State News
अपना स्वार्थ छोड़ कर समर्पित होकर सेवा करें तो लक्ष्य मिल जाते हैं 12-May-2021

नर्सिंग दुनिया का सबसे  सेवामयी पेशा है क्योंकि वह स्नेह और दुलार से रोगी की देखभाल करती है। विश्वभर में "अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस" प्रतिवर्ष 12 मई को नोबल नर्सिंग सेवा की शुरुआत करने वाली 'फ्लोरेंस नाइटइंगेल' के जन्म दिवस पर मनाया जाता है। इस वर्ष 2021 का थीम रखी गई है- नर्स: आवाज  नेतृत्व की|

यह दिवस लोगों के स्वास्थ्य के प्रति नर्सों के योगदान का प्रतीक है। दुर्ग जिले के चंदुलाल चंद्राकर मेडिकल कॉलेज के कोविड केयर सेंटर में एक महीने से कोविड-19 के लिए स्पेशल ड्यूटी पर तैनात स्टॉफ नर्स नेहा सागर कोविड वार्ड में त्याग की भावना से मरीज की देखभाल कर रही  है। नाइट  शिफ्ट की ड्यूटी करने वाली नर्स अपनी नींद भुलाकर मरीजों की देखभाल में कोई कसर नहीं छोड़ती है।

नेहा बताती है नर्स की नौकरी में सेवा भाव का ऐसा जुनून था कि जब खुद का परिवार लेने का वक्त आया तो स्वार्थ त्याग कर परमार्थ को चुनने में हिचक नहीं किया। उन्होंने बताया फैमली प्लानिंग के लिए चिकित्सक ने बच्चे दानी में गठान का इलाज कराने ऑपरेशन का सलाह दिया था। जब ऑपरेशन कराने का समय मिल गया था तभी स्वास्थ्य विभाग से सूचना मिली की कोविड केयर सेंटर में डयूटी पर उपस्थित होना है। ऐसे मुश्किल वक्त में अपना हित त्याग कर सेवा का रास्ता चुना और आज एक महीने से चंदूलाल चंद्राकर अस्पताल में डयूटी पूरी ईमान दारी से निभा रही है।

नेहा बताती हैं जब कोविड अस्पताल में 12 अप्रैल को ज्वाइंन किया तब हर दिन 25 से 30 मौते चंदुलाल चंद्राकर कोविड डेडीकेडेट अस्पताल में हुआ करती थी। लेकिन अस्पताल के मेडिकल टीम और 24 घंटे के सेवा में तत्पर रहने से आज मौत के आंकड़े शून्य की ओर होते चली गयी है। अस्पताल के मेडिकल नोडल ऑफसर डॉ अनिल कुमार शुक्ला के मार्गदर्शन में पूरा स्टॉफ एक परिवार की तरह मिलकर कार्य करते हैं।

नर्स के प्रोफेशन के बारे में नेहा बताती हैं कि मरीज के लिए अस्पताल में सबसे ज्यादा नर्सिंग स्टॉफ के सेवा भाव से दवाओं का असर ज्यादा होने लगता है। इस महामारी के दौर में जब कोई मरीज अस्पताल के वार्ड में अपने बेड में होता है तो उनके साथ परिवार को कोई सदस्य भी नहीं होता है। ऐसे में वक्त में कोविड-19 महामारी से जुझते हुए लोगों को एक नर्स ही मरीज की शारीरिक पीड़ा को अच्छी तरह समझ कर उन्हें बीमारियों से लड़ने का एक मानसिक जज्बा भी देती हैं। ये बात सच है कि एक मरीज़ का इलाज डॉक्टर करता है, मगर उस मरीज़ की देखभाल नर्स करती है।

नेहा ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि एक महीने से परिवार से दूर हॉस्टल में रहकर डयूटी करनी पड़ रही है। लोग कोविड से संक्रमित होकर पॉजिटिव आते हैं। ऐसे में अपनों से दूर रहकर पॉजिटिव सोच बनाकर मरीज इलाज कराकर स्वस्थ्य होकर घर लौट रहे हैं।  नेहा का मानना है कि कोविड-19 से लड़ाई में हम सभी को मिलकर आगे आने की जरुरत है तभी हम डेथ रेट को शून्य पर ले जा सकते हैं। एक नर्स में मरीज के दर्द और तकलीफों को समझने की काबिलीयत होनी चाहिए और दिल से उसकी मदद भी करनी चाहिए। मरीज़ के साथ अपनेपन और धीरज से पेश आना चाहिए। नर्स डे हम उनके इसी जज्बे को सलाम करते है।

नेहा की पदस्थापना बेमेतरा जिले के नवागढ ब्लॉक के ग्राम कटई स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 5 साल से हैं। नेहा का ससुराल रायपुर में है। वह अपने मां-बाप की देखभाल करते हुए नवागढ में रहती है। मां को स्पाइनल इंज्यूरी होने से उनका देखभाल करने की जिम्मेदारी भी नेहा को निभानी होती है।

More Photo
More Video
RELATED NEWS
Leave a Comment.