Top Story
  •  मानदेय बढ़ने से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका का बढ़ा उत्साह
    रायपुर/ 02 जुलाई 2019 राज्य सरकार द्वारा आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय में 1500 रूपए, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय में 1250 रूपए तथा आंगनबाड़ी सहायिकाओं के मानदेय में 750 रूपए की बढ़ोत्तरी किए जाने पर बालोद जिले के बालोद विकासखण्ड के ग्राम खेरथाडीह के आंगनबाड़ी केन्द्र क्रमांक-दो की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती चमन नेताम ने मानदेय में वृद्धि होने पर अपनी प्रसन्नता जाहिर की है। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ की सरकार ने हमारी चिंता कर मानदेय बढ़ाया है, इससे हमारा उत्साह बढ़ा है। उन्होंने कहा कि शासन से जो मानदेय मिल रहा है, वहीं हमारा घर परिवार चलाने का मुख्य सहारा है। क्योंकि उनका मात्र पचास डिसमिल कृषि जमीन है। पति कृषि कार्य के साथ मजदूरी करता है। एक लड़का और एक लड़की है, वे स्कूल में पढ़ रहे हैं अब उन्हें अच्छी शिक्षा दिलाएंगे। आंगनबाड़ी सहायिका श्रीमती बसंती नेताम ने भी खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि मानदेय बढ़ने से बहुत हद तक उनकी आर्थिक समस्याओं का समाधान हुआ है। अब उनकी दीनचर्या कीअन्य जरूरतें भी पूरी हो सकेगी।
  • व्यक्तिगत दावे पर पुनर्विचार से विक्रम बैगा को मिली आधा हेक्टेयर जमीन,मुख्यमंत्री के प्रति कृतज्ञता जाहिर की
    रायपुर, 02 जुलाई 2019/ राजस्व भूमि के व्यक्तिगत दावे पर पुनर्विचार के बाद विक्रम बैगा को आधा हेक्टेयर जमीन मिलने पर विक्रम बैगा ने खुशी जाहिर कर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का धन्यवाद ज्ञापित किया है। इस भूमि के लिए इसके पूर्व विक्रम बैगा का आवेदन समिति द्वारा निरस्त कर दिया गया था। ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने वन, राजस्व भू-अधिकार अधिनियम 2005 के तहत भूमि के दावे हेतु प्राप्त ऐसे आवेदन जिन्हें निरस्त कर दिया गया था, पर पुनर्विचार कर निर्णय लेने के निर्देश सभी राजस्व, वन विभाग के अधिकारियों को दिए थे। कोरिया जिले के भरतपुर तहसील के ग्राम शेरी के निवासी बैगा जनजाति के श्री विक्रम पिता स्वर्गीय तिजवा बैगा विगत कई वर्षों से में अपने परिवार के साथ निवासरत हैं। उनके परिवार में पत्नी फूलबाई, दो पुत्र अशोक कुमार एवं नंदकुमार तथा एक पुत्री ऊशा के साथ निवास करते हैं। इनका मुख्य व्यवसाय कृशि है। उन्होंने वन भूमि के आधा हेक्टेयर रकबे के व्यक्तिगत दावे के लिए आवेदन किया था। पूर्व में उनके द्वारा प्रस्तुत आवेदन किसी कारण से निरस्त होने पर प्रशासन द्वारा उन्हें पुनः आवेदन हेतु आग्रह किया गया। आवेदन पश्चात् प्रशासनिक प्रक्रिया का पालन करते हुए उनके आवेदन अनुसार चाहे गए रकबे का अनुमोदन कर उन्हें पट्टा वितरण कर दिया गया है। जिसका खसरा क्रमांक 312 है। वे सभी जगह प्रदेश के यशस्वी एवं जनहितैषी मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिस जमीन का उपभोग हम वर्षों से करते आ रहे हैं, उसका मालिकाना हक दिलाकर मुख्यमंत्री हमारे लिए सबसे बड़े हितैषी हो गये हैं। मैं इस खुशी को अपने शब्दों में बयां नहीं कर सकता। मेरा पूरा परिवार सरकार के प्रति कृतज्ञ है।
  • भूजल स्तर मे बढ़ोतरी के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग  जरूरी: डॉ. शिव डहरिया
    रायपुर, 02 जुलाई 2019/ नगरीय प्रशासन और श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने आज दो दिन तक चली मैराथन बैठक में नगरीय निकायों की समीक्षा की। उन्होंने नगरीय क्षेत्र में राजस्व वसूली में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नगरीय निकायों में बरसात के मौसम को ध्यान में रखते हुए निस्तारी तलाबों और नालों की साफ-सफाई के लिए अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि शहरी क्षेत्रों में मच्छरों से बचाव के लिए फागिंग मशीन से धुएं करने और तालाबों में पानी जमा होने वाले स्थान में एण्टी लार्वा दवा का छिड़काव करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। बैठक में उन्होंने डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन की समीक्षा की और अवैध निर्माण पर भी सख्ती से कार्रवाई करने कहा। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया ने समीक्षा बैठक में कहा कि मोर जमीन मोर घर योजना में हितग्राहियों पैसे लेने की शिकायत को गम्भीरता से लेते हुए इसकी जांच कराने और सही पाए जाने पर उनके उपर सीधे एफ.आई.आर. तथा बर्खास्तगी की कार्यवाही करने कहा। उन्होंने समीक्षा के दौरान कार्य में लापरवाही और अनियमितता पाए जाने पर 6 मुख्य नगरपालिका अधिकारियों और दो उप अभियंता को शो-काज नोटिस, दो उप अभियंता को निलंबित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण और संवर्धन को बढ़ावा देने के लिए नगरीय क्षेत्र में पुराने और नए सभी भवनों में अनिवार्य रूप से रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाया जाए। शासकीय भवनों में भी रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाना सुनिश्चित किया जाए। इसी तरह निकायों में व्यवसायिक एवं बहुमंजिला इमारतों में अग्नि शमन सुरक्षा की नियमित मानिटरिंग की जाए। उन्होंने विशेष तौर पर व्यावसायिक भवनांें, अस्पतालों और कोंचिग संस्थानों में अग्नि सुरक्षा व्यवस्था की जांच के निर्देश दिए। डॉ. डहरिया ने बैठक में प्रधानमंत्री अवास योजना में लापारवाही पर भानुप्रतापपुर के मुख्य नगर पालिका अधिकारी और उप अभियंता, खरौद के उप अभियंता, बिल्हा, सरगांव और घरघोड़ा के मुख्य नगर पालिका अधिकारी तथा नगर पंचायत राहोद के मुख्य नगर पालिका अधिकारी को को निर्माण कार्य में लापारवाही, धरमंजयगढ़ के मुख्य नगर पालिका अधिकारी को कम कर वसूली के लिए कारण बताओं नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार नगर पांचायत शिवरीनाराण में अवैध नीलामी की जांच संयुक्त संचालक से कराया जाए। डभरा में पार्षद निधि से 53 लाख रूपए की कुर्सी खरीदी की जांच कराने तथा मुख्य नगर पालिका अधिकारी को कार्य निष्पादन में लापरवाही के कारण उन्हें तत्काल वहां से हटाए जाने के भी निर्देश दिए गए हैं। उल्लेखनीय है कि पहले दिन की समीक्षा बैठक में डॉ. डहरिया ने दुर्ग नगर निगम के उप अभियंता को प्रधानमंत्री आवास योजना में त्रुटिपूर्ण प्रस्ताव तैयार करने तथा केन्द्र सरकार से योजना स्वीकृत कराने के लिए तत्काल प्रभाव से लंबित करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार नगर पालिका परिषद तिल्दा-नेवरा के उप अभियंता श्री आर.के. दास के विगत तीन माह से अनुपस्थित रहने के कारण निलंबित करने के निर्देश दिए गए। संयुक्त संचालक श्री नीलांबर नायक और सीएमओ बागबाहरा से भी अमरनाथ दुबे को चार माह का वेतन भुगतान न करने के कारण बताओं नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं। नगरीय प्रशासन मंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों में भी गौठानों का निर्माण किया जाएगा, जिससे पशुओं के कारण होने वाली दुर्घटनाओं की रोकथाम हो सके तथा शहरों के आस-पास पशुपालकों को भी सहायता मिल सके। उन्होंने राज्य के सभी नगरीय निकायों को 10 जुलाई तक गौठान निर्माण की कार्ययोजना बनाने को भी कहा। उन्होंने कहा कि गौठान में पशुओं के लिए डे-केयर की सुविधा होगी। नगरीय निकाय द्वारा पशुओं के लिए छाया, पानी, बिजली और चिकित्सा की व्यवस्था की जाएगी। डॉ. डहरिया ने बताया कि नगरीय निकायों के कर्मचारियों और शिक्षकों को वेतन भुगतान के लिए आबंटन जारी कर दिया गया है, उनके खातों पर भुगतान की कार्यवाही शीघ्र करें। बैठक में नगरीय प्रशासन विभाग की विशेष सचिव श्रीमती अलरमेलमंगई डी., अतिरिक्त संचालक सुडा श्री सौमिल्य रंजन चौबे सहित नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
  • मिर्च की बम्पर पैदावार से जयंती बाई के चेहरे पर आई मुस्कान
    रायपुर, 02 जुलाई 2019/ बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के विकासखण्ड शंकरगढ़ के ग्राम देवसर्राकला के प्रगतिशील कृषक श्रीमती जयंती बाई अपनी मिर्च खेती की सफलता का श्रेय कठिन परिश्रम के साथ उद्यान विभाग द्वारा राष्ट्रीय बागवानी मिशन योजनान्तर्गत संचालित प्रशिक्षण एवं भ्रमण कार्यक्रम को देती है। कृषक जयंती बाई के पास आधा एकड़ खेत है और इनका पारिवारिक पेशा खेती-बाड़ी है। पति श्री रामप्रसाद परम्परागत् तरीके से खेती करते हैं, पर विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं एवं उन्नत तकनीकी ज्ञान के अभाव में उत्पादन इतना कम होता था कि परिवार का खर्च चलाना मुश्किल हो जाता था। इसके अलावा भविष्य की पारिवारिक जिम्मेदारियां भी अधर में दिखाई दे रहीं थी। कम पढ़ी लिखी होने से उसे कुछ काम नहीं मिल पा रहा था। जयंती बाई अपनी आय को बढ़ाने के लिए एक दिन विकासखण्ड के उद्यान विभाग में गई तथा अधिकारियों से सम्पर्क कर उद्यानिकी खेती की उन्नत तकनीक के बारे में चर्चा की। उन्हें बताया गया कि विकासखण्ड में संचालित राष्ट्रीय बागवानी मिशन योजनान्तर्गत प्रशिक्षण एवं भ्रमण कार्यक्रम आयोजन किया गया है। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लेकर मैं सब्जी उत्पादन के साथ-साथ आम के बगीचे अंतरवर्ती फसल करने का निर्णय लिया। मैने उद्यान विभाग से मिर्च बीज प्राप्त कर अपने आधा एकड़ खेत में मिर्च की खेती की, जिसके लिए मुझे 10 हजार रूपये खर्च करना पड़ा। उद्यान विभाग से प्राप्त मिर्च बीज से बम्पर फसल होने से किसान जयंती बाई की चेहरे की मुस्कान और आय स्त्रोत में बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने बताया कि खेती से मुझे 10 क्विंटल मिर्च प्राप्त हुये जिसका बाजार मूल्य 40 हजार रूपये है। खर्च काटकर मुझे 30 हजार रूपये की बचत प्राप्त हुई। मिर्च की खेती करने से मेरे आय के स्त्रोत में बढ़ोत्तरी होने पर मेरी आर्थिक स्थिति में सुधार आ रही है। जयंती बाई के इस जुनून को देखते हुए आस-पास के कृषक भी उद्यानिकी फसल को अपनाने हेतु प्रेरित हो रहे हैं।
  • इश्क की खातिर इस जोड़े ने मार डाले अपने पत्नी और पति
    सोनीपत। हरियाणा के सोनीपत में प्रेम-प्रसंग के चलते एक प्रेमी-प्रेमिका ने अपने-अपने जीवनसाथी (life partners) को मौत के घाट उतार दिया। मामले का खुलासा होने के बाद आरोपी प्रेमी-प्रेमिका को कुंडली थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इस खौफनाक वारदात को अंजाम देने के बाद से ही दोनों फरार थे। मामला सोनीपत के नेहरा गांव का है। आरोपी रेखा का गांव के ही आरपीएफ में तैनात जवान नवीन के साथ प्रेम प्रसंग (affair) चल रहा था। नवीन भी शादीशुदा था जिसकी वजह से दोनों का प्यार परवान नहीं चढ़ पा रहा था। इसके चलते दोनों ने अपने जीवनसाथियों की हत्या की साजिश रच डाली। जानकारी के अनुसार पति को मौत के घाट उतारने से पहले रेखा ने 23 मई को आर्य समाज मंदिर में प्रेमी नवीन से शादी की थी। इसके बाद 28 मई को प्रेमी नवीन ने अपनी पत्नी गायत्री की तकिए से मुंह दबाकर हत्या कर दी और परिजनों को कहा कि गायत्री की मौत हार्ट अटैक (heart attack) से हो गई। नवीन ने पत्नी की हत्या को नेचुरल मौत बताकर अंतिम संस्कार भी करवा दिया। इसके बाद रेखा ने अपने पति को नशीली दवा खिलाई और फिर मामले को आत्महत्या बताने के लिए फांसी पर लटका दिया। रेखा ने भी चालाकी से अपने पति का अंतिम संस्कार कर दिया। पति की मौत के बाद भी रेखा की नवीन के साथ बातचीत लगातार जारी रही। इस दौरान हत्याकांड को अंजाम देने वाला ऑडियो रेखा के ससुराल वालों के हाथ लग गया। परिजनों ने इसकी शिकायत कुंडली थाना पुलिस (police) को दी जिसके बाद पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने दोनों को न्यायालय में पेश कर रिमांड पर लिया है
  • माँ का नाश्ता नही हुआ था इसलिए खींच दी चेन
    मथुरा । यूपी के मथुरा स्टेशन पर रविवार को अजीबोगरीब मामला सामने आया। यहां एक शख्स ने इसलिए चेन खींचकर ट्रेन रोक दी, क्योंकि उनकी मां अभी नाश्ता कर ही रही थीं कि ट्रेन चल पड़ी थी। नई दिल्ली-हबीबगंज शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे मनीष को चेन खींचकर ट्रेन रोकने के आरोप में मथुरा स्टेशन पर जीआरपी ने हिरासत में ले लिया।  बताया जा रहा है कि मनीष की मां ट्रेन में नाश्ता कर रही थीं और तभी ट्रेन मथुरा स्टेशन से खुल गई। परिवार को मथुरा स्टेशन पर ही उतरना था, इसलिए हड़बड़ी में दिल्ली निवासी मनीष अरोड़ा ने चेन खींचकर ट्रेन रोक दी।  मां नाश्ता कर रही थीं और ट्रेन खुल गई  जीआरपी ने बताया, मनीष अपनी मां और रिश्तेदारों के साथ नई दिल्ली से मथुरा के लिए यात्रा कर रहे थे। मथुरा स्टेशन आने से कुछ देर पहले उन्होंने अपनी मां को नाश्ता दिया था। ट्रेन मथुरा स्टेशन पर पहुंच गई लेकिन मां अभी नाश्ता कर रही थीं। मनीष को लगा कि नाश्ता खत्म होते ही परिवार के सभी लोग उतर जाएंगे।
  • Breaking : अमित शाह को बम से उड़ाने की धमकी
    नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के गंजबसौदा से बीजेपी विधायक लीला जैन (Leena Jain) को जान से मारने की धमकी मिली है. बीजेपी विधायक लीला जैन के साथ-साथ गृहमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) को भी जान से मारने की धमकी दी गई है. बता दें कि बीजेपी विधायक लीला जैन (Leena Jain) को डाक के द्वारा एक पत्र मिला, जिसमें उन्हें और अमित शाह (Amit Shah) के साथ-साथ स्थानीय बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और सरकारी अस्पताल को भी बम से उड़ाने की धमकी दी गई है. इस संबंध में पुलिस ने कहा कि धमकी को देखते हुए इलाके में सुरक्षा काफी कड़ी कर दी गई है. बम निरोधक दस्ते के भी बुलाया गया है.
  • कांग्रेस विधायक ने दिया इस्तीफा, जानिए वजह
    बंगलुरू। कर्नाटक कांग्रेस के दो विधायक आनंद सिंह और रमेश जरकिहोली ने सोमवार को राज्य विधानसभा से अपना इस्तीफा दे दिया। जिसके बाद कर्नाटक की एचडी कुमारस्वामी सरकार के लिए एक नई मुसीबत खड़ा हो गई है। हालांकि, अमेरिका में गर्मी छुट्टी मना रहे कुमारस्वामी ने इसके लिए भारतीय जनता पार्टी को कसूरवार ठहराते हुए यह दावा किया है कि उनकी सरकार को किसी तरह का कोई खतरा नहीं है। उधर, कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने पार्टी के दो विधायकों के विधानसभा से इस्तीफा पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा कि कुछ विधयाकों के छोड़कर चले जाने का मतलब सरकार का गिर जाना नहीं है। गुंडू ने आगे कहा- “वे सभी इसलिए जा रहे हैं क्योंकि उन्हें वे लोग धमका रहे हैं। उन्हें ब्लैकमेल कर रहे हैं और पैसों का लालच दिया जा रहा है। क्यों बीजेपी ये सब कर रही है?”
  • मुम्बई : बारिश की वजह से 13 की मौत
    मुम्बई । महाराष्ट्र में लगातार हो रही बारिश अब वहां के लोगों के लिए आफत बन गई है। मुंबई के मलाड़ में दीवार गिरने से 13 लोगों की मौत हो गई है। वहीं पुणे में दीवार गिरने से सात लोगों की मौत हो गई है। इन दोनों हादसों में कई लोगों के दबे होने की आशंका है। बचाव और राहत कार्य के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के कर्मचारी घटनास्थल पर पहुंच चुके हैं। बृहत मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) ने मलाड़ की घटना में 13 लोगों के मरने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा, 'कुरार गांव में एक ढलान सरीखे पहाड़ पर बने कुछ अस्थायी झोपड़ियों पर दीवार गिरने से 13 लोगों की मौत हो गई है। अग्निशमन और राष्ट्रीय आपदा राहत बल के कर्मचारी घटनास्थल पर पहुंच चुके हैं और राहत कार्य में जुट गए हैं।
  • एक्सप्रेस वे के उदघाटन पर क्यों आई पुलिस फोर्स ?
    राजधानी में रायपुर धमतरी की छोटी रेलवे लाइन को बंद कर बनाए गए *एक्सप्रेस वे को चालू हुए 5 माह हो चुके हैं - पिछले 5 महीनों से लोग उस पर आवागमन कर रहे हैं, कार, बाइक के अलावा हर तरह के वाहन का आवागमन बिना रोक-टोक चल रहा है -* भारतीय जनता पार्टी अपने शासन में इस एक्सप्रेस वे का उदघाटन नहीं कर पाई और उसी का मलाल भारतीय जनता पार्टी के नेताओं सहित क्षेत्रिय विधायक को है - रायपुर उत्तर के तत्कालीन विधायक श्रीचंद सुंदरानी जिनके कार्यकाल में यह एक्सप्रेस वे बनना शुरू हुआ था बहुत कोशिशों के बाद भी इस गम से बाहर नहीं निकल पा रहे थे तो उन्होंने पूर्व विधायक के नाते वर्तमान कांग्रेस सरकार को अल्टीमेटम दे दिया कि यदि 30 जून तक एक्सप्रेस वे का उदघाटन नहीं हुआ तो वे 1 जुलाई को इसका उदघाटन कर देंगे - *श्रीचंद सुंदरानी द्वारा की गई इस घोषणा से भारतीय जनता पार्टी के सभी बड़े नेताओं ने किनारा कर लिया* -क्योंकि बड़े नेता जान गए थे कि जिस एक्सप्रेस वे पर आम जनता पिछले लगभग 5 महीनों से आवागमन कर रही है, सुविधा का लाभ ले रही है, *उस *एक्सप्रेस वे का इस तरह जबरन उदघाटन जनता के बीच अपनी किरकिरी करवाना है -* और यही कारण रहा कि क्षेत्र के पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी द्वारा की गई घोषणा के कार्यक्रम में *एक भी बड़ा नेता उपस्थित नहीं हुआ* पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी ने अपने मुट्ठी भर कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में अपनी की गई घोषणा को अमल करने की मजबूरी में *एक्सप्रेस वे के साइड रोड* अर्थात मुख्य एक्सप्रेस वे के किनारे वाली साइड रोड पर पुलिस अधिकारियों एवं सिपाहियों की धक्का-मुक्की के बीच नारियल फोड़कर *यह मान लिया कि उन्होंने एक्सप्रेस वे का उद्घाटन कर दिया* जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा इस अवैध उद्घाटन को रोकने के लिए तमाम तैयारियां की गई थी राजधानी के लगभग सभी थानों की पुलिस को पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी के राजनीतिक मंशा से किए जा रहे उदघाटन कार्यक्रम को रोकने बुला लिया गया था - किसी अप्रिय स्थिति और घटना से निपटने के लिए प्रशासन पूरी तरह तैयार था गिरफ्तारी की स्थिति में बसों को भी बुला लिया गया था जनता के बीच चर्चा का विषय बन गया है की पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी ने यह सब ड्रामा क्यों किया - रायपुर उत्तर के विधायक कुलदीप जुनेजा ने इससे पूर्व विधायक एवं भारतीय जनता पार्टी का नाटक बताया उनका कहना था कि चालू एक्सप्रेसवे के उद्घाटन की नौटंकी करने के बदले पूर्व विधायक को चाहिए था कि वे शास्त्री चौक के स्काईवॉक का उदघाटन करने की नौटंकी करते - प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय ठाकुर ने कहा कि पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी पर भाजपा के नेताओं को जन की चिंता नहीं है बल्कि एक्सप्रेसवे निर्माण करने वाले ठेकेदार के धन की चिंता है क्यों ? - अब देखने वाली बात यह है कि भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता एवं रायपुर उत्तर के पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी द्वारा किए गए इस कार्य का भारतीय जनता पार्टी किस रूप में लेती है ? -
  • एक्सप्रेस हाईवे का लोकार्पण कार्यकर्ताओं के नेतृत्व में किया – सुन्दरानी
    भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता आज संध्या 4 बजे रायपुर उत्तर के पूर्व विधायक श्रीचंद सुन्दरानी के नेतृत्व में एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करने देवेन्द्र नगर चौक पहुंचे थे जहाँ पर सैंकड़ो की संख्या में कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोकने का प्रयास किया लेकिन फिर भी एक्सप्रेसवे में श्रीचंद सुन्दरानी व कार्यकर्ताओं ने नारियल फोड़कर एवं फीता काटकर उद्घाटन कर जनता को समर्पित कर दिया | इसके बाद पुलिस प्रशासन व कार्यकर्ताओं के बीच झुमा झटकी हुयी कार्यकर्ताओं के उत्साह के सामने पुलिस को भी शांत होना पड़ा और बहुत से कार्यकर्ता एक्सप्रेस हाईवे के ऊपर चढ़ गए और अलग अलग जगह नारियल फोड़कर भूपेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की | रायपुर उत्तर के पूर्व विधायक सुन्दरानी ने कहा की हमने कांग्रेस सरकार को 15 दिन का समय दिया था की वे इस सड़क का उद्घाटन कर जनता के लिए मार्ग को खोल दें किन्तु सरकार का रवैया इसको लेकर उदासीन बना रहा उन्होंने आगे कहा एक्सप्रेसवे सड़क का निर्माण 293 करोड़ की लागत से डॉ.रमन सिंह की सरकार में प्रारंभ हुआ था जिसका उद्घाटन हमारी सरकार द्वारा 10 अक्टूबर 2018 को करने की तयारी थी किन्तु 6 अक्टूबर 2018 को ही विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागु हो गयी जिसके चलते इस सड़क का उद्घाटन नहीं हो सका | सरकार को 30 जून तक समय देने के बावजूद भी इस सड़क का उद्घाटन नहीं किया गया इसलिए आज भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा इस सड़क का उद्घाटन कर जनता को सौंप दिया गया है और जनता इसका प्रयोग कर सुगम यातायात का लाभ ले सके | श्रीचंद सुन्दरानी ने कहा की भाजपा जनहित के मुद्दों को लेकर प्रदेश भर में आन्दोलन करती रहेगी | आज के इस कार्यक्रम में प्रमोद साहू, छगन मूंदड़ा, सत्यम दुवा, बजरंग खंडेलवाल, किशोर महानंद, अकबर अली, शैलेंदारी परगनिहा, राजीव मिश्रा, सुनील चंद्राकर, योगेन्द्र वर्मा, सुभाष अग्रवाल, चंद्रेश शाह, अमरजीत सिंह छाबड़ा, विजय जयसिंघानी, अमित मैसेरी, सचिन मेघानी, सुनील चौधरी, गज्जू साहू, अवतार बागल, विपिन पटेल, कमलेश शर्मा, हरीश ठाकुर, अनूप खेलकर, टिकेन्द्र वर्मा, संजय सोलंकी, श्रवण मिश्रा, मधुसुदन शर्मा, प्रीतम महानंद, राधेश्याम बाग़, प्रमोद साहू, इरशाद खान, कनिका हलदार , सहदेव महानंद, बलराम तांडी, दीपक ग्वाल, ज्ञानचंद चौधरी, राहुल यादव, अनुराग साहू, सुदेश दास, दीपाली चौधरी, संतोष तिवारी, नमिता राय, गजेन्द्र सोनानी, राम प्रजापति, दोलामणी तांडी, रितु शर्मा, गीता रेड्डी, वंदना सिन्हा, दुर्गा साहू, रनी पिल्लई, सिया पिल्लै, सविता मसीह, चमेली ध्रुव, ज्योति दास, श्रीमति लता सुनील चौधरी, लखविंदर सिंह, अर्चना शुक्ला, दूजे खंडेलवाल, राकेश शर्मा, कपिला सिंह, वनिता भेंडारकर, भरत ठाकुर, अमित देव्नागन, आलोक शर्मा, अर्पित सूर्यवंशी, बिट्टू शर्मा, मनीष पंड्या, राजकुमार धीवर, रंजीत गौतम, रुपेश यादव, रवि शर्मा, ललित बुंदेला, संदीप जंघेल, गुरमीत सिंह उषा जंघेल, सोनू यादव, भरत कुंडे सहित सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे |
  •    एक्सप्रेस-वे को लेकर हुए भाजपा के प्रदर्शन को कांग्रेस ने नौटंकी करार दिया - भाजपा को जन की नहीं एक्सप्रेस वे निर्माण करने वाले ठेकेदार से मिलने वाले कमीशन चिंता : कांग्रेस
    रायपुर/01 जुलाई 2019। निर्माणाधीन एक्सप्रेस-वे को लेकर हुए भाजपा के प्रदर्शन को कांग्रेस ने नौटंकी करार दिया प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी और भाजपा के नेताओं को जन की चिंता नहीं है, बल्कि एक्सप्रेस-वे निर्माण करने वाले ठेकेदार के धन की चिंता है। 293 करोड़ के एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए भाजपा सरकार के दौरान ठेकेदार से मोटी कमीशन वसूली की गई थी। कमीशनखोरी भ्रष्टाचार के कारण ही एक्सप्रेस-वे में बने ओवरब्रिज के राड बाहर निकल आये थे जो एक्सप्रेस वे के गुणवत्ताहीन होने की पुष्टि करता है। एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्यों में हुई गुणवत्ता की कमी की जांच अभी चल रही है। जांच पूरी होने के बाद गुणवत्ता की पुष्टि होने के बाद और जनता के लिये सुरक्षित पाये जाते ही एक्सप्रेस-वे को जनता के लिए खोल दिया जाएगा। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि सुंदरानी को उद्घाटन की इतनी ही चिंता थी तो भाजपा सरकार में निर्माण पूरा करके उद्घाटन कर देना था। लेकिन उस समय भी सुंदरानी को उद्घाटन का मौका नहीं मिलता, अब सुंदरानी उद्घाटन-उद्घाटन खेल रहे है। उदघाट्न के आंदोलन की नौटंकी के पीछे ठेकेदार के बिल को जल्दी भुगतान कराने की त्वरा को मूलभूत कारण बताया।  प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी ने कभी एक्सप्रेस-वे निर्माण के लिये घर से बेघर किये गये जनता की चिंता कभी नहीं की। श्रीचंद सुंदरानी ने विधायक रहते हुये जनता की चिंता किये होते तो उत्तर विधानसभा की जनता उन्हें बाहर का रास्ता नहीं दिखाती। श्रीचंद सुंदरानी के नेतृत्व में पहुँचे भाजपा कार्यकर्ताओं ने एक्सप्रेस-वे को क्षति पहुँचाया है। एक्सप्रेस-वे में हुई तोड़फोड़ के कारण अब राजधानी की जनता को एक्सप्रेस वे के लिये और इंतजार करना पड़ सकता है। भाजपा की सँस्कृति में गुंडागर्दी और तोड़फोड़ करना है। 15 साल के भाजपा शासनकाल में निर्माण कार्यों के नाम से कमीशन खोरी और भ्रष्टाचार चरम सीमा पर थी। एक्सप्रेस-वे निर्माण पर भी मोटी कमीशनखोरी भाजपा के द्वारा की गई है। अब जब एक्सप्रेस-वे की गुणवत्ता की जांच चल रही है। ऐसे में ठेकेदार को सहयोग करने के लिए भाजपा प्रदर्शन कर रही है। राज्य सरकार एक्सप्रेस वे निर्माण पूर्ण होने के बाद आम जनता को समर्पित करेगी, अपूर्ण या असुरक्षित एक्सप्रेस वे को जनता को सौप कर जनता की जान को जोखिम में नहीं डाला जाएगा। पूर्व की रमन सरकार ने बीते 15 साल में राजधानी के भीतर कई ऐसे निर्माण कार्य स्वीकृत किए हैं जो अभी तक पूरे नहीं हुये हैं। डॉ. रमन की सरकार ने कई ऐसे प्रोजेक्ट चालू किए जिसका मूल उद्देश्य मात्र कमीशनखोरी और भ्रष्टाचार करना था। स्काईवॉक भाजपा की भ्रष्टाचार की स्मारिका की तरह आज भी राजधानी में खड़ी होकर भाजपा को चिढ़ा रही है। एक्सप्रेस-वे भी लपरवाही के कारण अभी तक पूर्ण नहीं हो पाई है, इन सब के लिए भाजपा की सरकार जिम्मेदार है अब जब गुणवत्ता की जांच हो रही है, तब भाजपा अपने पोल खुलने के डर से राजनीतिक हताशा के चलते आंदोलन की नौटंकी कर रहे हैं। राजधानी की जनता भाजपा नेताओं के चाल चरित्र और चेहरे को पहचानती है।