Top Story
  • उत्कल बस्ती - प्रोफेसर कॉलोनी - लालगंगा शॉपिंग मॉल के पीछे मिला कोरोना पॉजिटिव

    प्रोफेसर कॉलोनी कंटेंटमेंट जोन घोषित --
    उत्कल बस्ती,आकशवाणी के पीछे में मिले 02 कोरोना पॉजिटिव --
    बिरगांव,बुधवारी बाजार में मिला कोरोना पॉजिटिव
    राजीव आवास, लालगंगा शॉपिंग मॉल के पीछे मिला कोरोना पॉजिटिव
    बिरगांव के मठपारा और कैलाश नगर में मिला कोरोना पॉजिटिव
    प्रोफेसर कालोनी मलसाय तालाब के पास 1 करोना पाजिटिव 
    बीरगांव के वार्ड क्रमांक 32 बुधवारी बाजार में 1
    बीरगांव के वार्ड क्रमांक 23 के कैलाश नगर में 1

     

     

    कन्टेनमेंट जोन के अंतर्गत  प्रवेश अथवा निकास हेतु केवल 01 द्वार होगा। जिसमें तैनात पुलिस अधिकारी, फिजिकल डिस्टेंसिग सुनिश्चित करते हुए मेडिकल इमरजेंसी या आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति हेतु आवागमन करने वाले सभी व्यक्तियों का विवरण एक रजिस्टर में दर्ज लिया जाएगा। कन्टेनमेंट जोन अंतर्गत सभी दुकानें, ऑफिस एवं अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठान आगामी  आदेश पर्यन्त पूर्णतः बंद रहेंगें। प्रभारी अधिकारी द्वारा कन्टेनमेंट जोन में होम डिलीवरी के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति उचित दरों पर सुनिश्चित की जाएगी। आवश्यक वस्तुओं की होम डिलीवरी हेतु विधिवत परिवहन अनुमति इंसीडेंट कमांडर द्वारा दी जाएगी। कन्टेनमेंट जोन अंतर्गत सभी प्रकार के वाहनों के आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा।  मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किन्हीं भी कारण से कन्टेनमेंट जोन या मकान के बाहर निकलना प्रतिबंधित रहेगा। केवल मेडिकल इमरजेंसी की दशा में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर के द्वारा पास जारी कर इंसीडेंट कमांडर को सूचित किया जाएगा। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में संलग्न व्यक्ति फिजिकल डिस्टेंसिग तथा सेनिटाईजेशन सुनिश्चित करते हुये कन्टेनमेंट जोन में प्रवेश कर सकेंगें। अन्य किसी भी व्यक्ति को कन्टेनमेंट जोन से बाहर निकलना अथवा अन्दर आना पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। कन्टेनमेंट जोन में उपरोक्तानुसार लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराने हेतु संबंधित थाना प्रभारी उत्तरदायी होगे। कन्टेनमेंट जोन में शासन की गाईडलाईन अनुसार व्यवस्था बनाये रखने हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, रायपुर के द्वारा आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा संबंधित क्षेत्र में शासन के निर्देशानुसार कान्टेक्ट ट्रेसिंग, स्वास्थ्य निगरानी तथा सैम्पल की जांच इत्यादि आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी।

  • *मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नवा छत्तीसगढ़ सदन का किया ऑनलाईन शिलान्यास*
    *मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नवा छत्तीसगढ़ सदन का किया ऑनलाईन शिलान्यास* *नई दिल्ली के द्वारका में बनेगा नवा छत्तीसगढ़ सदन* रायपुर, 19 जून 2020/ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय से नई दिल्ली स्थित द्वारका में बनने वाले नवा छत्तीसगढ़ सदन का ऑनलाईन शिलान्यास किया। नवा छत्तीसगढ़ सदन का निर्माण नई दिल्ली के सेक्टर-13 द्वारका में 60 करोड़ 42 लाख रुपए की लागत से कराया जाएगा। इस सदन के निर्माण के लिए 43 हजार 803 वर्गफीट भूमि 22.50 करोड़ रुपए में क्रय की गई है। नवा छत्तीसगढ़ सदन में 10 स्यूट रूम, 67 कमरे, डायनिंग हॉल एंड वेटिंग सहित मीटिंग हॉल और कर्मचारियों के लिए आवासीय टावर का निर्माण किया जाएगा। इस अवसर पर गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, मुख्य सचिव आर.पी. मंडल, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री सुब्रत साहू, प्रमुख सचिव वन मनोज पिंगुआ, सचिव लोक निर्माण विभाग सिद्धार्थ कोमल परदेशी, सचिव पर्यटन पी. अंबलगन, प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी, मुख्यमंत्री सचिवालय में उप सचिव सुश्री सौम्या चौरसिया सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
  • स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव का ट्वीट

    स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने ट्वीट कर प्रदेश में कोविड 19 की अब तक की सम्पूर्ण जानकारी साझा की 

    उन्होंने ट्वीट कर कहा कि छत्तीसगढ़ में कोविड19 की, 18 जून 2020 तक की स्थिति का पूरा ब्यौरा आप सब के साथ साझा कर रहा हूँ।

  • सीएम ने कंधा दिया शहीद गणेश राम कुंजाम के पार्थिव शरीर को
    मुख्यमंत्री ने कहा, महान सपूत पर हमें गर्व है,शहादत बेकार नहीं जाएगी, शहीद गणेश राम कुंजाम के नाम पर रखा जाएगा स्कूल का नाम,परिवार को 30 लाख की आर्थिक सहायता, परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी का किया सीएम ने एलान
  • हैदराबाद से सकुशल लौटी नर्सिंग छात्राएं : मुख्यमंत्री और उद्योग मंत्री का किया धन्यवाद

    मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उद्योग मंत्री कवासी लखमा की विशेष पहल पर बस्तर अंचल के विभिन्न जिलों की 33 नर्सिंग छात्राओं की हैदराबाद से सकुशल छत्तीसगढ़ वापसी हुई है। सभी नर्सिंग की छात्राओं ने सकुशल घर वापसी के लिए मुख्यमंत्री और उद्योग मंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया है।
    छात्राओं ने बताया कि बस्तर संभाग के सुकमा, बस्तर, कोंडागांव, दंतेवाड़ा और बीजापुर जिले की 33 छात्राएं हैदराबाद स्थित अपोलो मेडिकल कॉलेज में बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई करने गई थीं। इनकी पढ़ाई नवंबर में ही पूरी हो गई थी और इसके बाद वे जनवरी से संस्थान में इंटर्नशीप कर रही थीं। इस बीच लॉक डाउन होने के कारण आवागमन बंद हो गया और उन्हें हैदराबाद में ही रूकना पड़ा।  

     छात्राआंे ने बताया कि छत्तीसगढ़ शासन से मदद मांगे जाने पर सरकार द्वारा भेजी गई बस से हैदराबाद से सोमवार 15 जून को दोपहर दो बजे रवाना हुई बस 16 जून को सुबह लगभग पांच बजे सुकमा पहुंचीं। इनमें सुकमा जिले की तीन छात्राओं को सुकमा में ही क्वारांटीन किया गया है। और बाकी छात्राओं को उनके गृह जिले के लिए रवाना कर दिया गया है। छात्राओं ने बताया कि वापसी के दौरान उनका पूरा ख्याल रखा गया।

  • जोन अध्यक्षों के चुनाव में जोन क्रमांक 3 में क्रास वोटिंग - संबंधित लोगों पर एक्शन !

    जोन अध्यक्षों के चुनाव में जोन क्रमांक 3 में क्रास वोटिंग को लेकर सियासत गर्म
    नियमानुसार तो दोनों पक्षों पर जुर्म दर्ज कर निर्वाचन शून्य घोषित किया जाना चाहिए और नए सिरे से पुनः चुनाव होना चाहिए 

    राजधानी के रायपुर नगर निगम के अंतर्गत जोन अध्यक्षों के चुनाव में जॉन क्रमांक 3 में कांग्रेस का बहुमत होने के बावजूद भाजपा पार्षद प्रमोद साहू के निर्वाचन से क्रास वोटिंग को लेकर मची खलबली से सियासत गर्म हो गई है |
     जांच कमेटी का गठन हुआ, कमेटी प्रमुख संजय पाठक के नेतृत्व में सभी सदस्यों ने सच की तह तक पहुंच कर कांग्रेस के बागी - क्रास वोटिंग करने वाले पार्षद का पता लगाकर सच को सामने लाकर पार्टी आलाकमान को रिपोर्ट सौंप दी है, पार्टी से धोखा करने वाले पार्षद पुरुषोत्तम बेहरा पर आरोप है कि उसने 10 लाख रुपए के लालच में अपने आप को बेचकर अपनी पार्टी के साथ धोखा किया |
     सच्चाई सामने आने के बाद कांग्रेसी पार्षद पुरुषोत्तम बेहरा तबीयत खराब होने के कारण अस्पताल में भर्ती हो गया है, तबीयत सही में खराब है या बहाना है यह तो पार्टी के वरिष्ठों के साथ डॉक्टर एवं पार्षद ही जाने|
    परंतु सवाल यह उठता है कि जब यह स्पष्ट हो गया है कि पार्षद बेहरा ने भाजपा के प्रत्याशी के पक्ष में क्रास वोटिंग रुपए लेकर की है, तो लालच देकर अपने पक्ष में मतदान करवाने वाले जोन अध्यक्ष प्रमोद साहू या भाजपा के जिस भी व्यक्ति ने प्रलोभन देकर सेटिंग करने का काम किया है उस पर भारतीय दंड संहिता के तहत जुर्म दर्ज करवाने की कार्रवाई कांग्रेस पार्टी द्वारा की जाएगी कि नहीं ? -
     नियमानुसार तो दोनों पक्षों पर जुर्म दर्ज कर निर्वाचन शून्य घोषित किया जाना चाहिए और नए सिरे से पुनः चुनाव होना चाहिए |

    पार्टी से धोखा करने वाले पार्षद पुरषोत्तम बेहरा को कांग्रेस ने छ: साल के लिए निष्कासित तो कर दिया, पर रुपए का लालच देकर चुनाव अपने पक्ष में करवाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के जोन अध्यक्ष प्रमोद साहू या भाजपा के जिस भी व्यक्ति ने प्रलोभन देकर सेटिंग करने का काम किया है - संबंधित लोगों पर एक्शन लेती भी है या नहीं ? -

  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का ट्वीट - वीडियो कांफ्रेंसिंग प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की अध्यक्षता में कोरोना संक्रमण से बचाव और रोकथाम पर चर्चा के लिए मुख्यमंत्रियों की आज आयोजित वीडियो कांफ्रेंसिंग में शामिल हुआ।

  • झीरम की साजिश की जांच से भाजपा क्यों डरती है अब स्पष्ट हो गया - कांग्रेस
    माओवादियों के मददगार भाजपा के जिला उपाध्यक्ष की गिरफ्तारी सिर्फ उस आग का धुंआ मात्र है जो 15 वर्षों के भाजपा शासनकाल में सुलगती रही अब स्पष्ट है कि झीरम की साजिश की जांच से भाजपा क्यों डरती है झीरम की घटना को लेकर कांग्रेस ने बार-बार कहा है कि इसकी साजिश में किसकी भूमिका थी यह पता किया जाये भाजपा के जिला कोषाध्यक्ष का माओवादियों के मददगार के रूप में 10 साल तक काम करना बहुत कुछ स्पष्ट करता है झीरम की घटना की साजिश की समुचित जांच कराने और अपराधियों को सजा दिलवाने का मोदी जी का वादा मोदी जी के अन्य वादों की तरह अभी तक अधूरा है रायपुर/14 जून 2020। भाजपा के जिला उपाध्यक्ष और पूर्व विधायक का पुत्र जगत पुजारी के विगत 10 वर्षों से माओवादियों को सप्लाई पहुंचाने के खुलासे पर प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि अब स्पष्ट हो गया है कि झीरम की साजिश की जांच से भाजपा क्यों डरती है। माओवादियों के मददगार भाजपा के जिला उपाध्यक्ष और पूर्व विधायक के पुत्र जगत पुजारी की गिरफ्तारी सिर्फ उस आग का धुंआ मात्र है जो 15 वर्षों के भाजपा शासनकाल में सुलगती रही। प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा के जिला उपाध्यक्ष और पूर्व विधायक के पुत्र का माओवादियों के मददगार के रूप में 10 साल से काम करने की घटना उजागर होने से स्पष्ट हो गया है कि भाजपा की रमन सिंह सरकार के 15 साल के शासनकाल में माओवाद कैसे क्यों और किस की मदद से फला फूला ? 2003 में जब भाजपा की रमन सिंह सरकार ने शासन संभाला था उस समय दक्षिण बस्तर के 3 ब्लाकों तक सीमित माओवाद ने भाजपा के 15 साल के शासनकाल में बढ़ते बढ़ते प्रदेश के 14 जिलों को अपनी गिरफ्त में ले लिया। भाजपा के भ्रष्टाचार कमीशन खोरी और कुशासन को माओवाद का विस्तार बहुत सूट करता था। 15 साल तक दिखावे के लिए माओवाद का विरोध और अंदर अंदर माओवाद को सहयोग अब पूरी तरह से बेनकाब हो गया है। प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि झीरम की घटना को लेकर कांग्रेस ने बार-बार कहा है कि झीरम कांड की साजिश में किसकी भूमिका थी यह पता किया जाये। 25 मई 2013 को राजभवन में दिए गए ज्ञापन से लेकर सड़क से सदन तक कांग्रेस ने लगातार झीरम की घटना के आपराधिक राजनैतिक षड्यंत्र की जांच की मांग की है। पहले भाजपा की राज्य सरकार और उसके बाद भाजपा की केंद्र सरकार भी झीरम की जांच को बाधित करने में लगी रही। प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि मई 2014 में भाजपा के उस समय के प्रधानमंत्री पद के घोषित प्रत्याशी और वर्तमान में विगत 6 वर्षों से देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने धमतरी की आमसभा में छत्तीसगढ़ की जनता से वादा किया था कि उनकी सरकार बनने के बाद वह झीरम की घटना की साजिश की समुचित जांच कराएंगे और अपराधियों को सजा दी जाएगी । मोदी जी के अन्य वादों की तरह यह वादा भी अभी तक अधूरा है।
  • डी एल यस कॉलेज की उम्दा पहल; कॉलेज को क्वारंटाइन सेंटर बनाने के लिए संचालक ने मुख्यमंत्री व जिला प्रशासन को लिखा पत्र
    डी एल यस कॉलेज की उम्दा पहल; कॉलेज को क्वारंटाइन सेंटर बनाने के लिए संचालक ने मुख्यमंत्री व जिला प्रशासन को लिखा पत्र बिलासपुर डी एल यस कॉलेज के संचालक बसंत शर्मा ने कोरोना वायरस से उपजे संकट के दौर में एक सराहनीय पहल की है। उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कॉलेज कैंपस को कोरोना वायरस पीड़ितों के लिए क्वारंटाइन सेंटर बनाने का निवेदन किया है। स्कूल संचालक बसंत शर्मा ने कहा कि , उन्हें खुशी होगी कि वो किसी भी तरह से महामारी के दौरान समाज के काम आ सकें। स्कूलों में वैसे भी अवकाश घोषित हैं। ऐसे में अगर स्कूल कैंपस का उपयोग प्रशासन समाज की भलाई के लिए करे तो बेहतर ही होगा। मुख्यमंत्री व जिला प्रशासन के नाम पत्र में लिखा है कि डी एल यस कॉलेज सरकंडा में स्थित है। इसके भवन में बहुत सारे कमरे, शौचालय ,बिजली ,पानी, पंखे इत्यादि की व्यवस्था के साथ पर्याप्त खुला मैदान उपलब्ध है। कोरोना वायरस पीड़ित या जिनके पास रहने के लिए आश्रय नहीं है, प्रशासन इस भवन का उपयोग किसी भी भलाई के कार्य में कर सकता है।महामारी के दौरान स्कूल का उपयोग नि:शुल्क रूप से बिना कोई शर्त किया जा सकता है।  इसी क्रम में कॉलेज के संचालक बसंत शर्मा में 51000 रुपये भी मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा किये है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ढाई करोड़ जनता के लिए दिन रात लड़ रहे तो हम सबका भी फर्ज बनता है कि अपने प्रदेश के लोगो हेतु इस संकट की घड़ी में बढ़ चढ़ कर दान करना चाहिए ताकि सरकार उसका उपयोग कर जनता की सेवा कर सके। मन्नू मानिकपुरी संवाददाता बिलासपुर
  • क्या वित्तीय कुप्रबन्धन कर रही भूपेश सरकार ?  -पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह से पूछा कांग्रेस ने

    रमन सिंह बताये की क्या वित्तीय कुप्रबन्धन कर रही भूपेश सरकार ? : कांग्रेस


    रायपुर/11 जून 2020। कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह से पूछा है कि वे बताये की कौन से वित्तीय कुप्रबन्धन कर रही भूपेश सरकार? प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि एक दर्जन से अधिक बार राज्य सरकार पर वित्तीय कुप्रबन्धन का आरोप लगाने वाले रमन सिंह राज्य की जनता को बताए कि भूपेश सरकार के कौन से निर्णय वित्तीय कुप्रबन्धन की श्रेणी में आते है? रमन सिंह किसानों के कर्ज माफी को वित्तीय कुप्रबन्धन मानते है? या फिर धान की कीमत 2500 रु देने को फिजूल खर्ची की श्रेणी में रखते है या तेंदूपत्ता संग्रहन का मानदेय 2500 रु. से बढ़ा कर 4000 रु. किये जाने को को वे राज्य के खजाने पर अनावश्यक बोझ मानते हैं? या फिर 400 यूनिट तक के बिजली बिल की राशि को आधा करने के निर्णय को वे गलत निर्णय समझते हैं?
    कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने के तुरंत बाद से ही रमन सिंह राज्य की वित्तीय हालत खराब होने का आरोप लगा रहे हैं। आरोप लगाने की उहापोह में रमन सिंह भूल रहे हैं कि राज्य बनने के बाद डेढ़ दशक तक वे ही सरकार के मुखिया थे  जब राज्य में कांग्रेस की सरकार बनी वे नई सरकार को विरासत में लगभग 55 हजार करोड़ के कर्जे के साथ शिक्षा कर्मियों के संविलियन के खर्च की विरासत छोड़ कर गए थे। रमन सिंह को इसी बात की पीड़ा है कि इस बदहाल आर्थिक हालात के बावजूद भूपेश बघेल लगातार जनता को राहत कैसे दे पा रहे हैं।
    प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि  वही राज्य है वही संसाधन है फिर भूपेश बघेल कैसे लोगो को राहत दे पा रहे रमन सिंह अपने चुनावी वायदे भी नही पूरा कर पाते थे ? यह नीयत का सवाल है रमन सिंह की प्राथमिकता में अट्टालिकाएं और पांच सितारा सरकारी भवन बनाने थे नई सरकार की प्राथमिकता में लोगो को सीधे फायदा पहुँचा कर उनको आर्थिक रूप से शशक्त बनाने का है। यही कारण है कि किसान, तेंदूपत्ता संग्राहक के लिए योजना बनाई गई। बिजली उपभोक्ताओं को राहत दी गई। सरकार ने भूमि की गाइड लाइन की दरों में 30 फीसदी कटौती कर लोगो को राहत दिया। वित्तीय कुप्रबन्धन या फिजूल खर्ची तो स्काई वाक, गोल्फकोर्स जैसे प्रजेक्ट थे। राज्योत्सव के नाम पर मेला ग्राउंड के एक मंजिला भवन में मंच से हाल तक जाने तीन तीन लिफ्ट लगाना जैसे सैकड़ो उदाहरण है जहाँ सरकारी खजाने को बेरहमी पूर्वक लुटाया गया।
    प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा केंद्र से वित्तीय सहायता मांगना या रिजर्व बैंक से ऋण सम्बन्धी रियाययत मांगना वित्तीय प्रबंधन के हिस्से के साथ साथ संघीय ढांचे में राज्य का संवैधानिक अधिकार है। इस मांग के आधार पर राज्य के वित्तीय हालात पर सवाल खड़ा कर रमन सिंह विशुद्ध रूप से राजनैतिक बयान बाजी कर रहे हैं।
    यूपीए सरकार के समय दस वर्षों तक रमन सरकार के द्वारा विधानसभा में प्रस्तुत किया जाने वाला वार्षिक बजट केंद्रीय योजनाओ का रूपांतरण मात्र रहता था।रमन सिंह को यह स्वीकारने का साहस दिखाना चाहिए कि जैसी मदद कांग्रेस की केंद्र सरकार राज्य को करती थी वैसी मदद मोदी सरकार नही कर रही। रमन को ऐसा लगता है कि राज्य के वित्तीय प्रबंधन को और सुदृढ़ करने की जरूरत है तो क्यो नही वे राज्य सरकार के मांग के अनुरूप मोदी सरकार को राज्य को 30000 हजार करोड़ की मदद की सिफारिश करते।
    प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने पूछा कि  मोदी सरकार ने रिजर्व बैंक के रिजर्व खाते का 174 लाख करोड़ रु निकाल खर्च कर लिया ,विभिन्न सार्वजनिक उपक्रमो की निजीकरण का प्रयास किया तो क्या रमन सिंह यह मानेगे की मोदी सरकार ने देश की वित्तीय व्यवस्था को तबाह कर दिया है।

  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह को लिखा पत्र - सीएसपीडीसीएल को स्वतंत्र विद्युत उत्पादक (आईपीपी) मान्य करने का  किया आग्रह

    मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह को पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर ड्रिस्ट्रीब्यूशन कंपनी का तेलंगाना राज्य की पॉवर कंपनी पर बकाया 2 हजार करोड़ रूपए के देयक के भुगतान की कार्रवाई हेतु सीएसपीडीसीएल को स्वतंत्र विद्युत उत्पादक आईपीपी मान्य करने का आग्रह किया है।

    मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री को अवगत कराया है कि छत्तीसगढ़ में स्टेट सेक्टर के अंतर्गत स्थापित 1000 मेगावॉट क्षमता की अटल बिहारी ताप विद्युत परियोजना (मड़वा) से विद्युत आपूर्ति हेतु सीएसपीडीसीएल एवं तेलंगाना राज्य की पावर कम्पनियों के मध्य 22 सितम्बर 2015 को दीर्घकालीन पीपीए निष्पादित किया गया है। जिसके तहत तेलंगाना राज्य को निरन्तर विद्युत आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री को यह भी अवगत कराया है कि सीएसपीडीसीएल का 31 मार्च 2020 की स्थिति में 2 हजार करोड़ रूपये से अधिक का विद्युत देयक तेलंगाना राज्य की पॉवर कम्पनी पर बकाया है, जिसके कारण सीएसपीडीसीएल वित्तीय तनाव से गुजर रही है।

    मुख्यमंत्री ने कहा है कि भारत सरकार द्वारा घोषित ’आत्मनिर्भर भारत अभियान’ के अंतर्गत राज्य के पॉवर सेक्टर को शामिल किया गया है तथा स्पेशल लॉन्ग टर्म ट्रांजेक्शन लोन स्कीम जारी की गई है। जिसके तहत आरईसी लिमिटेड एवं पीएफसी लिमिटेड के माध्यम से केन्द्रीय विद्युत उत्पादन एवं पारेषण उपक्रम सहित स्वतंत्र विद्युत उत्पादक एवं नवीकरणीय ऊर्जा स्त्रोत के पूर्व के बकाया राशि के भुगतान हेतु विद्युत वितरण कम्पनियों को सहयोग हेतु ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है।

  • आमजनों से दुर्व्यवहार करने वाले पुलिस कर्मियों पर होगी कड़ी कार्रवाई -

    पुलिस महानिदेशक ने सभी रेंज पुलिस महानिरीक्षक एवं पुलिस अधीक्षकों को दिए निर्देश

         रायपुर, 9 जून 2020

    मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हाल में ही पुलिस कर्मियों द्वारा आमजनों के साथ किए गए दुर्व्यवहार को बड़ी गंभीरता से लिया है और उन्होंने संबंधितों पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश पुलिस महानिदेशक को दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि पुलिस का व्यवहार आम नागरिकों से सम्मानजनक और सहानुभूतिपूर्ण होना चाहिए।
        मुख्यमंत्री के निर्देश पर पुलिस महानिदेशक डी.एम.अवस्थी ने राज्य के सभी रेंज पुलिस महानिरीक्षक एवं पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया है कि पुलिस कर्मियों द्वारा आमजनों से दुर्व्यवहार करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर अपराधी प्रकरण दर्ज किया जाए। श्री अवस्थी ने रेंज पुलिस महानिरीक्षक और पुलिस अधीक्षकों को अधिनस्थ पुलिस कर्मियों पर कठोर नियंत्रण रखने के निर्देश दिए हैं।
        श्री अवस्थी ने कहा है कि इस प्रकार के मामलों के कारण पुलिस विभाग में लंबे समय से मेहनत कर रहे ईमानदार और अनुशासित पुलिस कर्मियों की सारी मेहनत पर पानी फिर जाता है और पुलिस की नकारात्मक छवि जनमानस के सामने आती है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में यदि किसी पुलिस अधिकारी या कर्मचारी ने किसी भी आम व्यक्ति से दुर्व्यवहार किया तो उसे तत्काल निलंबित करते हुए आपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाए। पुलिस महानिदेशक ने रेंज पुलिस महानिरीक्षक और पुलिस अधीक्षकों को यह भी निर्देशित किया है कि हाल ही में ही घटित इस प्रकार के प्रकरणों पर विभागीय जांच संस्थित कर तत्काल कड़ी कार्रवाई करें।