Top Story
  • कोरोना वायरस से बचाव के लिए शासकीय कार्यालयों और अधिकारी-कर्मचारियों के लिए दिशा-निर्देश जारी

    कार्यालयों में साफ-सफाई रखने, अनावश्यक बैठकें व दौरों से बचने और डिजिटल तकनीकों के उपयोग के निर्देश

    सामान्य प्रशासन द्वारा सभी कार्यालय प्रमुखों को जारी किए गए दिशा-निर्देश

       रायपुर, 18 मार्च 2020

    नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की रोकथाम हेतु राज्य शासन द्वारा कर्मचारियों को कार्य स्थल पर सुरक्षित वातावरण प्रदाय करने के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए गए है। जिसके तहत कार्यालय परिसरों एवं आस-पास सफाई का विशेष ध्यान रखने को कहा गया है। इसके साथ ही कार्यालय में आंगतुकों के आवागमन को नियंत्रित करने तथा अनावश्यक आगंतुकों के प्रवेश में रोक लगाने को कहा गया है। यहां यह विशेष ध्यान रखने को कहा गया है कि इससे आम नागरिकों को कठिनाई न हो।

       जारी निर्देश में कहा गया है कि यथा संभव बैठक का आयोजन नही किया जाए। आवश्यक बैठकें विडियो काॅफ्रेंस के माध्यम से आयोजित की जा सकती है। अनावश्यक दौरे नही किया जाए। अति आवश्यक हो तभी दौरे किए जाएं। डिजिटल सचिवालय का अधिक से अधिक उपयोग किया जाए तथा नस्तियों के प्रवाह में कमी लाई जाए। इसके लिए तकनीकी उपकरणों का प्रयोग किया जा सकता है। जिन कार्यालयों में जिम, मनोरंजन केन्द्र एवं झुला घरों का संचालन है, वे आगामी 31 मार्च 2020 तक बंद रखे जाएं। शासकीय कार्यालयों का नियमित रूप से सेनेटाईज किया जाए जैसे दरवाजों, रोलिंग एवं फर्निचर जो नियमित रूप से कर्मचारियों के संपर्क में होते है। इनकी साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाएं। शासकीय कार्यालयों के बाथरूम, यूरिनल में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाए तथा सेनेटाईजर की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए। जिन कार्यालयों में स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध है वहां प्रारंभिक जांच एवं उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

        राज्य शासन द्वारा शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों के अनावश्यक अवकाश पर प्रतिबंध लगाने के निर्देश जारी किए गए है किन्तु अधिकारी-कर्मचारी या उसके परिवार के सदस्य के कोरोना से संभावित संक्रमण से या स्वास्थ्यगत कारणों से अवकाश आवेदन प्राप्त होने पर प्राथमिकता के आधार पर अवकाश स्वीकृत किया जाए साथ ही उन्हें आवश्यक सुविधा भी उपलब्ध करायी जाए।

      शासकीय कार्यालयों में कार्यरत वरिष्ठ कर्मचारी, गर्भवती महिलाएं एवं जो कर्मचारी-अधिकारी नियमित रूप से चिकित्सा सुविधा ले रहे है उनके लिए विशेष सर्तकर्ता बरती जाएं। यह भी ध्यान रखा जाए कि इन कर्मचारियों को फं्रड डेस्ट या रिसेप्शन आदि में नियोजित नही किया जाए। इसके साथ ही आदेश में भारत सरकार द्वारा कोरोना वायरस को लेकर जारी एडवाईजारी जिसमें क्या करें, क्या न करें का भी पालन प्रमुखता से करने के निर्देश दिए गए है। इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा प्रदेश के सभी विभाग प्रमुखों, राजस्व मण्डल के अध्यक्ष, सभी संभाग आयुक्तों, जिला कलेक्टरों, विभागाध्यक्षों और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को निर्देश जारी करते हुए उसका पालन सुनिश्चित करने को कहा गया है।

  • भाजपा की सरकार चली गई है  : कांग्रेस
    रायपुर/18 मार्च 2020। भाजपा के द्वारा चलाए जा रहे चलो सरकार खोजते हैं अभियान को पूरी तरीके से फर्जी निरूपित करते हुए प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि ‘‘भाजपा की सरकार चली गई है भाजपा सरकार ना खोजे अभी।’’ भाजपा के 15 साल के कुशासन में जब झीरम जैसी घटना हुई जहां कांग्रेस नेताओं की पूरी पीढ़ी की शहादत हुई उस समय भाजपा की सरकार कहां थी? जिस समय बिलासपुर कांग्रेस भवन के भीतर घुसकर रघुपति राघव राजा राम गा रहे कांग्रेसजनों पर बेदर्दी से लाठियों से हमला किया गया उस समय भाजपा की सरकार कहां थी? जब किसान आत्महत्या कर रहे थे किसानों से 5 साल ₹300 बोनस देने का वादा पूरा नहीं किया गया, ₹2100 धान का समर्थन मूल्य देने का वादा पूरा नहीं किया गया, एक-एक दाना धान की खरीद का वादा नहीं निभाया गया उस समय भाजपा की सरकार कहां थी? गर्भाशय कांड, अंखफोड़वा कांड, झलियामार में आदिवासी नाबालिक छात्राओं से अनाचार के समय भाजपा सरकार कहां थी? एड़समेटा, पेद्दागेलूर, सारकेगुड़ा नसंहार और फर्जी प्रकरण दर्ज किये जाने के समय भाजपा सरकार कहां थी? प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा सरकार के 15 साल तक चले जनविरोधी कारनामों के कारण भाजपा की सरकार चली गई है इसलिये भाजपा सरकार ना खोजे अभी। झीरम कांड करवाने वाली भाजपा की सरकार छत्तीसगढ़ में नहीं मिलेगी अभी। बिलासपुर कांग्रेस भवन में घुसकर लाठीचार्ज करवाने वाली सरकार भी नहीं मिलेगी अभी। किसानों से वादाखिलाफी करके किसानों से धोखाधड़ी करके किसानों को उनके हक की बोनस की राशि नहीं देने वाली भाजपा सरकार अब छत्तीसगढ़ में भी नहीं है। छत्तीसगढ़ में अब कांग्रेस की भूपेश बघेल सरकार है सुपोषण के लिए काम करने वाली सरकार है। किसानों को ₹2500 धान का दाम देने वाली सरकार है, हाट बाजार क्लीनिक चलाने वाली सरकार है, तेंदूपत्ता तोड़ने का ₹4000 प्रति मानक बोरा देने वाली सरकार है, छत्तीसगढ़ की लोक कला संस्कृति को समझने वाली और छत्तीसगढ़ और हर छत्तीसगढ़िया के मान सम्मान और स्वाभिमान का ख्याल रखने वाली भूपेश बघेल की कांग्रेस सरकार है।
  • पाकिस्तान स्थित करतारपुर साहिब कारीडोर बंद
    करुणा वायरस की गंभीरता को देखते हुए केंद्र सरकार ने पाकिस्तान में स्थित सिखों के धार्मिक तीर्थ श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर को 15 मार्च की रात 12:00 बजे से बंद करने का आदेश जारी कर दिया है | उल्लेखनीय है कि श्री करतारपुर साहिब दर्शन के लिए देश-विदेश से अनेक तीर्थयात्री आते हैं और विभिन्न देशों की लोगों का एक जगह जमावड़ा कोरोनावायरस को बढ़ा सकता है इसलिए एहतियात बरतते हुए केंद्र सरकार ने अगले आदेश तक इसे बंद रखने का निर्णय लिया है बाहर हाल कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने केंद्र सरकार के इस फैसले को सही माना जा सकता है
  • सिख समाज के लंगर में भोजन नहीं - क्यों और कहां?
    खास कारोना वायरस ख़बर* *सिक्ख समाज अब लंगरों में कोरोना वायरस से बचाने वाला मास्क , सेनेटाइजर और साबुन मुफ्त में कर रहे वितरित -* उत्तराखंड के रुद्रपुर में सिक्ख समुदाय ने अनूठा उदाहरण पेश करते हुए भोजन की जगह अब करोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए भोजन की जगह मास्क, सैनिटाइजर और साबुन के साथ-साथ दवाइयां का लंगर लगाया है लोगों की भारी भीड़ जुट रही है | आमतौर पर सिक्खों का लंगर गुरु प्रसाद के रूप में मुहैया कराये जाने वाले भरपेट और स्वादिष्ट भोजन से जुड़ा है | लेकिन इस बार कोरोना के फैलते खौफ और दवा बाजार में लूट का शिकार हो रही आम जनता की मदद का बीड़ा सिख समाज ने उठाकर लोगों को राहत देने का काम शुरू किया है | रुद्रपुर के मुख्य बाजार, महाराज रणजीत सिंह पार्क, लेवर चौक, बस अड्डे व अन्य जगहों पर सिक्ख समुदाय लंगर लगाकर मास्क और अन्य सामान मुफ्त में वितरित कर रहा है | उत्तराखंड के रुद्रपर में मास्क की हो रही खुले आम काला बाजारी और ड्रग्स विभाग के अफसरों के हाथ में हाथ रखे रहने से स्थानीय जनता लूट का शिकार हो रही है | ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाने के लिए स्थानीय दवा विक्रेताओं ने कोरोना के खौफ का भरपूर फायदा उठाया है | स्वास्थ्य विभाग की सुस्त कार्यप्रणाली से बेबस लोगों की लाचारी देखने को मिल रही है वे ऊंचे दाम पर मास्क और सेनेटाइजर खरीदने को विवश है | लोगों की परेशानियों को देखते हुए सिक्ख समुदाय ने लोगों की सहायता के लिए अपने हाथ आगे बढ़ाये है | समुदाय ने मास्क , सेनेटाइजर व साबुन की टिक्कियों का लंगर लगाकर उसका वितरण शुरू किया है | लंगर में शामिल युवाओं ने कहा कि आम लोगों की बेबसी ने उन्हें इस कार्य के लिए सड़को पर उतारा है | उन्होंने बताया कि वे दवा विक्रताओं की मनमानी नही चलने देंगे | लोगों को रियायती दरों अथवा प्रिंट रेट पर मास्क , सेनेटाइजर और साबुन मिल सके इसके लिए जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा जायेगा |
  • सिख समाज के लंगर में भोजन नहीं - क्यों और कहां?
    खास कारोना वायरस ख़बर* *सिक्ख समाज अब लंगरों में कोरोना वायरस से बचाने वाला मास्क , सेनेटाइजर और साबुन मुफ्त में कर रहे वितरित -* उत्तराखंड के रुद्रपुर में सिक्ख समुदाय ने अनूठा उदाहरण पेश करते हुए भोजन की जगह अब करोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए भोजन की जगह मास्क, सैनिटाइजर और साबुन के साथ-साथ दवाइयां का लंगर लगाया है लोगों की भारी भीड़ जुट रही है | आमतौर पर सिक्खों का लंगर गुरु प्रसाद के रूप में मुहैया कराये जाने वाले भरपेट और स्वादिष्ट भोजन से जुड़ा है | लेकिन इस बार कोरोना के फैलते खौफ और दवा बाजार में लूट का शिकार हो रही आम जनता की मदद का बीड़ा सिख समाज ने उठाकर लोगों को राहत देने का काम शुरू किया है | रुद्रपुर के मुख्य बाजार, महाराज रणजीत सिंह पार्क, लेवर चौक, बस अड्डे व अन्य जगहों पर सिक्ख समुदाय लंगर लगाकर मास्क और अन्य सामान मुफ्त में वितरित कर रहा है | उत्तराखंड के रुद्रपर में मास्क की हो रही खुले आम काला बाजारी और ड्रग्स विभाग के अफसरों के हाथ में हाथ रखे रहने से स्थानीय जनता लूट का शिकार हो रही है | ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाने के लिए स्थानीय दवा विक्रेताओं ने कोरोना के खौफ का भरपूर फायदा उठाया है | स्वास्थ्य विभाग की सुस्त कार्यप्रणाली से बेबस लोगों की लाचारी देखने को मिल रही है वे ऊंचे दाम पर मास्क और सेनेटाइजर खरीदने को विवश है | लोगों की परेशानियों को देखते हुए सिक्ख समुदाय ने लोगों की सहायता के लिए अपने हाथ आगे बढ़ाये है | समुदाय ने मास्क , सेनेटाइजर व साबुन की टिक्कियों का लंगर लगाकर उसका वितरण शुरू किया है | लंगर में शामिल युवाओं ने कहा कि आम लोगों की बेबसी ने उन्हें इस कार्य के लिए सड़को पर उतारा है | उन्होंने बताया कि वे दवा विक्रताओं की मनमानी नही चलने देंगे | लोगों को रियायती दरों अथवा प्रिंट रेट पर मास्क , सेनेटाइजर और साबुन मिल सके इसके लिए जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा जायेगा |
  • सिंधिया संघर्ष की राजनीति में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ नहीं चल पाये - कांग्रेस
    * *अवसरवाद और पदलोलुपता की राजनीति सिंधिया को मुबारक हो* *रायपुर : ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा कांग्रेस छोड़ने के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने संघर्ष की राजनीति छोड़कर सुविधा और अवसरवादिता की राजनीति को चुना है। ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस के बड़े नेता रहे और उनके छोड़ने से जो क्षति होगी उसे पूरा करने के लिए कांग्रेस का हर कार्यकर्ता दुगनी मेहनत करके इस नुकसान की भरपाई करेगा । कांग्रेस पार्टी को और मजबूत बनाने के लिये हम सब अब और ज्यादा काम करेंगे। कांग्रेस पार्टी ने ज्योतिरादित्य जी को मानसम्मान सता में भागीदारी सब कुछ तो दिया लेकिन सिंधिया संघर्ष की राजनीति में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ नहीं चल पाये । अवसरवाद और पदलोलुपता की यह बानगी सिंधिया जी को ही मुबारक हो।*
  • मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार पर संकट के बादल - संकट से निकलने का आसान रास्ता
    मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार पर संकट के बादल - *अपनी उपेक्षा से नाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया -* *भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की चर्चा -* संपूर्ण घटना चक्र इस बात की ओर इशारा कर रहा है कि यदि कांग्रेस इसी तरह चुपचाप बैठी रही तो मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनना तय है | मोदी शाह और शिवराज का गुणा भाग काम कर गया | उपेक्षित ज्योतिरादित्य सिंधिया की अपेक्षाओं को भाँपकर भारतीय जनता पार्टी ने मौका पाकर अपना कंधा आगे करके उन्हें मजबूती से आगे बढ़ाने का आश्वासन दे दिया | अब कांग्रेस के पास एक ही रास्ता बचा है कि या तो वे ज्योतिरादित्य सिंधिया को मना ले जिसकी कोई संभावना नजर नहीं आ रही परंतु फिर भी प्रयास किया जा सकता है | कांग्रेस के पास सरकार बचाने का दूसरा रास्ता यही बचा है कि सियासी चाल चलते हुए कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी के सभी नए विधायकों को कम से कम 22 मंत्री बनाने और लगभग 10 विधायकों को अन्य निगम मंडल सहित प्रमुख विभागों में जिम्मेदारी देने का भरोसा दिलाएं, क्योंकि जब बड़े पद की लालच में ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे ग्वालियर महाराजा पाला बदल सकते हैं, तो गरीब विधायक भी मंत्री पद के लालच में पाला बदल सकते हैं और कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं परंतु इसके लिए कांग्रेस को मन बड़ा करके और कड़ा करके मंत्री पद भारतीय जनता पार्टी के विधायकों को देने पड़ेंगे तभी मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बचने की संभावना है | भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस अपने अपने विधायकों को सुरक्षित स्थानों की ओर भेज रहे हैं | अब कांग्रेस के ऊपर सबसे बड़ी जिम्मेदारी यह है कि अगर वह इस फार्मूले पर कार्य करना चाहे तो भारतीय जनता पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों तक यह संदेश भिजवाने के फार्मूले पर विचार करें क्योंकि फ्लोर टेस्ट में गुप्त मतदान से मंत्री पद का लालच कांग्रेस को सियासी जीत दिला सकता है | CG 24 News
  • मध्य प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री बन सकते हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया
    मध्यप्रदेश बड़ी खबर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है उनके इस्तीफा देने से मध्य प्रदेश में राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गई हैं कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल छा गए हैं कांग्रेस के मंत्रियों का इस्तीफा देने से यह बात स्पष्ट हो गई है कि मध्यप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के समर्थन से ज्योतिरादित्य सिंधिया अगले मुख्यमंत्री बन सकते हैं ! पिछले कई दिनों से मध्यप्रदेश में चल रहा राजनीतिक घटनाक्रम अंतिम मोड़ तक पहुंच गया है ब्यूरो रिपोर्ट सीजी 24 न्यूज़
  • क्या आप जानते हैं आपके मोबाइल की रिंगटोन बदल गई है
    आपके मोबाइल पर रिंगटोन शासन द्वारा चेतावनी के रूप में बदल दी गई है| सबसे पहले खांसी की आवाज आएगी उसके बाद जो मैसेज सुनाई पड़ता है वह इस तरह है| नॉर्मल करोना वायरस को फैलने से रोका जा सकता है , खासने या छींकते वक्त अपने मुंह पर रुमाल का प्रयोग करें , हाथों को हमेशा साबुन से धोएं, अपनी आंख नाक और मुंह को छूने से रुके| अगर किसी को खांसी बुखार या सांस लेने में तकलीफ हो तो उससे 1 मीटर की दूरी बनाए रखें | जरूरत पड़ने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र जाएं या हेल्पलाइन नंबर 01123 978 046 पर संपर्क करें | स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण केंद्र द्वारा जनहित में जारी| केंद्र सरकार द्वारा इस तरह का संदेश करोना वायरस को रोकने में सहायक सिद्ध होगा |
  • पर्यावरण के साथ खिलवाड़ कर रहा खनिज माफिया
    वर्षो लगते है वृक्ष को तैयार होने में - बेदर्दी से नुकसान पहुँचा रहा खनिज माफिया वृक्षों को - मामला रायपुर आरंग मार्ग पर मंदिर हसौद के आगे नेशनल हाइवे से दरबा रोड किनारे लगे जंगल का है | हाल ही में नकटा में प्लांटेशन को खोद कर मुरम के अवैध उत्खनन पर वन विभाग एवं खनिज विभाग ने कार्यवाही की थी, उसी स्थल के पास हरे भरे बड़े बड़े वृक्षो के नीचे खोदकर सरकारी जमीन को हड़पने का षड्यंत्र चल रहा है , इस अवैध खुदाई से सैकड़ों वृक्ष उखाड़ रहे हैं और आगे भी अगर इसी तरह मोरम खुदाई होती रही तो जंगल का जंगल समाप्त हो जाएगा - उस स्थान में लगे पेड़ो को क्षति ग्रस्त कर जमीन को वीरान किया जा रहा है। बड़े-बड़े हरे-भरे वृक्षों के कारण पर्यावरण को हो रहे नुकसान से शासन प्रशासन के साथ-साथ पर्यावरण विभाग उदासीन क्यों है यह एक बड़ा सवाल है संबंधित विभागों को चाहिए कि तुरंत इन पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करें | वर्षो लगते है वृक्ष को तैयार होने में, जिसे कैसे क्षति पहुँचाई जा रही है इन फोटो में साफ नजर आ रहा है| मामला है छतौना से दरबा रोड में वन विभाग द्वारा कई वर्षों से तैयार किये गए हरे भरे बड़े वृक्ष जो जंगल का स्वरूप में आस पास को शुद्ध आक्सीजन प्रदान करती है , उसे कैसे क्षति पहुचाया गया है आप देखर काफी हतप्रभ रह जाएंगे, मामला यही खत्म नही होता शासन द्वारा करोड़ो रूपये खर्च कर काटा तार नाली तथा नाली पल पुलिया बनाई थी उसे नक्से से मौके से गायब कर दिया पूरा खोद कर क्षतिग्रस्त कर दिया , जिला प्रशासन कुभकर्णीय नींद में सोया हुआ क्यों है ? अवैध मुरुम को डंप करने का यार्ड बना रखा है
  •  मां का लीवर लिया 10 वर्षीय बच्चे ने
    एक 10 वर्षीय बच्चा जो पीलिया से पीड़ित था | अनेक तरह के इलाज कराने के बावजूद भी जब उसकी बीमारी ठीक नहीं हुई तो मुंबई के एक अस्पताल द्वारा बताया गया कि बच्चे के लिवर में खराबी है, जिसके लिए उसका ट्रांसप्लांट करना अति आवश्यक है | सब तरफ से निराश बच्चे के माता-पिता ने मुंबई अस्पताल की सलाह मानकर लीवर ट्रांसप्लांट करने का निर्णय लिया और इसके लिए बच्चे की मां ने ही अपना लीवर अपने पुत्र सिद्धार्थ यादव को देकर उसका जीवन बचाया| डॉक्टर द्वारा किए गए सफलतापूर्वक ऑपरेशन के बाद मां और बेटा एकदम स्वस्थ्य हैं | रायपुर प्रेस क्लब में पत्रकारों को डॉ स्वप्निल शर्मा ने उक्त जानकारी दी -
  • एक निजी समाचार चैनल और सोशल मीडिया साइटों द्वारा अविश्वसनीय, फर्जी, अपमानजनक और आधारहीन समाचार और सूचना का प्रसारण*
    रायपुर, 05 मार्च 2020/ रायपुर में आयकर विभाग के छापे के संदर्भ में आज प्रसारित की जा रही खबर पूरी तरह से निराधार और फर्जी है। एक निजी समाचार चैनल द्वारा इस संबंध में प्रसारित समाचार रिपोर्ट में मुख्यमंत्री सचिवालय के शीर्ष अधिकारियों की भूमिका पर कई झूठे आरोप लगाया गया। जबकि आयकर विभाग ने 2 मार्च 2020 को जारी अपने बयान में इन आरोपों के बारे में कुछ भी उल्लेख नहीं किया है। यह स्पष्ट रूप से इस तथ्य को साबित करता है कि उपरोक्त निजी समाचार चैनल इसे छत्तीसगढ़ सरकार की भ्रष्टाचार मुक्त छवि को खराब करने के अवसर के रूप में उपयोग कर रहा है। उपरोक्त समाचार रिपोर्ट पूरी तरह से अविश्वसनीय, फर्जी, आधारहीन, गलत और प्रमाणहीन है। आयकर छापे के दौरान निजी न्यूज चैनल ने छत्तीसगढ़ सरकार और सरकारी अधिकारियों की प्रतिष्ठा को धूमिल करने के लिए जानबूझकर फर्जी खबरें प्रसारित की। विषय को सनसनीखेज बनाने के उद्देश्य से तथ्यों को पूरी तरह तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया गया। उपरोक्त समाचार चैनल द्वारा की गई रिपोर्टिंग उद्देश्यपूर्ण और निष्पक्ष होने के बजाय, अपमानजनक और पक्षपातपूर्ण थी। उपरोक्त खबर के संबंध में राज्य सरकार का बयान न तो प्रसारण से पहले मांगा गया था और न ही पत्रकारिता के पेशे की पवित्रता को कायम रखा गया। चैनल ने उच्चतम टीआरपी हासिल करने के लिए पेशे के आदर्शोंं को ताक में रख दिया। समाचार चैनल ने व्यावसायिकता की सीमाओं का उल्लंघन किया। यह एक प्रकार का मीडिया ट्रायल बना, जिसका एकमात्र उद्देश्य पत्रकारिता की नैतिकता के साथ समझौता करके दर्शकों को गुमराह करना था। चैनल द्वारा झूठी खबर को प्रसारित करने पर छत्तीसगढ़ सरकार उपरोक्त चैनल के खिलाफ उपयुक्त प्रेस फोरम में शिकायत कर रही है।