Top Story
Previous123456789...9192Next
  • राजभवन पहुंच ग्रामीणों ने बताई अपनी व्यथा,समाज के निचले तबकों को न्याय न मिलना संवेदनशील मामला: सुश्री उइके
    रायपुर, 20 अगस्त 2019/ राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने आज दुर्ग जिले के ग्राम सांकरा एवं सिरसाकला से आए ग्रामीणों की समस्याओं को पूरे धैर्य और गंभीरता से सुनीं। उन्होंने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि उनके प्रकरणों की वस्तुस्थिति की जानकारी मंगाई जाएगी और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी। राज्यपाल ने कहा कि समाज के कमजोर वर्ग विशेषकर आदिवासी महिलाओं के साथ मारपीट करना वाकई संवेदनशील मामला है। ऐसे विषयों पर अवश्य कार्यवाही की जाएगी और आवेदकों को न्याय दिलाया जाएगा। राज्यपाल ने कहा कि यदि समाज के निचले तबके का कोई व्यक्ति पुलिस या अन्य अधिकारियों के समक्ष अपनी समस्या लेकर पहुंचते हैं, तो उनकी बातों को संवेदनलशीलता से सुनकर उन पर समुचित कार्यवाही की जानी चाहिए। राज्यपाल ने इन प्रकरणों पर आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश पुलिस महानिदेशक को दिए हैं। प्रतिनिधिमण्डल ने बताया कि दुर्ग जिले के ग्राम-सांकरा निवासी आदिवासी श्री खूबचंद ठाकुर के परिवार के साथ मारपीट की गई। पीड़ित पक्ष जब थाने पहुंचे तो सामान्य धारा के तहत रिपोर्ट लिखी गई और अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम की धारा के तहत प्रकरण दर्ज नहीं की गई तथा न्यायालय में गवाह को भी प्रस्तुत नहीं किया गया, जिसके कारण आरोपी पर कार्यवाही नहीं हुई। इसी तरह प्रतिनिधिमण्डल ने बताया कि ग्राम सिरसाकला की श्रीमती सावित्री ठाकुर और श्री दिनेश ठाकुर के साथ मारपीट की गई, पर आज तक कार्यवाही नहीं हुई। इस संबंध में थाना प्रभारी सहित पुलिस विभाग के उच्च अधिकारियों के समक्ष आवेदकों ने अपना पक्ष रखा, उसके बाद भी उन्हें न्याय नहीं मिला। ग्रामीणों ने बताया कि उनके साथ जब कोई घटना होती है और वे उनकी शिकायत करने थाने पहुंचते हैं तो पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों का व्यवहार उनके प्रति अनुकूल नहीं होता है। कई बार तो ऐसा भी हुआ कि आरोपी के बजाय पीड़ित के खिलाफ ही कार्यवाही कर दी गई।
  • मुख्यमंत्री श्री बघेल ने 134 करोड़ के विकास कार्यो की दी सौगात
    रायपुर, 20 अगस्त 2019/ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की जयंती पर आज यहां धमतरी जिले के ग्राम दुगली (विकासखण्ड-नगरी) में आयोजित ग्राम सुराज और वनाधिकार मड़ई में शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री बघेल इस अवसर पर पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की 75 वीं जयंती के अवसर पर दुगली में स्थापित उनकी आदम कद प्रतिमा का अनावरण किया। ज्ञात हो कि 14 जुलाई 1985 को देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी का दुगली आगमन हुआ था, तबसे इसे राजीव ग्राम के नाम से भी जाना जाता है। कार्यक्रम में राज्यसभा सांसद श्री पी एल पुनिया, पंचायत विभाग के मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव, उद्योग मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री लखमा कवासी, वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर, राजस्व मंत्री श्री जय सिंह अग्रवाल, विधायक श्री मोहन मरकाम, मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण की अध्यक्ष डॉ.लक्ष्मी ध्रुव, विधायक श्रीमती रंजना दीपेंद्र साहू, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री रघुनंदन साहू सहित अपर मुख्य सचिव श्री आर. पी. मंडल, प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री राकेश चतुर्वेदी,कलेक्टर श्री रजत बंसल उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की 75 वीं जयंती पर हम सब उन्हें नमन करते हैं। समावेशी विकास की दूरदर्शिता, पंचायती राज, संचार क्रांति एवं युवाओं को मतदान का अधिकार जैसे योगदान आज 21 वीं सदी में आकार लेकर देश को राजीव जी की याद दिलाते हैं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कुपोषण दूर करने के लिए लईका जतन ठउर, त्रिफला प्रसंकरण केंद्र , मां अंगारमोती गौठान और तीरंदाजी प्रशिक्षण केन्द्र का लोकार्पण किया। उन्होंने इस अवसर पर 134 करोड़ रूपए के 121 विभिन्न विकास कार्यों का लाकार्पण और भूमिपूजन किया। त्रिफला प्रसंस्करण केंद्र मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज धमतरी जिले के ग्राम दुगली में लघु वनोपज प्रसंस्कण एवं प्रशिक्षण केंद्र का अवलोकन कर यहाँ प्रसंस्करण कार्य कर रही स्व सहायता समूह की महिलाओं से रूबरू होकर चर्चा की। मुख्यमंत्री ने यहां त्रिफला प्रसंकरण केंद्र का शुभारम्भ भी किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर यहाँ महिला समूहों द्वारा माहुल पत्ते से दोना निर्माण कार्य , शहद का संग्रहण कर इसकी प्रोसेसिंग,सतावर का संग्रहण कर प्रोसेसिंग कार्य का अवलोकन किया। उल्लेखनीय हैं कि धमतरी जिले के इस आदिवासियों बाहुल्य वन क्षेत्र में अनेक वनोपजों का उत्पादन होता है। राज्य शासन का प्रयास है कि इनके संग्रहण एवं प्रसंस्करण को बढ़ावा देकर यहाँ के नागरिको की जीवकोपार्जन में वृद्धि की जाए। राज्य शासन द्वारा राज्य के वन क्षेत्र में संग्रहण के लिए अब 15 वनोपजों का न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित किया है। इसी तरह वन वनोपजों की संग्रहण क्षमता बढ़ाने के लिए विभिन्न ग्रामो में संग्रहण केंद्रों की स्थापना की जा रही है। तेंदुपत्ता के संग्रहण दर को भी 2500 रुपये मानक बोरा से बढ़ा कर 4000 रुपये मानक बोरा किया गया है। तीरंदाजी प्रशिक्षण केन्द्र मुख्यमंत्री ने आदिम जाति बालक छात्रावास के खेल मैदान में तीरंदाजी प्रशिक्षण केन्द्र का शुभारंभ किया। इस प्रशिक्षण केन्द्र के जरिए विशेषकर कमार विद्यार्थी और युवाओं को तीरंदाजी की बारीकियों के बारे में सिखाया जाएगा। ज्ञात हो कि धमतरी जिले का नगरी विकासखण्ड जनजातीय बाहुल्य क्षेत्र है, जिनकी जीवनशैली में तीरंदाजी रची-बसी है। इसलिए यहां तीरंदाजी प्रशिक्षण केन्द्र के जरिए उन्हें सही तरीके से प्रशिक्षण देकर राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी प्रतियोगिता के लिए भेजा जा सकता है। विशेष पिछड़ी जनजाति कमार में बांस शिल्प और धनुर्विद्या की प्रवीणता है और उनमें यह कौशल परम्परागत रूप से विद्यमान है। इसलिए इस प्रशिक्षण केन्द्र के जरिए परम्परागत तीरंदाजों को प्रतिस्पद्र्धात्मक आधुनिक तीरंदाजी का हुनर दिया जाएगा। इस प्रशिक्षण केन्द्र में प्रारंभिक तौर पर 10 बालक और 10 बालिका को प्रशिक्षण दिया जाएगा। साथ ही समय-समय पर उच्चस्तरीय प्रशिक्षक भी प्रशिक्षण केन्द्र में मौजूद रहकर तीरंदाजी की बारीकियां प्रशिक्षणार्थियों को बताएंगे। लइका-जतन ठउर मुख्यमंत्री ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र दुगली में लइका-जतन ठउर का शुभारंभ किया। धमतरी जिला प्रशासन द्वारा कुपोषण दूर करने के लिए यह अभिनव पहल की गई है। कुपोषित बच्चों को सम्पूर्ण उपचार और चिकित्सीय देखरेख के लिए लइका जतन ठउर बनाया गया है। यहां डाॅक्टरों द्वारा कुपोषित बच्चों का वजन मूल्यांकन कर उचित प्रोटीनयुक्त आहार दिया जाएगा। यही नहीं, कुपोषित बच्चों की माताओं को भी बच्चों को दिए जाने वाले भोजन के विषय में प्रशिक्षित किया जाएगा, ताकि जब बच्चे 15 दिनों के उपचार के बाद घर लौटे, तो उनके वजन की वृद्धि के अनुपात में पौष्टिक भोजन तैयार करने में माताओं को सहुलियत हो। इसके अलावा इन बच्चों की आंगनबाड़ी केन्द्रों में भी सतत निगरानी की जाएगी, साथ ही डाॅक्टर्स द्वारा फाॅलोअप भी किया जाएगा, जिससे कि पूरा दुगली सेक्टर कुपोषण मुक्त हो सके। मां अंगारमोती गौठान मुख्यमंत्री ने दुगली में 3.06 एकड़ पर बने मां अंगारमोती गौठान का लोकार्पण भी किया। शासन की महत्वाकांक्षी सुराजी ग्राम योजना के तहत वनाच्छादित ग्राम दुगली में अब यह आदर्श गौठान बनाया गया है। गौरतलब है कि गांव की आराध्य देवी अंगारमोती माता के नाम से स्थानीय परिवेश में स्थानीय संसाधनों से इस गौठान का निर्माण किया गया है। इस गांव में कुल 551 परिवार निवासरत हैं, जिनमें से 208 परिवारों में 620 मवेशी हैं। यहां चारागाह के लिए 10 एकड़ क्षेत्र स्थल प्रस्तावित है। विकास कार्यों का लोकार्पण-भूमिपूजन पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की स्मृति में नगरी विकासखण्ड के वनांचल दुगली में आयोजित ’ग्राम-सुराज एवं वनाधिकार मड़ई में प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने 134 करोड़ 52 लाख रूपए के कुल 121 विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। इनमें 120 करोड़ 95 लाख रूपए के 86 कार्यों का लोकार्पण और 13 करोड़ 57 लाख रूपए के 35 कार्यों का भूमिपूजन शामिल है। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने विभिन्न योजनाओं के तहत् बड़ी संख्या में हितग्राहियों को सामग्री और चेक का वितरण भी किया। मुख्यमंत्री ने जिन पूर्ण हो चुके कार्यों का लोकार्पण किया इनमें मुख्य रूप से 10 करोड़ रूपए की लागत से सोंढूर नदी में मारागांव-गरियाबंद मार्ग पर बने 360 मीटर लंबे उच्च स्तरीय पुल निर्माण और नौ करोड़ 85 लाख रूपए की लागत से खारून नदी पर सेमरा-कौही मार्ग में बने ढाई सौ मीटर लंबे पुल निर्माण कार्य शामिल हैं। इसी प्रकार प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के 18 करोड़ 34 लाख रूपए के तीन कार्य, मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के 10 करोड़ 59 लाख रूपए के छः कार्य, लोक निर्माण विभाग द्वारा नौ करोड़ 95 लाख रूपए के नौ कार्य, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा दो करोड़ 15 लाख रूपए की लागत के पांच कार्य, जनपद पंचायत कुरूद के एक करोड़ 20 लाख रूपए के नौ कार्य, जनपद पंचायत मगरलोड के 87 लाख रूपए के नौ कार्यों, कृषि विभाग के 46 लाख रूपए के दो शामिल हैं। मुख्यमंत्री द्वारा जिन नए स्वीकृत कार्यों का भूमिपूजन किया इनमें मुख्य रूप से कृषि विभाग के चार करोड़ 72 लाख रूपए के 18 कार्य, लोक निर्माण विभाग के चार करोड़ 69 लाख रूपए के पांच कार्य, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के दो करोड़ 79 लाख रूपए के सात कार्य, वन विभाग के 87 लाख रूपए के चार कार्य और ग्रामीण यांत्रिकी सेवा संभाग के 49 लाख रूपए के कार्य शामिल हैं।
  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पहुंचे देवेन्द्र नगर चौक,टी स्टॉल पर ली चाय की चुस्कियां
    रायपुर, 20 अगस्त 2019 / मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज सवेरे यहां सदभावना दिवस के कार्यक्रम के बाद देवेन्द्र नगर चौक पहुंचे।वहां स्थित टी स्टॉल पर उन्होंने चाय की चुस्कियां ली। विधायक श्री कुलदीप जुनेजा भी उनके साथ थे। राज्यसभा संसद श्री पी एल पुनिया और श्रीमती छाया वर्मा , नगरीय विकास मंत्री डॉ शिव डहरिया, विधायक सर्वश्री मोहन मरकाम , सत्यनारायण शर्मा, श्री विकास उपाध्याय, नगर निगम रायपुर के महापौर श्री प्रमोद दुबे भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
  • मुख्यमंत्री श्री बघेल ने श्री परविंदर सिंह होरा के निधन पर दुःख प्रकट किया*
    रायपुर 20 अगस्त 2019/ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने श्री परविंदर सिंह होरा के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। श्री परविंदर सिंह होरा का कल निधन हो गया था। मुख्यमंत्री ने आज सवेरे सदभावना दिवस के कार्यक्रम के बाद पूर्व विधायक श्री गुरुमुख सिंह होरा के देवेन्द्र नगर स्थित निवास पहुंचकर उनसे मुलाकात की और उनके छोटे भाई श्री परविंदर सिंह होरा के निधन पर शोक संवेदनाएं प्रकट की। मुख्यमंत्री ने स्वर्गीय श्री होरा के परिवारजनों से मुलाकात कर उन्हें ढांढस बंधाया। इस अवसर पर नगरीय विकास मंत्री डॉ शिव डहरिया, राज्यसभा सांसद श्री पी.एल. पुनिया और श्रीमती छाया वर्मा, विधायक सर्वश्री सत्यनारायण शर्मा, श्री मोहन मरकाम, श्री कुलदीप जुनेजा, विकास उपाध्याय, नगर निगम रायपुर के महापौर श्री प्रमोद दुबे, पूर्व महापौर श्रीमती किरणमयी नायक भी उपस्थित थीं।
  • बदला और तबादला को ही बदलाव समझ बैठी है कांग्रेस: भाजपा
    रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ने प्रदेश में बढ़ रही आपराधिक वारदातों के मद्देनजर नागरिक सुरक्षा और कानून व्यवस्था के सरकारी दावों पर सवालिया निशान दागा है। श्री उपासने ने कहा कि लगातार बढ़ रहे अपराधों ने पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था की धज्जियाँ उड़ा दी है। भाजपा प्रवक्ता श्री उपासने ने कहा कि दुर्ग, बालोद में व्यापारियों से सरेआम लूट की तीन बड़ी वारदातों से नागरिक सुरक्षा सवालों के दायरे में है। इसी के तुरंत बाद राजधानी में दो दिन में चैन स्नेचिंग की घटी तीन वारदातों ने राजधानी की पुलिसिंग पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। लूट के शिकार लोग अपराधियों से अपनी जान तक खतरे में देख रहे हैं और तमाम तामझाम के बावजूद पुलिस लूट की वारदातों से जुड़े अपराधियों तक तीन दिन बीत जाने के बावजूद नहीं पहुंच पाई है। यह पुलिसिंग सिस्टम की खतरनाक विफलता है। श्री उपासने ने कहा कि प्रदेश में बढ़ रहे अपराध प्रदेश सरकार की विफल कार्यशैली का जीता-जागता सबूत है। दरअसल प्रदेश सरकार पुलिस का इस्तेमाल अपनी बदलापुर की राजनीति के एजेंडे में कर रही है और पुलिस का ध्यान भी अब अपराधों की रोकथाम नागरिक सुरक्षा और कानून व्यवस्था के बजाय सरकार के राजनीतिक प्रतिशोध के एजेंडे पर ही केंद्रित हो गया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ को बदलने का दावा कर सत्ता में आयी कांग्रेस सरकार केवल बदला और तबादला को ही बदलाव मान बैठी है, अफसोसनाक है।
  • परिवहन मंत्री की अध्यक्षता में छत्तीसगढ़ राज्य सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक संपन्न
    रायपुर, 19 अगस्त 2019/ वन और परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर की अध्यक्षता में आज मंत्रालय (महानदी भवन) के समिति कक्ष में छत्तीसगढ़ राज्य सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में सड़क दुर्घटनाओं को रोकने, यातायात नियमों के पालन और सड़कों के रखरखाव पर जोर दिया गया। साथ ही हर माह में एक सप्ताह सघन जांच अभियान चलाने का निर्णय लिया गया। यातायात नियमों के उल्लंघन और वाहन चालन में किसी तरह की गड़बड़ी पाए जाने पर वाहन जब्ती तथा ड्राइविंग लायसेन्स के निरस्तीकरण व निलंबन करने के निर्देश दिए गए। बैठक में लोक निर्माण मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू, विधायक श्री कुलदीप सिंह जुनेजा, विधायक श्री रेखचंद जैन, विधायक श्री अरूण वोरा, विधायक श्री प्रकाश नायक, मुख्य सचिव श्री सुनील कुजूर, प्रमुख सचिव परिवहन श्री मनोज पिंगुआ, विशेष पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. विज, सचिव गृह श्री अरूण देव गौतम, अतिरिक्त परिवहन आयुक्त श्री एस.आर.पी कल्लुरी सहित संबंधित विभागीय अधिकारी तथा परिषद के सदस्यगण उपस्थित थे। बैठक में परिषद के सदस्यों द्वारा सड़क सुरक्षा से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से चर्चा की गई। बैठक में यातायात सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह भी निर्णय लिया गया कि वाहनों की जांच के लिए अब प्रत्येक माह एक-एक सप्ताह तक पुलिस तथा परिवहन आदि संबंधित विभागों द्वारा सघन अभियान चलाया जाएगा। इसमें यातायात नियमों के उल्लंघन और वाहन चालन में किसी तरह की गड़बड़ी पाए जाने पर वाहन जब्ती तथा ड्राइविंग लायसेन्स के निरस्तीकरण व निलंबन आदि कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए। यह अभियान आगामी एक सप्ताह के भीतर शुरू कर दिया जाएगा। इसके अलावा बैठक में चर्चा करते हुए निर्देश दिए गए कि प्रदेश में सुरक्षित यातायात के लिए सड़कों में जहां कहीं बड़े व गहरे गड्ढे पाए जाते हैं और उससे दुर्घटना संभावित हो, उसके भराई का कार्य 48 घंटे के भीतर पूर्ण कर लिया जाए। सड़कों के गड्ढों के भराई कार्य का जिम्मा परिवहन विभाग को सौंपा गया है। परिवहन मंत्री मो. अकबर ने बैठक में ड्राइविंग लायसेंस और परमिट के अनुसार बस वाहनों के निर्धारित समय तथा रूट पर चालन पर विशेष निगरानी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने परिवहन विभाग को यह भी निर्देशित किया कि एक ही रूट पर दो बसों के चालन के बीच कम से कम 10 मिनट का अंतराल हो और जारी परमिट के अनुसार बस वाहन का निर्धारित रूट में चालन हो। इस संबंध में जरूरत के अनुसार वीडियोग्राफी कर विशेष निगरानी रखें। इस दौरान लोक निर्माण मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने यातायात सुरक्षा के लिए लोगों को यातायात के नियमों का पालन सहित जागरूक करने के लिए विशेष जोर दिया। उन्होंने वाहनों में ओव्हरलोडिंग पर कड़ी निगरानी रखने तथा सड़कों में यातायात संबंधी संकेतकों को स्पष्ट रूप से दर्शाने के संबंध में भी आवश्यक निर्देश दिए। इसके अलावा नो-पार्किंग स्थल तथा सड़क किनारे बेतरतीब ढंग से वाहन खड़ी करने पर संबंधितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया। बैठक में सुरक्षित यातायात और सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए वाहनों के ओव्हरलोडिंग, नशे में वाहन चालन, वाहन चलाते समय मोबाइल का उपयोग और नाबालिग वाहन चालकों के वाहन चालन पर नियंत्रण आदि विषयों पर विस्तार से चर्चा हुई।
  • गढ़बो नवा छत्तीसगढ़: प्रदर्शनी में छत्तीसगढ़ के गौरवपूर्ण  इतिहास परम्परा और विकास का अदभुत चित्रण
    रायपुर, 19 अगस्त 2019/जनसंपर्क विभाग द्वारा टाउन हाल में लगी प्रदर्शनी के पांचवे दिन आज जे.आर. दानी पूर्व माध्यमिक शाला, फिरतू राम वर्मा शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला और पंडरी तराई पूर्व माध्यमिक शाला तथा राष्ट्रीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रायपुर के 300 विद्यार्थियों ने छायाचित्र प्रदर्शनी का अवलोकन किया। छात्र-छात्राओं ने कहा कि प्रदर्शनी में छत्तीसगढ़ के गौरवपूर्ण इतिहास, परम्परा और विकास का चित्रण एक साथ देखने को मिला। स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों एवम् महात्मा गांधी जी के छत्तीसगढ़ प्रवास के बारे में जानकारी मिली। नई सरकार की नई योजनाओं की महत्वपूर्ण जानकारी मिली। विद्यार्थियों ने कहा कि प्रदर्शनी में बहुत कुछ नया देखने और समझने का अवसर मिला। स्कूली बच्चों ने प्रदर्शनी में सेल्फी लेकर खुशी का इजहार किया। प्रदर्शनी में आज दिन भर लोगों का तांता लगा रहा। सभी ने प्रदर्शनी में दी गई जानकारी को उपयोगी बताया।
  • प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी हेतु गठित विधायकों की राजनैतिक समिति की प्रथम बैठक*
    रायपुर, 19 अगस्त 2019/ छत्तीसगढ़ राज्य में पूर्ण शराबबंदी की अनुशंसा के लिए गठित की गई प्रमुख राजनैतिक दलों के विधायकों की समिति की प्रथम बैठक आज नवा रायपुर के जीसटी भवन में आयोजित की गई। समिति के अध्यक्ष श्री सत्यनारायण शर्मा ने समिति के सदस्यों से पूर्ण शराब बंदी के लिए सुझाव मांगे। बैठक में श्री शर्मा ने कहा कि शराबबंदी के निर्णय को लागू करने के लिए विभिन्न सामाजिक संगठनों के साथ विचार-विमर्श किया जाए और जिन राज्यों में शराबबंदी की गई है वहाँ अध्ययन दल भेंजे जाएं। समिति के सदस्यों ने बैठक में कारगर तरीके से पूर्ण शराबबंदी किए जाने के सम्बंध में अपने-अपने सुझाव दिए। सामाजिक समितियों से शराबबंदी पर चर्चा की जाए एवं सामाजिक स्तर होने वाले कार्यक्रम में शराबबंदी के बने नियम को कड़ाई से पालन करवाया जाए। शराब दुकानों को धीरे-धीरे कम किया जाए, प्रत्येक जिला मुख्यालय में नशा मुक्ति केंद्र खोलने की एवं नशा मुक्ति के लिए रखा गया बजट में वृद्धि करने के सुझाव दिए गए। शराबबंदी हेतु जनजागरण के लिए सिनेमा हाल में विज्ञापन दिखाने, गाँव में डाक्यूमेंट्री फिल्म, नाटक, प्रहसन के माध्यम से शराब पीने से होने वाली हानियों के बारे जानकारी देने। अवैध शराब को पकड़वाने व्यक्ति को प्रोत्साहन राशि देने धार्मिक संस्थाओं का भी शराबबंदी में सहयोग लेने और महिलाओं का इस अभियान के लिए सहयोग हासिल करने जैसे सुझाव दिए गए। बैठक में विभिन्न विषयों पर चर्चा की गई। जिनमें राज्यों में पूर्ण शराबबंदी लागू किए जाने के फलस्वरूप राज्यों के वित्तीय ढांचे, अर्थव्यवस्था पर प्रभाव, शराबबंदी का सामाजिक क्षेत्र में प्रभाव, शराबबंदी लागू करने में आई कठिनाईयां, शराबबंदी के फलस्वरूप राज्यों के कानून व्यवस्था की स्थिति में परिवर्तन-बदलाव, अवैध मदिरा के विक्रय, परिवहन और धारण को रोके जाने संबंधी समानांतर कार्यवाही, अनुसूचित क्षेत्रों में अनुसूचित जनजाति के समुदायों को नियत सीमा तक शराब के निर्माण एवं धारण के छूट पर शराबबंदी के प्रभाव, औचित्य और सफलता, अनुसूचित क्षेत्रों में शराबबंदी के फलस्वरूप उत्पन्न विधिक परिस्थितियां एवं प्रभाव, शराबबंदी के फलस्वरूप जनस्वास्थ्य पर प्रभाव शराबबंदी के फलस्वरूप पूर्व में नियोजित कर्मचारियों का प्रतिस्थापन और पुनर्नियोजन की व्यवस्था बैठक में पूर्ण शराबबंदी के पूर्व राज्य सरकार द्वारा चलाए गए जनचेतना अभियान एवं उसका प्रभाव तथा सामाजिक अंकेक्षण और राज्य सरकार द्वारा पूर्व से संचालित नशामुक्ति केन्द्रों की कार्यप्रणाली एवं उनकी भूमिका आदि विषय शामिल थे। सचिव सह आयुक्त आबकारी श्री निरंजन दास ने बैठक में बताया कि गुजरात, बिहार, मिजोरम, नागालैंड और केंद्र शासित राज्य लक्ष्यदीप में पूर्णता शराबबंदी है। जबकि कुछ राज्यों में शराबबंदी का निर्णय लिया गया था लेकिन बाद में निर्णय को वापस लिया गया। इस अवसर पर समिति के सदस्य विधायक सर्वश्री शिशुपाल सोरी, कुंवर सिंह निषाद, केशव प्रसाद चन्द्रा, पुरूषोत्तम कंवर, द्वारिकाधीश यादव, विधायक श्रीमती रश्मि आशिष सिंह, विधायक श्रीमती संगीता सिन्हा, विधायक श्रीमती उत्तरी गणपत जांगड़े सहित आबकारी विभाग के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।
  • महामहिम राज्यपाल रमेश बैस का अभिनंदन समारोह रायपुर बार एसोसिएशन द्वारा
    छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में त्रिपुरा के महामहिम राज्यपाल रमेश बैस का रायपुर बार एसोसिएशन की तरफ से अभिनंदन किया जा रहा है - रायपुर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष आशीष सोनी सभी पदाधिकारियों अधिवक्ताओं के साथ जिला एवं सत्र न्यायाधीश रामकुमार तिवारी उपस्थित रहे - अपने उद्बोधन में राज्यपाल रमेश बैस ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि वे राज्यपाल के रूप में संवैधानिक जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं जिसके कारण स्वतंत्र रूप से कहीं भी आ जा नहीं सकते उन्होंने कहा कि मुझे आज समझ में आ रहा है कि मजिस्ट्रेट लोग किसी की शादी ब्याह या अन्य कार्यक्रमों में क्यों नहीं आते थे - अपनी भावनाओं को व्यक्त करते हुए रमेश बैस ने कहां कि मैं हमेशा स्वतंत्र घूमने वाला ऐसा लगता है जैसे सोने के पिंजरे में मैं कैद हो गया हूं - ऐसा इस संवैधानिक पद में नियमों के तहत होता है मैं अपने घर में भी स्वतंत्र रूप से आ जा नहीं सकता - रायपुर बार एसोसिएशन ने त्रिपुरा के महामहिम राज्यपाल रमेश बैस को स्मृति चिन्ह देकर उनका अभिनंदन किया | CG 24 News - Lavinderpal
  • इन तीन हस्तियों का सरकारी कार्यालय में नेताओं की तस्वीर लगाना अनिवार्य...राष्ट्रपिता…राष्ट्रपति कोविंद...PM मोदी...जारी किया गया आदेश...

    रायपुर। राज्य शासन द्वारा प्रदेश के समस्त शासकीय कार्यालयों तथा भवनों में राष्ट्रीय नेताओं के चित्र लगाए जाने का निर्णय लिया गया है। इनमें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, वर्तमान राष्ट्रपति, वर्तमान प्रधानमंत्री, स्व. पंडित जवाहरलाल नेहरू, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अब्दुल कलाम आजाद,  इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और डॉ. भीमराव अम्बेडकर के चित्र लगाए जाने हैं। इस संबंध में मंत्रालय (महानदी भवन) के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा परिपत्र जारी कर शासन के समस्त विभाग तथा विभागाध्यक्षों, संभागायुक्त, कलेक्टर और मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत को आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए है। परिपत्र में नेताओं के उल्लेखित नाम उदाहरण स्वरूप दिए गए है।यह आवश्यक नहीं है कि उक्त सभी राष्ट्रीय नेताओं की तस्वीरें कार्यालयों में लगाई जाए। कार्यालय प्रमुख अपने विवेक का अपयोग करते हुए भवन का आकार, उपलब्ध धनराशि और मितव्ययता का ध्यान रखते हुए उपरोक्त राष्ट्रीय नेताओं में से किन्हीं की भी तस्वीर लगा सकते है, किन्तु राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, वर्तमान राष्ट्रपति, वर्तमान प्रधानमंत्री का चित्र सभी कार्यालयों, नगरीय निकायों, पंचायत कार्यालयों, सर्किट हाउस तथा रेस्ट हाउस इत्यादि में लगाया जाना आवश्यक है। राज्य शासन द्वारा इसके अतिरिक्त छत्तीसगढ़ राज्य के वर्तमान राज्यपाल तथा वर्तमान मुख्यमंत्री की तस्वीरें भी उक्त सभी कार्यालयों में लगाए जाने का निर्णय लिया गया है। 

  • पूर्व पीडब्लूडी मंत्री राजेश मूणत से हिसाब चुकता किया भाजपा प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी ने-कांग्रेस
    छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने भारतीय जनता पार्टी के अंदर हो रही सतही गुटबाजी पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस विधायक विकास उपाध्याय द्वारा पूर्व लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत के कार्यकाल में एक्सप्रेस हाईवे में हुवे भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी जनता के समक्ष उजागर करने के लिये थाने में रमन सरकार के पूर्व लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत के खिलाफ नामजद आवेदन प्रस्तुत करके आरोपी बनाने के आवेदन प्रस्तुत किया और रमन सरकार के समय के कमीशन खोर अधिकारियों पर भी जांच करके कड़ी कार्यवाही करने हेतु आवेदन पुलिस विभाग को दिया है। प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि आश्चर्य जनक बात है कि जिस दिन कांग्रेस विधायक विकास उपाध्याय सहित कांग्रेस के कई नेतागण रमन सरकार के समय बने एक्सप्रेस हाईवे में हुवे घोटाले के खिलाफ थाने में आवेदन दे रहे थे उसी दिन भाजपा के मीडिया विभाग के एक कार्यकर्ता जिसके द्वारा पहले एक गरीब निजी कंपनी के कर्मचारी को अपनी गाड़ी के नीचे कुचला फिर पुलिस की एक कर्तव्यनिष्ठ महिला अधिकारी को धमकाने चमकाने लगा और एक पत्रकार द्वारा उसकी गुंडागर्दी उजागर करने की खबर पोर्टल न्यूज़ में लगाई गयी तो पत्रकार को अपमानित करने और उसी पर पुलिस रिपोर्ट करने को आमादा हो गया पर पुलिस की उस कर्तव्यनिष्ठ महिला अधिकारी द्वारा जब निर्दोष पत्रकार पर केस नही दर्ज होने की बात की तो उसे ही भाजपा के मीडिया विभाग के कार्यकर्ता द्वारा धमकाया गया जिसकी शिकायत उस अधिकरी ने की और प्रकरण दर्ज भी करवाया गया पर भाजपा के मीडिया विभाग के सीनियर प्रवक्ता और पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी द्वारा अपने पूर्वमंत्री राजेश मूणत पर लगे गंभीर आरोप पर पलटवार करना उचित नही समझा शायद हो सकता है कि एक्सप्रेस हाईवे में कमीशन खोरी की तनातनी रही होगी और अपने उस मीडिया विभाग के कार्यकर्ता जिस पर एक ही दिन में चार गंभीर धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज हुवा जिस पर एक कर्तव्यनिष्ठ महिला पुलिस अधिकारी को धमकाने-चमकाने के आरोप लगे उसे अपने विज्ञप्ति के माध्यम से निर्दोष साबित करने का कुचसीत प्रयास किया गया भाजपा प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी अपने में भाजपा कार्यकर्ता पर लगे गंभीर धाराओं के तहत दर्ज प्रकरण को खारिज करने की मांग की जो कि न्याय पालिका की व्यवस्थाओं को ही चुनौती देने जैसा ही है। प्रवक्ता विकास तिवारी ने भारतीय जनता पार्टी से पूछा कि क्या कारण है कि भाजपा के मीडिया विभाग द्वारा अपने वरिष्ठ मंत्री पर लगे भ्रष्टाचार और कमीशन खोरी के गंभीर आरोप पर चुप्पी साधना उचित समझा और अपने ही मीडिया विभाग के एक कार्यकर्ता जिस पर एक गरीब कर्मचारी को गाड़ी से कुचलने,पत्रकार पर एफआईआर करवाने और एक कर्तव्यनिष्ठ महिला पुलिस कर्मी को धमकाने चमकाने के दर्ज हुवे गंभीर प्रकरण पर खुलकर बचाव किया गया है। कहि भाजपा प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी ने पूर्वमंत्री राजेश मूणत से अपनी उपेक्षा और नही प्राप्त हुवे कमीशन का बदला तो नही लिया है।
  •  आज दिल्ली दौरे पर सीएम भूपेश बघेल...कांग्रेस के नेताओं से हो सकती है मुलाकात...

    रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रविवार दोपहर करीब तीन बजे दिल्ली के लिए रवाना होंगे। जहां सीएम बघेल कुछ स्थानीय कार्यक्रमों में शामिल होंगे। इस दौरान कांग्रेस के कई बड़े नेताओं से मुलाकात करने की भी संभावना जताई गई है। बता दे कि इससे पहले सीएम भूपेश बघेल पिछले दो दिवसीय बस्तर दौरे से शनिवार को वापस रायपुर लौटे। बस्तर प्रवास के दौरान सीएम भूपेश बघेल ने कई नई योजनाओं का शुभारंभ किया और इलाके की जनता को कई बड़ी सौगातें दी हैं।

Previous123456789...9192Next