Top Story
  • गुजरात: पीएम मोदी ने जंगल सफारी, आरोग्य वन, एकता मॉल, बच्चों के लिए न्यूट्रिशन पार्क का उद्घाटन किया

    केवडिया: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के नर्मदा जिले के केवडिया में ‘‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’’ के निकट जंगल सफारी, आरोग्य वन, एकता मॉल और बच्चों के लिए पोषक पार्क (न्यूट्रिशन पार्क) का उद्घाटन किया. सरदार पटेल जुओलॉजिकल पार्क ‘जंगल सफारी’ ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पास स्थित है.

     

    आरोगय वन में 15 एकड़ में औषधीय गुणों से युक्त पौधे लगाए गए हैं. इसमें 380 प्रजाति के पांच लाख पेड़ हैं. योग व आयुर्वेद को ध्यान में रखते हुए इसका विकास किया गया

    दो दिवसीय दौरे पर आज गुजरात पहुंचे प्रधानमंत्री ने पहले गांधीनगर में गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल और गुजराती सिनेमा के सुपरस्टार नरेश कनोडिया व उनके संगीतकार भाई महेश कनोडिया को श्रद्धांजलि अर्पित की.

     

    यहां से प्रधानमंत्री केवडिया पहुंचे और आरोग्य वन का लोकार्पण किया. उन्होंने राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के साथ इसका अवलोकन भी किया.

     

    प्रधानमंत्री ने एकता मॉल का भी उद्घाटन किया. इस मॉल में भारत की मौजूदा हस्तकलाओं और पारंपरिक उत्पादों का प्रदर्शन किया गया है. यहां पर पूरे देश से आए उत्पाद प्रदर्शित किए गए हैं.

     

    एक आधिकारिक बयान के मुताबिक उसका उद्देश्य एकता का संदेश देना है. यह मॉल 35 हजार वर्गफुट में फैला हुआ है. मॉल में 20 एम्पोरियम हैं, जो प्रत्येक राज्य का प्रतिनिधत्व करते हैं. एकता मॉल को केवल 110 दिनों में निर्मित किया गया है.

     

    प्रधानमंत्री ने बच्चों के लिए पोषक पार्क का भी उद्घाटन किया. उन्होंने पार्क का भ्रमण किया और बच्चों को आकर्षित करने वाली विभिन्न सुविधाओं का अवलोकन किया.

     

    यह दुनिया का पहला प्रौद्योगिकी आधारित पार्क है जो 35 हजार वर्गफुट में फैला हुआ है. पार्क में एक न्यूट्री ट्रेन की भी व्यवस्था है, जिसके स्टेशन के नाम भी काफी रोचक रखे गए हैं. जिनके फलशाखा गृहम, पायोनागिरी, अन्नपूर्णा, पोषण पुराण, स्वस्थ भारत नाम दिए गए हैं.

     

    प्रधानमंत्री ने न्यूट्री ट्रेन की सवारी करते हुए विभिन्न स्टेशनों का मुआयना किया. इस पार्क का उद्देश्य विभिन्न गतिविधियों के जरिए पोषक भोजन के प्रति जागरूकता फैलाना है. पार्क में इसके लिए मिरर मेज, 5डी वर्चुअल रियल्टी थिएटर और ऑगमेंटेंड रियल्टी गेम की भी व्यवस्था की गई है.

     

    मार्च में कोरोना वायरस महामारी फैलने के बाद से मोदी का अपने गृह राज्य गुजरात का यह पहला दौरा है. इस दौरान वह केवडिया और अहमदाबाद के बीच समुद्री विमान सेवा की शुरुआत भी करेंगे.

     

    मोदी अपनी यात्रा के दौरान स्वतंत्र भारत के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल को 31 अक्टूबर को उनकी जयंती के दिन ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ जाकर श्रद्धांजलि भी अर्पित करेंगे.

  • राहुल गांधी का पीएम मोदी पर हमला, पूछा-...किसे मिले अच्छे दिन?

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री 8400 करोड़ रुपये के हवाई जहाज़ में घूमते हैं और चीन का नाम तक लेने से डरते हैं. किसे मिले अच्छे दिन?भारत-चीन के बीच जारी गतिरोध को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आड़े हाथों लिया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''देश के जवान भयंकर सर्दी में साधारण टेंट में गुज़ारा करते हुए भी चीन के आक्रमण का डटकर मुक़ाबला करते हैं. जबकि देश के PM 8400 करोड़ के हवाई जहाज़ में घूमते हैं और चीन का नाम तक लेने से डरते हैं. किसे मिले अच्छे दिन?''

    इस ट्वीट के साथ उन्होंने एक खबर का स्क्रीनशॉट साझा किया है जिसमें बीजेपी के पूर्व सांसद थुपस्तान चेवांग के कथित दावों के हवाले से कहा गया है कि चीनी सैनिकों ने भारतीय जमीन के कुछ हिस्सों पर कब्जा कर लिया है. साथ ही बीजेपी सांसद ने कथित तौर पर कहा है कि सर्दी में भारतीय जवान साधारण टेंट में गुजारा कर रहे हैं.

     

    भारत और चीन के बीच पिछले करीब छह महीने से एलएसी पर तनाव है. इस तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों के बीच सैन्य और राजनयिक स्तर पर कई दौर की बातचीत हो चुकी है.

  • गांव की नाबालिग लड़की से अपहरण व दुष्कर्म का मामला - थाना प्रभारी पर गंभीर मामले को रफा दफा करने का आरोप

    बल्लभगढ़ हरियाणा की निकिता तोमर हत्याकांड का रूप ले सकती हैं ऐसी घटनाएं -

    *नाबालिग अनुसूचित जाति की लड़की का अपहरण कर दुष्कर्म का मामला*

    *थाना प्रभारी द्वारा मामले को रफा दफा किया गया - परिजन*

    पीड़ित नाबालिग युवती का बयान आरोपियों और पुलिस की मौजूदगी में ?

    पुलिस द्वारा एक पक्षीय कार्यवाही का आरोप - पीड़ित परिवार द्वारा न्याय की गुहार 

    मुंगेली : छत्तीसगढ़ में  मुंगेली जिले के पथरिया थाना क्षेत्र अंतर्गत गांव की नाबालिग लड़की का अपहरण कर दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है, परिवार वालों की शिकायत पर पुलिस ने लापरवाही बरतते हुए आरोपियों को बचाने का भरपूर प्रयास किया है - घटना के बाद युवती का परिवार लगातार थाने में शिकायत दर्ज कराने और f.i.r. की मांग करता रहा परंतु थानेदार सुरेंद्र मिश्रा ने अपनी वर्दी का रौब दिखाकर पीड़ित युवती के परिवार को धमकाते हुए मामला दर्ज नही किया |

    पीड़ित नाबालिग युवती के परिवार के अनुसार 8 सितंबर 2020 को दिन में लगभग 11:00 बजे रवि मसीह एवं उसके साथी नाबालिक युवती को घर के बाहर से अपहृत कर जबरदस्ती ले गए, परिवार को जानकारी मिलने पर उसी दिन दोपहर बाद थाने में लिखित शिकायत कर दुष्कर्म करने एवं अपहरण करने वालों पर जुर्म दर्ज कर बेटी की तलाश की मांग परिजनों ने की - लेकिन मुंगेली पुलिस द्वारा जुर्म दर्ज ना कर मामले को रफा-दफा करने का प्रयास किया जा रहा है | थाना प्रभारी द्वारा दोनों पक्षों को बुलाकर थाना प्रभारी ने अपहृत लड़की को बालिग बताकर एफ आई आर करने से इंकार कर दिया और युवती के परिवार वालों को धमकाया कि युवती को युवक के हवाले कर दें, जबकि अपहृत नाबालिग युवती अपने परिवार के साथ घर जाना चाहती थी परंतु थाना प्रभारी उसे युवक के साथ जाने दबाव डालते रहे| थाना प्रभारी सुरेंद्र मिश्रा की धमकी चमकी से डरकर युवती का परिवार मुंगेली एसपी के पास मौखिक शिकायत करने गया परंतु पुलिस अधीक्षक ने भी लिखित शिकायत लेकर आने की बात कही, परिवार की लिखित शिकायत मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक ने परिवार को थाने जाकर उन्हें शिकायत दर्ज कराने भेजा, परंतु थाना प्रभारी ने पुलिस अधीक्षक के आदेश को भी नजरअंदाज कर दिया और युवती के पिता एवं भाई को गाली गलौज करते हुए मारपीट की और ज्यादा नेतागिरी करते हो इधर उधर जाते हो कहकर गुस्सा दिखया | मामला वरिष्ठ अधिकारियों तक पहुंच जाने के बाद थाना प्रभारी ने लड़की को बालिका गृह बिलासपुर भेज दिया |परिवारिक जानकारी के अनुसार थाना प्रभारी ने परिवार को बिना सूचना दिए नाबालिक पीड़ित युवती का दबाव पूर्वक बयान थाना सहित सीडब्ल्यूसी में करवाया तथा 14 सितंबर को परिवार की बिना जानकारी मुंगेली कोर्ट में पेश कर मजिस्ट्रेट बयान भी करवा लिया | नियमानुसार 164 के तहत बयान के दौरान परिवार को जानकारी देना आवश्यक होता है, साथ ही बयान के दौरान पुलिस एवं परिवार सहित आरोपियों की उपस्थिति प्रतिबंधित रहती है | 164 का बयान मजिस्ट्रेट के बंद कमरे में मजिस्ट्रेट द्वारा दिए जाने का प्रावधान है | पीड़ित नाबालिक युवती ने बताया की थाना प्रभारी महिला पुलिस आरोपियों की उपस्थिति में उसका बयान दबाव पूर्वक लिया गया है जो कि नियम विरुद्ध है |

    पीड़ित नाबालिग युवती ने २२ अक्टूबर २०२० को पुलिस अधीक्षक मुंगेली से लिखित आवेदन देकर बताया कि मुंगेली न्यायालय में चारों आरोपियों ने दबाव डालकर मेरी इच्छा के विरुद्ध बयान करवाया है - मेरा पुनः न्यायालयीन बयान और मेडिकल करवाया जाए एवं आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही कि जाय

     

    पीड़ित नाबालिक युवती के परिवार ने सीजी 24 न्यूज़ से चर्चा करते हुए बताया की सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों सहित सीडब्ल्यूसी के चक्कर काटने के बाद अंततः 5 अक्टूबर 20 को सीडब्ल्यूसी ने हमारी बच्ची को 28 दिनों बाद बिलासपुर से जाकर लाने का आदेश जारी किया | परंतु आरोपियों के खिलाफ अभी तक कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है ना ही जुर्म दर्ज किया गया है |

    अब सवाल यह उठता है कि नाबालिग युवती एवं उसके परिवार द्वारा नाबालिग के अपहरण एवं दुष्कर्म की बार-बार नामजद शिकायत करने के बावजूद पुलिस द्वारा आरोपियों के खिलाफ जुर्म दर्ज नहीं करना अपराध को बढ़ावा देना नहीं है तो क्या है ? ऐसी ही घटनाएं भविष्य में बल्लभगढ़ हरियाणा की निकिता तोमर हत्याकांड का रूप ले सकती हैं |

    इस पूरे मामले में पीड़ित नाबालिग युवती एवं उसका परिवार जगह जगह फरियाद कर रहा है परंतु उनकी कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही, यहां यह बताना भी जरूरी है कि पीड़ित नाबालिग युवती अनुसूचित जाति की है | आरोपी रवि मसीह, आशीष मसीह, जय मसीह और त्रिलोक पात्रे बिंदास घूम रहे हैं | थाना प्रभारी द्वारा अपने पद का गलत प्रयोग करते हुए नियमो को ताक में रख कर बयान करवाना एक पक्षीय कार्यवाही और आरोपी से मिली भगत की ओर इशारा करती है । अपहरण व दुष्कर्म जैसे संगीन अपराध पर शिकायत दर्ज करवाने जब उच्च अधिकारियों के पास जाना पड़े तो सोचनीय विषय है आखिरकार किन कारणों व परिस्थितियों को मद्दे नजर रखते हुए थाना प्रभारी द्वारा अपराध पंजीबद्ध करना तो दूर शिकायत पर जांच करना भी जरूरी नही समझा गया उच्च अधिकारियों के हस्तक्षेप होने पर कार्यवाही तो हुई पर एक पक्षीय - पीड़ित नाबालिग युवती एवं परिवार को न्याय का इंतजार |

  • 108 को कॉल करने से पहले नियमो को जान ले, अन्यथा एमरजेंसी में होगी परेशानी

    108 में जाने से पहले नियमो को जान लेवे प्रातः 7 बजे शंकर नगर निवासी बुजुर्ग महिला को अटैक आया, महिला के परिवार ने 108 में काल किया सरकारी वाहन में महिला को जब ले जा रहे थे तो उनके परिवार के सदस्य ने कहा एम एम आई हॉस्पिटल ले चलो, लेकिन 108 के ड्राइवर ने कहा हम सिर्फ सरकारी अस्पताल मेकाहारा जाएंगे, अगर आपको दूसरे हॉस्पिटल जाना है तो आप अपनी एम्बुलेंस बुलवा लीजिये। उससे बहुत निवेदन किया वह नही माना उसने कहा अगर हम प्राइवेट हॉस्पिटल गए तो हमारी नौकरी खतरे में पड़ जाएगी। और उसने गाड़ी शहीद भगत सिंह चौक में खड़ी कर दी।ड्राइवर ने मेकाहारा के अधिकारियों से बात करवाई लेकिन उन्होंने कहा हम कुछ नही कर सकते। ड्राइवर ने यह भी स्वीकार किया कि सर हमे खुद अच्छा नही लगता है ऐसा करना, पिछली सरकार के दौरान हॉस्पिटल चुनने की स्वतंत्रता थी पर इस सरकार में यह स्वतंत्रता नहीं है | मजबूर होकर एम एम आई से एम्बुलेंस को भगत सिंह चौक में बुलवाया वँहा उस महिला को ऑक्सिजन की भी जरूरत पड़ी। और उन्हें एम एम आई कि एम्बुलेंस में ऑक्सीजन के साथ शिफ्ट किया। शंकर नगर वार्ड के पार्षद पति राम प्रजापति भी उस 108 एंबुलेंस में मरीज के साथ थे जिन्होंने इस परेशानी को प्रत्यक्ष देखा और सहयोग करते हुए दूसरी एंबुलेंस बुलाकर निजी अस्पताल मरीज को भेजा

    इस पोस्ट को करने के पीछे उद्देश्य यह है कि जब स्तिथि क्रिटिकल हो तो जिनके यंहा घटना घटित हुई है उन्हें हॉस्पिटल चुनने की स्वतंत्रता होनी चाहिए , साथ ही आमजन को सरकार का यह नियम भी मालूम हो कि आप कितनी भी मिन्नते कर लो 108 आपको सरकारी अस्पताल ही ले जाएगी। आप 108 को कॉल करने से पहले उनके नियमों के बारे में जरूर जान ले अन्यथा आपको सरकारी अस्पताल ही अपने बीमार मरीज को ले जाना होगा, सरकार से निवेदन है कि वह किसी व्यक्ति की जान बचाने हेतु नियमो को शिथिल करे। इस दौरान इस सारी घटना के साक्षी है चेतन जोशी , श्याम पारेख सचिन दीप भी थे, जिन्होंने ऐसे समय मे भरपूर सहयोग दिया।

  • छात्रा की गोली मारकर हत्या करने वाले आरोपियों को एनकाउंटर करके मारा जाए - मृतिका की मां
    बल्लभगढ़ हरियाणा की स्टूडेंट निकिता के किडनैप की कोशिश में नाकाम दो युवकों द्वारा हत्या किए जाने के मामले में मृतिका के परिवार ने हत्या करने वाले आरोपी तौसीफ और रेहान का एनकाउंटर किए जाने की मांग की है निकिता के परिवार सहित सड़क जाम कर रहे सभी महिलाओं ने एक स्वर से मांग की है कि राज्य सरकार इन दोनों आरोपियों का एनकाउंटर करें और खुलेआम गोली मारे ताकि भविष्य में इस तरह की घटना को अंजाम देने वाले लोग जान जाए कि इसका अंजाम डायरेक्ट मौत है ना कि कोर्ट कचहरी मृतिका की मां ने मीडिया को स्पष्ट शब्दों में कहा है कि वह अपनी बेटी की मौत के लिए न्याय के तौर पर शासन से गिरफ्तार आरोपियों को तुरंत गोली मारकर मौत के घाट उतारने की मांग की है
  • Nikita Murder Case: आरोपी के चाचा बोले-'तौसीफ के पास हथियार था, इसकी जानकारी नहीं थी'

    हरियाणा के फरीदाबाद के बल्लभगढ़ में सोमवार को एक कॉलेज के बाहर निकिता नाम की लड़की की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस घटना को लेकर लोगों में भारी आक्रोश है और कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े हो रहे हैं. इस मामले में गिरफ्तार तौसीफ और रेहान को दो दिनों की पुलिस रिमांड में कोर्ट ने भेज दिया है.

  • तीन साल की मासूम बच्ची को बचाने के लिए ललितपुर से भोपाल तक नॉन स्टॉप दौड़ती रही ट्रेन

    आरपीएफ़ झांसी ने ऑपरेटिंग कंट्रोल भोपाल को मामला बताते हुए प्लानिंग के तहत कहा कि राप्ती सागर ट्रेन को भोपाल से पहले कहीं भी रोका ना जाये.

    25 अक्टूबर को मध्य प्रदेश के ललितपुर में एक व्यक्ति तीन साल की एक बच्ची का अपहरण कर के ले जा रहा था. रेलवे सुरक्षा बल को इस बात का पता चला तो रेलवे प्रसाशन ने ये तय किया कि इस ट्रेन को भोपाल से पहले कहीं भी रुकने नहीं देना है वरना अपहरणकर्ता बच्ची समेत बच निकलेगा.

     

    सीन -1: पहली सूचना 
    ललितपुर शहर से एक दुबला-पतला व्यक्ति तीन साल की बच्ची का अपहरण करके गाड़ी नम्बर 02511 राप्ती सागर एक्सप्रेस से भोपाल की तरफ जा रहा है.

     

    यह सूचना किसने दी ? 25 अक्टूबर की शाम को लगभग 7 बजे झांसी स्टेशन रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट के सब इन्स्पेक्टर रविन्द्र सिंह राजावत को ललितपुर के जीआरपी प्रभारी सब इंस्पेक्टर ने सूचना दी.

     

    सीन-2: अपहरणकर्ता और बच्ची का हुलिया
    ललितपुर के जीआरपी सब इंस्पेक्टर ने यह भी बताया कि बच्ची ने गुलाबी रंग की ड्रेस पहनी है, जबकि संदिग्ध व्यक्ति ने क्रीम कलर की शर्ट और काले रंग का लोअर पहन रखा है. बच्ची को ले जा रहा ये व्यक्ति नंगे पैर है.

     

    सीन-3: झांसी और भोपाल से मिशन शुरू
    इस सूचना पर तुरंत ही झांसी कंट्रोल रूम से आरपीएफ़ ने भोपाल रेलवे प्रोटेक्शन फ़ोर्स और भोपाल पुलिस सहित सभी सम्बंधित अधिकारियों को बच्ची के अपहरण की जानकारी दी और बताया कि चलती हुई राप्ती सागर ट्रेन में अपहरणकर्ता बच्ची को लेकर मौजूद है.

     

    सीन-4: सीसीटीवी फ़ुटेज से की तस्दीक़
    झांसी के सब इंस्पेक्टर एसएन पाटीदार ने बच्ची की मां से अन्य जानकारी लेकर ललितपुर आरपीएफ़ पोस्ट पर बने कंट्रोल रूम में स्टेशन की सीसीटीवी फुटेज खंगाली, जिसमें संदिग्ध व्यक्ति एक बच्ची को ले जाते हुए दिख रहा था. ये फुटेज तुरंत भोपाल आरपीएफ और जीआरपी को भेज दी गई.

     

    सीन-5: चलती ट्रेन में आरपीएफ़ को अलर्ट किया गया
    इसके बाद झांसी आरपीएफ़ ने राप्ती सागर ट्रेन में चल रहे अपने जवानों को हुलिया बताते हुए कहा कि अपहरणकर्ता पर नज़र रखें, लेकिन उसे शक न होने दें. कार्यवाही एक साथ ट्रेन के रुकते ही की जाएगी. गाड़ी में तैनात ऑन ड्यूटी सीटीआई को भी प्लानिंग बताई गई.

     

    सीन -6: मुख्य प्लानिंग
    आरपीएफ़ झांसी ने ऑपरेटिंग कंट्रोल भोपाल को मामला बताते हुए प्लानिंग के तहत कहा कि राप्ती सागर ट्रेन को भोपाल से पहले कहीं भी रोका ना जाये. इसके बाद तकरीबन रात 8.43 बजे जब गाड़ी भोपाल पहुंची तो वहां आरपीएफ़ और भोपाल पुलिस पहले से बड़ी तादाद में अलर्ट खड़ी थी. ट्रेन के रुकते ही योजना के मुताबिक़ ट्रेन में सवार आरपीएफ़ जवानों के इशारे पर अपहरणकर्ता को धरदबोचा गया और बच्ची को सुरक्षित बचा लिया गया.

     

    सुखद अंत : बच्ची के घरवाले रेलवे को धन्यवाद दे रहे हैं
    आरपीएफ़ की इस तेज़ी के लिए तीन साल की बच्ची के माता पिता और अन्य परिजन रेलवे का धन्यवाद देते नहीं थक रहे हैं. जिस बच्ची का अपहरण हुआ उसका नाम- काव्या उर्फ डुग्गु है. इसके पिता लक्ष्मी नारायण ललितपुर के आज़ादपुरा में रहते हैं.

  • *आईएएस, डिप्टी कलेक्टर परीक्षा की तैयारी के लिए सभी सुविधाएं निःशुल्क उपलब्ध*
    *छत्तीसगढ़ के मेधावी सिक्ख युवाओं को रायपुर में आईएएस, डिप्टी कलेक्टर परीक्षा की तैयारी के लिए सभी सुविधाएं निःशुल्क उपलब्ध* छत्तीसगढ़ सिक्ख ऑफिसर्स वेलफेयर एसोसियेशन (CGSOWA - Raipur) रायपुर की ओर से राज्य के प्रतिभावान सिक्ख युवा छात्र - छात्राओं को भारतीय प्रशासनिक सेवा और राज्य प्रशासनिक सेवा की परीक्षाओं की तैयारी के लिए रायपुर में कोलंबिया ग्रुप ऑफ इस्टीट्यूशन के व्दारा छात्रावास, भोजन, ट्रांसपोर्टेशन और प्रोफेशनल कोचिंग की निःशुल्क व्यवस्था की जा रही है। एसोसियेशन के संयोजक सरदार जी.एस. बॉम्बरा का इस हेतु सभी सिक्ख संगठनों, गुरुव्दारा प्रबंधक कमेटियों और उनके समस्त पदाधिकारियों से अनुरोध है कि वे इस हेतु छत्तीसगढ़ में रह रहे मेधावी और उत्कृष्ट सिक्ख युवा जिन्हें इस क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना हों, उन्हें इस जानकारी से अवगत कराएं तथा उन्हें इन परीक्षाओं के लिए प्रेरित करें ताकि पूरी सिक्ख कौम छत्तीसगढ़ में भी नई ऊंचाईयां हासिल कर सके। इस हेतु छत्तीसगढ़ सिक्ख ऑफिसर्स वेलफेयर एसोसियेशन, रायपुर के निम्न सदस्यों से संपर्क किया जा सकता है। ------------------------------- *सरदार डी.एस. डडियाला* एक्स. सीईओ - हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड, नासिक (94206-94618) *सरदार बी.एस. छाबड़ा*, प्राचार्य शासकीय महाविद्यालय, अभनपुर (94252-56592) *सरदार डी.एस. जब्बल* एक्स. जी.एम., भिलाई स्टील प्लांट (9425236989) E-mail : cgsowa.raipur@gmail.com
  • ईद का जुलूस नहीं निकलेगा - दशहरा भी गाइड लाइन के अनुसार
    दशहरा एवं ईद ए मिलाद पर्व के मद्देनजर आयोजित की गई शांति समिति की बैठक दशहरा एवं ईद ए मिलाद पर्व के मद्देनजर दिनांक 24.10.2020 को पुलिस नियंत्रण कक्ष रायपुर के सभाकक्ष में शांति समिति बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में विनीत नंदनवार अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी रायपुर, लखन पटले अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर रायपुर, प्रणव कुमार एस.डी.एम. रायपुर, नसर सिद्धकी नगर पुलिस अधीक्षक रायपुर, आर.के. मिश्रा थाना प्रभारी सिविल लाईन रायपुर तथा दशहरा एवं ईद ए मिलाद समिति के पदाधिकारी व सदस्य उपस्थित रहे। बैठक में वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा समितियों के पदाधिकारी व सदस्यों से उक्त दोनों पर्व को मनाने के संबंध में चर्चा की गई। जिस पर कोरोना वायरस (कोविड़ -19) महामारी के इस दौर में शासन द्वारा जारी गाईड लाईन के निर्देशों का पालन करते हुये सीमित दायरे में दशहरा उत्सव समिति के पदाधिकारी व सदस्यों द्वारा दशहरा उत्सव मनाने का निर्णय लिया गया। इसी प्रकार ईद ए मिलाद पर्व समिति के पदाधिकारी व सदस्यों द्वारा भी शासन द्वारा जारी गाईड लाईन के निर्देशों का पालन करते हुये जुलूस नहीं निकालकर इस पर्व को मनाने का निर्णय लिया गया है।
  • भारत में पहली बार हींग उगाने की कवायद हुई तेज, जानिए मसालों की शृखंला में क्यों है अहम

    भारत में हींग की मांग को देखते हुए पहली बार उगाने की तैयारी की जा रही है

     CSIR-IHBT ने हिमाचल प्रदेश में 15 अक्टूबर को हींग के पौधे की रोपाई की

    हींग भारतीय रसोई का एक अहम मसाला है. खाने में इसके इस्तेमाल करने की संस्कृति पुराने जमाने से चली आ रही है. खाने के स्वाद और सुगंध बढ़ाने के लिए हींग का इस्तेमाल किया जाता है. भारत में इसकी मांग शुरू से रही है.

     

    पहली बार भारत में हींग उगाने की पहल

     

    ये मसाला विदेशों से आयात किया जाता है. मगर अब इसकी जड़ हमारे देश में होनेवाली है. पहली बार, हींग भारत में उगाई जाएगी. वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) और हिमालय जैवसंपदा प्रौद्योगिकी संस्थान (IHBT) ने हिमाचल प्रदेश के लाहौल घाटी में मसाले की खेती करने की पहल की है. अब तक, हर साल अफगानिस्तान, ईरान और उजबेकिस्तान से 1200 टन कच्ची हींग का आयात किया जाता था. जिसकी वजह से भारत को प्रति वर्ष लगभग 100 मिलियन अमेरिकी डॉलर का खर्च उठाना पड़ता था.

     

    IHBT ने फेरूला हींग के पौधों के बीज भारत लाकर कृषि-तकनीक की मदद से खेती शुरू करने की कवायद की है. 15 अक्टूबर को लाहौल घाटी के क्वारिंग गांव में CSIR-IHBT के निदेशक डॉक्टर संजय कुमार ने पहली बार हींग के पौधे की रोपाई की. हींग का पौधा ठंड और शुष्क वातावरण में उगता है, इसलिए इसकी खेती के लिए हिमालयी क्षेत्र के ठंडे रेगिस्तानी इलाकों को चुना गया.

     

    मसालों में हींग क्यों है महत्वपूर्ण घटक?

     

    हींग पाचन को सुधार करने का काम करता है. इसके इस्तेमाल से पेट फूलने, एसिडिटी, ब्लोटिंग की समस्या से राहत मिलती है. हींग कूमेरिन यौगिक से भरपूर होता है. ये ब्लड प्रेशल लेवल को नियंत्रित करने में मदद करता है. इसके सूजन रोधी गुण होने की वजह से हींग खांसी, सर्दी, श्वसन समस्या जैसे अस्थमा और ब्रोंकाइटिस में मददगार साबित होता है.

     

    एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाने की वजह से हींग का सेवन आम स्वास्थ्य के लिए मुफीद होता है. इसके इस्तेमाल से बाल झड़ने और स्किन की समस्या काबू में रहती है. कुछ शोध में हींग को डायबिटीज के लिए भी फायदेमंद बताया गया है. भारतीय कृषि पद्धति में हींग का उगाना बड़ी छलांग के तौर पर देखा जा रहा है. इसके जरिए देश में मसाले की बड़ी मांग की पूर्ति की जा सकेगी.

  • भारत के दिग्गज क्रिकेटर कपिल देव को पड़ा दिल का दौरा, एंजियोप्लास्टी सर्जरी के बाद खतरे से बाहर

    साल 1983 में भारत को पहली बार क्रिकेट वर्ल्ड कप जिताने वाले कपिल देव को दिल का दौरा पड़ा है. कपिल देव राजधानी दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती हैं, जहां उनकी एंजियोप्लास्टी सर्जरी हो रही है. कपिल देव की उम्र 61 साल है.कपिल देव का इलाज कर रहे डॉक्टर से बात की है. उन्होंने बताया है कि अब कपिल देव की हालत स्थिर  है और वह खतरे से बाहर हैं. कपिल देव एबीपी न्यूज़ के मुख्य क्रिकेट एक्सपर्ट भी हैं.

  • गोदाम के बन जाने से खाद्यान्न भंडारण में होगी सुविधा- अमरजीत  भगत
    22 अक्टूबर 2020/ छत्तीसगढ़ शासन के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री अमरजीत भगत ने आज सीतापुर विकासखंड के ग्राम बनेया में छत्तीसगढ़ स्टेट वेयर हाउसिंग के नव निर्मित 10800 मेट्रिक क्षमता के गोदाम का उद्घाटन फीता काटकर किया। गोदाम को लोक निर्माण विभाग द्वारा 5 करोड़ 50 लाख रुपये की लागत से निर्मित किया गया है। लोकार्पण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि बनेया में नवनिर्मित 10 हजार 800 मैट्रिक टन खाद्यान्न भंडारण गोदाम के बन जाने से अब जिले में खाद्यान्न भंडारण की क्षमता में वृद्धि हुई है तथा खाद्यान्न भंडारण में सहुलियत होगी। वेयर हाउस के बन जाने से चावल का रख-रखाव बेहतर ढंग से सकेगा और आस-पास के राईस मिल का चावल भी इसी वेयर हाउस में रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि इस वेयर हाउस के बनने से भंडारण क्षमता में वृद्धि तो हुई है साथ ही आस-पास के लोगों को यहां रोजगार भी मिल सकेगा। अमरजीत भगत ने कहा कि 27 एवं 28 अक्टूबर को होने विधानसभा की विषेश सत्र में केन्द्र सरकार के कृषि बिल पर चर्चा की जाएगी। किसानों का अहित न हो इसके लिए प्रभावी कदम उठाने पर भी विचार विमर्श किया जाएगा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य होगा जहां धान से एथेनाल बनाया जाएगा जो जैव इंधन के क्षेत्र में काम करेगा। एथेनाल के निर्माण से आने वाले समय में किसानों को निश्चित ही दूरगामी फायदा मिलेगा। उन्होंने कहा कि जो किसान साल में एक बार धान की खेती करते थे वे अब खरीफ के साथ रबी में भी धान की खेती करके शासन को बेचने में सक्षम होंगे।आमरजीत ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में आम आदमी की सुविधा को ध्यान में रखते हुए विकास कार्य किया जा रहा है। कुछ दिन पूर्व ही मुख्यमंत्री ने मैनपाट के सुपलगा, करदना में पुल निर्माण तथा पेंट से पीडिया तक सड़क निर्माण की घोषणा की है। इस निर्माण कार्य से क्षेत्र के लोगों को आवागमन में काफी सहुलियत होगी। अमरजीत भगत ने इस दौरान दूर-दराज गांव से अपनी समस्या लेकर आए हुए ग्रामीणों के आवेदन पर कार्यवाही करने के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि छोट-छोटे कार्यो से सम्बंधित आवेदनों पर भी त्वरित गति से कार्यवाही करें। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरप्रीत सिंह बाबरा, जनपद पंचातय उपाध्यक्ष शैलेष सिंह तथा अन्य जनप्रतिनिधि, एसडीएम सुश्री दीपिका नेताम सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी तथा ग्रामीण जन उपस्थित थे।