National News
  • Uttar Pradesh: अमित शाह ने लखनऊ में किया फॉरेंसिक साइंस इंस्टीट्यूट का शिलान्यास, 5 बार योगी का नाम लेकर फूंका चुनावी बिगुल
    लखनऊ। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने आज लखनऊ के सरोजनीनगर इलाके में यूपी स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिक साइंसेज का शिलान्यास किया। उन्होंने इस मौके पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की जमकर तारीफ की और 5 बार उनका नाम लेते हुए अपने भाषण में विपक्ष पर जमकर हमला बोला। इस तरह शाह ने सीधे-सीधे यूपी में बीजेपी के लिए चुनावी बिगुल भी फूंक दिया। Amit Shah Yogi Adityanath अमित शाह ने शिलान्यास के बाद मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना के कारण वह काफी वक्त बाद लखनऊ आए हैं और यहां आकर उन्हें खुशी हो रही है। उन्होंने इस मौके पर बीजेपी के पक्ष में चुनावी शंखनाद भी किया। अमित शाह ने कहा कि वह 2017 से पहले यूपी के हर जिले में गए। पश्चिमी यूपी का उदाहरण देते हुए शाह ने कहा कि वहां 2017 से पहले लोग डर की वजह से घर छोड़कर चले जाते थे। महिलाओं से अपराध होता था। गोलियां खुलेआम चलती थीं, लेकिन योगी सरकार ने वहां हालात को बदल दिया।
  • E-Rupee: कल से आपको मिलेगा डिजिटल पेमेंट करने के लिए नया प्लेटफॉर्म, PM मोदी करेंगे शुरुआत
    नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद पीएम नरेंद्र मोदी के निर्देश पर डिजिटल पेमेंट के लिए कई प्लेटफॉर्म शुरू हुए थे। सरकारी के अलावा इनमें निजी कंपनियों की भी भागीदारी है। अब मोदी सरकार एक नया डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म लाने जा रही है। इसका उद्घाटन सोमवार को होगा। जानकारी के मुताबिक इस डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म का नाम ‘ई-रुपी’ रखा गया है। सोमवार को पीएम मोदी इस प्लेटफॉर्म का उद्घाटन करने जा रहे हैं। इसके जरिए हर तरह का पेमेंट ऑनलाइन किया जा सकेगा। इसका इंटरफेस आम लोगों के लिए काफी सरल भी रखा गया है। ताकि कम पढ़े लिखे लोग भी इसके जरिए पेमेंट कर सकें। मोदी सरकार का इरादा देश में डिजिटल यानी कैशलेस पेमेंट को बढ़ावा देने का है। सरकार चाहती है कि अगले साल तक करीब 25 लाख करोड़ का लेन-देने कैशलेस हो। साल 2019 तक कैशलेस पेमेंट में काफी तेजी आई थी। उस साल करीब 10 लाख करोड़ का लेन-देन कैशलेस किया गया था। फिर कोरोना की लहर आने के बाद लोगों ने कामकाज के लिए कैश निकालना शुरू कर दिया और कैशलेस पेमेंट घट गए। अब सरकार का इरादा इसे फिर बढ़ावा देने का है। सरकार इस योजना के तहत निजी पेमेंट गेटवे को प्रमोट करने और इन्हें चलाने वाली कंपनियों को कई तरह की छूट देने पर भी विचार कर रही है। इस तरह की योजना जल्दी लाई जा सकती है। फिलहाल सरकार का भीम एप है और यह बेहतरीन डिजिटल पेमेंट गेटवे का काम करता है। इसी तरह के और डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म लाने का इरादा सरकार का है। ताकि बेंकों में चेक या एटीएम के जरिए लोग लेन-देन कम करें। डिजिटल पेमेंट से रकम कौन किसे दे रहा है, इसकी भी जानकारी सरकार को रहेगी। ऐसे में कालाधन पर रोक लगाने के मोदी सरकार के इरादे को भी यह सपोर्ट करता है।
  • Amit Shah: आज यूपी के दौरे पर आ रहे हैं गृहमंत्री अमित शाह, जानिए कहां है उनका कौन सा कार्यक्रम
    लखनऊ। गृहमंत्री अमित शाह एक दिन के दौरे पर आज यूपी आ रहे हैं। वह लखनऊ के अलावा वाराणसी और मिर्जापुर भी जाएंगे। मिर्जापुर में वह चुनावी शंखनाद करते हुए एक जनसभा भी करेंगे। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले यह शाह की पहली जनसभा होगी। लखनऊ में अमित शाह सरोजनीनगर इलाके में 50 एकड़ जमीन पर बनने वाले यूपी स्टेट फॉरेंसिक साइंस इंस्टीट्यूट का शिलान्यास करेंगे। यह इंस्टीट्यूट अपराध की वैज्ञानिक तरीके से जांच करने वाला आधुनिक तकनीकी से लैस केंद्र होगा। इस केंद्र के शुरू होने पर हर तरह के अपराध की जांच हो सकेगी। इंस्टीट्यूट की खास बात यहां बनने वाला सेंटर ऑफ एक्सेलेंस फॉर डीएनए होगा। गुजरात के गांधीनगर स्थित नेशनल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी NFSU के सहयोग से 5 एकड़ जमीन पर यह सेंटर बनेगा। इस सेंटर के बनने से जिन अपराधों में डीएनए प्रोफाइलिंग या डीएनए मैचिंग की जरूरत होगी, वह किया जा सकेगा। बता दें कि हत्या जैसे मामलों में कई बार डीएनए मैचिंग और प्रोफाइलिंग का सहारा लेना पड़ता है।
  • KISS करते समय आंखें क्यों हो जाती है बंद?  मनोवैज्ञानिकों ने किया खुलासा, सामने आई ये वजह…
    नई दिल्लीः सोशल मीडिया में आपने एक दूसरे को किस करते हुए कई तस्वीरें देखी होगी. इन तस्वीरों में से कई को हम अपने सोशल मीडिया पर शेयर भी करते है. लेकिन क्या आपने गौर किया है कि इन फोटो में किस करने वाले की आंखें क्यों बंद हो जाती है?. अक्सर यह देखा गया है कि किस करने वालें की आंखें बंद हो जाती है. इसके पीछे की वजह शायद ही कोई जानता हो. पर अब शोधकर्ताओं ने इसके पीछे की वजह पकड़ ली है. जी हां, चुंबन यानि ‘किस’ करते समय हमारी आंखों के बंद होने के पीछे की वैज्ञानिक वजह का पता चल चुका है. वैज्ञानिक कारणः मनोवैज्ञानिकों के अनुसार किस करते समय दिमाग एक साथ दो चीजों पर फोकस नहीं कर पाता. मतलब अगर दिमाग को किस करते समय आंखों के द्वारा प्राप्त संकेतों पर भी ध्यान देना पड़े, तो उसके लिए यह मुश्किल होता है. इससे दिमाग की सेंसेशन प्रक्रिया में बाधा आने लगती है, जिसके कारण आंखें बंद हो जाती है. भावनात्‍मक कारणः किस करके लोग एक दूसरे के करीब होने को महसूस करते हैं और महसूस कराना चाहते हैं. वह किस से अपने पूरे साथ, सहयोग और सुरक्षा का अहसास पार्टनर के भीतर उतार देना चाहते हैं. एक दूसरे में खोकर दुनिया भूल जाना चाहते हैं. आंखे खुली होने पर बाहरी चीजें और आवाजें उनका ध्‍यान भटका सकती हैं इसलिए किस करते समय लोग आंखें बंद कर लेते हैं. रूमानी कारणः बंद आंखों का फायदा ये है कि इस तरह आप लंबे समय तक एक-दूसरे को किस सकते हैं. जबकि आंखें खुली होने पर कोई ना कोई चीज आपका ध्‍यान भटका देगी और वह लम्हा खत्म हो जाएगा. वैसे भी आप इस समय कुछ ओर देखने की बजाए आप उस पल को महसूस करना चाहते हैं इसलिए आंखें बंद करके उसके आनंद को अपने भीतर उतरने देते हैं.
  • Horoscope Today 01 August 2021: मेष, तुला राशि वाले न करें ये काम, 12 राशियों का जानें आज का राशिफल
    Horoscope Today 01 August, Aaj Ka Rashifal, Daily horoscope: 01 अगस्त 2021 का दिन मेष से मीन राशि तक के जातकों के लिए विशेष है. पंचांग के अनुसार आज रविवार को सावन यानि श्रावण मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि है. चंद्रमा का गोचर आज मेष राशि में हो रहा है. आइए जानते हैं आज का राशिफल. मेष- आज दिन की शुरुआत सूर्य उपासना से करना लाभप्रद होगा. अजीविका संबंधी कार्ययोजनाएं बनाते हुए उन्हें लागू करने के लिए गंभीरता बनाए रखें. नौकरीपेशा लोगों को खुद को साबित करने के लिए संघर्ष करना पड़ सकता है. बॉस के साथ व्यर्थ की बहस में नहीं उलझें. पार्टनरशिप में काम कर रहे हैं और कोई नया प्रोजेक्ट हाथ में आया है तो सतर्कता और समर्पण से काम करें. कपड़ा, कॉस्मेटिक और प्लास्टिक के कारोबारियों को अच्छा मुनाफा होगा. स्वास्थ्य में छोटी-मोटी परेशानियों को इग्नोर करें, और बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी दवाई न लें. घर में अनुशासन रखने की जरूरत है. साफ-सफाई और सजावट भी कर सकते हैं. वृष- आज मन में किसी के प्रति कटुता न रखें, जरूरतमंदों के प्रति दया भाव रखकर दिन की शुरुआत करें. कोई जरूरतमंद मदद मांग रहा है तो हर संभव सहायता करें. शोध कार्यों से जुड़े लोगों को बड़ा लाभ मिलने की संभावना है. नौकरीपेशा लोगों के रुके कामों की आज से शुरुआत हो सकती है. व्यापारी वर्ग उत्पाद या प्रतिष्ठान के प्रचार-प्रसार के लिए भी काम करें. युवाओं को मन मुताबिक प्लेसमेंट मिलने की उम्मीद बढ़ रही है. सेहत में महामारी का प्रकोप लौटने की आशंका को देखते हुए बच्चों का विशेष ध्यान रखें. घरेलू मामलों में विवाद की स्थिति में समझदारी दिखाएं. जीवनसाथी की अनदेखी ठीक नहीं होगी. मिथुन- आज के लिए कामकाज को लेकर सक्रियता और सतर्कता से ही सफलता मिलेगी. सहकर्मियों से चौकन्ना रहें. भाग्य के लिहाज से आज अच्छे और बुरे दोनों तरह के परिणाम के लिए सचेत रहें. कामकाज के सिलसिले में लंबी दूरी की यात्रा करनी पड़ सकती है. कारोबारी व्यवहार में कुशलता बनाए रखें, लाभ पाने के लिए इसकी बहुत जरूरत पड़ने वाली है. हेल्थ की बात करें तो आज लंबे समय तक भूखे नहीं रहना है, तो वहीं सजग रहें क्योंकि पुरानी शारीरिक परेशानियां घेर सकती हैं. घर-परिवार में किसी छोटे सदस्य का बर्ताव दुखी कर सकता है. कोशिश करें कि बेवजह के मुद्दों पर बहस न हों. कर्क- आज अगर स्थितियां आपके अनुकूल नहीं दिख रही हैं तो खुद को मौन और संयमित ही रखना लाभकारी होगा. नौकरी से जुड़े लोगों को काम के प्रति फोकस बढ़ाना होगा. जोश और स्फूर्ति में कमी न आने दें. कार्यस्थल पर माहौल अनुकूल बनाने के लिए सहकर्मियों के साथ पार्टी या गेट टू गेदर कर सकते हैं. कारोबारियों को साझेदारी में पारदर्शिता रखनी होगी. बड़ी डील करने जा रहे हैं तो लाभों का आकलन कर लें. युवा वर्ग जिम्मेदारियों के चलते व्यस्त रह सकते हैं. फील्ड में अपडेट रहें. पैरों में दर्द उठ सकता है, ऐसे में मालिश लाभ देगी. ननिहाल पक्ष से शोक समाचार मिलने की संभावना है. सिंह- आज पूरी तन्मयता के साथ अपने सभी काम बिना गलती किए पूरा करें. देर से ही सही, आपके सभी काम पूरे हो जाएंगे. महत्वपूर्ण कामों को जल्दबाजी न दिखाएं. ऑफिस की ओर से मीटिंग की अगुवाई करने का अवसर मिल सकता है. पूरी तैयारी करके जाए. फूड इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के लिए दिन शुभ रहेगा. स्टॉक मेंटेनेंस और रिकवरी संबंधी मामलों में कोई लापरवाही न होने दें. युवा वर्ग सक्रिय बने रहें और वरिष्ठ जनों के संपर्क में बने रहें. स्वास्थ्य में दिक्कत है तो खानपान संबंधी परहेज का सख्ती से पालन करें. आज परिवार के साथ थोड़ा समय बिताएं. मनपसंद व्यंजन का आनंद ले सकते हैं. कन्या- आज के दिन विवेक ही आपकी समझ को बढ़ाएगा और कामकाज के सिलसिले में सफलता मिलेगी. कुछ कठिन मुद्दें हैं तो फैसले समझदारी से लेने होंगे. अपने समय का पूरा उपयोग करें और कोई काम पेंडिंग न छोड़ें. शोध या सैन्य क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए दिन शुभ है, अप्रत्याशित सफलता भी मिल सकती है. विदेश में पढ़ाई या नौकरी खोज रहे लोगों को थोड़ा ठहरना होगा.युवा वर्ग संगीत-कला में रुझान और बढ़ाएं. सेहत में अचानक गिरावट आ सकती है, डॉक्टर से सलाह लिए बगैर दवा इस्तेमाल न करें. जीवनसाथी की तबीयत बिगड़ सकती है. शांति के लिए शाम के वक्त घर में पूजा अनुष्ठान करें. तुला- आज के दिन कोई भी काम बगैर प्लानिंग न करें. कठोर मेहनत का मनचाहा परिणाम मिलने की संभावना बढ़ रही है. घर के लिए कोई इलेक्ट्रॉनिक सामान खरीदना चाह रहे हैं तो दिन बेहद उपयुक्त है. कार्यक्षेत्र में मस्तिष्क का प्रयोग अधिक करना होगा. विरोधियों से भी सचेत रहें. व्यापार में नुकसान की आशंका है, निवेश को लेकर थोड़ा संभल कर चलना होगा. स्वास्थ्य में बदलता हुआ मौसम बीमार कर सकता है, वायरल, डेंगू आदि से बचने के लिए ठंडे या गर्म का सामंजस्य बनाए रखना होगा. परिवार में विवाह योग्य लोगों का रिश्ता तय हो सकता है. विवाह योग्य लोगों को मनपसंद जीवनसाथी मिलने की संभावना है. वृश्चिक- आज के दिन नकारात्मक ग्रह सक्रिय होकर आपसे गलती करवा सकते हैं. खराब प्रदर्शन के असर से तनाव घेर सकता है. मन में असंतोष का भाव विचलित रखेगा. नौकरी के लिए जो लोग विदेश जाना चाहते हैं, उनके लिए जल्द अच्छे मौके आएंगे. कार्यस्थल पर सहकर्मियों से सामंजस्य बिठाने में कठिनाई आ सकती है. कारोबारियों को धन खर्च, निवेश दोनों में फैसला समझदारी से लेना चाहिए. युवा करियर के लिए थोड़ा और गंभीरता से सोचें. स्वास्थ्य की दृष्टि से कमर दर्द उभर सकता है. घर में कोई बीमार है तो सेहत को लेकर परिवार को अलर्ट रहने की जरूरत है. बहन के प्रति स्नेह बढ़ाना होगा. धनु- आज के दिन आपका बेहद व्यस्तता वाला होगा, इसलिए आलस्य बिल्कुल छोड़ दें. कार्यस्थल का माहौल अच्छा रखें. दी गई जिम्मेदारियों पर पूरा फोकस करें. परिश्रम का परिणाम जल्द मिलेगा. बॉस और वरिष्ठजनों से विनम्रता से बर्ताव करें. चमड़े का कारोबार करने वालों को थोड़ी सतर्कता की जरूरत है, नुकसान की आशंका है, लेखन से जुड़े लोगों के लिए भी समय बेहतर है. स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों में त्वचा रोग परेशान कर सकता है. जरूरी होगा कि घरेलू इलाज के बजाय डॉक्टर के सलाह ली जा जाए. आज घर परिवार में बिगड़े संबंधों को सुधारने की कोशिश करें नए रिश्ते भी बनाने का अच्छा समय है. मकर- आज के दिन परिस्थितियां थोड़ा असहज कर सकती हैं. काम बिगड़ने न पाए, इसके लिए मानसिक स्थिरता दिखानी होगी. भावुकता में अगर निर्णय लिया गया तो नुकसान हो सकता है. नौकरीपेशा लोगों को ऑफिस में नियमों का पालन करना जरूरी है. काम पूरी मेहनत और ईमानदारी के साथ करें. इससे ना सिर्फ आय की वृद्धि होगी बल्कि प्रमोशन की भी संभावनाएं दिख रही हैं. कारोबारियों को कोई भी बड़ा निवेश करने से पहले वरिष्ठ जनों से विमर्श करना लाभकारी होगा. कानूनी दांवपेच से बच कर रहें. मां को फिसलने वाली जगह पर सावधानी बरतने की जरूरत है, चोट लगने की आशंका है. कुंभ- आज के दिन अपनी बात रखते हुए सही कम्यूनिकेशन रखें, यह सुनिश्चित करना होगा कि आपकी कही गई बात दूसरों तक सही तरीके से पहुंचे. ऐसा न होने पर हास्य का पात्र बन सकते हैं. आर्थिक स्थिति में मजबूती आने की संभावना है. नौकरी हो या कारोबार जगह महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा के दौरान थोड़ा संयमित रहना होगा. अनायास का सुझाव देना ठीक नहीं. ऑफिशियल कामकाज के दौरान क्रोध पर नियंत्रण रखने की आदत डालें. सरकारी नौकरी के लिए प्रयास कर रहे युवाओं को अभी और मेहनत करने की जरूरत है. लीवर और आंत संबंधी रोग परेशान कर सकते हैं. घर में साफ-सफाई और सजावट पर ध्यान दें. मीन- आज का दिन पूरी तरह उन्मुक्त रहने का है. परिवार के साथ घूमने या खरीदारी के लिए जा सकते हैं. किसी व्यर्थ के मुद्दे पर मूड खराब ना करें. पूरा दिन अच्छा बीतेगा. सरकारी नौकरी कर रहे लोगों को गलतियों से बचने की जरूरत है. पुराने अटके काम भी आज ही निपटाएं. कपड़ा कारोबारियों को अच्छा लाभ होने की संभावना है. युवाओं को वाहन चलाते हुए सतर्क रहना होगा. हाथ में चोट लग सकती है, तो वहीं दूसरी ओर वैश्विक महामारी के प्रति अलर्ट रहने की सलाह है. घर में नल या कोई पाइप लाइन संबंधित काम अटका है तो आज ही ठीक कराएं.
  • Aaj Ka Panchang: पंचांग 1 अगस्त 2021, जानें शुभ मुहूर्त, राहु काल और ग्रह-नक्षत्र की चाल
    पंचांग 1 अगस्त 2021 , रविवार विक्रम संवत - 2078, आनन्द शक सम्वत - 1943, प्लव पूर्णिमांत - श्रावण अमांत - आषाढ़ हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, श्रावण कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि दिन है. सूर्य कर्क राशि में और चन्द्रमा अगस्त 02, 02:23 AM तक मेष राशि उपरांत वृषभ राशि में संचरण करेंगे. आज का पंचांग श्रावण कृष्ण पक्ष अष्टमी कृष्ण पक्ष अष्टमी [ वृद्धि तिथि ] - Jul 31 05:40 AM से Aug 01 07:56 AM नक्षत्र: भरणी आज का दिशाशूल: पश्चिम दिशा । आज का राहुकाल: 5:26 PM से 7:04 PM सूर्य और चंद्रमा का समय सूर्योदय - 6:01 AM सूर्यास्त - 7:04 PM चन्द्रोदय - Aug 01 12:04 AM चन्द्रास्त - Aug 01 1:16 PM शुभ काल अभिजीत मुहूर्त - 12:07 PM से 12:59 PM अमृत काल - 02:12 PM से 04:00 PM ब्रह्म मुहूर्त - 04:25 AM से 05:13 AM योग गण्ड - Jul 31 09:02 PM से Aug 01 10:01 PM वृद्धि - Aug 01 10:01 PM से Aug 02 11:06 PM
  • गृहमंत्री अमित शाह का कल लखनऊ दौरा, यूपी स्टेट फॉरेंसिक साइंस इंस्टीट्यूट का करेंगे शिलान्यास
    लखनऊ। गृहमंत्री अमित शाह कल यानी रविवार को यूपी की राजधानी लखनऊ आ रहे हैं। वह सरोजनीनगर में यूपी स्टेट फॉरेंसिक साइंस इंस्टीट्यूट का शिलान्यास करेंगे। उत्तर भारत में यह अपनी तरह का अकेला फॉरेंसिक साइंस इंस्टीट्यूट होगा। इंस्टीट्यूट को 50 एकड़ जमीन पर बनवाया जाएगा। डीएनए प्रोफाइलिंग के क्षेत्र में यह सेंटर ऑफ एक्सेलेंस के तौर पर देश का अनूठा संस्थान होगा। इस इंस्टीट्यूट में अपराध की जांच के लिए आधुनिक वैज्ञानिक सुविधाएं और तकनीकी होगी। यहां फॉरेंसिक साइंस की शिक्षा के अलावा रिसर्च और ट्रेनिंग भी हो सकेगी। इस इंस्टीट्यूट से यूपी में पुलिसिंग को नई पहचान मिलेगी। यह इंस्टीट्यूट प्रदेश के युवाओं को शिक्षा के अलावा रोजगार के भी बेहतर मौके देगा। यहां से फॉरेंसिक साइंस और आईटी में कोर्स किए जा सकेंगे। इसके साथ अपराधों की वैज्ञानिक विवेचना के लिए संस्थान ट्रेनिंग भी देगा। इस इंस्टीट्यूट का डायरेक्टर एडीजी रैंक के आईपीएस बनाए जाएंगे। यहां गुजरात के गांधीनगर स्थित राष्ट्रीय न्यायालय विज्ञान विश्वविद्यालय यानी NFSU के सहयोग से सेंटर ऑफ एक्सेलेंस फॉर डीएनए भी बनेगा। Amit Shah यूपी सरकार इसके अलावा प्रदेश भर में रेंज स्‍तर पर फॉरेंसिक लैब भी तैयार करा रही है। जिसमें फॉरेंसिक उपकरण और डीएनए लैब होगी। इसमें लखनऊ, गाजियाबाद, गोरखपुर और आगरा में डीएनए लैब शुरू हो चुकी है। इसके साथ कई जनपदों में विधि विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण तेजी से किया जा रहा है।
  • अगर आपके पास है इन नोटों का कलेक्शन तो रातों-रात हो सकते है मालामाल, इस वेबसाइट में जाकर सिर्फ करना होगा ये काम… जानें पूरा प्रोसेस
    नई दिल्ली: अगर आपके पास नोटों (Note)का कलेक्शन करने के शौकीन है तो ये खबर आपके लिए महत्वपूर्ण है. आप के पास रखे नोटों में कीसी भी नोट का नंबर 786 नंबर सीरीज का है तो आप जल्द ही मालामाल हो सकते है. दरअसल, इंडियन करेंसी के रेयर नोटों की बोली ई-बे पर लगती है. इसमें दी गई अलग-अलग शर्तों के हिसाब से इस पर नोटों को बेचा जा सकता है. ई-बे हमेशा नोटों की बोली लगाता रहता है. इसके तहत कोई भी आदमी इसमें हिस्सा ले सकता है. आपके पास ये नोट है तो फटाफट उसे ऑनलाइन नीलामी के लिए इस वेबसाइट में नोटों को बेच सकते है, और इसके बदले लाखों रूपये की अर्निंग कर सकते है.पहले भी 786 डिजिट वाले नोट की बोली में 3 लाख रुपये तक लोगों को मिले हैं. अगर आपको याद हो तो कुली फिल्म में अमिताभ बच्चन के पास 786 नंबर का बिल्ला था. दरअसल, बहुत बड़ी संख्या में लोग 786 को शुभ और भाग्यशाली अंक मानते हैं. ऐसे में हो सकता है कि कोई बोली लगाने वाला आपको मुंह मांगी रकम दे दें. ऐसे बेचें अपने कलेक्शन का ये नोट ऑनलाइन नीलामी के लिए आपको अपने पास मौजूद 786 अंक वाले करेंसी नोट की फोटो क्लिक करनी होगी. इसके बाद बोली लगाने वाली वेबसाइट पर खुद को सेलर के तौर पर रजिस्टर कराना होगा. फिर इस फोटो को साइट पर अपलोड करना होगा. इसके बाद खरीदने के इच्छुक लोग सीधे आपसे संपर्क कर लेंगे. मनमाफिक कीमत तय होने पर आप अपने एंटीक नोट को बायर को बेच सकते हैं. 1,2,5 और 20 रुपये के नोटों की भी होती है नीलामी ज़माना बीत जाएगा पर कुछ लोगों की पुरानी चीज़ों को सहेज के रखने की आदत नहीं जाती. कई लोगों को पुराने सिक्के और नोट (Old Coins Collection) कलेक्ट करने का शौक होता है. यदि आप भी पुराने सिक्के और नोट को कलेक्ट करने के शौकीन है और आपके पास 1,2,5 और 20 रुपये के पुराने नोट है तो आप भी रातों रात मालामाल हो सकते है. अगर आपके पास इस तरह का एक रुपये का नोट है तो एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर इसके लिए आपको 45,000 रुपये दिए जा रहे हैं. इस पर 1957 में रिजर्व बैंक के तत्कालीन गवर्नर एचएम पटेल के हस्ताक्षर हैं. इसके साथ ही इस नोट का सीरियल नंबर 123456 है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस एक रुपये की नोट को क्वॉइन बाजार वेबसाइट पर जाकर बेचा जा सकता है. इस एक रुपये के पुराने नोट के लिए पूरी रकम 49,999 रुपये दी जा रही है. लेकिन डिस्काउंट के बाद वेबसाइट ने इसके लिए 44,999 रुपये फिक्स्ड कर दिया है. इसके लिए आपको वेबसाइट के शॉप सेक्सन में जाना होगा. इसके बाद आपको नोट बंडल की कैटेगरी पर जाना होगा. जहां पर आपको पूरी सूचना मिल पाएगी.
  • रेलवे ने आज फिर कैंसिल की 50 से ज्‍यादा Train, इस List में कहीं आपकी ट्रेन तो नहीं, बड़ी वजह आई सामने
    नई दिल्‍ली। ने 31 जुलाई 2021 को करीब 50 ट्रेनों का रूट बदला है या फिर उन्‍हें कर दिया है। यह जानकारी अपनी ट्रेन इनक्‍वायरी की वेबसाइट पर में देता है। इससे यात्रियों को काफी सहूलियत होती है। वे समय रहते अपनी यात्रा में फेरबदल कर सकते हैं। इनमें शामिल हैं। इसके अलावा रेलवे ने यह भी बताया है कि माल ढुलाई की बेहतर सेवा के लिए पूर्व मध्य रेल ने व्यापारियों की सुविधा के लिए पूर्व मध्य रेल की वेबसाइट पर मैप आधारित गड्स शेड की एकीकृत जानकारी उपलब्ध कराई है। इससे व्यापारी वेबसाइट पर जाकर बस एक क्लिक में माल गोदाम का विवरण, लोकेशन की जानकारी मिनटों में प्राप्त कर सकेंगे। रेलवे के अधिकारियों का मानना है कि व्यापारियों के लिए यह काफी मदददगार साबित होगा। पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि इससे व्यापारी वर्ग एक क्लिक में ही पूर्व मध्य रेल क्षेत्राधिकार में शहरों के निकट अवस्थित गुड्स शेड से जुड़ी समस्त सूचनाएं प्राप्त कर आसानी से अपने सामानों की बुकिंग कर रेलवे की योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं। उन्होंने कहा कि गुड्स शेड निर्देशिका में बाईं तरफ अलग-अलग शीर्षकों के तहत पूर्व-मध्य रेल के पांचों मंडलों के माल गोदामों को सूचीबद्घ किया गया है। चयनित माल गोदाम से संबंधित विवरण के लिए सूचीबद्ध माल गोदाम के नाम पर क्लिक करना होगा, जो दिखाए गए मानचित्र पर भी दिखने लगेगा। माल गोदाम की जानकारी प्रदर्शित मानचित्र में दिखाए गए माल गोदाम के मार्कर पर क्लिक करने पर भी उपलब्ध है।। बीते साल मार्च से ही रेलवे ने नियमित ट्रेनों का संचालन बंद कर रखा है। वैसे सामान्‍य दिनों में Indian Railways रोजाना करीब 12,600 ट्रेनें चलाता था। इसमें 2 करोड़ से ज्‍यादा यात्री सफर करते थे। Covid Mahamari के दौरान यात्रियों की सहूलियत के लिए कुछ Special Train चलाई गई हैं।
  • बारिश से हाहाकार: पानी के आगे पहाड़ भी नहीं टिक पाया, कही बाढ़ का सैलाब, तो कही लाशों की ढेर, खौफनाक मंजर देख कांप उठेगी रूंह
    नई दिल्ली: देशभर में मानसून की बारिश ने कहर बरपाया है. कही किसानों के लिए एक खुशखबरी है तो कई लोगों के लिए समस्यायों का अम्बार है। देर से आये मानसून ने देश के अलग अलग हिस्सों में तबाही मचा रखी है. इस वजह से कही लैंडस्लइड हो रहा है तो कही बाढ़ का सैलाब आ रहा है.. इसे देखते हुए देश के कई राज्यों में हाई एलर्ट भी जारी कर दिया गया है… देशभर में इस कदर कर रहा है मानसून तांडव दिल्ली में फिर से ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। सोमवार को राजधानी में मध्यम से भारी बारिश की संभावना जताई गई है। बुधवार और गुरुवार से बारिश हल्की हो जाएगी। मॉनसून सीजन में अब तक 87 प्रतिशत अधिक बारिश राजधानी में हो चुकी है। जून और जुलाई के दौरान अब तक राजधानी में 489.3 एमएम बारिश हो चुकी है। इस समय तक सामान्य तौर पर मॉनसून के दौरान 231.7 एमएम बारिश को सामान्य माना जाता है। कई ट्रेनों की आवाजाही हुई रद् भारतीय रेलवे ने हावड़ा और कोलकाता के इलाकों में भारी बारिश और जलजमाव के चलते कुछ ट्रेनों को रद्द कर दिया है. जिस वजह से लोगों का एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचना मुष्किल हो गया है… बता दें कि, हिमाचल प्रदेश के अलग-अलग जगहों पर भारी बारिश की वजह से आई प्राकृतिक आपदा से तबाही मची है। किन्नौर, लाहौल स्पीति, चंबा, शिमला जिलों में बाढ़ और भूस्खलन का कहर जारी है। सिरमौर जिले में लगातार जारी भारी बारिश से भूस्खलन हुआ और देखते ही देखते पूरी सड़क गायब हो गई। इसका विडियो भी वायरल हो गया। पांवटा साहिब से रोहड़ू जाने वाला नैशनल हाईवे 707 बड़वास के पास लगभग 50 से 100 मीटर तक पूरी सड़क धंसने से बाधित हो गया। बादल फटने और भारी बारिश के कारण हुए भूस्खलन के बाद राज्य के लाहौल-स्पीति में 175 पर्यटक फंसे हुए हैं। जिला प्रशासन ने बताया कि पट्टन घाटी में 204 लोग फंसे थे, जिनमें से 60 को पुलिस और अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने सकुशल बचाकर निकाला। महाराष्ट्र में 213 लोगों की मौत महाराष्ट्र में बारिश और बाढ़ ने भारी तबाही मचाई है। तटीय कोंकण क्षेत्र में रत्नागिरी, रायगढ़ जिलों और पश्चिमी महाराष्ट्र में कोल्हापुर और सतारा जिलों में भारी बारिश के कारण राज्य के कई स्थानों पर भूस्खलन हुए हैं। राज्य में पिछले हफ्ते हुई बारिश से जुड़ी घटनाओं में अब तक 213 लोगों की मौत हो चुकी है। -रांची में टूटे लोगों के घर झारखंड की राजधानी रांची समेत राज्यभर के विभिन्न हिस्सों में हो रही मूसलाधार बारिश ने शहर की सूरत बदल दी है। तेज बारिश के दौरान चतरा जिले में दीवार गिरने से एक बच्चे की मौत हो गई। मुख्यमंत्री आवास और राजभवन से लगभग एक से डेढ़ किलो मीटर की दूरी पर बसे अलकापुरी, आर्यनगर, लोअर शिवपुरी, नमक फैक्ट्री गली,रातू रोड कब्रिस्तान के आस-पास, शहदेव नगर, लकड़ी टाल गली, खादगढ़ा, विद्यानगर, मधुकम, इरगु टोला, अरगोड़ा तालाब रोड, अपर बाजार के रंगलाल जालान पथ, बड़ालाल स्ट्रीट, जालान रोड, कचहरी रोड के जयपाल सिंह स्टेडियम के आस-पास, पंडारा रोड स्टेट बैंक के पास इसके अलावा शहर के कई निचले इलाकों के लोगों के घरों में बारिश और नालियों का गंदा पानी घुसने के कारण कई लोग रतजगा कर अपने घरों के सामानों को पलंग, छज्जा,चौकी और ऊंचे स्थानों पर रखते देखे गए। -पश्चिम बंगाल के दुरस्थ इलाकों में मचा हाहाकार पश्चिम बंगाल में बारिश से संबंधित घटनाओं में 6 लोगों की मौत हो गई। रघुनाथगंज में भारी बारिश की वजह से मिट्टी के 10 घर क्षतिग्रस्त हो गए। मूसलाधार बारिश के कारण दक्षिण बंगाल के कई जिलों में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है और नदियों के उफान के साथ शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के निचले इलाकों में पानी भर गया है। अब देखना ये है कि आने वाले दिनों में मानसून थमेगा या नहीं,या अभी भी और मुश्किलें आना बाकी है…
  • मुंशी प्रेमचंद की जन्मतिथि आज, जानें उनके बारे में अनसुनी बातें
    नई दिल्ली। हिंदी के मशहुर उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद को आज किसी भी पहचान की जरूरत नहीं है। हिन्दी साहित्य में उन्हें कहानियों का सम्राट माना जाता है। हिंदी साहित्य को पहचान दिलाने में उनका बहुत बड़ा हाथ है। अपने लेखन से सभी का दिल जीतने वाले प्रेमचंद की आज जन्मतिथि है। धनपतराय से मुंशी प्रेमचंद बने प्रख्यात लेखक का जन्म बनारस के लमही में आज ही के दिन साल 1880 में हुआ था। वहीं, उनकी मृत्यु आठ अक्टूबर 1936 में हुई थी। इस खास मौके पर हम आपको उनके बारे में कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं। प्रेमचंद का परिचय प्रेमचंद का जन्म 31 जुलाई 1980 को उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के लमही गांव में एक कायस्थ परिवार में हुआ था। उनकी माता का नाम आनन्दी देवी तथा पिता का नाम मुंशी अजायबराय था जो लमही में डाकमुंशी थे। उनका वास्तविक नाम धनपत राय श्रीवास्तव था। प्रेमचंद की आरम्भिक शिक्षा फारसी में हुई। प्रेमचंद के माता-पिता के सम्बन्ध में रामविलास शर्मा लिखते हैं कि- “जब वे सात साल के थे, तभी उनकी माता का स्वर्गवास हो गया। जब पन्द्रह वर्ष के हुए तब उनका विवाह कर दिया गया और सोलह वर्ष के होने पर उनके पिता का भी देहान्त हो गया।”छोटी उम्र में माता-पिता के देहांत के कारण उनका शुरुआती जीवन काफी संघर्ष से भरा रहा। उनके पिता डाकखाने में मामूली नौकर थे। उन्होंने बचपन से ही आर्थिक तंगी का सामना किया। यबी उनकी लेखनी में दिखा। धनपतराय से प्रेमचंद बनने का सफर काफी दिलचस्प है। 8 साल की उम्र में उनकी मां दुनिया छोड़ कर चली गई थीं। उनकी मां के देहांत के बाद उनके पिता ने दूसरी शादी कर ली थी। इसी वजह से उन्हें मां का प्रेम कभी मिल ना सका, मिला तो सौतेली मां का व्यवहार। वो गरीबी में ही पले। उनके जीवन में नई परेशानी तब शुरू हुई जब उनके पिता ने उनकी शादी कम उम्र में करवा दी थी। 15 साल की उम्र में विवाद होने के 1 साल बाद उनके पिता का निधन हो गया था। इसके बाद से उनपर ही पूरे परिवार की जिम्मेदारी आ गई थी। गरीबी आलम ये था कि उनको खर्चा चलाने के लिए उन्हें अपना कोट तक बेचना पड़ा था। इतना ही नहीं घर के खर्च चलाने के लिए उन्होंने अपनी पुस्तकें भी बेच दी। premchand3 प्रेमचंद ने इन कठिन परिस्थियों में भी कलम का दामन नहीं छोड़ा। उन्हें पढ़ने-लिखने का काफी शौक था। वो 10वीं तक पढ़ें हैं। वो पढ़-लिख कर वकील बनना चाहते थे लेकिन गरीबी के चलते उन्हें पढ़ाई रोकनी पड़ी। गरीबी की वजह से उनकी पहली पत्नी छोड़ कर चली गई। फिर उन्होंने साल 1905 में दूसरी शादी की। उन्होंने दूसरी शादी एक विधवा स्त्री शीवरानी देवी से की थी। इसके बाद वो साहित्य की सेवा में लग गए। उन्होंने 5 कहानियों का संग्रह ‘सोज़े वतन’ लिखा, जो 1907 में प्रकाशित हुआ था। ये उनका उर्दू कहानियों का पहला संग्रह था, जो उन्होंने ‘नवाब राय’ के नाम से छपवाया था। इसके बाद उन्होंने खूब लिखा। लगभग तीन सौ कहानियां और लगभग आधा दर्जन प्रमुख उपन्यास और एक नाटक भी लिखा। उन्होंने उर्दू और हिंदी दोनों भाषाओं में लिखा था। उन्होंने ज्यादातर नारीवाद, मजदूर, किसान, पूंजीवाद, गांधीवाद, पत्रकारिता, बेमेल विवाह, राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन, धार्मिक पाखंड, आदि विषयों पर ज्यादा लिखा।
  • दिल्ली विधानसभा में पारित हुआ जीएसटी संशोधन विधेयक, BJP ने जताया विरोध
    नई दिल्लीः दिल्ली विधानसभा ने मानसून सत्र के दूसरे दिन शुक्रवार को ‘दिल्ली वस्तु और सेवा कर (संशोधन) विधेयक, 2021’ को पारित कर दिया. इसका उद्देश्य जीएसटी फाइल करने की प्रक्रिया को सुगम बनाना और कर चोरी पर अंकुश लगाना है. इस दौरान विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने एक ही दिन विधेयक को पेश करने और पारित किए जाने को लेकर इसका विरोध किया. दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मानसून सत्र के दूसरे और अंतिम दिन विधेयक पेश करते हुए कहा कि दिल्ली जीएसटी कानून की 15 धाराओं में छोटे बदलाव किये गये हैं. ये बदलाव व्यापारियों से मिली प्रतिक्रिया के आधार पर किये गये हैं. उन्होंने कहा कि इन संशोधनों का मकसद जीएसटी फाइलिंग प्रक्रिया को सुगम बनाना और धोखाधड़ी की गतिविधियों पर लगाम लगाना है.