National News
  • बिहार चुनाव : तेजस्वी ने जारी किया RJD का घोषणा पत्र, 10 लाख नौकरी, कर्जमाफी समेत ये किए बड़े वादे
    पटना। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के दावेदार तेजस्वी यादव, मनोज झा सहित कई वरिष्ठ नेताओं ने पटना में घोषणा पत्र जारी किया। 16 पेज के इस घोषणा पत्र को ‘हमारा प्रण’, ‘संकल्प बदलाव का’ नाम दिया गया है। घोषणा पत्र में राजद ने बिहार के बेरोजगार युवाओं को 10 लाख नौकरी देने का वादा दोहराया है। इसके अलावा बेरोजगार युवाओं को 1500 रुपये बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया है। सरकारी नौकरियों का फॉर्म भरने के लिए बिहार के युवाओं को आवेदन शुल्क नहीं देना होगा।इसके साथ ही सरकारी नौकरी में बिहार के युवाओं को तरजीह देने के लिए राज्य सरकार डोमिसाइल पॉलिसी लाएगी। सरकारी नौकरियों के 85 प्रतिशत पद बिहार के युवाओं के लिए आरक्षित होंगे। इसके अलावा किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा की गई है।
  • प्याज की बढ़ती कीमतों पर…केंद्र और राज्य सरकार का…ठनका दिमाग… अब तय हुई ये रणनीति
    देश की राजधानी नई दिल्ली से लेकर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर तक और पूरे देश में प्याज की बढ़ती कीमतों ने सरकार के दिमाग को ठनका दिया है। केंद्र सरकार ने जहां प्याज के स्टॉक लिमिट को लेकर आदेश जारी कर दिए हैं, वहीं छत्तीसगढ़ में भूपेश सरकार ने भी नई रणनीति के तहत प्रदेश की जनता को राहत देने का फैसला किया है। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने एक ट्वीट कर बताया कि प्‍याज के निर्यात पर पाबंदी लगा दी गई है। वहीं, आयात नियमों में भी ढील दी है। उपभोक्ता मामले विभाग की सचिव लीना नंदन के मुताबिक केंद्र सरकार ने स्टॉक लिमिट लागू कर दी है। यह स्टॉक लिमिट होलसेल और रिटेल दोनों प्रकार के कारोबारियों पर 31 दिसंबर तक लागू रहेगी। लीना नंदन ने बताया कि रिटेल कारोबारी 2 टन तक प्याज का स्टॉक रख सकता है। वहीं, होलसेल कारोबारी को 25 टन प्याज का स्टॉक रखने की इजाजत होगी। छत्तीसगढ़ में प्याज को लेकर भूपेश सरकार ने भी बड़े कदम उठाए हैं। उन्होंने तत्काल प्रभाव से केंद्रीय आदेश के मुताबिक कारोबारियों को नियत स्टॉक ही रखने कहा है। वहीं राजधानी से लेकर प्रदेश की जनता को राहत देने के लिए प्रशासनिक स्तर पर प्याज के काउंटर खोले जाने की बात कही है केवल राजधानी में 25 ऐसे काउंटरों को खोला जाएगा जहां पर थोक भाव में उपभोक्ताओं को प्याज की आपूर्ति की जाएगी।
  • Goa जा रही विमान में चिल्लाने लगा एक व्यक्ति- विमान में हैं आतंकी...मचा हड़कंप
    नई दिल्ली। दिल्ली से गोवा जा रही फ्लाइट में यात्रियों के बीच उस वक्त हंगामा मच गया जब यात्रियों के बीच से एक व्यक्ति ने खड़े होकर ये कहना शुरू कर दिया कि, इस फ्लाइट में आतंकी हैं। दिल्ली के जामियानगर निवासी जिया उल हक ने दावा किया कि वह दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल का अधिकारी है। उसके इस दावे के बाद फ्लाइट में हड़कंप मच गया। वहीं जिया उल हक के परिवार वालों का कहना है कि, उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। बताया जाता है कि यह फ्लाइट दिल्ली से गोवा जा रही थी। यह फ्लाइट गुरुवार की दोपहर 3.30 बजे गोवा पहुंची। जिया उल हक को फ्लाइट के गोवा पहुंचने पर हिरासत में ले लिया गया। जिया उल हक के परिजनों का दावा है कि उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। इस संबंध में गोवा पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि जिया उल हक को हिरासत में ले लिया गया है।गोवा पुलिस के मुताबिक जिया उल हक को हिरासत में ही रखा गया है। गोवा पुलिस जिया उल हक से पूछताछ कर रही है। इसके अलावा जिया उल हक की मानसिक स्थिति की पड़ताल करने के लिए उसे मेडिकल जांच के लिए सरकारी अस्पताल ले जाया गया। इसके बाद जिया उल हक को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। जिया उल हक को उपचार के लिए पणजी के समीप मनोविज्ञान एवं मानव व्यवहार संस्थान में भर्ती कराया गया है।
  • बिहार चुनाव: नवादा रैली में बोले तेजस्वी- 9 नवंबर को लालू जी रिहा होंगे और 10 की नीतीश कुमार की विदाई
    बिहार: नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कैमूर जिले के रामगढ़ के बिछिया, चैनपुर, भभुआ के बेलाव व मोहनिया, बक्सर व आरा में सभाओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि नौ नवंबर को लालू यादव की जमानत पर सुनवाई है। उनकी रिहाई होगी और 10 नवंबर को नीतीश कुमार की विदाई होगी। महागठबंधन के मुख्यमंत्री उम्मीदवार तेजस्वी यादव को अपनी जीत पर पूरा भरोसा है। तेजस्वी ने विश्वास जताते हुए कहा, ‘लालू जी 9 नवंबर को रिहा हो रहे हैं। उसी दिन मेरा जन्मदिन भी है और 10 नवंबर को नीतीश जी की विदाई होगी। एक सभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जब लॉकडाउन हुआ तो नीतीश जी कहां थे। शिक्षा, रोजगार का हाल बुरा है। अस्पताल में डॉक्टर नहीं हैं। दवा भी नहीं मिल रही है। नीतीश सरकार के पास न तो कोई मिशन है और न कोई विजन है। उन्होंने 15 साल तक सत्ता सुख भोगने व बिहार के गरीबों को छलने का काम किया है। तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार 15 साल से राज्य के मुख्यमंत्री हैं। केंद्र और राज्य दोनों जगह इनकी सरकार है, लेकिन इस डबल इंजन की सरकार में कहीं भी कोई काम बिना चढ़ावा के नहीं होता है। यादव ने केंद्र और राज्य पर निशाना साधते हुए कहा कि बिहार का 18 जिला बाढ़ में डूबा रहा, लेकिन सेंट्रल की टीम भी नहीं आई। कोई नहीं देखने आया। नीतीश जी 144 दिन तक घर के अंदर रहे, लेकिन अब वोट चाहिए तो बाहर निकल रहे हैं। नीतीश कुमार पलायन को रोक नहीं पा रहे हैं। बिहार का अरबों रुपया बाहर जा रहा है। तेजस्वी ने पीएम मोदी पर भी निशाना साधा और पूछा कि उस विशेष पैकेज का क्या हुआ जिसके लिए आपने पांच साल पहले बिहार की बोली लगाई थी। रोजगार के मुद्दे पर तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश पर पलटवार करते हुए कहा कि नीतीश कुमार कहते हैं कि रोजगार देने के लिए पैसा कहां से आएगा। बिहार का बजट 2 लाख 13 हजार करोड़ है, नीतीश जी केवल 60 फीसदी खर्च कर पाते हैं। बाकी 80 हजार करोड़ तो है ही। इस पैसे से लोगों को रोजगार दें। हमारी सरकार बनी तो हम तुरंत 10 लाख सरकारी नौकरी देंगे। बता दें कि बिहार में 28 अक्तूबर को प्रथम चरण का मतदान, तीन नवंबर को दूसरे चरण का मतदान और सात नवंबर को अंतिम चरण का मतदान होगा। वहीं, नतीजे की घोषणा 10 नवंबर को होगी।
  • बड़ी ख़बर : अब पत्नी देगी पति को गुजारा भत्ता… कोर्ट ने दिया ये फैसला…
    मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फरनगर में फैमिली कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाते हुए पत्नी को आदेश दिया है कि वह पति को गुजारा भत्ता दें. हालांकि, पति कोर्ट के इस फैसले से पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं. उसका कहना है कि पत्नी की पेंशन का एक तिहाई हिस्‍सा उन्‍हें मिलना चाहिए था. दरअसल, खतौली तहसील क्षेत्र के रहने वाले किशोरी लाल सोहंकार का 30 साल पहले कानपुर की रहने वाली मुन्नी देवी के साथ विवाह हुआ था. शादी के कुछ समय बाद ही दोनों में विवाद हो गया. इसके बाद लगभग 10 साल से किशोरी लाल और मुन्नी देवी अलग-अलग रह रहे थे. उस समय पत्नी मुन्नी देवी कानपुर में स्थित इंडियन आर्मी में चतुर्थ श्रेणी की कर्मचारी थीं. कुछ समय पूर्व किशोरी लाल की पत्नी मुन्नी देवी रिटायर्ड हो गई थीं, इसके बाद मुन्नी देवी अपनी 12 हज़ार की पेंशन में अपना गुजर बसर करती आ रही हैं. वहीं, किशोरी लाल भी खतौली में रहकर चाय बेचने का काम करते हैं. 7 साल पहले गुजारा भत्ता के लिए पति ने दायर किया वाद 7 साल पहले किशोरी लाल ने अपनी दयनीय हालत के चलते मुज़फ्फरनगर की फैमिली कोर्ट में गुजारे भत्ते के लिए एक वाद दायर किया था. इसमें फैमिली कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए पत्नी मुन्नी देवी को पति किशोरी लाल सोहंकार को 2 हज़ार रुपये गुजारा भत्ता देने के आदेश जारी किया है. हालांकि, कोर्ट के इस फैसले से किशोरी लाल सोहंकार पूरी तरह संतुष्‍ट नहीं हैं. किशोरी लाल का कहना है कि लगभग 9 साल बाद कोर्ट का फैसला आया है. लोगों से कर्जा लेकर उन्‍होंने केस लड़ा है. लॉकडाउन में भी इधर-उधर से मांग कर अपना इलाज कराया. कभी-कभी जब स्वस्थ रहता तो चाय की दुकान कर लेता हूं, लेकिन अब मैं दुकान करने के काबिल नहीं हूं. लगभग 20 साल से विवाद चल रहा है. एक तिहाई पेंशन की मांग किशोरी लाल ने बताया कि वर्ष 2013 से मामला कोर्ट में है. अब इसमें 2000 प्रतिमाह गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया गया है, जबकि 9 साल से जो मैं केस लड़ रहा हूं. उसका कोई जिक्र नहीं है. कायदा यह है कि एक तिहाई गुजारा भत्ता मिलना चाहिए था, जबकि मुझे 2000 प्रतिमाह मिला है. किशोरी लाल ने कहा कि उनकी पत्‍नी का पेंशन 12000 प्रतिमाह से अधिक है. आने वाले समय में मेरी स्थिति और डाउन हो जाएगी. मैं अपना इलाज भी नहीं करा सकता.
  • बिहार की रैलियों में गरजे PM मोदी...जंगलराज वाले नहीं कर सकते विकास
    पटना। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए चुनावी रैलियाें के सिलसिले में बिहार पहुंचे। उनकी पहली रैली डेहरी ऑन सोन (रोहतास) में हुई। इसके बाद उन्‍होंने गया व भागलपुर में भी जनता से रूबरू हुए। प्रधानमंत्री सहित तमाम बड़े नेताओं की रैलियों के दौरान हमले के खुफिया इनपुट के बाद सतर्क सुरक्षा बलों ने सुरक्षा की कड़ी व्‍यवस्‍था की गई। रोहतास में प्रधानमंत्री के साथ मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मंच साझा किया। वे भागलपुर में भी प्रधानमंत्री के साथ रहे। भागलपुर में पीएम मोदी: एनडीए के विरोधी दल किसानों को नए बिल को लेकर भड़का रहे हैं। सरकारी खरीद पर एनडीए ने जोर दिया है। पशुपालकों और मछली पालकों के लिए पहली बार कार्यक्रम बनाये गए। इंसानों की तरह गौ और पशुपालकों को नंबर दिए गए हैं। इन सुविधाओं के लिए मोबाइल ऐप बनाया गया है।
  • महबूबा मुफ्ती का भड़काऊ बयान, बोलीं- जब तक हमारा झंडा वापस नहीं मिल जाता हम दूसरा झंडा नहीं उठा सकते

    मुफ्ती ने कहा कि तिरंगे के साथ हमारा रिश्ता इस झंडे (जम्मू कश्मीर) से अलग नहीं है. जब यह झंडा हमारे हाथों में आ जाएगा, हम वह झंडा (तिरंगा) भी उठा लेंगे.

    श्रीनगर: पीडीपी चीफ और जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि जब तक उनके हाथ में जम्मू कश्मीर का झंडा नहीं आ जाता तब तक तिरंगा भी नहीं उठाएंगीं.

     

    एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान महबूबा मुफ्ती ने टेबल पर रखे जम्मू कश्मीर के झंडे की तरफ इशारा करते हुए कहा कि जब यह झंडा वापस आ जाएगा तो हम वह झंडा (तिरंगा) भी उठा लेंगे. जब तक हमें हमारा झंडा वापस नहीं मिल जाता हम दूसरा कोई झंडा नहीं उठाएंगे.जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि तिरंगे के साथ हमारा रिश्ता इस झंडे (जम्मू कश्मीर के) से अलग नहीं है. जब यह झंडा(जम्मू कश्मीर) हमारे हाथों में आ जाएगा हम वह झंडा (तिरंगा) उठा लेंगे.

  • महाराष्ट्र: बारिश से प्रभावित किसानों के लिए CM उद्धव ठाकरे ने किया 10 हजार करोड़ रुपये की आर्थिक मदद का एलान

    खेती में होने वाले नुकसान के लिए प्रति हेक्टर 10 हज़ार रुपये की मदद का एलान किया गया है लेकिन 2 हेक्टर की लिमिट भी लगाई गई है. बाढ़ में मरने वाले लोगों के परिजनों, घरों को होने वाले नुकसान के लिए भी मदद देने की बात कही गई है.

    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बे मौसम हुई भारी बारिश से किसानों को हुए नुकसान के लिए 10 हज़ार करोड़ के राहत पैकेज का एलान किया है. खेती में होने वाले नुकसान के लिए प्रति हेक्टर 10 हज़ार रुपये की मदद का एलान किया गया है लेकिन 2 हेक्टर की लिमिट भी लगाई गई है

     

    फलों की खेती को हुए नुकसान के लिए 25 हज़ार रुपये प्रति हेक्टर की मदद दी जाएगी. बाढ़ में मरने वाले लोगों के परिजनों, घरों को होने वाले नुकसान के लिए भी मदद देने की बात कही गई है.

     

    राज्य सरकार की ओर से जारी किए गए पैकेज के अनुसार:
    सड़कों की मरममत के लिए 2635 करोड़
    नगर विकास के लिए 300 करोड़
    ऊर्जा क्षेत्र में हुए नुकसान के लिए 239 करोड़
    सिंचाई के लिए 102 करोड़
    ग्रामीण सड़क, पेयजल के लिए 1000 करोड़
    खेतों को हुए नुकसान के लिए 550 करोड़ रुपये
    कुल 9776 करोड़ रुपये के पैकेज का ऐलान

     

    अब तक मिली जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में 10 लाख हेक्टर की फसल को नुकसान पहुंचा है. अब भी कई जगहों पर पंचनामा जारी है.

     

    बता दें इस मुद्दे पर विपक्ष ने भी उद्धव पर निशाना साधा था. देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को उनके पुराने बयान याद दिलाए थे जिसमें उन्होंने पिछले साल हुए बेमौसम बरसात में प्रति हेक्टर 25 हज़ार रुपये की मदद करने की मांग की थी.

  • बिहार चुनाव: पीएम मोदी बोले- अनुच्छेद 370 और कृषि संबंधी 3 कानूनों के फैसलों पर देश पीछे नहीं हटेगा | पढ़ें 10 बड़ी बातें

    पीएम मोदी ने आज सासाराम, गया और भागलपुर में चुनावी रैलियों को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने अनुच्छेद 370 और कृषि काननों समेत कई मुद्दों पर विपक्ष को निशाने पर लिया.

    पीएम के संबोधन की 10 बड़ी बातें-

     

    1- बिहार में अपनी पहली चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अनुच्छेद-370 और कृषि संबंधी तीन नये कानूनों पर कांग्रेस सहित विपक्ष के रुख की कड़ी आलोचना की और कहा कि देश अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा. मोदी ने आरोप लगाया कि विरोधी दल जब किसानों के लिए कुछ कर नहीं पाए तो अब किसानों से लगातार झूठ बोलने में जुट गए हैं और आज कल ये लोग न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी)को लेकर अफवाहें फैला रहे हैं जबकि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार ने ही एमएसपी बढ़ाने की कार्रवाई की है.

     

    2- उन्होंने कहा कि देश ने किसानों को बिचौलियों और दलालों से मुक्ति दिलाने का फैसला लिया तो ये बिचौलियों और दलालों के पक्ष में खुलकर मैदान में हैं. विपक्ष पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ''मंडी और न्यूनतम समर्थन मूल्य तो बहाना है, असल में दलालों और बिचौलियों को बचाना है.''

     

    3- मोदी ने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले जब किसानों के बैंक खाते में सीधे पैसे देने का काम शुरू हुआ था, तब इन्होंने कैसा भ्रम फैलाया था. कांग्रेस पर परोक्ष प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि जब राफेल विमानों को खरीदा गया, तब भी ये बिचौलियों और दलालों की भाषा बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि यह एनडीए की ही सरकार है जिसने किसानों को लागत का डेढ़ गुना एमएसपी देने की सिफारिश लागू की और सरकारी खरीद केंद्र बनाने और सरकारी खरीद, दोनों पर बहुत जोर दिया.

     

    4- कांग्रेस सहित विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जब ये लोग सरकार में थे, उसकी तुलना में बिहार में ही धान की सरकारी खरीद चार गुना और गेहूं की सरकार खरीद पांच गुना बढ़ी है. उन्होंने कहा, '' इनके पास आज तक इसका जवाब नहीं है कि जब इनकी सरकार थी तब एमएसपी पर फैसला क्यों नहीं लिया? उन्होंने कहा, '' जब-जब, बिचौलियों और दलालों पर चोट की जाती है, तब-तब ये तिलमिला जाते हैं, बौखला जाते हैं. आज हालत ये हो गई है कि ये लोग भारत को कमजोर करने की साजिश रच रहे लोगों का साथ देने से भी नहीं हिचकिचाते.''

     

    5- प्रधानमंत्री ने कहा, ''जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटने का इंतजार देश बरसों से कर रहा था? ये फैसला हमने लिया, एनडीए की सरकार ने लिया.'' उन्होंने विपक्ष पर आरोप लगाया कि आज ये लोग इस फैसले को पलटने की बात कर रहे हैं और ये कह रहे हैं कि सत्ता में आए तो अनुच्छेद -370 फिर लागू कर देंगे. मोदी ने कहा, ''मैं जवानों और किसानों की भूमि बिहार से कहना चाहता हूं कि ये लोग जिसकी चाहें मदद ले लें लेकिन देश अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा.''

     

    6- बिहार के लोगों को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नीत पूर्ववर्ती बिहार सरकार के शासनकाल की याद दिलाते हुए मोदी ने कहा कि बिहार के लोग भूल नहीं सकते वो दिन जब सूरज ढलते का मतलब होता था, सब कुछ बंद हो जाना, ठप्प पड़ जाना. उन्होंने कहा कि उन दिनों सरकार चलाने वालों की निगरानी में दिन-दहाड़े डकैती होती थी, हत्याएं होती थीं, रंगदारी वसूली जाती थी. मोदी ने कहा कि आज बिजली है, सड़के हैं, लाइटें हैं और सबसे बड़ी बात वो माहौल है जिसमें राज्य का सामान्य नागरिक बिना डरे रह सकता है, जी सकता है और अंधेरे से उजाले की ओर बढ़ना इसी को कहते हैं.

     

    7- राजद नेता तेजस्वी यादव के 10 लाख नौकरियों के वादे पर सवाल उठाते हुए मोदी ने कहा कि जिन लोगों ने एक-एक सरकारी नौकरी को हमेशा लाखों-करोड़ों रुपये कमाने का जरिया माना, वो फिर बढ़ते हुए बिहार को ललचाई नजरों से देख रहे हैं. मोदी ने कहा, ''आज बिहार में पीढ़ी भले बदल गई हो, लेकिन बिहार के नौजवानों को ये याद रखना है कि बिहार को इतनी मुश्किलों में डालने वाले कौन थे?''

     

    8- विपक्ष पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि बिहार वो स्थान है जहां लोकतंत्र के बीज बोए गए थे. क्या जंगलराज में कभी भी विकास और लोकतांत्रिक मूल्य फल-फूल सकते हैं? उन्होंने कहा, ''बिहार भ्रष्टाचार मुक्त शासन का हकदार है. इसे कौन सुनिश्चित करेगा? खुद भ्रष्टाचार में लिप्त लोग या भ्रष्टाचारियों से लड़ने वाले लोग?

     

    9- प्रधानमंत्री ने कहा कि अब एनडीए सरकार आदिवासी बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ, उनके लिए घर, उनके लिए रोजगार पर पूरा ध्यान दे रही है. मोदी ने कहा, ''एक बात जो बिहार के लोगों में बहुत अच्छी होती है, वो है उनकी स्पष्टता. वे किसी भ्रम में नहीं रहते.'' उन्होंने कहा कि बिहार के लोगों ने मन बना लिया है, ठान लिया है कि जिनका इतिहास बिहार को बीमारू बनाने का है, उन्हें आसपास भी फटकने नहीं देंगे.

     

    10- प्रधानमंत्री ने कहा कि जितने सर्वेक्षण हो रहे हैं, जितनी रिपोर्ट आ रही हैं, सभी में यही आ रहा है कि बिहार में फिर एक बार राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार बनने जा रही है.

     

    बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव तीन चरणों में, 28 अक्टूबर (71 सीटों), 3 नवंबर (94 सीटों) और 7 नवंबर (78 सीटों) को होगा. मतगणना 10 नवंबर को होगी.

  • ये सैनिटाइजर और मास्क फ्री नहीं दे पाए, टीका क्या देंगे?- Tejashwi Yadav का BJP पर निशाना

    तेजस्वी यादव का नीतीश पर तंज, कहा- कोरोना काल में घर में बंद थे, अब वोट मांगने निकलेतेजस्वी ने आरोप लगाया कि जब लोगों को उनकी जरूरत थी तब वे 'घर में कैद थे' और आज बाहर निकलकर वोट मांग रहे हैं.

    बिहार विधानसभा चुनाव में सत्ता तक पहुंचने के लिए सभी राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है. इसी क्रम में शुक्रवार को महागठबंधन के दो दिग्गज कांग्रेस के राहुल गांधी और राजद के तेजस्वी यादव एक मंच पर पहुंचे और विरोधियों पर जमकर निशाना साधा. नवादा के हिसुआ में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए तेजस्वी ने कोरोना काल के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री आवास से बाहर नहीं निकलने को लेकर आड़े हाथों लिया और करारा सियासी हमला बोला.

     

    तेजस्वी ने आरोप लगाया कि जब लोगों को उनकी जरूरत थी तब वे 'घर में कैद थे' और आज बाहर निकलकर वोट मांग रहे हैं. उन्होंने कहा कि जब प्रवासी मजदूर अन्य राज्यों से लौट रहे थे तब भी कोरोना काल था और आज भी कोरोना काल है. उस समय मुख्यमंत्री घर से नहीं निकले, लेकिन आज जब वोट मांगना हुआ तो रैली कर रहे हैं. उन्होंने कहा, नीतीश कुमार 144 दिनों तक मुख्यमंत्री आवास में बंद थे. लेकिन अब वो घर से बाहर आ गए हैं, क्यों? तब भी कोरोना था, अब भी कोरोना है. लेकिन अब उनको आपका वोट चाहिए, तो उनको बाहर आना पड़ा है.

     

    10 लाख लोगों को रोजगार देंगे- तेजस्वी

     

    आरजेडी नेता ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को अब भी रोजगार नहीं मिला है. आम लोग अभी भी बेरोजगार हैं. तेजस्वी ने भोजपुरी भाषा में लोगों में जोश भरते हुए कहा कि अगर वे सत्ता में आए तो पहली कैबिनेट की बैठक में 10 लाख लोगों को रोजगार देने के प्रस्ताव को मंजूर करेंगे. उन्होंने कहा कि आज बजट की आधी राशि खर्च नहीं की जाती है, वह सब वापस लौट जाता है. उन्होंने कहा कि पर्यटन क्षेत्रों का विकास कर भी रोजगार दिया जाएगा.

     

    इस रैली को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी संबोधित किया और केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा. राहुल गांधी ने कृषि कानूनों को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि ये कानून किसानों पर आक्रमण करने के लिए लाए गए हैं.

  • कपिल देव को पड़ा दिल का दौरा, फैन्स ने मांगी जल्द ठीक होने की दुआ

    कपिल देव राजधानी दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती हैं, यह खबर जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुई वैसे देशभर में लोग कपिल के जल्द स्वस्थ होने की कामना करने लगे.

    भारतीय क्रिकेट के लीजेंड और  साल 1983 में भारत को पहली बार क्रिकेट वर्ल्ड कप जिताने वाली टीम के कप्तान कपिल देव को दिल का दौरा पड़ा है. कपिल देव राजधानी दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती हैं, जहां उनकी एंजियोप्लास्टी सर्जरी हो रही है. कपिल देव की उम्र 61 साल है.

     

    यह खबर जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुई वैसे देशभर में लोग कपिल के जल्द स्वस्थ होने की कामना करने लगे. कांग्रेस सांसद और पूर्व केद्रीय मंत्री शशि थरूर ने ट्वीट किया,  यह जानकर बहुच चिंतित हूं कि लेजेंडरी कपिल देव को हार्ट अटैक आया है और वह इस वक्त अस्पताल में हैं. उनके पराक्रमी हृदय ने भारत को कई मोर्चों पर जीत दिलाई है. मैं कामना करता हूं कि वह यह लड़ाई भी जीतेंगे.

    अस्पताल ने जारी किया बयान 
    फोर्टिस अस्पताल ने बयान जारी कर कहा है कि उनकी स्थिति ठीक है और अगले कुछ दिनों में अस्पताल से छुट्टी दी जाएगी.

     

    फोर्टिस ने कहा, ''क्रिकेटर कपिल देव 23 अक्टूबर को रात के 1:00 बजे फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट (ओखला रोड) लाया गया. उन्हें सीने में दर्द की शिकायत थी. रात में ही एंजियोप्लास्टी की गई.''

     

    अस्पताल ने कहा, ''वर्तमान में, वह आईसीयू में भर्ती हैं और डॉ अतुल माथुर और उनकी टीम की निगरानी में हैं. कपिल देव अब स्थिर हैं और उन्हें कुछ दिनों में छुट्टी मिलने की उम्मीद है.''

  • Bihar Election 2020: सासाराम में बोले पीएम मोदी- बिहार के लोग कन्फ्यूज नहीं...फिर बनेगी NDA सरकार
    नई दिल्ली। बिहार के सियासी रण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) उतर चुके हैं। सासाराम में पहली चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने स्वर्गीय रामविलास पासवान और स्वर्गीय रघुवंश प्रसाद सिंह को याद किया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरूआत भोजपुरी से की। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि बिहार के लोग बड़े स्पष्ट होते हैं। मैं आपको बधाई देना चाहता हूं कि आपने चुनाव के इतने दिन पहले ही रूख स्पष्ट कर दिया है। जितने भी सर्वे आ रहे हैं सबमें यही बात है कि बिहार में एक बार फिर एनडीए की सरकार आ रही है।केंद्र सरकार ने स्वामित्व योजना की शुरुआत की है। इस योजना में सब कुछ टेक्नोलॉजी के माध्यम से हो रहा है। सारी कार्यवाही के बाद गांव के लोगों को, हर एक नागरिक का उनके घर का, उनकी जमीन का स्वामित्व कार्ड दिया जा रहा है। सुविधा के साथ-साथ बिहार के सभी वर्गों को अधिक से अधिक अवसर देने के लिए ठोस प्रयास किए जा रहे हैं। दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों को मिलने वाले आरक्षण को अगले 10 साल तक के लिए बढ़ा दिया गया है। साथियों आज NDA के सभी दल मिलकर आत्मनिर्भर, आत्मविश्वासी बिहार के निर्माण में जुटे हैं। बिहार को अभी भी विकास के सफर में मीलों आगे जाना है। नई बुलंदी की तरफ उड़ान भरनी है। जब बिहार के लोगों ने इन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया, नीतीश जी को मौका दिया तो ये बौखला गए। इसके बाद दस साल तक इन लोगों ने यूपीए की सरकार में रहते हुए बिहार पर, बिहार के लोगों पर अपना गुस्सा निकाला। बिहार के विकास की हर योजना को अटकाने और लटकाने वाले ये लोग हैं जिन्होंने अपने 15 साल के शासन में लगातार बिहार को लूटा। आपने बहुत विश्वास के साथ सत्ता सौंपी थी लेकिन इन्होंने सत्ता को अपनी तिजोरी भरने का माध्यम बना लिया। जब बिहार के लोगों ने इन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया, नीतीश जी को मौका दिया तो ये बौखला गए। इसके बाद दस साल तक इन लोगों ने यूपीए की सरकार में रहते हुए बिहार पर, बिहार के लोगों पर अपना गुस्सा निकाला। बिहार के विकास की हर योजना को अटकाने और लटकाने वाले ये लोग हैं जिन्होंने अपने 15 साल के शासन में लगातार बिहार को लूटा। आपने बहुत विश्वास के साथ सत्ता सौंपी थी लेकिन इन्होंने सत्ता को अपनी तिजोरी भरने का माध्यम बना लिया। मैं बिहार की भूमि से इन लोगों को एक बात स्पष्ट कहना चहता हूं- ये लोग जिसकी चाहे मदद ले लें, देश अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा। भारत अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा। इन लोगों को आपकी जरूरतों से कभी सरोकार नहीं रहा। इनका ध्यान रहा है अपने स्वार्थों पर, अपनी तिजौरी पर। यही कारण है कि भोजपुर सहित पूरे बिहार में लंबे समय तक बिजली, सड़क, पानी जैसी मूल सुविधाओं का विकास नहीं हो पाया। जम्मू कश्मीर से आर्टिकल-370 हटने का इंतजार देश बरसों से कर रहा था या नहीं। ये फैसला हमने लिया, एनडीए की सरकार ने लिया। लेकिन आज ये लोग इस फैसले को पलटने की बात कर रहे हैं। ये कह रहे हैं कि सत्ता में आए तो आर्टिकल-370 फिर लागू कर देंगे।