचल के टिकरीपदर से देवड़ा तक बनी पक्की सड़क : श्रद्धालुओं को झाड़ेश्वर शिव मंदिर तक पहुंचना हुआ सुगम

    राज्य के वनांचल स्थित बस्तर जिले के टिकरीपदर से देवड़ा तक शासन की पहल पर पक्की सड़क के निर्माण से यहां स्थित प्राचीन शिव मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए पहुंचना सुगम हो गया है। यहां धनपुंजी से तिरिया जाने वाले मार्ग में टिकरीपदर से देवड़ा तक लोक निर्माण विभाग द्वारा 4 करोड़ 65 लाख रूपए की लागत से साढे़ चार किलोमीटर पुल-पुलिया सहित पक्की सड़क बनाई गई है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा 21 जून को आयोजित वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उक्त सड़क मार्ग का लोकार्पण किया गया था।

    उल्लेखीय है कि छत्तीसगढ़ और ओडिसा की सीमा पर बसे देवड़ा में घने वनों के बीच शिव का मंदिर है, जिसे झाड़ेश्वर महादेव के नाम से जाना जाता है। यहां मंदिर में स्वयं-भू शिवलिंग है, जिसके दर्शन के लिए छत्तीसगढ़ के साथ-साथ सीमावर्ती राज्य ओडिसा से भी भक्त बड़ी संख्या मंे पहुंचते हैं। इसके पास ही प्राचीन देवी मंदिर भी स्थापित है, यहां साल में कार्तिक पूर्णिमा तथा महाशिवरात्रि के अवसर पर दो बार मेला लगता है। ग्रामीणों ने सड़क निर्माण के लिए शासन और जिला प्रशासन का आभार व्यक्त किया है।

  • छत्तीसगढ़: यातायात पुलीस की कड़ी कार्रवाही, शराब पीकर वाहन चलाने वालों पर….
    जगदलपुर। यातायात पुलिस ने शराब पीकर वाहन चलाने वालों पर सख्ती शुरू कर दी है। सड़क हादसों को रोकने के लिए अब पुलिस अत्याधुनिक तकनीक से वाहन चालकों की जांच कर रही है। शहर के बस स्टैंड, संजय मार्केट, कुम्हारपारा एयरपोर्ट के पास सघन जांच अभियान चलाया गया जिसमें करीब 50 से अधिक वाहन चालकों की जांच की गई। कार्यवाही की जानकारी देते हुए डीएसपी यातायात पंकज ठाकुर ने बताया के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जितेंद्र सिंह मीणा के निर्देशानुसार यह कार्यवाही की जा रही है सड़कों दुर्घटनाओं पर लगाम लगाने के तौर पर इसे देखा जाना चाहिए बसों के चालक ऑटो चालक व अन्य लोगो का जांच ब्रेथ एनालाइजर डिवाइस के जरिये किया गया साथ ही यातायात नियमों के प्रति जागरूक भी किया गया ताकि न सिर्फ वह स्वयं सुरक्षित रहें, बल्कि यात्रियों को भी सुरक्षित गंतव्य तक पहुंचाएं। आने वाले दिनों में इस अभियान को और भी सख्त किया जाएगा नशे की हालत में गाड़ी चलाते पाए जाने पर लाइसेंस निरस्त करने की प्रक्रिया भी की जायेगी।
  • मछली पकड़ने निकला था युवक…पानी में डूबकर हुई मौत,जांच में जुटी पुलिस
    धमतरी। पानी में डूबने से एक युवक की मौत हो गई। जिसके बाद पूरे परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है. सिहावा थाना इलाके के बिड़गुड़ी हर्रापारा निवासी प्रकाश पिता यशवंत कुंजाम उम्र 20 वर्ष जो कि बीते शुक्रवार को पास के गाँव बोकराकट्टा के पास नदी में मछली पकड़ने की बात कहकर घर से निकला था,लेकिन देर रात तक घर नहीं लौटा. जिसके बाद परिजनों ने तलाश जारी कर दी, लेकिन मृतक युवक का कहीं पता नहीं चल पाया.वहीँ आज तड़के सुबह कुछ लोगों ने शव को देखा. मिली जानकारी के मुताबिक युवक मछली पकड़े के लिए नदी में जाल डाला. जिसमें फसकर युवक की जान चले गयी. सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँचकर आगे की कार्रवाई में जुट गई है.