State News
  • शहीद गैंदसिंह का बलिदान अविस्मरणीय: मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल

    गोड़लवाही में आश्रम, छात्रावास एवं स्कूल भवन निर्माण की घोषणा

    शहीद गैंदसिंह के श्रद्धांजलि समारोह में शामिल हुए मुख्यमंत्री

    मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल छुरिया विकासखंड के ग्राम गोड़लवाही में अखिल भारतीय हलबा-हलबी आदिवासी समाज महासभा बालोद द्वारा आयोजित शहीद शिरोमणि गैंदसिंह की श्रद्धांजलि समारोह में शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने शहीद गैंदसिंह को नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि शहीद गैंदसिंह ने 1824 ईसवी में परलकोट में अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह किया और 20 जनवरी 1825 को अंग्रेजों से लड़ते हुए शहीद हुए। मुख्यमंत्री ने शहीद गैंदसिंह के बलिदान को अक्षुण्य रखने के लिए राजनांदगांव में प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा की।
        मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे पुरखों के बलिदान को आने वाली पीढ़ी को बताना होगा। छŸाीसगढ़ की प्राचीन परम्परा और संस्कृति को अक्षुण्य रखने के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। आदिवासी परम्परा एवं संस्कृति के संरक्षण के लिए नवा रायपुर में 10 एकड़ भूमि में संग्रहालय एवं शोधपीठ का निर्माण किया जाएगा। वहीं देवगुड़ी एवं घोटुल के संरक्षण के लिए भी कार्य किये जा रहे हैं। हरेली, करमा, तीजा, विश्व आदिवासी दिवस, भक्त माता कर्मा जयंती के लिए अवकाश घोषित किया गया है, ताकि हमारी पहचान बरकरार रहे।
        मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने इस अवसर पर गोड़लवाही में आश्रम, छात्रावास एवं स्कूल के निर्माण करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य में कोदो-कुटकी का भी समर्थन मूल्य घोषित किए जाने का निर्णय लिया गया है, इससे राजनांदगांव सहित आदिवासी अंचल के किसान बड़े पैमाने पर कोदो-कुटकी की खेती करते हैं उन्हें इसका लाभ होगा। उन्होंने कहा कि वनांचल के लोगों की माली हालत बेहतर बने इसके लिए इमारती वृक्षों की जगह फलदार वृक्षों के रोपण कराया जा रहा है, ताकि आम, आंवला, ईमली, चिरौंजी, हर्रा-बहर्रा आदि का व्यापक पैमाने पर उत्पादन हो। जिससे वनों के आस-पास रहने वाले लोगों को इसका लाभ मिले। लघु वनोपज से वैल्यूएडिशन  का काम भी शुरू कर रहे हैं, ताकि हमारे वनोपज संग्राहकों को ज्यादा लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में 30 रूपए समर्थन मूल्य में महुए की खरीदी करने से वनवासियों को आर्थिक रूप से संबल मिला।
        मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने कोरोना संकट के दौरान सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत राज्य के उपभोक्ताओं को 3 माह का निःशुल्क 35 किलो चावल प्रदाय कर उल्लेख करते हुए कहा कि इससे लोगों को बड़ी राहत मिली। कोरोना काल में ही मनरेगा के तहत प्रतिदिन 26 लाख परिवारों को रोजगार प्रदान किया गया, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के प्रत्येक व्यक्ति की उन्नति और खुशहाली सरकार की प्राथमिकता है। राज्य के कुपोषित बच्चों को सुपोषित बनाने तथा एनीमिक महिलाओं के स्वास्थ्य को बेहतर करने के उद्देश्य से बस्तर से शुरू की गई मुख्यमंत्री सुपोषण योजना अब पूरे प्रदेश में संचालित की जा रही है। इस योजना का सुखद परिणाम सामने आया है। एक लाख बच्चे कुपोषण से मुक्त हुए हैं। सशक्त छत्तीसगढ़ के निर्माण के लिए बच्चों और माताओं का स्वस्थ होना जरूरी है। यह योजना स्वस्थ छत्तीसगढ़ के निर्माण अहम रोल अदा कर रही है। गरीब परिवारों के बच्चों भी अंग्रेजी माध्यम की निःशुल्क शिक्षा प्राप्त कर सकें इसके लिए प्रदेश में 52 अंग्रेजी माध्यम स्कूल शुरू किए गए हैं। मुख्यमंत्री ने समर्थन मूल्य पर धान खरीदी और राजीव गांधी किसान न्याय योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी और कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना की चौथी किश्त मार्च माह में किसानों को दे दी जाएगी।
        महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया ने कहा कि आदिवासी जल, जंगल और जमीन से जुड़े हैं। शहीद गैंदसिंह ने आदिवासियों की सुरक्षा एवं संरक्षण तथा उनका शोषण रोकने के लिए कार्य किया। खाद्य एवं संस्कृति मंत्री श्री अमरजीत भगत ने कहा कि छŸाीसगढ़ के मान-सम्मान एवं संस्कृति को जीवंत रखने के लिए शासन द्वारा कार्य किया जा रहा है। विधायक खुजी श्रीमती छन्नी साहू ने कहा कि इस क्षेत्र में आकर मुख्यमंत्री ने हमारा गौरव बढ़ाया है। समाज को संगठित करने के लिए एकजुटता और विकास के लिए शिक्षा जरूरी है। अखिल भारतीय हलबा-हलबी आदिवासी समाज महासभा बालोद के अध्यक्ष श्री लेमन सिंह करबगियां ने परलकोट के जमींदार शहीद गैंदसिंह के जंग-ए-आजादी में योगदान को रेखांकित किया। कार्यक्रम के आरंभ में वीरेंद्र मसिया ने स्वागत उद्बोधन दिया। कार्यक्रम में संसदीय सचिव  कुंवर सिंह निषाद, अध्यक्ष पिछड़ा वर्ग विकास प्राधिकरण श्री दलेश्वर साहू, अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती गीता साहू, महापौर श्रीमती हेमा देशमुख, अन्य जनप्रतिनिधि एवं कलेक्टर  टोपेश्वर वर्मा एवं पुलिस अधीक्षक  डी श्रवण उपस्थित थे।

  • मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल शामिल हुए शहीद शिरोमणि गैंदसिंह के शहादत दिवस कार्यक्रम में

    ग्राम ठेमाबुजुर्ग में मंगल भवन निर्माण के लिए दी 20 लाख रूपए की मंजूरी

    ठेमाबुजुर्ग के समीप बहने वाली नदी में पुलिया निर्माण की घोषणा

    मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल आज डौण्डी विकासखण्ड के ग्राम ठेमाबुजुर्ग में अखिल भारतीय हल्बा-हल्बी समाज महासभा द्वारा आयोजित शहीद शिरोमणि गैंदसिंह शहादत दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने शहीद गैंदसिंह के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए क्षेत्रवासियों की मांग पर ग्राम ठेमाबुजुर्ग में मंगल भवन निर्माण के लिए 20 लाख रूपए की मंजूरी देने के साथ ही ठेमाबुजुर्ग के समीप बहने वाली नदी में पुलिया निर्माण की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि विकास कार्यों के लिए राशि की कमी नहीं होगी। मुख्यमंत्री ने हल्बा समाज के लोगों की मांग पर शहीद गैंदसिंह की आदमकद प्रतिमा की स्थापना की घोषणा की और कहा कि समाज के लोग जहां स्थान तय करेंगे, वहां शहीद गैंदसिंह की प्रतिमा स्थापित की जाएगी।
    मुख्यमंत्री ने शहीद गैंदसिंह को याद करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के इस महान सपूत ने आज ही के दिन सन् 1825 में अंग्रेजों से लड़ते हुए शहीद हुए थे। अंग्रेजो की गुलामी न स्वीकार करते हुए अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई का शंखनाद किया। अंग्रेजों के खिलाफ इस लड़ाई में परलकोट और अबूझमाड़ के आदिवासियों ने शहादत दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि 1857 के गदर को हम याद करते हैं, उससे पहले 1825 में अबूझमाड़ में, परलकोट में आजादी की पहली लौ जली थी, जिसमें शहीद गैंदसिंह ने अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिसका इतिहास जितना गौरवशाली होता है, उसका भविष्य भी उतना ही गौरवशाली होता है। शहीद गैंदसिंह की स्मृति को अक्षुण्ण बनाने के लिए उनकी पुण्यतिथि पर गर्व और सम्मान के साथ उन्हें याद किया जाता है।
    मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि हमारी संस्कृति, बोली-भाषा, रहन-सहन, खान-पान, सभ्यता को सहेजने का कार्य किया जा रहा है। हरेली, तीजा, कर्मा जयंती, विश्व आदिवासी दिवस की छुट्टी घोषित किया, ताकि हमारी पहचान बरकरार रहे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की संस्कृति को विश्व स्तर पर पहचान दिलाने का प्रयास किया जा रहा है। बस्तर में घोटुल को संरक्षित एवं संवर्धित करने का काम हम कर रहे हैं ताकि हमारी प्राचीन परंपरा एवं संस्कृति बरकरार रहे। देवगुड़ी की सुरक्षा और विकास के लिए भी राशि दी जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़क, पुल-पुलिया तो बनेंगे ही यह जरूरी है, लेकिन विकास का यह पर्याय नहीं है हमारे विकास के केन्द्र में व्यक्ति है। छत्तीसगढ़ के 2 करोड़ 80 लाख लोगों का विकास और उनके जीवन में खुशहाली लाना हमारी प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि राज्य में 37 प्रतिशत बच्चे कुपोषण और 41 प्रतिशत महिलाएं खून की कमी से पीड़ित हैं। इनको सुपोषित और स्वस्थ्य बनाना जरूरी है। इसके लिए मुख्यमंत्री सुपोषण योजना शुरू की गई है। छत्तीसगढ़ की मजबूती के लिए जरूरी है कि बच्चे स्वस्थ और शिक्षित हों। गरीब घरों के बच्चे भी अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सके, इसके लिए राज्य में 52 अंग्रेजी मीडियम स्कूल शुरू किए गए हैं। तकनीकी शिक्षा के लिए भी स्कूली बच्चों एवं युवाओं को हम बेहतर अवसर उपलब्ध करा रहे हैं।

    मुख्यमंत्री श्री बघेल ने इस अवसर पर समाज के प्रतिभावान लोगों का सम्मान किया। इससे पहले प्रदेश के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी एवं संस्कृति मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री  अमरजीत भगत और महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री श्रीमती अनिला भेंडिया ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम की समाप्ति पर समाज द्वारा मुख्यमंत्री  बघेल को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। इस अवसर पर गुण्डरदेही विधायक व संसदीय सचिव  कुंवर सिंह निषाद, संजारी-बालोद विधायक श्रीमती संगीता सिन्हा, कांकेर विधायक व संसदीय सचिव  शिशुपाल सोरी सहित अनेक जनप्रतिनिधि, कलेक्टर जनमेजय महोबे, पुलिस अधीक्षक  जितेन्द्र सिंह मीणा और बड़ी संख्या में समाज के लोग मौजूद थे।

  • मेडिकल बुलेटिन: प्रदेश में मिले आज 594 कोरोना पॉजिटिव, 6 की मौत
    रायपुर। राज्य में आज रात 08.00 बजे तक 594 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें सबसे अधिक 126 रायपुर जिले से हैं। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के इन आंकड़ों के मुताबिक आज रात तक एक जिले में सौ से अधिक कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। करीब एक चौथाई अकेले रायपुर जिले में। आज कुल 6 कोरोना मौतें हुई हैं। राज्य शासन के स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक दुर्ग 61, राजनांदगांव 37, बालोद 14, बेमेतरा 5, कबीरधाम 2, रायपुर 126 धमतरी 33, बलौदाबाजार 13, महासमुंद 26, गरियाबंद 7, बिलासपुर 48, रायगढ़ 47, कोरबा 27, जांजगीर-चांपा 39, मुंगेली 7, जीपीएम 1, सरगुजा 21, कोरिया 14, सूरजपुर 11, बलरामपुर 3, जशपुर 15, बस्तर 7, कोंडागांव 13, दंतेवाड़ा 4, सुकमा 3, कांकेर 8, नारायणपुर 0, बीजापुर 2 अन्य राज्य 0 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।
  • विधायक शैलेश पांडेय को मिला न्याय तैय्यब हुसैन को ब्लाक अध्यक्ष के पद से किया गया निष्कासित...विधायक और ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष के बीच हुआ था  विवाद...जानिए क्या था पूरा मामला
    मन्नू मानिकपुरी की रिपोर्ट बिलासपुर :विधायक शैलेश पांडेय का पकड़ा था कॉलर कहा अगली बार बदल देंगे और पार्टी के प्रदेश प्रभारी पी एल पुनिया के निदेशानुसार प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष मोहन मरकाम ने तैय्यब हुसैन को ब्लाक अध्यक्ष पद से निष्कासित कर दिया है । विधायक शैलेश पांडेय और ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष तैयब हुसैन के बीच हुई बहस और धक्का-मुक्की के मामले में प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने जांच समिति गठित कर दी है, और 3 दिन में जवाब देने कहा था। कमेटी में पीसीसी उपाध्यक्ष चुन्नीलाल साहू, पीसीसी महामंत्री कन्हैया अग्रवाल, पीसीसी महामंत्री पियुष कोसरे को सदस्य बनाया था MLA पांडेय से अभद्रता करने वाले ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष की हरकत पर पीसीसी ने अपनी नजर कर ली है विधायक के भरे कांग्रेसियों के बीच इस तरह का व्यवहार करने की शिकायत रायपुर तक पहुचने के बाद अब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए तीन सदस्यों की देख रेख में जांच बिठा दिया था पार्षद चुनाव हार चुके ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष तैय्यब हुसैन की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है और आज पार्टी ने उन्हें उनकी गलती के लिए पदमुक्त कर दिया अंततः नगर विधायक को न्याय मिल ही गया ।
  • उद्योग लगाने वालों को मिलेगा सब्सिडी का लाभ: कृषि मंत्री श्री चौबे

    छत्तीसगढ़ की नई औद्योगिक नीति देश में सबसे बेहतर: उद्योग मंत्री श्री लखमा

    उद्योग विभाग द्वारा बेमेतरा मे ‘‘उद्यम समागम‘‘ का आयोजन

     प्रदेश के कृषि एवं जैव प्रौद्योगिकी, पशुपालन, मछली पालन, जलसंसाधन मंत्री  रविन्द्र चौबे के मुख्य आतिथ्य एवं वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री 

    कवासी लखमा की अध्यक्षता मे, आज बेमेतरा में खाद्य प्रसंस्करण उद्योगांे को बढ़ावा देने हेतु वाणिज्य एवं उद्योग विभाग द्वारा एक दिवसीय कार्यशाला ‘‘उद्यम समागम‘‘ का आयोजन किया गया। विशिष्ट अतिथि के रुप मे विधायक बेमेतरा  आशीष कुमार छाबड़ा एवं विधायक बीजापुर विक्रम मण्डावी उपस्थित थे।  

        कृषि मंत्री श्री चौबे ने कहा कि कृषि प्रधान बेमेतरा जिल में कृषि आधारित उद्योग लगाने की काफी संभावनाएं हैं। प्रदेश सरकार द्वारा फल-फूल, सब्जी एवं अन्य खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों को अधिकाधिक प्रोत्साहन देने के अनेक प्रावधान किये गये है। जिसकी जानकारी आज कार्यशाला के माध्यम से दी जा रही है। मंत्री श्री चौबे ने कहा कि आदिवासी बहुल जिलों की भांति बेमेतरा जिले मे यदि कोई उद्यमी अपना उद्योग स्थापित करना चाहते है, उन्हें सरकार द्वारा सबसिडी दी जायेगी। उद्यमियों के लिए यह सुनहरा अवसर है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ देश का सबसे बड़ा औद्योगिक हॅब बन सकता है। छत्तीसगढ़ में उद्योगों के लिए अनुकूल महौल है। यहां के लोग परिश्रमी है। छत्तीसगढ़ में पानी, खनिज, ऊर्जा एवं कोयला प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। उन्होने कहा कि कोरोना संकट के काल में माह सितम्बर में छत्तीसगढ़ में 23 प्रतिशत जीएसटी का संग्रहण हुआ, यह अपने आप में एक कीर्तिमान है।

         वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री लखमा ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व मे प्रदेश सरकार द्वारा एक नयी औद्योगिक नीति बनाई गई है। जिससे प्रदेश का समावेशी विकास एवं युवा आत्मनिर्भर हो सके। राज्य में उद्योग, निवेश और रोजगार के अवसर पैदा करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के मार्गदर्शन में नयी औद्योगिक नीति बनायी गयी है, जो हिन्दुस्तान की सबसे अच्छी उद्योग नीति है। श्री लखमा ने कहा कि हमने देश के अन्य राज्य आन्ध्रप्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात की उद्योग नीति देखी है, उनसे बेहतर छत्तीगसढ़ की उद्योग नीति है। बेमेतरा एक मैदानी जिला है, जो-जो उद्यमी यहां अपना उद्योग स्थापित करना चाहते हैं उन्हंे आदिवासी बहुल बस्तर की भांति सबसिडी का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार गौठान को आजीविका के केन्द्र के रुप में विकसित कर रही है। महिला स्व-सहायता समूहों को गौठान गतिविधियों से जोड़कर उन्हे आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है।

        विधायक बीजापुर मण्डावी ने कहा कि उद्यम समागम का लाभ बेमेतरा जिले वासियों को मिलेगा। भविष्य में उद्योग स्थापित होने से स्थानीय युवाओं को स्व-रोजगार मिलेगा। कार्यशाला के आयोजन के लिए उन्होंने उद्योग विभाग को बधाई दी। विधायक आशीष छाबड़ा ने कहा कि बेमेतरा एक नया जिला है, यहां उद्योग धंधे की असीम संभावना है। उद्योग के लिए यहां स्थान भी चिन्हित कर लिया गया है। बेमेतरा जिले में कृषि आधारित उद्योग लगने लगने से लोगों की स्थिति में बदलाव आएगा। 

        उद्योग विभाग के अपर संचालक प्रवीण शुक्ला ने भी संबोधित किया। जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक कमल सिंह मीणा ने बताया कि जिले के प्रत्येक विकासखण्ड में फूडपार्क हेतु कुल 118.41 हेक्टेयर भूमि उद्योग विभाग मिल चुकी है। ग्राम-चंदनू में प्रथम चरण में 60 एकड़ भूमि पर फूडपार्क निर्माण के लिए प्लॉन तैयार किया जा रहा है, जिसमें खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों हेतु भूमि आबंटन, उद्योग स्थापना की प्रक्रिया एवं नियमों संबंधी जानकारी कार्यशाला में दी गई। सीआईटीकोन रायपुर से आये  प्रसन्न निमोनकर ने पॉवरपाईंट प्रजेंटेशन के जरिए उद्योग स्थापना के संबंध में जानकारी दी। कार्यशाला में पुलिस अधीक्षक  दिव्यांग कुमार पटेल, अपर कलेक्टर  संजय कुमार दीवान, एएसपी  विमल कुमार बैस के अलावा सर्वश्री बंशी लाल पटेल, अवनीश राघव, टीआर जनार्दन, ललित विश्वकर्मा सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

  • BREAKING : एक लाख की रिश्वत के साथ… तहसीलदार, रंगे हाथों गिरफ्तार
    जमीन हस्तांरण के लिए रिश्वत मांगने वाले तहसीलदार उमेश तिवारी को लोकायुक्त की टीम ने रंगे हाथों धर दबोचा है। तहसीलदार को गिरफ्तार कर लिया गया है, आगे की कानूनी प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है। मिली जानकारी के मुताबिक एक जमीन हस्तांतरण के लिए सागर जिलान्तर्गत अजयगढ़ के तहसीलदार उमेश तिवारी ने रिश्वत मांगी थी। तहसीलदार की मांग के अनुरूप एक लाख रुपए पहुंचाया गया, लेकिन जिससे रिश्वत की मांग हुई थी, उन्होंने लोकायुक्त से इस मामले की शिकायत कर दी थी। शिकायत पर गंभीर सागर लोकायुक्त की टीम ने अजयगढ़ के तहसीलदार उमेश तिवारी को रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। रिश्वतखोर तहसीलदार उमेश तिवारी को अजयगढ सर्किट हाउस से गिरफ्तार किया गया है। लोकायुक्त, रिश्वतखोर तहसीलदार के खिलाफ कानून के मुताबिक कार्रवाई कर रहा है।
  • दर्दनाक हादसा-ट्रैक्टर और मोटरसाइकिल के बीच हुई जबरदस्त भिड़ंत, 7 वर्षीय बच्ची की मौत.. 3 घायल
    बड़ी खबर गरियाबंद से है, जहां ट्रैक्टर और मोटरसाइकिल के बीच जबरदस्त भिड़ंत हो गई जिससे एक 7 वर्षीय बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई वही 3 लोग घायल हो गए हैं, घटना कांडेकेला की है, जहां तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने बाइक को अपनी चपेट में ले लिया । मिली जानकारी के अनुसार घटना के तुरंत बाद आसपास के लोगों द्वारा देवभोग सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ले जाकर उपचार के लिए भर्ती कराया गया है। मामले की सूचना मिलते ही मौके पर थाना प्रभारी नवीन राजपूत पहुंचे है, और मामले को संज्ञान में लेते हुए कार्यवाही के निर्देश दिए। बता दे, घटना से आक्रोशित परिवार वालों ने ट्रैक्टर को जप्त कर लिया है, और अपने कब्जे में रखा है। मिली जानकारी के मुताबिक दुर्बन यादव डाबरीगुड़ा, मकूद यादव कंडेकेला, शिवरात्रि यादव इस घटना में घायल हुए हैं।
  • छत्तीसगढ़ में आज शाम तक 366 कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की हुई पहचान
    रायपुर, 19 जनवरी। राज्य में आज शाम 5.00 तक 366 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें सर्वाधिक 68 अकेले रायपुर जिले के हैं। आईसीएमआर के मुताबिक आज बालोद 16, बलौदाबाजार 5, बलरामपुर 4, बस्तर 5, बेमेतरा 3, बीजापुर 0, बिलासपुर 37, दंतेवाड़ा 1, धमतरी 6, दुर्ग 49, गरियाबंद 9, जीपीएम 5, जांजगीर-चांपा 13, जशपुर 7, कबीरधाम 8, कांकेर 13, कोंडागांव 14, कोरबा 8, कोरिया 14, महासमुंद 6, मुंगेली 4, नारायणपुर 0, रायगढ़ 23, रायपुर 68, राजनांदगांव 27, सुकमा 1, सूरजपुर 3, और सरगुजा 17 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। केन्द्र सरकार के संगठन आईसीएमआर के इन आंकड़ों में रात तक राज्य शासन के जारी किए जाने वाले आंकड़ों से कुछ फेरबदल हो सकता है क्योंकि ये आंकड़े कोरोना पॉजिटिव जांच के हैं, और राज्य शासन इनमें से कोई पुराने मरीज का रिपीट टेस्ट हो, तो उसे हटा देता है। लेकिन हर दिन यह देखने में आ रहा है कि राज्य शासन के आंकड़े रात तक खासे बढ़ते हैं, और इन आंकड़ों के आसपास पहुंच जाते हैं, कभी-कभी इनसे पीछे भी रह जाते हैं।
  • नरहरपुर विकासखण्ड में सीसी सड़क निर्माण  के लिए आठ लाख रूपये स्वीकृत

    जिले के प्रभारी मंत्री गुरू रूद्र कुमार के अनुशंसा पर कलेक्टर  चन्दन कुमार ने विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र विकास योजना के मार्गदर्शिका में निहित निर्देशों एवं प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए कांकेर विधानसभा क्षेत्र के नरहरपुर विकासखण्ड के ग्राम पंचायत बाबूसाल्हेटोला के ग्राम बागोड में तुकेश साहू घर से परम नेताम घर तक सीसी सड़क निर्माण के लिए 03 लाख रूपये और ग्राम रावस में सिदलाल घर से सामुदायिक भवन तक 215 मीटर सीसी सड़क निर्माण के लिए 05 लाख रूपये स्वीकृत किये हैं। स्वीकृत निर्माण कार्यों के लिए इसके लिए जनपद पंचायत नरहरपुर के सीईओ को क्रियान्वयन एजेंसी बनाया गया है। 

  •  बच्चों के विरूद्ध घटनाओं से निपटने के लिए रणनीति बनाकर काम करें- श्रीमती प्रभा दुबे

                                                                    राज्य बाल अधिकार आयोग की अध्यक्ष ने बाल संरक्षण इकाई के कार्यों की समीक्षा की 

    राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष श्रीमती प्रभा दुबे ने आज रायपुर के रेडक्रॉस सभागार में प्रदेश में बच्चों के विरुद्ध होने वाली घटनाओं से निपटने के लिए बाल संरक्षण इकाई के अधिकारियों को रणनीति बनाकर मुहिम चलाए जाने हेतु मार्गदर्शन व दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि समाज में बच्चों के विरुद्ध घटनाओं का बढ़नां काफी चिंताजनक है, इसके लिए समेकित बाल संरक्षण इकाई, बाल कल्याण समिति,पुलिस प्रशासन, चाइल्ड हेल्प लाइन, महिला एवं बाल विकास विभाग को मिलकर बेहतर कार्य योजना बनानी होगी। इसी के साथ बच्चों के पुनर्वास की व्यवस्था करते हुए उन्हें शिक्षा की मुख्य धारा में लाना होगा। 
        श्रीमती दुबे ने कहा कि बच्चों से संबंधित मामलों में अधिक संवेदनशीलता से कार्यवाही की जरूरत है। इस बात पर ध्यान दिया जाए कि फीस के अभाव में किसी भी बच्चे को शिक्षा से वंचित नहीं किया जाये। अगर ऐसा कोई मामला सामने आता है तो जिला शिक्षा अधिकारी स्कूलों पर सख्त कार्यवाही करें। उन्होंने कार्यवाही को प्रमुखता से प्रचारित करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बाल अधिकार संरक्षण आयोग हर प्रकार से सहायता के लिए उपस्थित रहेगा। इसके साथ उन्होंने पाॅक्सो एक्ट के तहत प्रकरणों में की गई कार्यवाही और राहत, चिकित्सकीय सहायता व मुआवजा राशि देने तथा अन्य बिंदुओं पर भी समीक्षा की। इस अवसर पर जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री अशोक पांडेय, जिला बाल संरक्षण अधिकारी श्री नवनीत स्वर्णकार एवं बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष, सदस्यों सहित विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे। 

  • कैम्पा की संचालन समिति की बैठक संपन्न :  वार्षिक कार्ययोजना 2021-22 में 1534 करोड़ रूपए के कार्य अनुमोदित

    वन क्षेत्रों की उत्पादकता तथा भू-जल संरक्षण को बढ़ाने संबंधी कार्य प्राथमिकता से शामिल

    छत्तीसगढ़ प्रतिकरात्मक वनरोपण निधि प्रबंधन एवं योजना प्राधिकरण (कैम्पा) की संचालन समिति की बैठक आज राजधानी स्थित चिप्स कार्यालय में प्रभारी मुख्य सचिव  सुब्रत साहू की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में कैम्पा की वार्षिक कार्ययोजना वर्ष 2021-22 के अंतर्गत एक हजार 534 करोड़ रूपए के प्रस्तावों का अनुमोदन किया गया। इसमें वन क्षेत्रों की उत्पादकता बढ़ाने, क्षतिपूर्ति वृक्षारोपण, बांस वनों की पुर्नस्थापना, वन्य प्राणी प्रबंधन और वन क्षेत्र में भूजल संरक्षण को बढ़ाने संबंधी कार्य को प्राथमिकता से शामिल किया गया है। 
        बैठक में चर्चा करते हुए अवगत कराया गया कि वर्तमान में कैम्पा मद से क्षतिपूर्ति वनीकरण के साथ-साथ वन क्षेत्र में उत्पादकता बढ़ाने के लिए विभिन्न वन विकास कार्य, वनों की सुरक्षा, वन्य प्राणियों के रहवास सुधार एवं संरक्षण तथा विशेष रूप से वन क्षेत्रों में भूजल स्तर को बढ़ाने हेतु नरवा योजना के अंतर्गत भूजल संरक्षण का कार्य जारी है। कैम्पा के मुख्य कार्यपालन अधिकारी व्ही. श्रीनिवास राव ने बताया कि राज्य शासन द्वारा लागू नवाचार की योजनाओं में से नरवा विकास योजना के अंतर्गत वन क्षेत्रों में स्थित सभी छोटे-बड़े नालों को उनके उद्गम स्थल से समापन स्थल तक उपचारित करने का कार्य किया जा रहा है। वर्ष 2019-20 की कार्ययोजना में स्वीकृत वन क्षेत्र के लगभग 863 नालों के 4.58 लाख हेक्टेयर जलग्रहण क्षेत्रों में 10 लाख 60 हजार भू-जल संरक्षण की संरचनाओं का निर्माण किया जा रहा है। इसी तरह वर्ष 2020-21 में 01 हजार 92 नालों के 3.11 लाख हेक्टेयर जल ग्रहण क्षेत्र में 210 करोड़ रूपए की लागत से 12 लाख 70 हजार जल संरचनाओं के निर्माण कार्य प्रारंभ किए गए हैं। 
        राज्य में कोरोना संकट के दौरान छत्तीसगढ़ में लौटे अप्रवासी मजदूरों को अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध कराने की दृष्टि से राष्ट्रीय कैम्पा को 416 करोड़ रूपए की कार्ययोजना भेजी गई है। इस कार्ययोजना में भी वन क्षेत्र के 176 नालों के जल ग्रहण क्षेत्रों में भू-जल संरक्षण कार्य हेतु 187 करोड़ 53 लाख रूपए का प्रावधान प्रस्तावित है। इसके साथ ही वर्ष 2021-22 की कार्ययोजना में वन क्षेत्र के 441 नालों को उपचारित करने के लिए 392 करोड़ रूपए का प्रस्ताव भेजा जा रहा है। उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण काल में घोषित लाॅकडाउन के कारण सुदूर वन क्षेत्रों में विकास कार्यों में हुए गतिरोध के कारण बेरोजगार हुए श्रमिकों तथा छत्तीसगढ़ वापस लौटै प्रवासी मजदूरों को पर्याप्त रोजगार उपलब्ध कराने की कार्यवाही कैम्पा से की जा रही है। माह मार्च 2020 से दिसंबर 2020 तक 438 करोड़ रूपए व्यय कर 94 लाख 37 हजार मानव दिवस का रोजगार सृजन किया गया है।  
        राज्य के हाथी प्रभावित क्षेत्रों में हाथी-मानव संगवारी जैसी योजनाएं लागू कर हाथी प्रभावित क्षेत्रों में रहवास सुधार तथा जागरूकता अभियान आदि के कार्य कराए जा रहे हैं। वार्षिक कार्य योजना 2020-21 में हाथी प्रभावित जिला कोरबा, मरवाही, कटघोरा में 94 करोड़ रूपए की कार्ययोजना स्वीकृत कर कार्य कराए जा रहे हैं। इसी तरह वार्षिक कार्ययोजना 2021-22 में बांस की उत्पादकता में वृद्धि के लिए बांस वनों की पुनस्र्थापना, वन्य प्राणी काॅरीडोर की पहचान कर वन्य प्राणियों के विचरण क्षेत्रों में रहवास सुधार, वन क्षेत्रों में विशिष्ट प्रजातियों का संरक्षण एवं विकास तथा विलुप्त हो रहे पशु-पक्षियों के संरक्षण संबंधी कार्यों का प्रावधान किया गया है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी डाॅ. मनिन्दर कौर द्विवेदी, प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन बल प्रमुख  राकेश चतुर्वेदी आदि संबंधित विभागीय अधिकारी वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में जुड़े रहे। बैठक में कैम्पा की संचालन समिति के अशासकीय सदस्य  जी.एस. धनंजय भी उपस्थित थे। 

  • तेजी से पूरे किये जायेंगे विकास कार्य-उच्च शिक्षामंत्री श्री उमेश पटेल : खरसिया विकासखण्ड के विभिन्न ग्रामों में विकास कार्यों का किया लोकार्पण व भूमिपूजन

    मंत्री श्री पटेल ने जनसंपर्क कर जानी लोगों की मांगें व समस्यायें

     

    उच्च शिक्षा मंत्री  उमेश पटेल ने खरसिया विकासखण्ड के विभिन्न ग्रामों में जनसंपर्क किया। उन्होंने अगासमार, छिरीपानी, पंडरामुड़ा, फरकानारा तथा पुछियापाली में विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण तथा भूमिपूजन किया।
    उच्च शिक्षामंत्री श्री पटेल ने ग्रामवासियों को संबोधित करते हुये कहा कि गांवों में विकास कार्य तेजी से पूरे किये जायेंगे। आज लोकार्पित व भूमिपूजन किये जा रहे कार्यों के लिये ग्रामवासियों को शुभकामनायें देते हुये कहा कि इससे गांवों के बुनियादी सुविधाओं में इजाफा होगा। उन्होंने कहा कि ग्रामवासियों के जरूरतों को जानना ही इस जनसंपर्क का उद्देश्य है। जिससे उनकी मांग व आवश्यकता के अनुरूप निर्माण व विकास कार्यों की रूपरेखा तैयार की जा सके।
    फरकानारा में नये धान उपार्जन केन्द्र के खुलने पर उन्होंने ग्रामवासियों को बधाई देते हुये कहा कि अब फरकानारा तथा आसपास के गांववासियों को धान बेचने में आसानी होगी तथा उन्हें ज्यादा दूरी तय नहीं करनी पड़ेगी। उन्होंने छिरीपानी में सांस्कृतिक मंच निर्माण की घोषणा की और कहा कि अगासमार से छिरीपानी के बीच पक्के सड़क निर्माण को जल्द स्वीकृति मिलने जा रही है।
    इस दौरान मंत्री श्री पटेल के समक्ष ग्रामीणजनों ने अपनी मांगें व समस्याएं भी रखीं। मंत्री श्री पटेल ने लोगों की समस्याओं को सुनकर उनके त्वरित निराकरण के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया तथा मांगों को शीघ्र पूर्ण करने का आश्वासन भी दिया।
    इन कार्यों का हुआ लोकार्पण-पण्डरामुड़ा में दो सांस्कृतिक मंच तथा एक सीसी रोड का लोकार्पण, फरकानारा में सीएसआर मद से 20 लाख रुपये की लागत से सीसी रोड निर्माण का भूमिपूजन, पुछियापाली में 10 लाख 76 हजार रुपये की लागत से पीडीएस भवन सह गोदाम, प्राथमिक शाला विद्यालय में अतिरिक्त भवन तथा सीसी रोड निर्माण का भूमि पूजन किया।
    इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य श्रीमती संतोषी राठिया, सदस्य जनपद पंचायत श्रीमती बैजंती राठिया, श्रीप्रीतम राठिया, सरपंच पंडरामुड़ा  अजीत सिंह राठिया, सरपंच पुछियापाली श्रीमती ललिता राठिया, सरपंच फरकानारा  छत्तर सिंह राठिया, उपसरपंच पंडरामुड़ा  कन्हैया राठिया, उपसरपंच फरकानारा  लक्ष्मण सिंह राठिया,  रामदयाल राठिया, सीईओ जनपद पंचायत अरूण सोम सहित जनप्रतिनिधि व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।