Top Story
  • दुर्ग जिले में 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक सम्पूर्ण लॉकडाउन

    दुर्ग जिले में 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक सम्पूर्ण लॉकडाउन
    दुर्ग 02 अप्रैल/ जिले में कोविड संक्रमण की स्थिति को देखते हुये जिला प्रशासन ने 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक सम्पूर्ण जिले में लॉकडाउन का निर्णय लिया है। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने आम नागरिकों से अपील की है कि जिले में संक्रमण के तेज प्रसार को नियंत्रित करने यह बहुत जरूरी है कि लॉकडाउन के माध्यम से कोरोना की गतिशीलता को नियंत्रित किया जाए। इसके लिए नागरिकों का सहयोग बेहद जरुरी है। पूर्व में जिले में लॉक डाउन लगाए गए थे और जन सहयोग से कोरोना की पहली लहर को रोक पाने में सफलता मिली थी। इस बार भी कोविड संकट के दौर में धैर्य की जरूरत है ताकि कोविड संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित किया जा सके। कलेक्टर ने नागरिकों से अपील की है कि घर में रहें, सुरक्षित रहें। पिछली बार की तरह हमने लॉक डाउन में सम्पूर्ण संयम का परिचय दिया तो कोविड की गंभीरता से पूरी तरह से बच सकेंगे। उन्होंने 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी नागरिकों से नजदीकी टीकाकरण केंद्र पहुंचकर टीका लगवाने का आग्रह किया। कलेक्टर ने नागरिकों से अपील की है कि कोरोना के लक्षण उभरते ही टेस्ट कराएं। साथ ही पॉजिटिव आने पर चिकित्सक की सलाह पर कार्य करें। पॉजिटिव मरीज के संपर्क में आने पर भी टेस्ट कराएं। पॉजिटिव मरीजों के आइसोलेशन का पूरा ध्यान रखें।
    कलेक्टर ने कहा है कि जिले के समक्ष यह कठिन परिस्थिति है। यदि इस समय पूरे संयम और दृढ़ता से इस परिस्थिति का मुकाबला किया तो निश्चय ही हम अपने परिवारजनों और प्रियजनों को इस विपदा से सुरक्षित रख सकेंगे।
    उन्होंने कहा कि दुर्ग जिले के नागरिकों ने हमेशा संकट का सामना हिम्मत और धैर्य से किया है। इस बार भी अपने संकल्प से हम इससे विजय प्राप्त करेंगे।

  • Pan-Aadhaar Link : पैन और आधार लिंक न होने पर 31 मार्च के बाद पैन कार्ड हो जाएगा निष्क्रिय और भरना पड़ सकता है 10 हजार रुपये का जुर्माना

    Pan-Aadhaar Link: पैन और आधार को 31 मार्च तक करा लें लिंक, नहीं तो हो जाएगा बेकार : ऐसे चेक करें स्टेटस 

    Pan-Aadhaar Link : पैन और आधार लिंक न होने पर 31 मार्च के बाद पैन कार्ड निष्क्रिय हो जाएगा और 10 हजार रुपये का जुर्माना भरना पड़ सकता है            

     

    Pan-Aadhaar Link: आपके पैन कार्ड का आधार से लिंक होना बहुत जरूरी है क्योंकि 31 मार्च तक अगर आधार-पैन लिंक न हुआ तो पैन कार्ड किसी काम का नहीं रह जाएगा यानी निष्क्रिय हो जाएगा - इसके अलावा आयकर कानून की धारा 272B के तहत अगर तय समय सीमा में आधार के साथ पैन कार्ड को लिंक नहीं कराया गया, तो 10 हजार रुपये की पेनल्टी देनी पड़ सकती है. पैन कार्ड के निष्क्रिय होने का आप पर क्या प्रभाव पड़ेगा, इसका अंदाजा इससे लगा सकते हैं कि बैंक में खाता खोलने, म्यूचुअल फंड या शेयर्स खरीदने, यहां तक की 50 हजार रुपये से अधिक नकद लेनदेन के लिए पैन कार्ड अनिवार्य है. ऐसे में ये सभी काम आप नहीं कर सकेंगे - ऐसे में आप अपने पैन कार्ड का स्टेटस जरूर चेक कर लें कि आपने आधार को इससे लिंक किया है कि नहीं और अगर नहीं किया है तो उसे 31 मार्च तक जरूर कर लें -  

    इस तरह देखें PAN-Aadhaar Link स्टेटस

    • आयकर विभाग की आधिकारिक वेबसाइट www.incometaxindiaefiling.gov.in पर जाएं
    • बाईं तरफ Link Aadhaar का विकल्प मिलेगा, उस पर क्लिक करें -
    • अपने पैन कार्ड-आधार लिंकिंग का स्टेटस देखने के लिए Click here पर क्लिक करें
    • अगले पेज पर पैन और आधार की डिटेल्स भरकर View Link Aadhaar Status पर क्लिक करें
    • अगर आपका पैन और आधार लिंक है तो यहां जानकारी मिल जाएगी और अगर नहीं है तो इसकी भी जानकारी मिल जाएगी
    •  

    PAN को आधार से लिंक करने की प्रॉसेस

    1. SMS के जरिए
    अपने मोबाइल से एक मैसेज भेजकर PAN को आधार से लिंक कराया जा सकता है - आपको UIDPAN 12 अंकों का आधार नंबर 10 अंकों का PAN  लिखकर 567678 या 56161 पर मैसेज करना होगा.
    उदाहरण के लिए, UIDPAN 111122223333 AAAPA9999Q

    2. ऑनलाइन तरीका

    • https://www.incometaxindiaefiling.gov.in/home पर जाएं
    • बायीं तरफ मौजूद क्विक लिंक्स सेक्शन में Link Aadhar पर क्लिक करें
    • अब जो पेज खुलेगा, उसमें PAN, आधार नंबर और आधार पर मौजूद अपना नाम भरना है
    • अगर आपके आधार में केवल जन्म का वर्ष अंकित है तो आपको इस विकल्प पर टिक लगाना होगा- I have only year of birth in Aadhaar card
    • इसके बाद कैप्चा कोड डालें और लिंक आधार पर क्लिक करें
    • इसके बाद एक कन्फर्मेशन पेज खुलेगा, जिसमें शो होगा कि PAN, आधार से सफलतापूर्वक लिंक हो चुका है

    3. ऑफलाइन
    PAN सर्विस प्रोवाइडर, NSDL या UTIITSL के सर्विस सेंटर पर जाकर भी PAN और आधार को लिंक कराया जा सकता है - इसके लिए फॉर्म Annexure-I भरना होगा और कुछ सहायक दस्तावेज जैसे-PAN कार्ड और आधार कार्ड की कॉपी साथ ले जानी होगी. यह प्रक्रिया निशुल्क नहीं है. आपको एक निर्धारित शुल्क देना होगा. यह शुल्क, लिंकिंग के समय PAN या आधार डिटेल में सुधार किया गया है या नहीं, इस पर निर्भर करेगा

     

    बैंक में खाता खोलने, म्यूचुअल फंड या शेयर्स खरीदने, यहां तक की 50 हजार रुपये से अधिक नकद लेनदेन के लिए पैन कार्ड अनिवार्य है

  • *शोले फिल्म के डाकू गब्बर सिंह की खास अंदाज में करोना बचाव की अपील*
    *शोले फिल्म के डाकू गब्बर सिंह की खास अंदाज में करोना बचाव की अपील* *गब्बर* *अरे ओ सांभा , होली कब है - कब है होली ?* *सांभा* सरदार 29 मार्च को - रामपुर जाने की तैयारी करें सरदार ? *गब्बर* *नही : इस बार होली पर हम रामपुर नहीं जाएंगे* *सांभा* क्यों सरदार ? आप तो होली हर साल रामपुर में मनाते हैं , गांव की गोरियों को नचाते हैं, रंग गुलाल के बाद गोलियां चलाते हैं - फिर इस बार क्यों नहीं जा रहे ? क्या पुलिस का डर है ? *गब्बर* ओ सांभा, खबरदार जो पुलिस का डर दिखाया, तू जानता है कि 50 - 50 कोस दूर तक पुलिस, शासन प्रशासन हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सका, गांव वाले हमारी मर्जी से जीवन जीते हैं| शासन - प्रशासन - पुलिस और गांव वालों से हम नहीं डर रहे हैं, वह हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते, *हम तो डर रहे हैं इस खतरनाक करोना से -* *हमें अपनी धाक जमाने में बरसो लग गए और यह कमीना तीन अक्षर का करोना हमारा नाम पूरा मिट्टी में मिलाई दिया -* *हमें तो इस करोना से डर लग रहा है, जो रामपुर तो क्या पूरे देश - दुनिया पर धाक जमा कर बैठ गया है, जाने का नाम ही नहीं ले रहा -* *सुनने में आया है कि यह तीन अक्षर का करोना इतना खतरनाक है कि जो उसके सामने आता है उसे अपनी गिरफ्त में ले लेता है और उनके प्राणों की आहुति चढ़ा देता है |* *गब्बर* कहां है कालिया ? *कालिया* - जी सरदार *गब्बर* *जाओ जाकर गांव वालों को बता दो कि हम इस बार होली खेलने नहीं आ रहे हैं और उन्हें चेता दो कि वह भी अगर अपनी जान की सलामती चाहते हैं तो घर पर ही होली खेले, बड़ा आयोजन ना करें |करोना से जब हम डर रहे हैं तो गांव वाले भी उस से दूरी बनाकर रखें और जो गांव वाला हमारी बात नहीं मानेगा तो उसे करोना तो ले ही जाएगा और जो बच जाएंगे उसे गब्बर मजा चखाएगा - *कालिया* जी सरदार अभी जाता हूं *गब्बर: -* और सुन कालिया तू भी अपना मुंह ढक कर, हाथों में दस्ताने पहनकर ध्यान से जाना और आना, फिर ना कहना कि गब्बर ने बताया नहीं ? समझे *कालिया* जी सरदार समझ गया , जिससे हमारा सरदार डर रहा है उससे तो हमे डरना ही है - *गब्बर* सुनो देशवासियों जब यह गब्बर जो किसी से डरता नहीं, जिसके नाम से दूर-दूर तक लोगों की बोलती बंद हो जाती है वह गब्बर इस करोना से डर कर किसी गांव में नहीं जा रहा, जंगल में, इस बीहड़ में, अपने डेरे पर चुपचाप बैठा है तो आप लोग भी गब्बर की तरह घर पर ही रहें, अति आवश्यक हो वह भी बहाने वाला नहीं तभी बाहर निकले, मुंह पर मास्क लगाएं, आंखों में चश्मा पहने, हाथों में सैनिटाइजर लगाएं और एक दूसरे से 2 गज की दूरी रखकर बातें करें - काम करें और जितनी जल्दी हो सके घर वापस पहुंचे - खुद भी सुरक्षित रहें और साथ ही परिवार एवं समाज को भी सुरक्षित रखकर लंबी उम्र का आनंद ले | *अपनी जान जोखिम में डालने से अच्छा है कुछ महीनों की परेशानी झेलना - करोना गाइडलाइन का पालन करना* Sukhbir Singhotra की तरफ से करोना के खिलाफ जन जागरूकता अभियान 9301094242
  • रात 9 के बाद शहरों में नो मैन्स लैंड - नाइट कर्फ्यू अभी नही.
    रायपुर बिग ब्रेकिंग *मुख्यमंत्री की बैठक में लिया गया बड़ा फैसला.... रात 9 के बाद शहरों में नो मैन्स लैंड होगा लागू... नाइट कर्फ्यू अभी नही...*. रायपुर बिलासपुर दुर्ग , भिलाई राजनांदगांव में समस्या को गंभीरता से लिया गया है... वैक्सीनेशन को बढ़ाना है ... डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की नियुक्ति की जाएगी ...बजट की कोई कमी नहीं होगी .... हॉस्पिटल में बेड और ऑक्सीजन वालों वाले बेड की व्यवस्था की जाएगी... *रात 9 बजे के बाद दुकानें और बाजार बंद होंगे * *होटल रेस्टोरेंट 10 बजे तक चालू रहेंगे* ... होली के बाद होगी बड़ी समीक्षा बैठक, जिसके बाद लिया जा सकता है बड़ा फैसला....
  • *शहीदे आजम सरदार भगत सिंह, राजगुरु व सुखदेव का शहादत दिवस 23 मार्च को
    *शहीदे आजम सरदार भगत सिंह, राजगुरु व सुखदेव का शहादत दिवस -* *पीली पगड़ी, पीला साफा बांधकर किया जायेगा नमन* शहीदे आजम सरदार भगत सिंह, राजगुरु व सुखदेव के शहादत दिवस 23 मार्च को पीली पगड़ी - पीला साफा बांधकर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित कर नमन किया जायेगा। छत्तीसगढ़ सिख समाज के प्रदेश अध्यक्ष सुखबीर सिंह सिंघोत्रा, उपाध्यक्ष बलविंदर सिंह सैनी उर्फ गग्गी, महामंत्री अमरजीत सिंह छाबड़ा ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि शहीदे आजम सरदार भगत सिंह, राजगुरु व सुखदेव के शहादत दिवस 23 मार्च पर हर वर्ष किए जाने वाले कार्यक्रम की कड़ी में इस वर्ष भी छत्तीसगढ़ सिख समाज द्वारा शहीद भगत सिंह के शहादत दिवस पर मुख्यमंत्री निवास के सामने स्थित गौरव पथ पर भगत सिंह चौक पर स्थित उनकी आदमकद प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि शहीद भगत सिंह राजगुरु और सुखदेव को अंग्रेजों द्वारा वसंत ऋतु के समय फांसी दी गई थी और जब उन्हें फांसी के तख्ते पर ले जाया जा रहा था तो उन्होंने बसंत पंचमी के अवसर को ध्यान में रखकर बसंती रंग की पगड़ी पहन कर यह गीत गाया था ( मेरा रंग दे बसंती चोला ओ माए रंग दे बसंती चोला ) छत्तीसगढ़ सिख समाज द्वारा पिछले 25 - 30 वर्षों से गांधी उद्यान के इस चैक पर लगातार उनकी शहादत दिवस एवं उनके जन्मदिवस पर लगातार आयोजन कर उनकी याद को ताजा कर उनके बलिदान को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दी जाती है। नगर निगम द्वारा भी उनके शहादत दिवस पर भगत सिंह चैक पर महापौर, कमिश्नर एवं संस्कृति विभाग के अध्यक्ष सहित अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा उपस्थित होकर उन्हें श्रद्धांजलि दी जाती है। शहीदे आजम सरदार भगत सिंह राजगुरु और सुखदेव के बलिदान को याद करने सुबह से लेकर देर शाम तक अनेक देशभक्त अकेले एवं ग्रुप में आकर उनकी प्रतिमा के सामने फूलमाला पुष्पगुच्छ के साथ मोमबत्ती जलाकर उन्हें सैल्यूट कर उनके बलिदान के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हैं। छत्तीसगढ़ सिख समाज के प्रदेश अध्यक्ष सुखबीर सिंह सिंघोत्रा, उपाध्यक्ष बलविंदर सिंह सैनी, महामंत्री अमरजीत सिंह छाबड़ा ने देशभक्त नागरिकों से अपील की है कि वे 23 मार्च को उनके शहादत दिवस पर पीली पगड़ी या पीला साफा बांधकर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करने और अपनी देशभक्ति का परिचय देने उपस्थित हो। श्रद्धा सुमन का यह कार्यक्रम सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक एवं शाम 5 बजे से रात 8 बजे तक विशेष रूप से किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि 13 अप्रैल 1919 के जलियांवाला बाग मैं सैकड़ों निर्दोष निहत्थे लोगों को जनरल डायर ने गोलियां चलवा कर हत्या कर दी थी जिससे दुख हित होकर सरदार भगत सिंह ने नौजवान सभा की स्थापना की और केंद्रीय असेंबली में 8 अप्रैल 1929 को अंग्रेज सरकार को जगाने प्रतीकात्मक बम फेंका 17 दिसंबर 1928 को लाहौर में अंग्रेज अधिकारी जेपी सांडर्स को मारा और हंसते हंसते फांसी पर झूल गए - आजादी के लिए उनके क्रांतिकारी विचार उनकी जीवनी आदि से आज के बच्चों को अवगत कराने का काम शासन प्रशासन को करना चाहिए जिससे बच्चों में देशभक्ति की भावना जागृत हो और उनमें भी देश हित में कुछ कर गुजरने का भाव पैदा हो। छत्तीसगढ़ सिख समाज के प्रदेश अध्यक्ष सुखबीर सिंह सिंघोत्रा, उपाध्यक्ष बलविंदर सिंह सैनी, महामंत्री अमरजीत सिंह छाबड़ा, इंदरवीर सिंह कोहली, कुलदीप सिंह मोंगा, सुरेंद्र सिंह हंसपाल, सुखदेव सिंह मेहरा सहित सभी सदस्यों ने देशभक्त नागरिकों से अपील की है कि शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को उनके शहादत दिवस पर पीली पगड़ी बांधकर तिलक लगाकर अपनी ओर से उपस्थित होकर श्रद्धांजलि अर्पित करें।
  • प्रधानमंत्री को चाहिए कि वे भारी भीड़ वाली सभाएं ना करें :: जिससे करोना का फैलाव ना हो
    देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गाहे-बगाहे कभी भी दूरदर्शन, टीवी चैनलों पर आकर देश के लोगों को संदेश देते हैं कि मास्क लगाएं, 2 गज दूरी रखें, सैनिटाइजर का उपयोग करें और देशहित में करोना को बढ़ने से रोके, इसके लिए उन्होंने अनेकों बार आम जनता से अपील की है कि करोना गाइडलाइन का पालन करें , घर से बाहर ना निकले, जरूरी हो तभी निकले, परंतु इन सबके बावजूद उनकी खुद की चुनावी सभाओं में हजारों नहीं लाखों ही लाखों भी मतलब 1 - 2 लाख नहीं 4 - 5 लाख की संख्या में लोगों को आमंत्रित कर उन्हें भारतीय जनता पार्टी की रीति नीति को बताने के साथ-साथ विपक्षी दलों की खामियों को उजागर किया जाता है | अब मेरा सवाल यह है कि जो प्रधानमंत्री पूरे देश के नागरिकों को बार-बार करोना गाइडलाइन का पालन करने, मास्क लगाने, सैनिटाइजर लगाने, 2 गज की दूरी रखने, घरों से बिना कारण बाहर न निकलने का आव्हान करते हैं वही प्रधानमंत्री अपनी चुनावी सभाओं में अपने दल के नेताओं द्वारा भीड़ इकट्ठी कर बिना मास्क के, बिना सोशल डिस्टेंसिंग के, लाखों लोगों की भीड़ को चुनावी सभा के रूप में संबोधित करते हैं और उन्हें भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में मतदान करने की अपील करते हैं और इस भारी भीड़ को बिना मास्क, बिना सोशल डिस्टेंसिंग, बिना सेनीटाइजर के देखने के बावजूद और इतनी भारी भीड़ को एक जगह घरों से बाहर बुला कर संबोधित करने के दौरान उन्हें केंद्र की गाइडलाइन का विरोध नजर क्यों नहीं आता ? - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चाहिए कि वह अपने सरकारी आवास पर ही बैठ कर मीडिया में अपनी बात रखकर अपना चुनावी प्रचार, अपना संबोधन, अपना पक्ष रखकर, घर - घर तक पहुंचा देते, ताकि लोग सड़कों पर ना निकलते, घरों से बाहर ना निकले भीड़ में इकट्ठे ना हो और उन तक मतलब आम नागरिक तक, आम मतदाता तक प्रधानमंत्री की बात मीडिया के टीवी चैनलों के माध्यम से पहुंच जाती, परंतु यह आश्चर्य का ही विषय है कि इतने समझदार प्रधानमंत्री अलग-अलग विधानसभाओं में, अलग-अलग प्रदेशों में जाकर भीड़ इकट्ठी कर, करोना महामारी को फैलाने में सहयोग कर गाइडलाइन का उल्लंघन कर रहे हैं - जब देश का सर्वोच्च, प्रमुख, जवाबदार व्यक्ति ही अपनी पार्टी के स्वार्थ के लिए जगह-जगह जाकर चुनावी सभाओं को संबोधित कर करोना गाइडलाइन और कानून का उल्लंघन करेगा तो किस में हिम्मत है कि उन पर या उनकी पार्टी पर या उनके स्थानीय नेताओं पर कोई कार्यवाही करे | बहरहाल हमने अपनी बात रख दी, वह सही है या गलत कह नहीं सकते, परंतु देश के संविधान के अनुसार हमें अपनी राय रखने का अधिकार है, हो सकता है कि हम गलत हो, तो उसके लिए हम संबंधित राजनीतिक पार्टी, संबंधित नेता, संबंधित अधिकारी, सहित देश के सर्वोच्च निर्णय करता सुप्रीम कोर्ट से हाथ जोड़कर माफी भी मांगते हैं और आग्रह करते हैं कि देश में कही भी सार्वजनिक सभाओं, चुनावी भीड़ के कार्यक्रमों भीड़ में चुनावी प्रचार रैलियों आदि पर करोना महामारी के समाप्त होने तक सख्त रोक लगा दें |
  • छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के अंतिम चरण की वोटिंग आज
    प्रदेश के सबसे बड़े व्यापारी संगठन छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के अंतिम चरण की वोटिंग आज रायपुर में देवेंद्र नगर के गुजराती स्कूल में सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक होगी वोटिंग छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के यह चुनाव विधानसभा चुनाव से कुछ बढ़कर ही है, फर्क सिर्फ इतना है कि विधानसभा चुनाव में 90 विधायक पूरे प्रदेश से चुने जाते हैं और उसके लिए प्रत्याशियों को घर घर जाकर अपने पक्ष में मतदान करने की अपील करनी पड़ती है महीनो प्रचार करना पड़ता है और कई तरह के लुभावने वादे भी किए जाते हैं | परंतु छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स एक विशुद्ध व्यापारी संगठन है और इस संगठन के चुनाव में प्रत्याशियों को एक विधानसभा नहीं वरन पूरे प्रदेश में घूम घूम कर हर जिले, हर तहसील के व्यापारियों से मिलकर अपने पक्ष में मतदान करने की अपील करनी पड़ती है| व्यापारियों को प्रत्याशी यह बताने का प्रयास करते हैं कि वह व्यापारी हित में क्या-क्या करेंगे ? विधानसभा चुनावों की तरह इस चुनाव में भी प्रत्याशी घोषणा पत्र के माध्यम से, संकल्प पत्र के माध्यम से व्यापारियों के हित की बात करते हैं | छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के इस बार के चुनाव में व्यापारी एकता पेनल की तरफ से कलश छाप पर योगेश अग्रवाल अध्यक्ष पद के प्रत्याशी हैं : तो दूसरी तरफ जय व्यापार पैनल के दिया छाप पर पूर्व चेंबर अध्यक्ष अमर परवानी के बीच जबरदस्त मुकाबला है | प्रदेश के लगभग सभी जिलों में मतदान हो चुका है और अंतिम चरण का मतदान आज रायपुर में कपड़ा मार्केट के पीछे स्थित गुजराती स्कूल में 4 जिलों के व्यापारियों की वोटिंग से संपन्न होगा | जिसके लिए तमाम तैयारियां पूरी हैं | छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के चुनाव की व्यवस्था देख रहे मुख्य निर्वाचन अधिकारी शिवराज भंसाली के साथ प्रकाश चंद्र गोलछा, विजय जैन इस पूरी व्यवस्था को संभाले हुए हैं | 20 मार्च के इस अंतिम मतदान की तैयारियां लोकसभा, विधानसभा चुनाव के मतदान से कम नहीं है| मतदान के लिए मतदाताओं को अपना पहचान पत्र दिखाना होगा, प्रत्याशियों को अपने अपने चुनावी पंडालों को केंद्र से 100 मीटर की दूरी पर रखना होगा, प्रत्याशियों एवं उनके एजेंटों को विधानसभा की तर्ज पर परिचय पत्र जारी किए गए हैं | अनधिकृत व्यक्ति मतदान परिसर व केंद्र के अंदर प्रवेश नहीं कर पाएगा | मतदान केंद्र के आसपास के क्षेत्र को दोनों प्रत्याशियों ने अपने अपने पोस्टर बेनरो से पाट दिया है |
  • सेमीफाइनल और फाइनल क्रिकेट मैच बिना दर्शकों के कराया जाए - भारी भीड़ से फैलने वाले करोना के प्रकोप को रोकने में सफलता मिल सके
    रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट के अंतिम दो मैचों में आम जनता को स्टेडियम में आने की मनाही कर दी जाए !
    दूसरा सेमीफाइनल और फाइनल क्रिकेट मैच बिना दर्शकों के कराया जाए -
     
    मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर की अवहेलना से करोना गाइडलाइन का पूरी तरह हो रहा उल्लंघन
     
    स्टेडियम में प्रवेश से लेकर मैच खत्म होने के बाद वापसी तक पूरी करोना गाइडलाइन की खुलेआम अवहेलना करते हुए आयोजन समिति द्वारा धज्जियां उड़ाई जा रही
     
    क्रिकेट आयोजन समिति सहित प्रदेश सरकार करोना के प्रकोप को रोकने आगे आकर कड़ा निर्णय ले |
    देश सहित छत्तीसगढ़ में बढ़ते करोना के प्रकोप को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों को वर्चुअल बैठक के माध्यम से सचेत करते हुए करोना महामारी की रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाने के निर्देश सभी मुख्यमंत्रियों को दिए हैं |
    *छत्तीसगढ़ में करोना महामारी का प्रकोप फिर से एक बार प्रदेशवासियों को घेर रहा है*
    *केंद्र एवं राज्य शासन के सभी प्रयास फिर से एक बार विफल हो रहे हैं -*
    *आम जनता - नागरिक गाइडलाइन का पालन करने में कोताही बरत रहे हैं -*
    बड़े आयोजनो, शादी ब्याह, जन्मदिन, सालगिरह की पार्टी में मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर की अवहेलना से करोना गाइडलाइन का पूरी तरह उल्लंघन हो रहा है |
    उसी कड़ी में राज्य शासन भी एक कदम आगे बढ़कर करोना गार्डलाइन की अवहेलना करते हुए महामारी को बढ़ाने में आगे है |
    *छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के अंतरराष्ट्रीय शहीद वीर नारायण सिंह क्रिकेट स्टेडियम में 5 मार्च से 21 मार्च तक रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट टूर्नामेंट इस महामारी के फैलाव का मुख्य कारण बन रहा है*
    60 हजार की दर्शक क्षमता वाले इस अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में 30 से 50 हजार के बीच क्रिकेट प्रेमी दर्शक लगातार मैच का आनंद लेने पहुंच रहे हैं |
    परंतु देखने में आ रहा है कि स्टेडियम में प्रवेश से लेकर मैच खत्म होने के बाद वापसी तक पूरी करोना गाइडलाइन की खुलेआम अवहेलना करते हुए आयोजन समिति द्वारा धज्जियां उड़ाई जा रही है |
    इसके लिए मुख्य रूप से प्रदेश शासन भी जिम्मेदार है !  क्रिकेट के अंतिम दो मैचों में आम जनता को स्टेडियम में आने की हो मनाही 
    *यहां यह बात भी बताना जरूरी है कि इस विशाल स्टेडियम में दर्शकों के लिए लगी कुर्सियों सहित स्टेडियम को कभी भी सैनेटाइज नहीं किया जा रहा |*
    स्टेडियम की कुर्सियां गंदी मंदी धूल से भरी इस बात को प्रमाणित करती हैं की स्टेडियम को सैनेटाइज नहीं किया जा रहा है साथ ही स्टेडियम की साफ सफाई पर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है यहां की सफाई व्यवस्था लचर है |
    *दर्शकों को प्रवेश के दौरान सैनिटाइजर, पानी, पेन, सिक्के ले जाने की भी अनुमति नहीं दी जा रही - परंतु वहीं दूसरी ओर स्टेडियम के अंदर वह सब चीजें उपलब्ध है जिसे अंदर ले जाने की मनाही है , गुणवत्ता हीन खाद्य पदार्थ, खुले समोसे, आलू गुंडे, भजिए, पॉप कार्न 5 से 10 गुना ज्यादा कीमत पर बेचे जा रहे हैं |
    15 रुपए में मिलने वाली पानी की बोतल 50 रुपए में और कोल्डड्रिंक महंगे दामों में बेचकर उपभोक्ता कानून का उलंघन किया जा रहा है |
    परंतु इनकी जांच के लिए वहां पर फूड विभाग के अधिकारी या अन्य कोई सक्षम अधिकारी मॉनिटरिंग के लिए उपलब्ध नहीं है आखिर इन सब खामियों के लिए कौन है जिम्मेदार ?
    *आयोजन समिति सहित प्रदेश सरकार को चाहिए कि रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज के अंतिम दो मैचों में आम जनता को स्टेडियम में आने की मनाही कर दी जाए ! तथा दूसरा सेमीफाइनल और वर्ल्ड सीरीज का फाइनल मैच बिना दर्शकों के कराया जाए*
    जिससे इस विशाल स्टेडियम में होने वाली भारी भीड़ से फैलने वाले इस प्रकोप को रोकने में सफलता मिल सके -
    *अब देखने वाली बात यह है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनके अधीन काम करने वाले अफसर कोई ठोस निर्णय लेकर करोना महामारी को फैलने से रोकने के बारे में क्या कदम उठाते हैं ?*
  • श्रीचंद सुंदरानी के सिंधी भाषा में वायरल वीडियो से आक्रोश - छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स चुनाव

    छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स की चुनावी प्रक्रिया -

    छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स की चुनावी प्रक्रिया चालू है, मतदान में व्यापारी बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं | मुख्य प्रत्याशी अमर परवानी और योगेश अग्रवाल के बीच कड़ी टक्कर है | चेंबर चुनाव में अध्यक्ष पद के दोनों ही प्रत्याशी अपनी अपनी जगह दमदार हैं| अमर परवानी छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं और वर्तमान में कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं | वहीं दूसरी तरफ योगेश अग्रवाल राइस मिल एसोसिएशन - छौलीवुड फिल्म एसोसिएशन के अध्यक्ष के साथ-साथ चेंबर की राजनीति में भी लगातार सक्रिय रहे हैं | दोनों ही प्रत्याशियों ने पूरे प्रदेश में धुआंधार प्रचार कर अपनी-अपनी जीत पक्की करने का भरपूर प्रयास किया है एवं मतदान केंद्रों पर अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर अपने-अपने पक्ष में ज्यादा से ज्यादा मतदान कराने का भरपूर प्रयास कर रहे हैं | यहां यह बताना भी उल्लेखनीय है कि वर्तमान अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा का पूरा कार्यकाल विवादों में रहा है और चेंबर की गतिविधियों से व्यापारी खुश नहीं हैं |

    'छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स को मजबूत करने वाले पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी की भूमिका भी इस बार विवादास्पद है और यह विवाद उनके गुट के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है | उल्लेखनीय है कि हाल ही में श्रीचंद सुंदरानी ने सिंधी भाषा में एक वीडियो जारी कर सिंधी व्यापारियों को व्यापारी एकता पैनल के पक्ष में सहयोग करने की अपील कर आकर्षित करने का प्रयास किया |

    सूत्रों के अनुसार श्रीचंद सुंदरानी द्वारा वर्ग विशेष के व्यापारियों को आकर्षित करने का उनका यह प्रयास अन्य समाज के व्यापारियों में आक्रोश का कारण बन गया , अनेक व्यापारी इस बात से नाराज हैं कि छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स का व्यापारी एकता पैनल क्या सिर्फ सिंधियों का प्रतिनिधित्व करता है ? अन्य समाज के व्यापारी क्या व्यापारी नहीं है ? क्या चेंबर के सदस्य नहीं है ? और यही आक्रोश एकता पेनल के लिए खतरा साबित हो सकता है !

    CG 24 न्यूज़ ने जब श्रीचंद सुंदरानी के सिंधी समाज के पक्ष में सिंधी भाषा में वायरल वीडियो के बारे में छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजेंद्र जग्गी से अभिमत पूछा तो उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स में श्रीचंद सुंदरानी की जमीन खिसक चुकी है, भारतीय जनता पार्टी के साथ-साथ समाज में भी उनकी पकड़ कमजोर होती जा रही है, इसलिए सुंदरानी सिंधी व्यापारियों के बीच भाषाई इमोशनल गेम खेलकर सिंधी व्यापारियों को आकर्षित करने का प्रयास कर रहे हैं |

    राजेंद्र जग्गी का कहना है कि व्यापारियों की कोई जात नहीं होती और ना ही उनकी कोई राजनीतिक पार्टी होती है, उनके अनुसार श्रीचंद सुंदरानी के सिंधी भाषा के वायरल वीडियो से नाराज सभी व्यापारियों का झुकाव जय व्यापार पैनल के प्रत्याशी अमर परवानी की तरफ बढ़ रहा है, जय व्यापार पैनल सभी व्यापारियों को एक नजर से देखता है |

    यहां विशेष उल्लेखनीय बात यह है कि श्रीचंद सुंदरानी ने जब सिंधी भाषा में व्यापारी एकता पेनल के योगेश अग्रवाल को वोट देने की अपील की तो अन्य भाषाओं में अन्य व्यापारियों के लिए अपील क्यों नहीं की ? अब देखने वाली बात यह है कि मतदान का रुझान मत पेटी खुलने के बाद किसे छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स का अध्यक्ष बनाता है | *CG 24 News-Singhotra*

  • *बेरोजगारों के लिए सुनहरा अवसर* *15 मार्च को विभिन्न पदों के लिए प्लेसमेंट कैम्प का आयोजन*
    *बेरोजगारों के लिए सुनहरा अवसर* *15 मार्च को विभिन्न पदों के लिए प्लेसमेंट कैम्प का आयोजन* रायपुर 13 मार्च 2021/जिला रोजगार एवं स्वरोजगार मार्गदर्शन केन्द्र, रायपुर द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य के शिक्षित बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से 15 मार्च को रोजगार कार्यालय रायपुर, पुराना पुलिस मुख्यालय परिसर, जी.ई. रोड, रायपुर में ऑनलाईन/ऑफलाईन प्लेसमेंट कैम्प आयोजित किया जाएगा। इस प्लेसमेंट कैम्प के माध्यम से निजी क्षेत्र के नियोजक रॉयल कॉलेज आफ फार्मेसी, रायपुर द्वारा फेक्योलटी टेक्निशियन,फेक्योलटीअग्रेजी फेक्योलटी इंचार्ज, प्लेसमेंट कोर्डीनेटर, मार्केटिंग एक्सीक्यूटिव, लेबोरेटरी टेक्निशियन एवं प्यून के 19 पदों पर भर्ती की जाएगी। इन पदों पर न्यूनतम बी.एस.सी. एवं एम.एस.सी. बायोलॉजी, बी.ए. अग्रेजी, बी.बी.ए. और एम.बी.ए.. डी.फार्मेसी. दसवी. एवं बारहवी उत्तीर्ण अनुभवी अभ्यर्थियों की भर्ती की जानी है। उक्त पदों पर भर्ती हेतु इच्छुक आवेदक निर्धारित अंतिम तिथि 15 मार्च तक लिंक shorturl.at jsDKP के माध्यम से अपनी शैक्षणिक एवं तकनीकी शिक्षा संबंधी विवरणी भेज सकते है। आवेदक को लिंक के माध्यम से आवेदन करना अनिवार्य है। इन पदों के लिए पृथक से प्लेसमेंट कैम्प का फार्म वितरित नहीं किया जायेगा। लिंक के माध्यम से आवेदन किये आवेदकों को ही साक्षात्कार का अवसर प्लेसमेंट कैम्प की तिथि15 मार्च को प्रदान किया जाएगा।साक्षात्कार में उपस्थित होने वाले आवेदको को सोशल डिस्टेंटिंग का पालन अनिवार्यतः करना होगा।
  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीजेपी पर साधा निशाना
    रायपुर ब्रेकिंग मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीजेपी पर साधा निशाना प्रदेश प्रधान के दौरे और भाजपा की मैराथन बैठकों पर कहा प्रदेश प्रभारी पुरंदेश्वरी आ रही है फिर से हंटर लगाएंगी विधानसभा में पूरा सत्र बीजेपी नहीं चला पाई है उसके पीछे भी बीजेपी ही है *इन्हे फिर से हंटर पड़ेगा और ये मानने वाले लोग नहीं हैं* इनके भीतर गुटबाजी है नेता प्रतिपक्ष को विधायक अपना नेता नहीं मानते बीजेपी कई गुटों में बटा हुआ है
  • बैंक धोखाधड़ी से बचने के सरल उपाय
    बैंक यूजर्स अलर्ट रहें, अगर आपको यह संदेश ईमेल या फोन पर मिला है, तो आपका बैंक खाता खाली हो सकता है -* ऑनलाइन फ्रॉड हैकर्स लोगों को शिकार बनाने के लिए कई तरह के हथकंडे अपना रहे हैं। नेट बैंकिंग और डिजिटल लेनदेन के बढ़ने के साथ, ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलों में भी वृद्धि हुई है। अपने ग्राहकों को ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचाने के लिए बैंकों द्वारा ग्राहकों से ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचने का अनुरोध किया गया है कि मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, हमें जानकारी मिली है कि साइबर अपराधी एक इनाम बिंदु के लिए ग्राहकों के फोन नंबर पर संदेश भेज रहे हैं। एसएमएस में, वे एक लिंक पर क्लिक करके रिवार्ड पॉइंट इकट्ठा करने के लिए कह रहे हैं, और इसके बहाने वे ग्राहकों से अपना संवेदनशील डेटा एकत्र कर रहे हैं। *अपनी जानकारी किसी से साझा न करें* बैंको ने अपने ग्राहकों को आगाह किया कि वे अपनी संवेदनशील जानकारी जैसे कि डेबिट कार्ड नंबर, पिन, ओटीपी, सीवीवी और पासवर्ड किसी को भी न बताएं। *एसएमएस और ईमेल के माध्यम से आए किसी भी लिंक पर क्लिक न करें।* *बैंक कभी भी फोन, एसएमएस और ई-मेल के जरिए ग्राहकों की व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगते है।* ऐसे लिंक्स से सावधान रहें। बैंको के अनुसार धोखाधड़ी वाले संदेशों से सावधान रहें। सतर्क रहें और सुरक्षित रहें। इन शहरों के लोग हैकर्स के निशाने पर हैं हैकर्स ने कई उपयोगकर्ताओं को संदेहास्पद टेक्स्ट मैसेज भेजे, जिसमें उन्हें (क्रेडिट प्वाइंट) भुनाने का अनुरोध किया गया जाता है| हैकर्स द्वारा भेजे गए ई-मेल पर क्लिक करने पर, उपयोगकर्ता एक फर्जी वेबसाइट पर पहुंच जाते हैं। इसके बाद, उन्हें इस फर्जी वेबसाइट पर व्यक्तिगत या बैंक खाते की जानकारी देने पर भारी वित्तीय नुकसान उठाना पड़ सकता है। CG 24 News