Top Story
  • कंगना रनौत का जया बच्चन पर पलटवार, बोलीं- अभिषेक फांसी लगा लेते तब भी आप ऐसा कहतीं?

    ड्रग्स मामले में राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने रवि किशन पर निशाना साधा और कहा कि कुछ लोग जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं. जया बच्चन के इस बयान पर कंगना रनौत ने प्रतिक्रिया दी है. कंगना ने उनकी बेटी श्वेता बच्चन और बेटे अभिषेक बच्चन का नाम भी शामिल किया.

    राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने मानसून सत्र के दूसरे दिन रवि किशन का बिना नाम लिए केंद्र सरकार से बॉलीवुड की सुरक्षा और समर्थन करने की अपील की. साथ ही उन्होंने रवि किशन पर निशाना साधा और कहा कि कुछ लोग जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं. जया बच्चन के इस बयान पर कंगना रनौत ने प्रतिक्रिया दी है. कंगना ने उनकी बेटी श्वेता बच्चन नंदा नाम भी शामिल किया.

     

    कंगना रनौत ने ट्वीट में लिखा, "जया जी क्‍या आप तब भी यही कहतीं अगर मेरी जगह पर आपकी बेटी श्‍वेता को किशोरावस्था में पीटा गया होता, ड्रग्‍स दिए गए होते और शोषण होता. क्‍या आप तब भी यही कहतीं अगर अभिषेक लगातार धमकियां और शोषण की बात करते और एक दिन फांसी से झूलते पाए जाते? थोड़ी हमदर्दी हमसे भी दिखाइए,"

    दरअसल, एक दिन पहले गोरखपुर से सांसद रवि किशन संसद के मानसून सत्र के पहले दिन देश और बॉलीवुड में बढ़ते ड्रग्स के इस्तेमाल और तस्करी के मुद्दे को उठाया था. उन्होंने कहा था,"भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में ड्रग्स की लत काफी ज्यादा है. कई लोगों को पकड़ लिया गया है. एनसीबी बहुत अच्छा काम कर रही है. मैं केंद्र सरकार से अपील करता हूं वह इस पर सख्त कार्रवाई करें, दोषियों को जल्द से जल्द पकड़े और उन्हें सजा दे जिससे की पड़ोसी देशों की साजिश का अंत हो सके."

     

    जया के इस बयान पर कंगना की आपत्ति

     

    रवि किशन के इस बयान पर जया बच्चन ने आज राज्यसभा में कहा,"कल हमारे एक सांसद सदस्य ने लोकसभा में बॉलीवुड के खिलाफ कहा. यह शर्मनाक है. मैं किसी का नाम नहीं ले रही हूं. वो खुद भी इंडस्ट्री से आते हैं. जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं. गलत बात है. मुझे कहना पड़ रहा है कि इंडस्ट्री को सरकार की सुरक्षा और समर्थन की जरूरत है."

  • मूल समस्याओं को या तो टाल दिया गया या फिर जब भी इनसे जुड़े काम हुए वो घोटालों की भेंट चढ़ गए : PM Narendra Modi

    बीते डेढ़ दशक से नीतीश जी, सुशील जी और उनकी टीम समाज के सबसे कमज़ोर वर्ग के आत्मविश्वास को लौटाने का प्रयास कर रही है। जिस प्रकार बेटियों की पढ़ाई को, पंचायती राज सहित स्थानीय निकाय में वंचित, शोषित समाज की भागीदारी को प्राथमिकता दी गई है, उससे उनका आत्मविश्वास बढ़ रहा है: PM

     

    बीते डेढ़ दशक से नीतीश जी, सुशील जी और उनकी टीम समाज के सबसे कमज़ोर वर्ग के आत्मविश्वास को लौटाने का प्रयास कर रही है।

    जिस प्रकार बेटियों की पढ़ाई को, पंचायती राज सहित स्थानीय निकाय में वंचित, शोषित समाज की भागीदारी को प्राथमिकता दी गई है, उससे उनका आत्मविश्वास बढ़ रहा है: PM

    — PMO India (@PMOIndia) September 15, 2020

     

    मूल समस्याओं को या तो टाल दिया गया या फिर जब भी इनसे जुड़े काम हुए वो घोटालों की भेंट चढ़ गए: PM

    सड़कें हो, गलियां हों, पीने का पानी हो, सीवरेज हो, ऐसी अनेक मूल समस्याओं को या तो टाल दिया गया या फिर जब भी इनसे जुड़े काम हुए वो घोटालों की भेंट चढ़ गए : PM

     

     

  • Kangana Big Khulasa Tweet

    उद्धव ठाकरे पर ट्वीट के माध्यम से फिर निशाना साधा कंगना रनौत ने

     

    अभिनेत्री कंगना रनौत ने अपने मनाली पहुंचकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर ट्वीट के माध्यम से फिर निशाना साधा है |

    देखिए उनका ट्वीट -

     

    महाराष्ट्र के सीएम की मूल समस्या यह है कि मैंने फिल्म माफिया, एसएसआर के हत्यारों और उसके ड्रग रैकेट का पर्दाफाश किया, जो उसके प्यारे बेटे आदित्य ठाकरे के साथ हैं, यह मेरा बड़ा अपराध है, इसलिए अब वे मुझे ठीक करना चाहते हैं, ठीक है, देखते हैं कि कौन फिक्स करता है -

    Basic problem of Maharashtra CM is why I exposed movie mafia, murderers of SSR and its drug racket, who his beloved son Aaditya Thakeray hangs out with, this is my big crime so now they want to fix me, ok try let’s see who fixes who-

     

     

     

  • मार्कशीट बन गई है एक प्रेशरशीट, बच्चों के मूल्यांकन के बल पर ना मापे: प्रधानमंत्री

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिक्षा पर बात करते हुए कहा कि बच्चों पर मार्कशीट का दबाव बनाया जा रहा है. मार्कशीट, मार्कशीट नहीं अब एक प्रेशरशीट बन गई है.

    नई दिल्ली: शिक्षा एक वो माध्यम माना जाता है जो बच्चों को जीवन में कामयाब बनाता है. लेकिन आज के दौर में बच्चों पर शिक्षा का और परीक्षा का दबाव बनते हुए दिख रहा है. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते दिन शिक्षा और परीक्षा को लेकर कहा कि, शिक्षा केवल स्कूल के अंदर सीमीत रहें ये जरूरी नहीं. उनका कहना है कि बच्चों को सिखाना और पढ़ाना चाहिए कि उनके आस-पास किस तरह की चीज़े है. बच्चों का प्रैक्टीकल होना बेहद जरूरी है.

     

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मार्कशीट के बल पर किसी बच्चे को मापना बेहद गलत बताया है. उन्होंने कहा कि आज के समय में हर कोई मार्कशीट पर बात करता है. बच्चे पर मार्कशीट को और बहतर बनाने के लिए दबाव बनाता है. ये मार्कशीट नहीं एक प्रेशरशीट बन गई है.  बच्चों पर इस तरह का दबाव उनके जीवन में तनाव का कारण बन गया है. बच्चो को इस मार्कशीट के तनाव से निकालना बेहद जरूरी है.

    उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि अब वो वक्त है कि इस पर ध्यान दें कि परीक्षा का दबाव बच्चों पर किसी तरह ना पड़े. साथ ही कहा कि केवल परीक्षा के बल पर किसी बच्चे को मापा ना जाए इस पर ध्यान देना चाहिए. प्रधानमंत्री ने कहा कि बच्चो का दिमाग बहुत शार्प होता है, वो हर पल में कुछ ना कुछ सीख रहें होते है. दोस्तो के बीच वो कुछ नया सीखते है, परिवार के बीच वो सीखते है, बाहर निकलते है तो सीखते है. बस उनसे कभी पूछा नहीं जाता कि आज क्या सीखा. केवल दबाव इस बात का बनाया जाता है कि मार्कशीट और बेहतर हो.

     

    राष्ट्रीय शिक्षा नीति में छात्रों को किसी भी विषय को चुनने की अनुमती दिये जाने को प्रधानमंत्री ने एक बडा सुधार बताया है. उन्होने कहा कि देश के सभी बच्चों को पूरा मौका देता है कि वो अपनी पंसद का विषय चुनकर आगे बड़ें. प्रधानमंत्री ने कहा कि बच्चों को बाहरी जिंदगी से अवगत कराना चाहिए. किताबों तक सीमित रहना कई बार बच्चों के लिए गलत साबित हो जाता है. साथ ही उन्होंने कहा कि दुनिया बहुत बड़ी, हर बच्चे में अपनी अपनी एक खूबी है.

     

    उन्होंने कहा ध्यान इस पर देना चाहिए कि बच्चे को क्या पसंद है और वो किस विषय पर बेहतर प्रदर्शन कर सकता है, उस पर काम करना चाहिए. बच्चों पर दबाव बनाकर मार्कशीट को सुधार बनाना कही से उचित नहीं है.

    /p>
  • PM मोदी ने दिया कोरोना वायरस से बचने का नया मंत्र, कहा- जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं

    देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 46,59,984 हो गई. वहीं पिछले 24 घंटे में 1,201 और संक्रमितों की मौत के बाद मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 77,472 हो गई.

    नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर देशवासियों को कोरोना से बचे रहने की सलाह दी है. उन्होंने शनिवार को नया मंत्र देते हुए कहा कि 'जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं.' प्रधानमंत्री मोदी ने दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी का मंत्र भी न भूलने की सलाह दी.

     

    प्रधानमंत्री ने दिए ये मंत्र
    प्रधानमंत्री ने कहा, मैं बार-बार कहता हूं. जरूर याद रखिए. मेरी बात आप मानें भी. देखिए, जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं. दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी, इस मंत्र को भूलना नहीं है. आपका स्वास्थ्य उत्तम रहना चाहिए. प्रधानमंत्री ने मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनकर तैयार हुए घरों का उद्घाटन करने के दौरान लोगों को कोरोना से हमेशा सतर्क रहने की सलाह दी.

     

    लोगों से की ये अपील

     

    प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों को दवाई की बात कहकर संदेश दिया कि जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती, तब तक लोग अतिरिक्त सावधानियां बरतें. पीएम मोदी ने आवास योजना के लाभार्थियों को संबोधित करते हुए कहा, आप सभी साथियों से यही कहूंगा कि ये घर आपके बेहतर भविष्य का नया आधार है. यहां से आप अपने नए जीवन की नई शुरूआत कीजिए. अपने बच्चों को, अपने परिवार को अब आप नई ऊंचाइयों पर लेकर जाइए. आप आगे बढ़ेंगे तो देश भी आगे बढ़ेगा.

     

    देश में कोविड-19 के मरीज 46 लाख के पार

     

    देश में कोविड-19 के 97,570 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 46,59,984 हो गई. वहीं इस संक्रमण से अब तक 36,24,196 लोग ठीक हो चुके हैं और देश में शनिवार को स्वस्थ होने की दर 77.77 फीसदी है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालाय ने इसकी जानकारी दी है.

     

    मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 77,472 हुआ

     

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से अद्यतन आंकड़ों में बताया गया है कि देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 46,59,984 हो गई. वहीं पिछले 24 घंटे में 1,201 और संक्रमितों की मौत के बाद मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 77,472 हो गई. आंकड़ों के अनुसार कोविड-19 से होने वाली मृत्यु दर में कमी आई है और अब यह 1.66 फीसदी है.

  • उद्धव ठाकरे सरकार का जिक्र करते हुए कंगना रनौत ने ट्वीट कर सोनिया गांधी से पूछे ये सवाल

    अभिनेत्री कंगना रनौत ने सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि आपकी चुप्पी और बेरुखी के लिए इतिहास आपके बारे में फैसला करेगा.

    मुंबई: महाराष्ट्र सरकार के साथ तनातनी के बीच अभिनेत्री कंगना रनौत ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कहा है कि उन्हें मेरे साथ किए गए महाराष्ट्र सरकार के व्यवहार के मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए. रनौत ने कहा कि सोनिया गांधी की ‘‘चुप्पी और बेरुखी’’ पर इतिहास फैसला करेगा.

     

    अभिनेत्री ने ट्वीट किया, ‘‘प्रिय एवं सम्मानीय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, क्या एक महिला होने के नाते आपको महाराष्ट्र में आपकी सरकार द्वारा मेरे साथ किए गए व्यवहार पर गुस्सा नहीं आता? क्या आप अपनी सरकार से अनुरोध नहीं कर सकतीं, कि वह डॉ. आम्बेडकर के दिए संविधान के सिद्धांतों को बरकरार रखे?’’

     

    उन्होंने कहा कि गांधी पश्चिम में पली-बढ़ी हैं और भारत में रही हैं और वह महिलाओं के संघर्षों के बारे में जानती होंगी. रनौत ने एक अन्य ट्वीट किया, ‘‘जब आपकी अपनी सरकार महिलाओं का उत्पीड़न कर रही है और कानून-व्यवस्था का मजाक उड़ा रही है, तब ऐसे में आपकी चुप्पी और बेरुखी के लिए इतिहास आपके बारे में फैसला करेगा. मैं उम्मीद करती हूं कि आप हस्तक्षेप करेंगी.’’

     

    रनौत ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से की थी, जिसके बाद उनके और महाराष्ट्र सरकार के बीच तनातनी की स्थिति पैदा हो गई.

    गौरतलब है मुंबई में बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) अधिकारियों द्वारा रनौत के कार्यालय के कुछ हिस्सों को गिराये जाने के एक दिन बाद, अभिनेत्री ने बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर 'सत्ता के दुरुपयोग' का आरोप लगाया था और महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि उनकी आवाज दूर तक जाएगी.

     

    कंगना ने शिवसेना के नेतृत्व वाले बीएमसी की ‘गुंडों’ से तुलना करते हुए कई ट्वीट् पोस्ट किए, जिसमें उन्होंने राज्य सरकार को एक ‘‘मिलावटी सरकार’’ कहा था.

     

    बाद में, केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले ने बृहस्पतिवार को रनौत से मुलाकात की थी और आरोप लगाया था कि शिवसेना शासित बीएमसी ने बांद्रा में रनौत के बंगले के कुछ हिस्से को बदले की भावना से ढहाया और इसमें महाराष्ट्र सरकार की भी भूमिका थी.

     

    अभिनेत्री (33) बुधवार को अपने गृह राज्य हिमाचल प्रदेश से मुम्बई लौटी थीं. उन्होंने आरोप लगाया है कि शिवसेना से टकराव के कारण महाराष्ट्र सरकार उन्हें निशाना बना रही है.

     

    शिवसेना नीत बीएमसी ने बुधवार को अभिनेत्री के बांद्रा स्थित बंगले में किए गए कुछ अवैध निर्माण कार्य को तोड़ दिया था. हालांकि बंबई उच्च न्यायालय ने बाद में प्रक्रिया पर रोक लगाने का आदेश दिया था.

  • उद्धव  ठाकरे तुम कुछ नहीं हों सिर्फ़ वंशवाद का एक नमूना हो - कंगना रनौत

    *कंगना रनौत ने ट्वीट कर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को दी नसीहत* तुम्हारे पिताजी के अच्छे कर्म तुम्हें दौलत तो दे सकते हैं मगर सम्मान तुम्हें खुद कमाना पड़ता है, मेरा मुँह बंद करोगे मगर मेरी आवाज़ मेरे बाद सौ फिर लाखों में गूंजेगी, कितने मुँह बंद करोगे? कितनी आवाज़ें दबाओगे? कब तक सच्चाई से भागोगे तुम कुछ नहीं हों सिर्फ़ वंशवाद का एक नमूना हो। 

  • BMC की कार्रवाई के बाद पहली बार अपने दफ्तर पहुंचीं कंगना, नुकसान का जायजा लिया

    कल बीएमसी ने कंगना के ऑफिस में अवैध निर्माण को तोड़ दिया था. कंगना के साथ उनकी बहन रंगोली भी उनके साथ पहुंचीं.

    मुंबई: बीएमसी की कार्रवाई के बाद अभिनेत्री कंगना रनौत अपने ऑफिस पहुंचीं. कल बीएमसी ने कंगना के ऑफिस में अवैध निर्माण को तोड़ दिया था. कुछ देर ऑफिस का मुआयना किया. नुकसान का जायजा लेने के बाद वो वहां से लौट गईं. कंगना का ये ऑफिस मुंबई के पाली हिल्स में स्थित हैं. ऑफिस के भीतर अभी भी मलबा पड़ा हुआ है.

     

    इस दौरान कंगना की बहन रंगोली भी उनके साथ थीं. बता दें कि इससे पहले भी रंगोली ऑफिस पहुंची थीं और वहां का मुआयना किया था. दफ्तर के बाहर बड़ी संख्या में मुंबई पुलिस के जवानों की मौजूदगी है.

     

    उधर आज बंबई हाई कोर्ट में बीएमसी की कार्रवाई के मामले में सुनवाई है. बीएमसी ने अपने हलफनामे में कोर्ट को बताया कि उसकी कार्रवाई सही है. नियमों के तहत कार्रवाई की गई. अवैध निर्माण के मामले में अदालत को दखल नहीं देना चाहिए.

  • उद्धव ठाकरे तूने मेरा घर तोड़ा है कल तेरा घमंड टूटेगा : कंगना रनौत

    मुंबई: शिवसेना की धमकी के बीच अभिनेत्री कंगना रनौत साढ़े तीन बजे के करीब अपने घर पहुंच गई. खार इलाके वाले अपने घर पर पहुंची. कड़ी सुरक्षा के बीच उन्हें उनके घर पहुंचा दिया गया. उनके घर के बाहर भी सुरक्षा के इंतजाम किए गए थे. घर पहुंचते ही उन्होंने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे पर निशाना साध दिया.

     मुंबई में अपने घर पहुंची कंगना रनौत, उद्धव ठाकरे पर साधा निशाना, कहा- तेरा घमंड टूटेगा 

     

    तुमने जो किया अच्छा किया ????#DeathOfDemocracy pic.twitter.com/TBZiYytSEw

    — Kangana Ranaut (@KanganaTeam) September 9, 2020

     

    कंगना ने एक वीडियो शेयर करते हुए कहा कि उद्धव ठाकरे तेरा घमंड टूटेगा.मुंबई: शिवसेना की धमकी के बीच अभिनेत्री कंगना रनौत साढ़े तीन बजे के करीब अपने घर पहुंच गई. खार इलाके वाले अपने घर पर पहुंची. कड़ी सुरक्षा के बीच उन्हें उनके घर पहुंचा दिया गया. उनके घर के बाहर भी सुरक्षा के इंतजाम किए गए थे. कह पहुंचते ही उन्होंने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे पर निशाना साध दिया. कंगना ने एक वीडियो शेयर करते हुए कहा कि उद्धव ठाकरे तेरा घमंड टूटेगा./p>

  • मुंबई पहुंचने से पहले कंगना रनौत ने किए देवी के दर्शन, बोलीं- मुम्बा देवी चाहती हैं कि मैं मुंबई में रहूं

    कंगना रनौत मुंबई जाने के लिए वह मनाली स्थित अपने घर से निकल चुकी हैं. रास्ते में वह हिमाचल प्रदेश में हमीरपुर जिले के कोठी स्थित एक मंदिर के सामने प्रार्थना करती हुईं नजर आईं. यह मंदिर चंडीगढ़ रूट पर पड़ता है.

    बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत आज मुंबई पहुंचने वाली हैं. मुंबई जाने के लिए वह मनाली स्थित अपने घर से निकल चुकी हैं. वह चंडीगढ़ से फ्लाइट दोपहर 12 बजे के बाद फ्लाइट लेंगी. लेकिन इस बीच उनकी एक तस्वीर सामने आई है.  वह हिमाचल प्रदेश में हमीरपुर जिले के कोठी स्थित एक मंदिर के सामने प्रार्थना करती हुईं नजर आ रही हैं. यह मंदिर चंडीगढ़ रूट पर पड़ता है.

     

    कंगना रनौत मंडी के भानवला गांव से चंडीगढ़ के लिए एक घंटे पहले निकली हैं. उनके साथ उनकी बहन रंगोली चंदेल और सुरक्षा कर्मी भी हैं. इस दौरान कंगना रनौत ट्विटर पर भी काफी एक्टिव हैं. वह लगातार महाराष्ट्र और मुंबई को लेकर अपने सपने और अनुभव के बारे में बता रही हैं. कंगना ने एक ट्वीट में बताया कि मुम्बादेवी चाहती है कि मैं मुंबई में रहूं.कंगना ने एक ट्वीट में लिखा,"मैं बारह साल की उम्र में हिमांचल छोड़ चंडीगढ़ हॉस्टल गयी फिर दिल्ली में रही और सोलह साल की थी जब मुंबई आयी, कुछ दोस्तों ने कहा मुंबई में वही रहता है जिसे मुम्बादेवी चाहती है,हम सब मुम्बादेवी देवी के दर्शन करने गए,सब दोस्त वापिस चले गए और मुम्बादेवी ने मुझे अपने पास ही रख लिया." इसके अलावा कंगना ने अपने महाराष्ट्र प्रेम को भी दिखाया.

  • *छत्तीसगढ़ में कोरोना के बढ़ते मामलों   को देखते हुए कई अहम फैसले लिए गए*
    रायपुर 6 सितम्बर 2020/ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज प्रदेश में कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की समीक्षा की। मुख्यमंत्री निवास में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई समीक्षा बैठक में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, राजस्व मंत्री जय सिंह अग्रवाल वीडियो कांफ्रेंसिंग से जुड़े। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सभी कमिश्नर, कलेक्टर, आईजी,जिला पंचायतों के सीईओ, नगर निगम के आयुक्तों और मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारियों से बैठक में जिलेवार अस्पतालों, कोविड सेंटर और आइसोलेशन केंद्रों में उपलब्ध और ओक्यूपाइड बिस्तरों की संख्या, सिंप्टोमेटिक और एसिंप्टोमेटिक मरीजों की संख्या, जिलेवार प्रतिदिन औसत टेस्ट क्षमता, जांच रिपोर्ट में लगने वाले समय, रैपिड टेस्ट और आर टी पी सी आर टेस्ट की संख्या, पिछले 7 दिनों का दैनिक विवरण, दोनों प्रकार के टेस्टों के परिणामों, ऑक्सीमीटर की उपलब्धता, आवश्यक दवाओं की उपलब्धता, आईसीयू और वेंटिलेटर की उपलब्धता, कंट्रोल रूम और हेल्पलाइन की कार्यप्रणाली की जानकारी ली | मुख्यमंत्री निवास से मुख्य सचिव आर पी मंडल , मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, स्वास्थ्य विभाग की अपर मुख्य सचिव श्रीमती रेणु पिल्लई, स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी सहित मुख्यमंत्री सचिवालय की उप सचिव सुश्री सौम्य चौरसिया शामिल हुई। *छत्तीसगढ़ में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई अहम फैसले लिए गए* *लॉकडाउन लगाने पर निर्णय नहीं - *अब प्रदेश के अस्पतालों में बेड की जानकारी भी सार्वजनिक की जाएगी *कोरोना के इलाज में लगे डॉक्टर दिन में दो बार मरीजों का निरिक्षण सुनिश्चित करेंगे *कोरोना से मौत और अन्य बीमारी से होने वाली मौतों की जानकारी अलग अलग देने का फैसला *कोरोना संक्रमित के संपर्क में आने वालों को भी दी जाएंगी मुफ्त दवाईयां
  • *प्रदेश के पूर्व श्री मंत्री ननकीराम कंवर मुख्यमंत्री निवास के सामने देंगे धरना*

    मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोबइल काल रिसीव नहीं कर रहे ना ही रिप्लाई कर रहे - ननकीराम कंवर 

    *प्रदेश के पूर्व गृह मंत्री ननकीराम कंवर मुख्यमंत्री निवास के सामने देंगे धरना*

    प्रदेश के पूर्व गृह मंत्री ननकीराम कंवर ने कोरबा कलेक्टर को पत्र लिखकर आगाह किया है कि उनके पुत्र संदीप कंवर को बंधक बनाने, मारपीट करने और रकम वापसी ना करने के मामले में आरोपी देवेंद्र पांडे और शिवम पांडे के खिलाफ शिकायत के आधार पर धाराएं ना लगाने के विरोध में वे 10 सितंबर को मुख्यमंत्री निवास के सामने धरना देंगे |

    पूर्व गृह मंत्री ननकीराम कंवर ने CG 24 News से बातचीत में बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से उन्होंने अनेकों बार टेलिफोनिक चर्चा करने की कोशिश की परंतु उन्होंने ना ही फोन उठाया और ना ही रिटर्न कॉल किया | उनके अनुसार उन्होंने सीएम हाउस रायपुर एवं भिलाई के लैंडलाइन नंबर पर भी कॉल कर बात करनी चाही परंतु मुख्यमंत्री से बात नहीं हो पाई  | जिसके कारण व्यथित होकर उन्हें मुख्यमंत्री निवास के सामने धरना देने का फैसला करना पड़ा |

    विधायक ननकीराम कंवर ने आरोप लगाया है कि शासन प्रशासन द्वारा आदिवासियों को संरक्षण देना तो दूर अपराधियों को बचाया जा रहा है और संदीप कवर जो जिला पंचायत सदस्य भी हैं द्वारा उनको बंधक बनाए जाने व मारपीट करने की शिकायत पर उचित कार्रवाई ना कर गुंडागर्दी को प्रोत्साहित किया जाना प्रतीत होता है |

    अब देखने वाली बात यह है कि प्रदेश के पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर जो वर्तमान में विधायक भी हैं द्वारा प्रदेश के मुख्यमंत्री के निवास के सामने धरना देने की चेतावनी का मुख्यमंत्री पर क्या असर होता है |

    उल्लेखनीय है कि ननकीराम कंवर वर्तमान में रामपुर विधानसभा से विधायक हैं | CG 24 News